Tuesday, Jul 16 2019 | Time 22:43 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • देवघर में बाबा बैद्यनाथ संस्कृत विवि की स्थापना का रास्ता साफ
  • पीएमओ और कैबिनेट सचिवालय के दो अधिकारियों की राज्य कैडर में वापसी
  • भारत और सीरिया का मैच रहा ड्रा
  • बाबा फौजदारीनाथ का दरबार सज-धज कर तैयार
  • हत्या का प्रयास करने के मामले में आठ दोषियों को सजा
  • कंटेनर और ऑटोरिक्शा की टक्कर में दो की मौत, 11 घायल
  • फर्रूखाबाद में सड़क दुर्घटना में देवर-भाभी की मृत्यु, सात घायल
  • पुलिस के साथ झड़प में जविपा के कई कार्यकर्ता एवं नेता घायल
  • बाढ़ में दो बच्चों की मौत
  • लखनऊ में 62वीं अखिल भारतीय पुलिस डियूटी मीट का शुभारम्भ
  • सुपर 30 में काम करने का अनुभव शानदार : ऋतिक
  • सुपर 30 में काम करने का अनुभव शानदार : ऋतिक
  • दिसंबर तक विधायकों के लिए 100 बंगले : मंत्री
  • ग्रामीण विकास परियोजनाओं में केरल की अनदेखी कर रही सरकार : प्रेमचंद्रन
  • नई पेंशन योजना के दायरे में बिहार के 151466 कर्मचारी : सुशील
लोकरुचि


अक्षय तृतीया पर कान्हा को अलंकरित पोशाक धारण कराने की होड़

अक्षय तृतीया पर कान्हा को अलंकरित पोशाक धारण कराने की होड़

मथुरा, 5 मई (वार्ता) अक्षय तृतीया के पावन पर्व पर ब्रज के मंदिरों में ठाकुर को चंदन की अलंकरित पोशाक धारण कराने की मंदिर सेवायतों में होड़ सी लग जाती है। इस बार अक्षय तृतीया का पर्व सात मई को मनाया जाएगा।

मंदन मोहन मंदिर जतीपुरा (गोवर्धन) के महन्त ब्रजेश मुखिया ने रविवार को यूनीवार्ता को बताया कि ब्रज के मंदिरों में ठाकुर की सेवा यशोदा भाव या वात्सल्य भाव अथवा दास भाव या भक्त भाव या साख्य भाव से की जाती है। गर्मी बढ़ने के साथ मां यशोदा को लाला को गर्मी से बचाने की चिंता हो जाती है इसीलिए वे उसके शरीर में चन्दन लेप कर गर्मी के प्रभाव को कम करने का प्रयास करती हैं।

सप्त देवालयों में राधारमण मंदिर में इस दिन से राजभेाग आरती पहले बत्ती से फिर फूलों से होती है। इसके बाद शरद उत्सव तक फूलों की ही आरती होती है। मंदिर के सेवायत आचार्य दिनेशचन्द्र गोस्वामी ने बताया कि इस दिन चूंकि बहुत अधिक चंदन की आवश्यकता होती है इसलिए एक पखवारा पहले ही चन्दन का घिसना शुरू हो जाता है।

बालस्वरूप में सेवा होने के कारण ठाकुर को गर्मी से बचाने के लिए अक्षय तृतीया के दिन चन्दन में कपूर, केसर मिलाकर और फिर ठाकुर का चंदन के पैजामा, अंगरखी, पगड़ी, पटका बनाकर अद्भुत रूप श्रंगार किया जाता है। लाला को नजर लगने से बचाने के लिए इस दिन झांकी दर्शन होते हैं। इस दिन मंदिर में सतुआ के लड्डू और फलों का भोग लगता है। अक्षय तृतीया का पर्व नजदीक आने के कारण इस पोशाक के लिए ही मंदिरों में चन्दन की लुगदी बनाई जा रही है जहां अन्य मंदिरों में यह लुगदी मंदिर के किसी भाग में चन्दन घिस कर एकत्र की जाती है

सं प्रदीप

जारी वार्ता

More News
मथुरा में 60 लाख से अधिक लोक कर चुके है गिरि गोवर्धन की परिक्रमा: मिश्र

मथुरा में 60 लाख से अधिक लोक कर चुके है गिरि गोवर्धन की परिक्रमा: मिश्र

15 Jul 2019 | 4:50 PM

मथुरा, 15 जुलाई (वार्ता)उत्तर प्रदेश में मथुरा के गोवर्धन में चल रहे मिनी कुंभ यानी मुड़िया पूनो मेले में अब तक 60 लाख से अधिक तीर्थयात्री गिरि गोवर्धन की सप्तकोसी परिक्रमा कर चुके हैं।

see more..
पन्ना में बाघों का ही नहीं दुर्लभ चौसिंगा का भी बढ़ रहा कुनबा

पन्ना में बाघों का ही नहीं दुर्लभ चौसिंगा का भी बढ़ रहा कुनबा

14 Jul 2019 | 11:12 AM

पन्ना, 14 जुलाई (वार्ता) मध्यप्रदेश के पन्ना टाइगर रिजर्व में सिर्फ बाघों का ही कुनबा नहीं बढ़ा अपितु यहां के सुरक्षित वन क्षेत्र में शर्मीले स्वभाव वाले नाजुक आैर खूबसूरत वन्य प्राणी चौसिंगा की भी अच्छी खासी तादाद है।

see more..
मथुरा में शुरू हुई हेलीकॉप्टर से सप्तकोसी गोवर्धन परिक्रमा

मथुरा में शुरू हुई हेलीकॉप्टर से सप्तकोसी गोवर्धन परिक्रमा

13 Jul 2019 | 3:54 PM

मथुरा, 13 जुलाई (वार्ता)उत्तर प्रदेश के मथुरा में मुड़िया पूनो मेंले के दौरान सप्तकोसी गोवर्धन परिक्रमा के लिये शनिवार से हेलीकॉटर सेवा शुरू हो जाने से वरिष्ठ नागरिकों को राहत मिली है।

see more..
मुडिया पूनो मेले के पहले रोज दो लाख ने की गिरिराज की परिक्रमा

मुडिया पूनो मेले के पहले रोज दो लाख ने की गिरिराज की परिक्रमा

12 Jul 2019 | 12:31 PM

मथुरा, 12 जुलाई (वार्ता) उत्तर प्रदेश में कान्हा नगरी मथुरा के गोवर्धन धाम में शुक्रवार से शुरू हुए मुडिया पूनो मेले के पहले दिन दो लाख से अधिक तीर्थयात्रियों ने गिरिराज महाराज की परिक्रमा कर पुण्य कमाया।

see more..
image