Sunday, Aug 9 2020 | Time 02:43 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • सेना ने प्रदर्शनकारियों को विदेश मंत्रालय की इमारत से खदेड़ा
  • बेरूत में हिंसक झड़प में 230 से ज्यादा लोग घायल
  • चेक गणराज्य में रिहायशी इमारत में आग लगने से10 की मौत
  • मेघवाल कोरोना पॉजिटिव पाये गये
  • पटवारी के खिलाफ कार्रवाई की मांग को लेकर पुलिस से शिकायत
लोकरुचि


जनकपुर से 21 को निकलेगी राम बारात

जनकपुर से  21 को निकलेगी राम बारात

अयोध्या, 15 नवम्बर (वार्ता) उच्चतम न्यायालय का फैसला रामजन्मभूमि के पक्ष में आने से उत्साहित अयोध्या के बाशिंदे 21 नवम्बर को धूमधाम से राम बारात मां जानकी की नगरी नेपाल के जनकपुर ले जाने के लिये निकलेंगे।

श्रीराम विवाह आयोजन समिति के सदस्य एवं विश्व हिन्दू परिषद (विहिप) के केन्द्रीय मंत्री राजेन्द्र सिंह पंकज तथा प्रवक्ता शरद शर्मा ने शुक्रवार को बताया कि अयोध्या से जनकपुर जाने वाली रामबारात की तैयारियां पूरी कर ली गयी हैं। इस बार राम बारात जाने के लिये काफी लोग उत्साहित हैं। राम बारात 21 नवम्बर से निकलेगी और विभिन्न पड़ावों से गुजरते हुए 28 नवम्बर को जनकपुर पहुंचेगी।

उन्होंने बताया कि 29 नवम्बर को दशरथ मंदिर के प्रांगण में अपरान्ह दो बजे से तिलकोत्सव, 30 नवम्बर को कन्या पूजन के अलावा मठकोर का आयोजन किया गया है। इसी तरह से एक दिसम्बर को रामलीला मंचन के अन्तर्गत धनुष यज्ञ एवं राज्य में जानकी मंदिर विधि पूर्वक विवाहोत्सव का आयोजन किया जायेगा। दो दिसम्बर को कुंवर कलेवा के आयोजन के साथ ही अभावग्रस्त बालिकाओं का समूह विवाह कराया जायेगा। तीन दिसम्बर को जनकपुर से बारात अयोध्या के लिये प्रस्थान करेगी। यह बारात चार दिसम्बर को अयोध्या वापस लौटेगी।

आयोजन समिति के संयोजक ने बताया कि पहली बार राम बारात का आयोजन वर्ष 2004 में किया गया था जबकि बाद में 2009 और 2014 में भी रामबारात निकाली गयी। उन्होंने बताया कि बारात कार और बसों से प्रस्थान करेगी। इसके साथ भगवान के स्वरूपों का रथ भी शामिल होगा। बारात में अयोध्या की प्रधानता के अलावा हरिद्वार, छत्तीसगढ़, मध्य प्रदेश व अन्य स्थानों के भी संत-महंत शामिल होंगे। सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार इस आयोजन में नेपाल सरकार के मंत्रीगण के अलावा नेपाल राजपरिवार के सदस्य भी हिस्सा ले सकते हैं।

श्री शर्मा ने बताया कि बारात में रामनगरी के संत-महंत भी शामिल होंगे जो कि अलग-अलग भूमिका में होंगे। बारात में जाने के लिये संत-महंतों को आमंत्रित करने के लिये आमंत्रण पत्र का वितरण शुरू हो गया है। ज्ञातव्य है कि रामबारात का आयोजन सबसे पहले लक्ष्मण किलाधीश के महंत सीताराम शरण महाराज ने किया था लेकिन कतिपय कारणों से बारात ले जाने का क्रम बंद हो गया था इसके बाद विश्व हिन्दू परिषद ने रामबारात का सिलसिला फिर शुरू किया है।

सं प्रदीप

वार्ता

More News
अयोध्या में मंदिर के लिये बुधवार को भूमि पूजन तो मथुरा में होगा कृष्ण दर्शन

अयोध्या में मंदिर के लिये बुधवार को भूमि पूजन तो मथुरा में होगा कृष्ण दर्शन

03 Aug 2020 | 9:29 PM

मथुरा 03 अगस्त (वार्ता)-पांच अगस्त को जब मर्यादा पुरूषोत्तम श्री राम की जन्मभूमि अयोध्या में भूमि पूजन के समारोह से गुंजायमान हो रही होगी उसी समय मथुरा के श्रीकृष्ण जन्मस्थान स्थित केशवदेव मंदिर में भगवान केशवदेव राम रूप में भक्तों को दर्शन दे रहे होंगे।

see more..
रक्षाबंधन पर्व अछूता नही रह सका आधुनिकता के प्रभाव से: डा कुमुद दुबे

रक्षाबंधन पर्व अछूता नही रह सका आधुनिकता के प्रभाव से: डा कुमुद दुबे

03 Aug 2020 | 1:07 PM

प्रयागराज, 03 अगस्त (वार्ता) भारतीय संस्कृति की गौरवमयी परंपरा और भाई-बहन के प्रेम का प्रतीक रक्षाबंधन भी आधुनिकता के प्रभाव से अछूता नही रहा और परंपरागत राखियों के स्थान ने रेशम के चमकीले एवं चांदी और सोने के जरी युक्त राखियों ने ले लिया है।

see more..
मैनपुरी में ईशन नदी को पुनर्जीवित करने का कार्य शुरू

मैनपुरी में ईशन नदी को पुनर्जीवित करने का कार्य शुरू

02 Aug 2020 | 7:02 PM

मैनपुरी,02 अगस्त (वार्ता) उत्तर प्रदेश के मैनपुरी में वर्षों से अपने मूल स्वरूप को खो चुकी ईशन नदी को पुनर्जीवित करने का बीड़ा जिलाधिकारी महेन्द्र बहादुर सिंह ने उठाया है।

see more..
पीलीभीत में कैदियों द्वारा बनाई गयी राफेल और मास्क राखी की बाजार में बढ़ी मांग

पीलीभीत में कैदियों द्वारा बनाई गयी राफेल और मास्क राखी की बाजार में बढ़ी मांग

01 Aug 2020 | 7:34 PM

पीलीभीत, 01 अगस्त(वार्ता) उत्तर प्रदेश के पीलीभीत में रक्षा बंधन पर जेल के बंदियों द्वारा बनाई गयी राफेल और मास्क वाली राखियाें की बाजार में मांग बढ़ गयी है।

see more..
जाएं तो कहां जाएं हर मोड पर रूसवाई: जाफरी

जाएं तो कहां जाएं हर मोड पर रूसवाई: जाफरी

31 Jul 2020 | 8:03 PM

बलरामपुर,31 जुलाई (वार्ता) “आवारा है गलियो में मै और मेरी तन्हाई ” जाएं तो कहां जाएं हर मोड पर रूसवाई” जैसी बेमिशाल शायरी लिखने वाले मशहूर शायर और देश के सबसे बडे साहित्यिक पुरस्कार ज्ञानपीठ से सम्मानित अली सरदार जाफरी ने इन पंक्तियों को लिखते वक्त यह नही सोचा होगा कि उनके इन्तकाल के बाद वह खुद इसकी मिशाल बन जायेगे।

see more..
image