Saturday, Feb 29 2020 | Time 18:43 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • राजद्रोह मामले में हार्दिक पटेल के खिलाफ फिर से गैर जमानती वारंट जारी
  • सुपर संडे को अपने घर में एटीके से भिड़ेगा बेंगलुरू
  • विक्रमशिला महोत्सव का हुआ शुभारंभ
  • दुती चंद ने जीता 100 मीटर का स्वर्ण पदक
  • जिंस बाजार में टिकाव
  • कोटखाई में पिकअप खाई में गिरी, एक व्यक्ति की मौत
  • आयकर छापे के जरिए छत्तीसगढ़ में दहशत का माहौल बनाने की कोशिश - भूपेश
  • बजट सत्र के दूसरे चरण के भी हंगामेदार रहने की संभावना
  • मजूमदार के नाबाद शतक ने बंगाल को संभाला
  • कोल्ड स्टोर में गैस लीकेज से दो मजदूरों की हालत बिगड़ी
  • दल बदल पर फैसले त्वरित होने चाहिये- हरिवंश
  • आयकर अधिकारियों ने मुख्यमंत्री की उप सचिव के आवास को किया सील
  • अध्यापक करेंगे 15 मार्च को शिक्षा मंत्री के गृहनगर में प्रदर्शन, 19 मार्च को संसद मार्च
लोकरुचि


मथुरा में अनन्त चतुर्दशी पर 12 सितम्बर को होगा प्रथम छप्पन भोग महोत्सव

मथुरा में अनन्त चतुर्दशी पर 12 सितम्बर को होगा प्रथम छप्पन भोग महोत्सव

मथुरा, 08 सितम्बर (वार्ता) उत्तर प्रदेश के मथुरा में इस वर्ष का प्रथम छप्पन भोग महोत्सव अनन्त चतुर्दशी के अवसर पर 12 सितंबर को गिर्राज जी की तलहटी में आयोजित किया जा रहा है।

गिरिराज सेवा समिति मथुरा के संस्थापक अध्यक्ष मुरारी अग्रवाल ने रविवार को यहां यह जानकारी दी। उन्होंने बताया कि छप्पन भोग एक सामूहिक आराधना का पर्व है और यह अनन्त चतुर्दशी के अवसर पर 12 सितंबर को गिर्राज जी की तलहटी में आयोजित किया जायेगा।

उन्होंने बताया कि मान्यताओं के अनुसार छप्पनभोग महोत्सव करने की सलाह स्वयं भगवान श्रीकृष्ण ने उस समय ब्रजवासियों को दी थी जब इन्द्र के कोप के रूप में अतिवृष्टि से रक्षा करने के लिए उन्होंने स्वयं अपनी सबसे छोटी उंगुली पर गोवर्धन पर्वत को सात दिन और सात रात धारण किया था। बाद में वे भगवान श्रीकृष्ण एक स्वरूप से गोवर्धन पर्वत में विराजमान हो गए थे और एक स्वरूप से ब्रजवासियों से गिर्राज का पूजन करने को कह रहे थे । उस समय ब्रजवासियों ने 56 प्रकार के व्यंजन बनाकर गिर्राज जी का पूजन किया था और तभी से छप्पन भोग परंपरा चली आ रही है ।

श्री अग्रवाल ने बताया कि इसे अनंन्त चतुर्दशी के पावन पर्व पर जन कल्याण के लिए आयोजित किया जाता है। अपना सारा राजपाट हारकर जंगल में भीषण कष्ट भोग रहे पाण्डवों को भगवान श्रीकृष्ण ने अनन्त चतुर्दशी का वृत करने और अनंता घारण करने की सलाह दी थी तथा इसके करने से उनके कष्ट दूर हो गए थे।

ब्रज में छप्पन भोग का आयोजन दो प्रकार से यानी अकेले व्यक्ति द्वारा और सामूहिक रूप से किया जाता है। अकेले व्यक्ति द्वारा इसे मंदिरों में ही आयोजित किया जाता है जबकि सामूहिक रूप से गिर्राज जी के श्रीचरणों में गिर्राज तलहटी में आयोजित किया जाता है। ठाकुर जी से सामूहिक आराधना का पर्व बनाना चाहते थे, इसीलिए उन्होंने इसमें ब्रजवासियों को शामिल किया था। इससे संबंधित हर कार्य शुभ महूर्त देखकर वैदिक मंत्रों के मध्य किया जाता है। इसी श्रंखला में छप्पन भोग बनाने की सामग्री लेकर अन्नपूर्णा रथ गिर्राज जी की घ्वजा के साथ गिरिवर निकुंज गोवर्धन पहुंच गया है ।

संस्थापक अध्यक्ष श्री अग्रवाल ने बताया गाय के शुद्ध घी से 21 हजार किलो प्रसाद बनाने के लिए लखनऊ, आगरा, हाथरस,इंदौर और रतलाम के अलावा दक्षिण भारत के मदुरई से कारीगर गोवर्धन पहुंच गए है । ये कारीगर वैदिक रीति से रमेश उस्ताद के निर्देशन में 56 भोग बना रहे हैं । तीन दिवसीय छप्पन भोग महोत्सव 10 सितम्बर को सप्त कोसी परिक्रमा में निकलने वाले ब्रज के डोले के साथ होगा, जिसमें हजारो लोग एक साथ गिरि गोवर्धन की परिक्रमा करेंगे। अगले दिन 11 सितम्बर को महाभिषेक होगा और 12 सितम्बर को छप्पन भोग दर्शन दोपहर दो बजे से रात्रि 12 बजे तक होगा।

उन्होंने बताया कि 12 सितम्बर को भगवान प्रभू का श्रृंगार हीरे पन्ना मोती पुखराज नीलम गोमेद जैसे रत्नों से शरद मुखिया के द्वारा किया जाएगा। इसके लिए कोलकाता और बेंगलुरु के कारीगर राजमहल बना रहे हैं । आयोजक इस कार्यक्रम के माध्यम से ’’हरा गोवर्धन-स्वच्छ गोवर्धन’’ का संदेश भी देने के प्रयास कर रहे हैं। कुल मिलाकर इस छप्पन भोग के लिए ब्रजवासियों में जबर्दस्त उत्साह है।

सं त्यागी

वार्ता

More News
किताबों से दूरी ने युवाओं को कर दिया संस्कृति से दूर : मंडलायुक्त

किताबों से दूरी ने युवाओं को कर दिया संस्कृति से दूर : मंडलायुक्त

28 Feb 2020 | 11:14 PM

झांसी,28 फरवरी(वार्ता) उत्तर प्रदेश की वीरांगना नगरी झांसी में शुक्रवार को भव्यता के साथ शुरू हुए बुंदेलखंड साहित्य महोत्सव -2020 में मुख्य अतिथि मंडलायुक्त सुभाष चंद्र शर्मा ने युवाओं के अपनी संस्कृति से दूर होने का कारण किताबों से उनकी दूरी को बताया।

see more..
देवरिया में दुग्धेश्वर नाथ मंदिर में पूजन करने आते है नेपाल और बिहार से

देवरिया में दुग्धेश्वर नाथ मंदिर में पूजन करने आते है नेपाल और बिहार से

20 Feb 2020 | 7:18 PM

देवरिया, 20 फरवरी(वार्ता) उत्तर प्रदेश में देवरिया से बीस किलोमीटर दूर छोटी काशी के रूप में प्रसिद्ध रूद्रपुर का दुग्धेश्वर नाथ मंदिर में महाशिवरात्रि के अवसर पर नेपाल और बिहार राज्य के शिवभक्त यहां दर्शन पूजन के लिये आते है।

see more..
बलरामपुर के दुखहरण मंदिर में शिवरात्रि को जुटते हैं लोग

बलरामपुर के दुखहरण मंदिर में शिवरात्रि को जुटते हैं लोग

18 Feb 2020 | 6:27 PM

बलरामपुर18फरवरी(वार्ता)छोटी काशी के नाम से विख्यात उत्तर प्रदेश के बलरामपुर मे वैसे तो अनेक धार्मिक स्थल है, लेकिन उतरौला कस्बे मे स्थित दु:खहरणनाथ मंदिर आज भी शिवरात्रि के मौके पर श्रद्धालुओ की अपार भीड जुटती है जहाँ भगवान शिव और पार्वती की पूजा करने से भक्तो की मन्नते पूर्ण होती है।

see more..
गैस रोग से छुटकारा दिलाता है पवनमुक्तासन

गैस रोग से छुटकारा दिलाता है पवनमुक्तासन

15 Feb 2020 | 3:53 PM

सहारनपुर, 15 फरवरी (वार्ता) अनियमित दिनचर्या और खानपान के चलते आम हो चुकी गैस और घबराहट की समस्या से छुटकारा पाने में योग आपकी मदद कर सकता है।

see more..
‘बेटी बचाओ,बेटी पढ़ाओ’ अभियान में डाबर योगी सरकार के साथ

‘बेटी बचाओ,बेटी पढ़ाओ’ अभियान में डाबर योगी सरकार के साथ

13 Feb 2020 | 7:03 PM

लखनऊ 13 फरवरी (वार्ता) प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की महत्वाकांक्षी ‘बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ’ अभियान को गति देने के लिये देश की जानीमानी कंपनी डाबर ने उत्तर प्रदेश सरकार के साथ हाथ मिलाया है।

see more..
image