Saturday, Nov 17 2018 | Time 16:24 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • बादल जत्थेदारों को अपने सरकारी निवास पर तलब करने का मकसद बतायें
  • 45 तालुका आंशिक सूखाग्रस्त घोषित
  • वित्त मंत्रालय में अपने काम से संतुष्ट : अधिया
  • सरकार की उपलब्धियों को जन-जन तक पहुंचाने के लिये भाजपा ने निकाली कमल संदेश बाइक रैली
  • गुजरात में समुद्र के खारे पानी को पीने योग्य बनाने वाले संयंत्र के लिए समझौता
  • बिस्कुट ट्रॉफी के बाद पाकिस्तान खेलेगा ‘ओये होये ट्रॉफी’
  • रामाराव की पौत्री सुहासिनी ने दाखिल किया नामांकन पत्र
  • जोगी ने धर्म ग्रन्थों को हाथ में लेकर भाजपा को समर्थन नही देने की ली शपथ
  • जोगी ने धर्म ग्रन्थों को हाथ में लेकर भाजपा को समर्थन नही देने की ली शपथ
  • रामाराव की पौत्री सुहासिनी ने दाखिल किया नामांकन पत्र
  • वर्ष 1971 के युद्ध के हीराे ​ब्रि0 कुलदीप सिंह चांदपुरी नहीं रहे
  • अमरिंदर के राजनीतिक सचिव करनपाल सेखों का निधन
  • कबड्डी के अंतरराष्ट्रीय खिलाड़ी सुखमन चोहला का निधन
  • कबड्डी के अंतरराष्ट्रीय खिलाड़ी सुखमन चोहला का निधन
  • सेवानिवृत्ति के बाद अधिया को दूसरे क्षेत्रों में जिम्मा देना चाहती है सरकार
मनोरंजन » कला एवं रंगमंच Share

शंकर और जयकिशन के बीच भी हुयी थी अनबन

शंकर और जयकिशन के बीच भी हुयी थी अनबन

. जयकिशन की पुण्यतिथि 12 सितंबर
मुंबई 11 सितंबर (वार्ता) भारतीय सिनेमा जगत में सर्वाधिक कामयाब संगीतकार जोड़ी शंकर -जयकिशन ने अपने सुरों के जादू से श्रोताओं को कई दर्शकों तक मंत्रमुग्ध किया और उनकी जोड़ी एक मिसाल के रूप में ली जाती थी लेकिन एक वक्त ऐसा भी आया जब दोनो के बीच अनबन हो गयी थी ।

शंकर और जयकिशन ने एक दूसरे से वादा किया था कि वह कभी किसी को नहीं बतायेंगे कि धुन किसने बनायी है लेकिन एक बार जयकिशन इस वादे को भूल गये और मशहूर सिने पत्रिका फिल्मफेयर के लेख में बता दिया कि फिल्म संगम के गीत.. ये मेरा प्रेम पत्र पढ़कर कि तुम नाराज न होना.. की धुन उन्होंने बनाई थी ।
इस बात से शंकर काफी नाराज भी हुये।
बाद में पार्श्वगायक मोहम्मद रफी के प्रयास से शंकर और जयकिशन के बीच हुये मतभेद को कुछ हद तक कम किया जा सका ।

शंकर सिंह रघुवंशी का जन्म 15 अक्तूबर 1922 को पंजाब में हुआ था।
बचपन के दिनों से ही शंकर संगीतकार बनना चाहते थे और उनकी रूचि तबला बजाने में थी।
उन्होंने अपनी प्रारंभिक शिक्षा बाबा नासिर खानसाहब से ली थी ।
इसके साथ ही उन्होंने हुस्न लाल भगत राम से भी संगीत की शिक्षा ली थी ।
अपने शुरूआती दौर मे शंकर ने सत्यनारायण और हेमावती द्धारा संचालित एक थियेटर ग्रुप में काम किया ।
इसके साथ ही वह पृथ्वी थियेटर के
सदस्य भी बन गये जहां वह तबला बजाने का काम किया करते थे ।
इसके साथ ही पृथ्वी थियेटर के नाटकों मे वह छोटे मोटे रोल भी किया करते थे ।

जयकिशन का पूरा नाम जयकिशन दयाभाई पांचाल था।
उनका जन्म चार नवम्बर 1929 को गुजरात के वंसाडा में हुआ था ।
जयकिशन हारमोनियम बजाने में निपुण थे और उन्होंने वाडीलालजी.प्रेम शंकर नायक और विनायक तांबे से शास्त्रीय संगीत की शिक्षा ली थी हलांकि वह अभिनेता बनना चाहते थे।
अभिनेता बनने का सपना लिये जयकिशन ने मुंबई का रूख किया जहां वह एक फैक्ट्री में टाइमकीपर..समयपाल.. की नौकरी करने लगे ।
उसी दौरान उनकी मुलाकात शंकर से हुयी।
शंकर की सिफारिश पर जयकिशन को पृथ्वी थियेटर में हारमोनियम बजाने के लिये नियुक्त कर लिया गया ।

वर्ष 1948 में राजकपूर की पहली फिल्म आग में शंकर-जयकिशन ने संगीतकार राम गांगुली के सहायक के तौर पर काम किया।
बाद में राजकपूर और राम गांगुली के बीच किसी बात को लेकर मतभेद हो गया।
उन दिनों राजकपूर अपनी नयी फिल्म बरसात की तैयारी कर रहे थे।
राजकपूर ने शंकर जयकिशन को मिलने का न्योता भेजा ।
राज कपूर शंकर जयकिशन के संगीत बनाने के अंदाज से काफी प्रभावित हुये और उन्होंने शंकर जयकिशन से अपनी फिल्म बरसात में संगीत देने की पेशकश की ।

फिल्म बरसात मे शंकर-जयकिशन की जोड़ी ने जिया बेकरार है और बरसात में हमसे मिले तुम सजन जैसे सुपरहिट संगीत दिया ।
फिल्म बरसात की कामयाबी के बाद शंकर जयकिशन बतौर संगीतकार अपनी पहचान बनाने मे सफल हो गये ।
इसे महज एक संयोग ही कहा जायेगा कि फिल्म बरसात से ही गीतकार शैलेन्द्र और हसरत जयपुरी ने भी अपने सिने कैरियर की शुरूआत की थी ।
फिल्म बरसात की कामयाबी के बाद राजकपूर हसरत जयपुरी और शंकर जयकिशन की जोड़ी ने कई फिल्मो मे एक साथ काम किया ।

शंकर जयकिशन की जोड़ी गीतकार हसरत जयपुरी और शैलेन्द्र के साथ काफी पसंद की गयी।
शंकर .जयकिशन सर्वाधिक नौ बार सर्वश्रेष्ठ संगीतकार के फिल्म फेयर पुरस्कार से सम्मानित किया गया है।
शंकर की जोड़ी जयकिशन के साथ वर्ष 1971 तक कायम रही।
12 सितंबर 1971 को जयकिशन इस दुनिया को अलविदा कह गये।
अपने मधुर
संगीत से श्रोताओं को भावविभोर करने वाले संगीतकार शंकर भी 26 अप्रैल 1987 को इस दुनिया को अलविदा कह
गये ।


वार्ता

अक्षय

अक्षय और जॉन की फिर होगी बॉक्स ऑफिस पर टक्कर

मुंबई 17 नवंबर (वार्ता) बॉलीवुड के खिलाड़ी कुमार अक्षय कुमार और माचो मैन जॉन अब्राहम के बीच अगले साल
भी बॉक्स ऑफिस पर टक्कर होगी।

कव्वाली

कव्वाली को संगीतबद्ध करने में महारत थे रोशन

..पुण्यतिथि 16 नवंबर के अवसर पर ..
मुंबई 15 नवंबर (वार्ता) हिंदी फिल्मों में जब कभी कव्वाली का जिक्र होता है तो संगीतकार रोशन का नाम सबसे पहले लिया जाता है ।

हर

हर अभिनेता के रंग में रंग जाती थीं माला सिन्हा

... जन्मदिन 11 नवंबर के अवसर पर
मुम्बई 10 नवम्बर(वार्ता) बॉलीवुड में माला सिन्हा उन गिनी चुनी चंद अभिनेत्रियों में शुमार की जाती हैं जिनमें खूबसूरती के साथ बेहतरीन अभिनय का भी संगम देखने को मिलता है।

ठग्स

ठग्स ऑफ हिंदोस्तान के रिलीज को लेकर नर्वस हैं आमिर खान

मुंबई 07 नवंबर (वार्ता) बॉलीवुड के मिस्टर परफेक्शनिस्ट आमिर खान अपनी आने वाली फिल्म ठग्स ऑफ हिंदोस्तान के रिलीज को लेकर नर्वस हैं।

आलोचनाओं

आलोचनाओं को स्वीकार करते हैं अमिताभ

मुंबई 17 नवंबर (वार्ता) बॉलीवुड के महानायक अमिताभ बच्चन का कहना है कि वह आलोचनाओं को स्वीकार करते हैं।

रूमानी

रूमानी अदाओं से दीवाना बनाया मीनाक्षी ने

..जन्मदिवस 16 नवंबर के अवसर पर..
मुंबई 15 नवंबर (वार्ता) बॉलीवुड में मीनाक्षी शेषाद्री एक ऐसी अभिनेत्री के रुप में शुमार की जाती है जिन्होंने अपनी रूमानी अदाओं से लगभग दो दशक तक सिने प्रेमियों को अपना दीवाना बनाया ।

किंग

किंग खान के रूप में पहचान बनायी शाहरूख ने

(जन्मदिन 02 नवंबर के अवसर पर)
मुंबई, 01 नवंबर (वार्ता) छोटे पर्दे से अपने करियर की शुरूआत करके बॉलीवुड में किंग खान के रूप में पहचान बनाने वाले अभिनेता शाहरुख खान आज भी सिने प्रेमियों के दिलों पर राज करते है।

शाहरूख

शाहरूख ने जब हैरी मेट सेजल के फ्लॉप होने पर की बात

मुंबई 17 नवंबर (वार्ता) बॉलीवुड के किंग खान शाहरूख खान ने अपनी फिल्म जब हैरी मेट सेजल के फ्लॉप होने
पर बात की है।

फिल्म

फिल्म इंडस्ट्री में बाल कालाकारों का जलवा भी कम नहीं

..बाल दिवस 14 नवंबर के अवसर पर ..
मुंबई 13 नवंबर (वार्ता) यूं तो हिन्दी सिनेमा युवा प्रधान है और समूचा सिने उद्योग युवा, उसकी सोच और मांग को ध्यान में रखकर फिल्मों का निर्माण करता है,लेकिन बाल कलाकारों ने इस व्यवस्था को अपने दमदार अभिनय से लगातार चुनौती दी है।

गुलाम

गुलाम हैदर ने पहचाना था लता की प्रतिभा को

(पुण्यतिथि नौ नवंबर के अवसर पर)
मुंबई 08 नवंबर (वार्ता) लता मंगेशकर के सिने करियर के शुरूआती दौर में कई निर्माता-निर्देशक और संगीतकारों ने पतली आवाज के कारण उन्हें गाने का अवसर नहीं दिया लेकिन उस समय एक संगीतकार ऐसे भी थे जिन्हें लता मंगेशकर की प्रतिभा पर पूरा भरोसा था और उन्होंने उसी समय भविष्यवाणी कर दी थी ..यह लड़की आगे चलकर इतना अधिक नाम करेगी कि बड़े से बड़े निर्माता, निर्देशक और संगीतकार उसे अपनी फिल्म में गाने का मौका देंगे।

पॉप गायिकी को अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर पहचान दिलायी माइकल जैक्सन ने

पॉप गायिकी को अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर पहचान दिलायी माइकल जैक्सन ने

..जन्मदिवस 29 अगस्त के अवसर पर ..
मुंबई 28 अगस्त(वार्ता)किंग ऑफ पॉप माइकल जैक्सन को ऐसी शख्सियत के तौर पर याद किया जाता है जिन्होंने पॉप संगीत की दुनिया को पूरी तरह बदलकर अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर अपनी पहचान बनायी है।

माय वर्जिन डायरी डिजिटल प्लेटफार्म पर मचा रही धूम

माय वर्जिन डायरी डिजिटल प्लेटफार्म पर मचा रही धूम

नयी दिल्ली 25 मार्च (वार्ता) दिल्ली विश्वविद्यालय के हिन्दू कॉलेज के छात्रों की जिंदगी पर आधारित फिल्म माय वर्जिन डायरी डिजिटल प्लेटफार्म जिओ सिनेमा, एयरटेल मूवीज, बिगफ्लिक्स, चिल्क्स, हंगामा मूवी, नेट्टीवुड आदि के जरिये वैश्विक स्तर पर धूम मचा रही है।

रियलिटी शो अवसर सिद्ध करने का मजबूत प्लेटफार्म : तान्या

रियलिटी शो अवसर सिद्ध करने का मजबूत प्लेटफार्म : तान्या

लखनऊ 26 अक्टूबर (वार्ता) नन्ही पार्श्व गायिका तान्या तिवारी का मानना है कि छोटे पर्दे पर रियलिटी शो की भरमार ने चुनौतियों के बावजूद अवसरों को यर्थाथ में बदलने का मजबूत प्लेटफार्म युवा गायकों को मुहैया कराया है।

अभिनेता बनना चाहते थे मुकेश

अभिनेता बनना चाहते थे मुकेश

..पुण्यतिथि 27 अगस्त के अवसर पर ..
मुंबई 26 अगस्त (वार्ता)भारतीय सिनेमा जगत में मुकेश ने भले ही अपने पार्श्व गायन से लगभग तीन दशक तक श्रोताओं को दीवाना बनाया लेकिन वह अपनी पहचान अभिनेता के तौर पर बनाना चाहते थे।

हर अभिनेता के रंग में रंग जाती थीं माला सिन्हा

हर अभिनेता के रंग में रंग जाती थीं माला सिन्हा

... जन्मदिन 11 नवंबर के अवसर पर
मुम्बई 10 नवम्बर(वार्ता) बॉलीवुड में माला सिन्हा उन गिनी चुनी चंद अभिनेत्रियों में शुमार की जाती हैं जिनमें खूबसूरती के साथ बेहतरीन अभिनय का भी संगम देखने को मिलता है।

image