Wednesday, Jan 23 2019 | Time 23:05 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • पाकिस्तानी सेना ने एक बार फिर संघर्षविराम का उल्लंघन किया
  • नाईजीरिया सैनिकों ने 58 डकैतों को मार गिराया
  • काला सागर मे जहाज दुघर्टना में छह भारतीयों की मौत
  • भारत की अर्थव्यवस्था को समावेशी अर्थव्यवस्था बनाना जरूरी - कमलनाथ
  • सीबीआई ने गुजरात में पेसो अधिकारी को रिश्वत लेते हुए पकड़ा
  • फोटो कैप्शन तीसरा सेट
  • सवा साल में यमुना होगी निर्मल : गडकरी
  • चाल धंसने से चार मजदूरों की मौत
  • संबद्ध महाविद्यालय के शिक्षकों को मिली उत्तर पुस्तिका मूल्यांकन की अनुमति
  • अलियेव को हराकर बजरंग ने पंजाब रॉयल्स को दिलाई जीत
  • अलियेव को हराकर बजरंग ने पंजाब रॉयल्स को दिलाई जीत
  • फोटाे कैप्शन दूसरा सेट
  • पवार की मौजूदगी में राकांपा का दामन थामेंगे वाघेला
  • पीयूष गोयल को वित्त और कॉरपोरेट मामलों का अतिरिक्त प्रभार
  • महिला जूनियर हॉकी टीम शिविर के लिए 33 संभावित घोषित
राज्य » अन्य राज्य Share

सबरीमला मामला: पिल्लई के खिलाफ मामला दर्ज

कोझिकोड 08 नवंबर (वार्ता) भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) द्वारा सबरीमला के भगवान अयप्पा मंदिर को लेकर कसारगौड से ‘सबरीमला सुरक्षा रथ यात्रा’ शुरू करने के तुरंत बाद भाजपा के प्रदेशाध्यक्ष पी. एस. श्रीधरन पिल्लई के खिलाफ गैर जमानती मामला दर्ज कर लिया गया।
पुलिस ने गुरुवार को श्री पिल्लई के कुछ दिन पहले राज्य के युवा मोर्चा में दिये गये भाषण को लेकर भारतीय दंड संहिता की विभिन्न धाराओं के तहत आरोपी बनाया है। आरोप है कि श्री पिल्लई ने सबरीमला मामले को लेकर कहा था कि सबरीमला का मुद्दा केरल में पार्टी को आगे बढ़ाने का सुनहरा अवसर है।
मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी (माकपा) के नेताओं का आरोप है कि भाजपा नेता ने समाज के विभिन्न वर्गों में डर पैदा करने और अशांति फैलाने के लिए यह भाषण दिया।
पुलिस ने एक मीडियाकर्मी की शिकायत पर श्री पिल्लई के खिलाफ मामला दर्ज किया है। शिकायत के अनुसार भाजपा अध्यक्ष ने सबरीमला के भगवान अयप्पा मंदिर के तांत्रि (मुख्य पुजारी) को सलाह दी है कि यदि मंदिर की परंपराओं का उल्लंघन हो तो मंदिर के द्वार बंद कर दिये जाएं।
युवा मोर्चा की बैठक में दिये गये भाषण के अनुसार भाजपा प्रदेशाध्यक्ष ने कहा कि यदि उच्चतम न्यायालय के आदेश के अनुसार 10-50 वर्ष की आयु की कोई भी महिला भगवान अयप्पा के मंदिर में प्रवेश करने का प्रयास करे तो मंदिर के द्वार बंद करना बेहतर होगा।
गौरतलब है कि उच्चतम न्यायालय ने आदेश दिया था कि मंदिर में सभी आयु की महिलाओं को प्रवेश दिया जाए।
श्री पिल्लई पर आरोप है कि वह यह कहकर कि हजारों लोग उनके साथ हैं, तांत्रि को उच्चतम न्यायालय के आदेश का उल्लंघन करने के लिए उकसा रहे हैं।
दिनेश, रवि
वार्ता
More News
मद्रास हाईकोर्ट ने जयललिता स्मारक के निर्माण को मंजूरी दी

मद्रास हाईकोर्ट ने जयललिता स्मारक के निर्माण को मंजूरी दी

23 Jan 2019 | 8:35 PM

चेन्नई, 23 जनवरी (वार्ता) मद्रास उच्च न्यायालय ने स्थानीय मरीना बीच पर तमिलनाडु की पूर्व मुख्यमंत्री जे. जयललिता के स्मारक निर्माण को यह कहते हुए मंजूरी दी कि आय के ज्ञात स्रोतों से अधिक सम्पत्ति (डीए) अर्जित करने के मामले उन्हें दोषी करार नहीं दिया गया था।

 Sharesee more..

केदारनाथ धाम में सात फुट तक पड़ी हिमपात

23 Jan 2019 | 7:55 PM

 Sharesee more..
image