Thursday, Feb 21 2019 | Time 11:23 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • ढाका में इमारत में आग, 70 की मौत
  • वेनेजुएला शक्तिशाली राष्ट्र बनेगा: मादुरो
  • डेमोक्रेटिक पार्टी के सांसद लाएंगे आपातकाल खत्म करने का प्रस्ताव
  • ट्रम्प ने लगायी आईएस में शामिल महिला के स्वदेश लौटने पर रोक
  • रामपुर में दो पक्षों के बीच मारपीट एवं फायरिंग में दो की मृत्यु,एक घायल
  • ढाका में इमारत में आग, 69 की मौत
  • उन्नाव में बस पलटने से दो बच्चों समेत छह की मृत्यु, 12 घायल
  • मोदी द्विपक्षीय वार्ता के लिए दक्षिण कोरिया पहुंचे
  • आज का इतिहास (प्रकाशनार्थ 22 फरवरी)
  • बंगलादेश: ढाका में इमारत में आग, 45 की मौत
  • किम जोंग के साथ और मुलाकातों की उम्मीद : ट्रम्प
  • इराक में घुसपैठ करने वाले आईएस के 24 आतंकवादी हिरासत में
  • तुर्की में सैन्य प्रशिक्षण के दौरान विस्फोट, पांच सैनिक घायल
  • पाकिस्तान ने राजौरी में संघर्ष विराम उल्लंघन कर की गोलीबारी
  • पाकिस्तान प्रायोजित आतंकवाद से कश्मीर में शांति बाधित : डीजीपी
राज्य » पंजाब / हरियाणा / हिमाचल Share

सुनील जाखड़ इस्तीफा दें या अमरिंदर के विरुद्ध खोलें मोर्चा : मान

सुनील जाखड़ इस्तीफा दें या अमरिंदर के विरुद्ध खोलें मोर्चा : मान

पंजाब आप बिजली आंदोलन

चंडीगढ़, 11 फरवरी (वार्ता) पंजाब आम आदमी पार्टी (आप) के प्रधान एवं सांसद भगवंत मान ने कहा है कि कांग्रेस के प्रदेशाध्यक्ष सहित कई कांग्रेसी अमरिंदर सरकार में बेबस नजर आ रहे हैं क्याेंकि उनकी सुनी नहीं जा रही है ऐसे में उन्हें पद से इस्तीफा देना चाहिये ।

श्री मान ने आज यहां कहा कि श्री जाखड़ बिजली के मुद्दे पर कहते रहे हैं कि 2300 करोड़ रुपए प्रति वर्ष आज भी उन तीन निजी थर्मल प्लाटों की जेब में जा रहा है, जिनकी अकाली दल के प्रधान सुखबीर बादल के साथ हिस्सेदारी है ।यह सरकार का पैसा नहीं बल्कि लोगों का पैसा है ।

उन्होंने कहा कि श्री जाखड़ ऐसी बात कर रहे हैं जैसे राज्य में आज भी बादल सरकार हो ।उनकी पार्टी राज्य में बिजली आंदोलन चला रही है जिसे खासा समर्थन मिल रहा है क्योंकि महंगे बिजली बिलों ने हर गरीब और अमीर को परेशान किया हुआ है।पिछली बादल सरकार की तरह कैप्टन अमरिन्दर सिंह सरकार भी कुंभ करनी नींद में सो रही है ।

श्री मान ने कहा कि वह पिछले कई वर्षों से लगातार महंगी की जा रही बिजली के विरुद्ध आवाज उठाते आए हैं। पिछली बादल सरकार के समय जब सुखबीर सिंह बादल बठिंडा समेत सरकारी थर्मल प्लांटों के यूनिट बंद कर निजी कंपनियों के साथ बेहद महंगी बिजली दरों पर समझौते कर रहे थे तो उस समय भी पार्टी ने डट कर विरोध किया था क्योंकि श्री बादल ने इन निजी कंपनियों के साथ हजारों करोड़ रुपए की हिस्सेदारी की है।

सांसद ने कहा कि कैप्टन सरकार को अपने चुनावी वायदे के मुताबिक बिजली मामले की जांच करवानी चाहिए थी लेकिन सत्ता में आने के बाद कैप्टन सरकार भी इन निजी बिजली कंपनियों के साथ मिल गई।

श्री मान ने कहा कि यदि मुख्यमंत्री श्री बादल के साथ मिलीभगत के कारण श्री जाखड़ की नहीं सुनते तो उन्हें तथा अन्य सभी कांग्रेसियों को इस्तीफे दे देने चाहिये या फिर कांग्रेस प्रधान राहुल गांधी के घर के सामने पक्का मोर्चा लगा लेना चाहिए।

More News
एनएचएम के 615 कर्मचारियों की सेवाएं समाप्त

एनएचएम के 615 कर्मचारियों की सेवाएं समाप्त

20 Feb 2019 | 9:08 PM

गुरुग्राम, 20 फरवरी (वार्ता) हरियाणा में पिछली पांच फरवरी से हड़ताल पर चल रहे राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन (एनएचएम) के 615 कर्मचारियों की गुरूग्राम में सेवाएं समाप्त कर दी गई हैं।

 Sharesee more..
image