Wednesday, Sep 18 2019 | Time 18:56 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • बिहार और तेलंगाना में रहा मानसून अति सक्रिय
  • वाहन फंसने से पटना हवाईअड्डे पर उड़ान प्रभावित
  • छत्तीसगढ़ के कोयला खदानों से नवम्बर के अंत तक उत्पादन शुरू करने के निर्देश
  • नेशनल कांफ्रेंस अब्दुल्ला की हिरासत को चुनौती देगा
  • उत्तरी क्षेत्रीय परिषद की बैठक की अध्यक्षता करेंगे शाह
  • भारत ने टॉस जीतकर चुना क्षेत्ररक्षण
  • 370 की आड में जम्मू कश्मीर में तीन परिवारों का ही सत्ता खेल चल रहा था:मेनका
  • एनसीसी प्रशिक्षण केन्द्र स्थानांतरण मामले में केन्द्र एवं राज्य सरकार से मांगा जवाब
  • नहर में गिरी कार मिली, चालक की तलाश जारी
  • विनेश ने जीता कांस्य और पहला ओलंपिक कोटा
  • विनेश ने जीता कांस्य और पहला ओलंपिक कोटा
  • बिहार में वज्रपात से 20 लोगों की मौत
  • अगले छह वर्ष तक हिमालय पर मौन व्रत धारण करेंगी:उमा भारती
  • मदन कौशिक ने किये खिलाड़ियों को पारितोषिक प्रदान
  • राजीव कुमार के कोलकाता में छिपे होने की आशंका: सीबीआई
राज्य » राजस्थान


स्वर्ण जयंती समारोह में अकादमी करेगी दो सौ लेखको का सम्मान

जयपुर 12 सितम्बर (वार्ता) राजस्थान हिन्दी ग्रंथ अकादमी द्वार हिन्दी दिवस पर 14 सितम्बर को आयोजित होने वाले स्वर्ण जयंती समारोह में पुस्तक लेखन से जुड़े 200 लेखको को सम्मानित किया जायेगा।
राजस्थान के उच्च शिक्षा मंत्री भंवरसिंह भाटी ने आज यहां पत्रकारो को बताया कि बिड़ला सभागार में होने वाले समारोह के मुख्य अतिथि मुख्यमंत्री अशोक गहलोत होंगे। उन्होंने बताया कि अकादमी इनके अलावा तीन लेखक, जिनकी पुस्तकों के 15 संस्करण प्रकाशित हो चुके हैं उन्हें विशिष्ट प्रज्ञा पुरस्कार से सम्मानित करेगी। प्रज्ञा पुरस्कार के योग्य तीन लेखक डाॅ. हरिमोहन सक्सेना, डाॅ. रीता प्रताप एवं ममता चतुर्वेदी प्रत्येक को 51,000/- रूपये की राशि का चैक देकर सम्मानित किया जाएगा।
उन्होंने बताया कि अकादमी द्वारा स्वतंत्रता संग्राम के अमर पुरोधा श्रृंखला’ के अंतर्गत 2006 से 2019 के मध्य दिवंगत हुए 143 स्वतंत्रता सेनानियों पर मोनोग्राफ प्रकाशित किए जाएंगे। अकादमी इस पुस्तक माला के वृहद खंड प्रकाशित करेगी ताकि नई पीढ़ी को देश के आजादी आंदोलन में राजस्थान के वीरों के बारे में गहराई से जानकारी मिल सके।
श्री भाटी ने बताया कि राजस्थान हिन्दी ग्रंथ अकादमी देश का पहला ऐसा सरकारी प्रकाशन संस्थान है जिसने एक वर्ष में रिकाॅर्ड 3.71 करोड़ मूल्य की पुस्तकों का विक्रय किया है। गत वित्तीय वर्ष में अकादमी ने यह रिकाॅर्ड बिक्री कर देशभर में अपनी अलग पहचान बनायी है। उन्होंने कहा कि यही नहीं अकादमी द्वारा अपने लेखकों को रिकाॅर्ड 59 लाख रूपये राॅयल्टी का भुगतान किया गया है।
उन्होंने बताया कि अकादमी ने जुलाई 2019 तक 661 मौलिक, 90 अनुदित एवं 1214 पुस्तकों के संस्करण प्रकाशित किए हैं। यह देश की पहली अकादमी है जिसमें लेखको को ऑनलाईन राॅयल्टी का भुगतान ही नहीं किया जाता बल्कि लेखक जब चाहे अपनी पुस्तकों की बिक्री और अपनी राॅयल्टी के बारे में जानकारी अकादमी की वेबसाईट से प्राप्त कर सकता है।
श्री भाटी ने बताया कि अकादमी वर्ष 1969 से निरन्तर 50 वर्षो से उच्च शिक्षा की मानक पुस्तकों का प्रकाशन करती आ रही है। साथ ही विभिन्न संगोष्ठियों.कार्यशालाओं के आयोजन द्वारा मानक शब्दावलियों पर विशद चर्चा, पुस्तक मेलों में पुस्तकों के प्रस्तुतीकरण आदि द्वारा अनेक गतिविधियों को साकार रूप देती आ रही है।
अकादमी द्वारा प्रकाशित पुस्तकें राज्य के विभिन्न विश्वविद्यालयों की पाठ्यक्रम का भाग हैं। इसके अतिरिक्त मध्यप्रदेश, उत्तर प्रदेश, हरियाणा, पंजाब, हिमाचल प्रदेश, उत्तराखण्ड, झारखण्ड, बिहार, गुजरात और महाराष्ट्र आदि राज्यों में भी अकादमी की पुस्तकों की प्रतिष्ठा है।
रामसिंह
वार्ता
More News
राजभवन को आदर्श एवं प्रेरणा का केन्द्र बनायें-मिश्र

राजभवन को आदर्श एवं प्रेरणा का केन्द्र बनायें-मिश्र

18 Sep 2019 | 6:37 PM

जयपुर 18 सितम्बर (वार्ता ) राजस्थान के राज्यपाल कलराज मिश्र ने अधिकारियों से निर्भिकता से अपने दायित्व का निर्वहन करने का आह्वान करते हुए कहा है कि वे कार्यो में मर्यादा एवं शिष्टाचार का ध्यान र

see more..
image