Monday, Jan 25 2021 | Time 22:49 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • मेरठ में बनेगा उत्तर प्रदेश का पहला खेल विश्वविद्यालय
  • तमिलनाडु में कोरोना सक्रिय मामले 4800 के करीब
  • हेलिकॉप्टर दुर्घटना:एक पॉयलट की मौत,एक अन्य घायल
  • नीतीश ने रामविलास पासवान को पद्मभूषण मिलने की घोषणा पर जताई खुशी
  • गोंजाल्वेस ने चेन्नइयन को हार से बचाया, मुम्बई को ड्रॉ पर रोका
  • त्रिवेंद्र ने प्रदान किये उत्कृष्टता एवं सुशासन पुरस्कार
  • पी अनीता और मौमा दास सहित सात खिलाड़ियों को पद्मश्री
  • पी अनीता और मौमा दास सहित सात खिलाड़ियों को पद्मश्री
  • कुंडली बॉर्डर से 45 हजार ट्रैक्टर दिल्ली की ओर करेंगे कूच
  • जयपुर एवं चितौड़गढ़ शहर के लिए 14086 लाख की नौ पेयजल परियोजनाओं के प्रस्तावों को मंजूरी
  • फर्जीवाड़ा कांड: तीन साल से फरार आरोपी गिरफ्तार
  • जयपुर में महामारी अध्यादेश उल्लंघन पर 56 हजार का जुर्माना वसूला
  • कर्नाटक में कोरोना सक्रिय मामलों में फिर से गिरावट
  • राजस्थान में कोरोना के 193 नये मामले आए
राज्य » उत्तर प्रदेश


यमुना प्राधिकरण के तहत जल्द 600 प्लाटों की स्कीम होगी लांच

लखनऊ 13 जनवरी,(वार्ता) उत्तर प्रदेश के औद्योगिक विकास मंत्री सतीश महाना ने कहा कि यमुना प्राधिकरण के तहत 875 प्लाट आवंटित किये जा चुके हैं जबकि शीघ्र 125 हेक्टेअर भूमि पर 600 प्लाटों की स्कीम लांच की जायेगी।
श्री महाना ने बुधवार को कहा कि निवेश मित्र पोर्टल पर प्राप्त होने वाले आवेदनों का निस्तारण समयबद्ध सुनिश्चित किया जाय और इसकी नियमित रूप से मानीटरिंग भी की जाय। उन्होंने कहा कि उद्यमियों को भूखण्ड आवंटन से संबंधित जितने भी प्रकरण लंबित है, उनकी सूची बनाकर तत्काल निस्तारण किया जाय। इसके पश्चात यदि कोई मामला प्रकाश में आयेगा तो संबंधित के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जायेगी।
श्री महाना ने यह निर्देश नोएडा, ग्रेटर नोएडा तथा यमुना प्राधिकरणों के कार्यों की समीक्षा के दौरान दिये। उन्होंने कहा कि प्रस्तावित इलेक्ट्रानिक सिटी और एविएशन हब के विकास को प्रमुख दी जाय। उन्होंने कहा कि प्रस्तावित टाॅय सिटी में फ्लैटेड फैक्ट्री की स्थापना को बढ़ावा दिया जाय।
औद्योगिक विकास मंत्री ने तीनों प्राधिकरणों से संबंधित फ्लैट वायर की समस्याओं, सिंगल विण्डो क्लियरेंस सिस्टम, मेट्रो प्रोजेक्ट, निवेश योजनाओं, लैण्ड बैंक, औद्योगिक सेक्टरों, अवस्थापना सुविधाओं का विकास, आय एवं व्यय की स्थिति, जी.आई.एस. प्रणाली, भूमि अधिग्रहण तथा किसानों की समस्याओं के समाधान की स्थिति की विस्तृत समीक्षा की।
प्राधिकरण की सभी सुविधाएं आन लाईन उपलब्ध करायी जाय और इसे निवेश मित्र के पोर्टल पर अपलोड किया जाय। उन्होने प्राधिकरणों को कड़े निर्देश दिये कि आफ लाईन प्रार्थना-पत्र स्वीकार न किये जाय। प्राधिकरण के संबंधित विभागों से सभी रिक्त भूखण्डों की सूची प्राप्त कर शासन को उपलब्ध करायें। यदि किसी लिपिक एवं विभाग के प्रभारी अधिकारी द्वारा रिक्त भूखण्डों की सूची उपलब्ध न करायी जाय, तो उसके विरूद्ध विभागीय कार्यवाही का प्रस्ताव शासन को अविलम्ब भेजें।
प्रदीप
वार्ता
image