Friday, Sep 20 2019 | Time 13:01 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • जरदारी और उनकी बहन पर भ्रष्टाचार मामले में चार अक्टूबर को तय होंगे आरोप
  • अर्थव्यवस्था को रफ्तार देने के लिए सरकार के बड़े ऐलान: कंपनी कर दर घटाकर 22 फीसदी
  • अर्थव्यवस्था को रफ्तार देने के लिए सरकार के बड़े ऐलान: कंपनी कर दर घटाकर 22 फीसदी
  • अर्थव्यवस्था को रफ्तार देने के लिए सरकार के बड़े ऐलान: कंपनी कर दर घटाकर 22 फीसदी
  • दर्शकों के दिल में खास पहचान बनायी ताराचंद ने
  • दर्शकों के दिल में खास पहचान बनायी ताराचंद ने
  • दर्शकों के दिल में खास पहचान बनायी ताराचंद ने
  • बैडमैन के नाम से मशहूर है गुलशन ग्रोवर
  • बैडमैन के नाम से मशहूर है गुलशन ग्रोवर
  • बैडमैन के नाम से मशहूर है गुलशन ग्रोवर
  • अगले वर्ष मुन्नाभाई सीरीज की शूटिंग शुरू करेंगे संजय
  • अगले वर्ष मुन्नाभाई सीरीज की शूटिंग शुरू करेंगे संजय
  • अगले वर्ष मुन्नाभाई सीरीज की शूटिंग शुरू करेंगे संजय
  • भंसाली की फिल्म में गंगूबाई बनेंगी आलिया!
  • भंसाली की फिल्म में गंगूबाई बनेंगी आलिया!
नए सांसद » नए सांसद


अर्जुन ने तय किया पार्षद से सांसद तक का सफर

अर्जुन ने तय किया पार्षद से सांसद तक का सफर

कोलकाता, 01 जून (वार्ता) कभी तृणमूल कांग्रेस प्रमुख ममता बनर्जी के करीबी रहे अर्जुन सिंह पश्चिम बंगाल की बैरकपुर लोकसभा सीट से अपने ही पूर्व साथी और दो बार के सांसद दिनेश त्रिवेदी को हराकर भारतीय जनता पार्टी के टिकट पर चुनाव जीतकर संसद पहुंचे हैं।

दो अप्रैल 1962 को जन्में 57 वर्षीय श्री सिंह किसी समय तृणमूल के कद्दावर नेता रहे हैं, वह पश्चिम बंगाल की भाटपाड़ा विधानसभा सीट से 2001 से 2016 तक लगातार चार बार चुनाव जीते और विधायक बने। इसके अलावा वह तृणमूल के हिंदी विंग के अध्यक्ष भी रहे हैं। पार्टी में रहते हुए उन्हें तृणमूल ने उत्तर प्रदेश, बिहार, झारखंड और पंजाब जैसे राज्यों का प्रभारी बनाया था। श्री सिंह भाटपाड़ा नगरपालिका के अध्यक्ष भी रहे हैं।

श्री सिंह को राजनीति विरासत में मिली है। उनके पिताजी सत्यनारायण सिंह भाटपाड़ा सीट से ही कांग्रेस से तीन बार विधायक रह चुके हैं। वह मूल रुप से पश्चिम बंगाल के जगदाल के रहने वाले हैं। राजनीति में आने से पहले श्री सिंह जूट मिल में काम किया करते थे। उन्होंने अपना राजनीतिक करियर 1995 में भाटपाड़ा से कांग्रेस के टिकट पर पार्षद का चुनाव लड़कर शुरु किया था और पहली बार में ही सफलता हासिल की। बाद में उन्होंने कांग्रेस का हाथ छोड़कर तृणमूल का दामन थाम लिया और उसके टिकट पर भाटपाड़ा विधानसभा सीट से चुनाव लड़ा और विधायक बने। श्री सिंह तब से लेकर वर्ष 2019 में भाजपा में शामिल होने तक इस विधानसभा सीट का प्रतिनिधित्व करते रहे।

उन्होंने 2004 में बैरकपुर लोकसभा सीट से तृणमूल उम्मीदवार के तौर पर चुनाव लड़ा लेकिन भाग्य ने उनका साथ नहीं दिया और उन्हें माकपा के तडितबरन तोपदार के हाथों पराजय का सामना करना पड़ा। वह 2010 से लेकर 2019 तक भाटपाड़ा नगरपालिका के अध्यक्ष रहे । तृणमूल छोड़कर भाजपा में शामिल होने के बाद उन्हें अविश्वास प्रस्ताव का सामना करना पड़ा जिसमें वह हार गए थे।

इस वर्ष लोकसभा चुनवों से ठीक पहले उन्होंने ममता बनर्जी का साथ छोड़कर भगवा झंडा थामा और भाजपा ने उन्हें बैरकपुर लोकसभा सीट से पार्टी का उम्मीदवार बनाया। इस सीट से तृणमूल ने श्री त्रिवेदी को तीसरी बार चुनावी मैदान में खड़ा किया था। इस सीट पर इस बार काफी कड़ा मुकाबला देखने को मिला, चुनावी नतीजे के वक्त किसी राउंड में श्री सिंह आगे रहे तो कभी श्री त्रिवेदी ने बढ़त बनायी लेकिन अंततः श्री सिंह ने श्री त्रिवेदी को 14,857 वोटों के अंतर से हराकर तृणमूल का यह किला ढहा दिया।

श्री सिंह राजनीति के मंझे हुए खिलाड़ी माने जाते हैं और उन्होंने काफी कम समय में बंगाल की राजनीति में अपना लौहा मनवाया है। उन्होंने पार्षद से सांसद बनने का सफर ढ़ाई दशक में पूरा कर लिया। दिलचस्प बात यह भी है कि जिस भाटपाड़ा सीट से वह विधायक रहे थे उस पर कभी उनके पिता सत्यनारायण भी विधायक रहे थे और अब उपचुनाव जीतकर उनके पुत्र पवन सिंह भी इसी सीट से विधायक हैं। श्री सत्यनारायण कांग्रेस से इस सीट के विधायक थे जबकि श्री सिंह तृणमूल के विधायक के तौर पर चुने गए और अब उनके पुत्र श्री पवन भाजपा विधायक के रुप में इस सीट का प्रतिनिधित्व कर रहे हैं।

शोभित जय

वार्ता

More News
संत से सांसद बने बाबा बालकनाथ

संत से सांसद बने बाबा बालकनाथ

02 Jun 2019 | 5:17 PM

अलवर 02 जून (वार्ता) नाथ सम्प्रदाय के आठवें मुख्य महंत बाबा बालकनाथ ने एक संत के रुप में प्रसिद्धि पाने के साथ राजनीति में भी अपनी पहचान बनाई और वह राजस्थान के अलवर संसदीय क्षेत्र से सांसद का चुनाव लड़कर पहले प्रयास में ही लोकसभा पहुंचने में सफल रहे।

see more..
पार्श्वगायक से सासंद बने हंस राज हंस

पार्श्वगायक से सासंद बने हंस राज हंस

02 Jun 2019 | 2:31 PM

मुंबई 02 जून (वार्ता) बॉलीवुड के जाने माने पार्श्वगायक हंस राज ने संघर्ष के बदौलत न सिर्फ पार्श्वगायन की दुनिया में खास पहचान बनायी बल्कि इस बार के लोकसभा चुनाव में जीत हासिल कर वह सांसद बनने में कामयाब हुए।

see more..
अर्जुन ने तय किया पार्षद से सांसद तक का सफर

अर्जुन ने तय किया पार्षद से सांसद तक का सफर

01 Jun 2019 | 3:30 PM

कोलकाता, 01 जून (वार्ता) कभी तृणमूल कांग्रेस प्रमुख ममता बनर्जी के करीबी रहे अर्जुन सिंह पश्चिम बंगाल की बैरकपुर लोकसभा सीट से अपने ही पूर्व साथी और दो बार के सांसद दिनेश त्रिवेदी को हराकर भारतीय जनता पार्टी के टिकट पर चुनाव जीतकर संसद पहुंचे हैं।

see more..
पेशे से चिकित्सक के पी यादव ने ढहाया सिंधिया का किला

पेशे से चिकित्सक के पी यादव ने ढहाया सिंधिया का किला

30 May 2019 | 4:08 PM

शिवपुरी 30 मई (वार्ता) मध्यप्रदेश में सिधिंया परिवार की परंपरागत संसदीय सीट गुना शिवपुरी में कांग्रेस के वरिष्ठ नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया पर अप्रत्याशित जीत हासिल कर पहली बार लोकसभा पहुंचे के पी यादव इस क्षेत्र का तेजी से विकास को अपनी पहली प्राथमिकता मानते हैं।

see more..
परंपरा तोड़ पितृपक्ष में शादी करने वाली कविता सिंह पहली बार बनी सांसद

परंपरा तोड़ पितृपक्ष में शादी करने वाली कविता सिंह पहली बार बनी सांसद

30 May 2019 | 2:37 PM

सीवान 30 मई (वार्ता) राजनीतिक विवशता के कारण स्थापित परंपराओं को तोड़कर पितृपक्ष में विवाह करने वाली कविता सिंह पहले बिहार में सीवान के दरौंधा की विधायक और अब पहली बार सीवान से सांसद बनने में भी कामयाब हुई हैं।

see more..
image