Sunday, Dec 8 2019 | Time 11:42 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • कोविंद, मोदी ने अनाज मंडी अग्निकांड पर दुख व्यक्त किया
  • धर्मेंद्र ने जन्मदिन नही मनाने की बतायी वजह
  • धर्मेंद्र ने जन्मदिन नही मनाने की बतायी वजह
  • धर्मेंद्र ने जन्मदिन नही मनाने की बतायी वजह
  • बख्तियारपुर में व्यवसायी के घर डाका
  • हर शुक्रवार कलाकार का भविष्य तय करता है : यामी
  • हर शुक्रवार कलाकार का भविष्य तय करता है : यामी
  • हर शुक्रवार कलाकार का भविष्य तय करता है : यामी
  • अनाज मंडी घटनास्थल की तरफ रवाना हुए केजरीवाल
  • रानी झांसी रोड के निकट अनाज मंडी में भीषण आग, 43 लोगों की मौत
  • योगी ने रैन बसेरा का किया निरीक्षण ,बांटे कंबल
  • योगी ने रेन बसेरा का किया निरीक्षण ,बांटे कंबल
  • धंधेबाज के मकान से 122 कार्टन विदेशी शराब बरामद
  • रानी झांसी रोड के निकट अनाज मंडी में भीषण आग, 30 से अधिक लोगों की मौत
  • राजदूत नियुक्त करने के अमेरिका और सूडान के निर्णय का स्वागत:सऊदी
लोकरुचि


जनकपुर से 21 को निकलेगी राम बारात

जनकपुर से  21 को निकलेगी राम बारात

अयोध्या, 15 नवम्बर (वार्ता) उच्चतम न्यायालय का फैसला रामजन्मभूमि के पक्ष में आने से उत्साहित अयोध्या के बाशिंदे 21 नवम्बर को धूमधाम से राम बारात मां जानकी की नगरी नेपाल के जनकपुर ले जाने के लिये निकलेंगे।

श्रीराम विवाह आयोजन समिति के सदस्य एवं विश्व हिन्दू परिषद (विहिप) के केन्द्रीय मंत्री राजेन्द्र सिंह पंकज तथा प्रवक्ता शरद शर्मा ने शुक्रवार को बताया कि अयोध्या से जनकपुर जाने वाली रामबारात की तैयारियां पूरी कर ली गयी हैं। इस बार राम बारात जाने के लिये काफी लोग उत्साहित हैं। राम बारात 21 नवम्बर से निकलेगी और विभिन्न पड़ावों से गुजरते हुए 28 नवम्बर को जनकपुर पहुंचेगी।

उन्होंने बताया कि 29 नवम्बर को दशरथ मंदिर के प्रांगण में अपरान्ह दो बजे से तिलकोत्सव, 30 नवम्बर को कन्या पूजन के अलावा मठकोर का आयोजन किया गया है। इसी तरह से एक दिसम्बर को रामलीला मंचन के अन्तर्गत धनुष यज्ञ एवं राज्य में जानकी मंदिर विधि पूर्वक विवाहोत्सव का आयोजन किया जायेगा। दो दिसम्बर को कुंवर कलेवा के आयोजन के साथ ही अभावग्रस्त बालिकाओं का समूह विवाह कराया जायेगा। तीन दिसम्बर को जनकपुर से बारात अयोध्या के लिये प्रस्थान करेगी। यह बारात चार दिसम्बर को अयोध्या वापस लौटेगी।

आयोजन समिति के संयोजक ने बताया कि पहली बार राम बारात का आयोजन वर्ष 2004 में किया गया था जबकि बाद में 2009 और 2014 में भी रामबारात निकाली गयी। उन्होंने बताया कि बारात कार और बसों से प्रस्थान करेगी। इसके साथ भगवान के स्वरूपों का रथ भी शामिल होगा। बारात में अयोध्या की प्रधानता के अलावा हरिद्वार, छत्तीसगढ़, मध्य प्रदेश व अन्य स्थानों के भी संत-महंत शामिल होंगे। सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार इस आयोजन में नेपाल सरकार के मंत्रीगण के अलावा नेपाल राजपरिवार के सदस्य भी हिस्सा ले सकते हैं।

श्री शर्मा ने बताया कि बारात में रामनगरी के संत-महंत भी शामिल होंगे जो कि अलग-अलग भूमिका में होंगे। बारात में जाने के लिये संत-महंतों को आमंत्रित करने के लिये आमंत्रण पत्र का वितरण शुरू हो गया है। ज्ञातव्य है कि रामबारात का आयोजन सबसे पहले लक्ष्मण किलाधीश के महंत सीताराम शरण महाराज ने किया था लेकिन कतिपय कारणों से बारात ले जाने का क्रम बंद हो गया था इसके बाद विश्व हिन्दू परिषद ने रामबारात का सिलसिला फिर शुरू किया है।

सं प्रदीप

वार्ता

More News
देव दीपावली पर राेशन होंगे मथुरा के घाट

देव दीपावली पर राेशन होंगे मथुरा के घाट

10 Nov 2019 | 2:34 PM

मथुरा, 10 नवम्बर (वार्ता) तीन लोक से न्यारी मथुरा में यमुना के घाट मंगलवार को देव दीपावली के मौके पर एक बार फिर टिमटिमाते दीपकों से रोशन होंगे।

see more..
मूंछे हो तो नत्थूलाल जैसी वरना न हों

मूंछे हो तो नत्थूलाल जैसी वरना न हों

06 Nov 2019 | 11:55 AM

जौनपुर, 06 नवम्बर (वार्ता) 90 के दशक की चर्चित हिन्दी फिल्म शराबी का मशहूर डायलाग ‘मूंछे हो तो नत्थूलाल जैसी वरना न हो’ ने यहां हजारों लोगों के चेहरों पर मुस्कान ला दी जब बदलापुर महोत्सव में इसी डायलाग पर आधारित अनूठी प्रतियोगिता में 18 से अधिक मूंछधारियों में हिस्सा लिया।

see more..
छठमय हुयी राजधानी पटना

छठमय हुयी राजधानी पटना

02 Nov 2019 | 2:26 PM

पटना 02 नवंबर (वार्ता) लोक आस्था के महापर्व छठ को लेकर राजधानी पटना भक्तिमय हो गयी है।

see more..
देवशिल्पी विश्वकर्मा ने किया है देव के सूर्यमंदिर का निर्माण

देवशिल्पी विश्वकर्मा ने किया है देव के सूर्यमंदिर का निर्माण

01 Nov 2019 | 2:30 PM

औरंगाबाद 01 नवंबर (वार्ता) बिहार के औरंगाबाद जिले में देव स्थित ऐतिहासिक त्रेतायुगीन पश्चिमाभिमुख सूर्य मंदिर अपनी कलात्मक भव्यता के लिए सर्वविदित और प्रख्यात होने के साथ ही सदियों से देश-विदेश के पर्यटकों, श्रद्धालुओं और छठव्रतियों की अटूट आस्था का केंद्र बना हुआ है।

see more..
image