Wednesday, Apr 24 2019 | Time 15:24 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • अकाल तख्त का इस्तेमाल निजी फायदे के लिए करने वाले सिक्ख नहीं : कैप्टन
  • श्रीलंका में मृतक संख्या 359 हुई, सुरक्षा मजबूत होगी
  • नरेन्द्र मोदी ने देश को सुरक्षित करने का काम किया : अमित शाह
  • सिंधू, सायना और समीर दूसरे दौर में
  • सिंधू, सायना और समीर दूसरे दौर में
  • म्यांमार के हरिताश्म खदान में भूस्खलन के बाद करीब 51 लोग लापता
  • श्रीलंका में संदिग्ध पार्सल नष्ट किया गया
  • श्रीलंका विस्फोट में मारे गये लोगों के शव कर्नाटक पहुंचने शुरू
  • सोना 50 रुपये फिसला, चाँदी 200 रुपये कमजोर
  • प्लेऑफ की उम्मीदें बनाये रखने उतरेंगे कोलकाता और राजस्थान
  • प्लेऑफ की उम्मीदें बनाये रखने उतरेंगे कोलकाता और राजस्थान
  • वाहन जांच के दौरान 39 लाख 50 हजार रूपये बरामद
  • मनोज सिन्हा के नामांकन में आएंगे अमित शाह
  • श्रीलंका बम धमाकों में चार और चीनियों के मारे जाने की आशंका
मनोरंजन » कला एवं रंगमंच


मैं जिंदगी का साथ निभाता चला गया..

मैं जिंदगी का साथ निभाता चला गया..

(पुण्यतिथि 6 जनवरी के अवसर पर )
मुंबई 05 जनवरी (वार्ता)...मैं जिंदगी का साथ निभाता चला गया..
हर फ्रिक को धुंए में उड़ाता चला गया ..
अपने संगीतबद्ध गीतों से श्रोताओं को मंत्रमुग्ध करने वाले महान
संगीतकार जयदेव का अपनी जिंदगी के प्रति नजरिया कुछ ऐसा ही था।

लुधियाना में 3 अगस्त 1919 को जन्मे जयदेव का रूझान बचपन से ही फिल्मों की ओर था।
वह अभिनेता के रूप मे अपनी पहचान बनाना चाहते थे।
अपने सपने को पूरा करने के लिये वह 15 वर्ष की उम्र में ही घर से भागकर फिल्म नगरी मुंबई आये जहां उन्हें बतौर बाल कलाकार “वाडिया फिल्मस” निर्मित आठ फिल्मों में अभिनय करने का मौका मिला।
इस बीच जयदेव ने कृष्णाराव और जर्नादन राव से संगीत की शिक्षा भी ली।

कुछ वर्षों के पश्चात जयदेव अपने पिता की बीमारी के कारण मुंबई फिल्म इंडस्ट्री को छोड़ वापस अपने घर लुधियाना आ गये।
पिता की अकस्मात मृत्यु के बाद परिवार और बहन की देखभाल की सारी जिम्मेदारी उनके ऊपर आ गयी।
अपनी बहन की शादी के बाद वर्ष 1943 में वह लखनऊ चले गये और वहां उन्होंने उस्ताद अली अकबर खान से संगीत की शिक्षा हासिल की।

बचपन से ही मजबूत इरादे वाले जयदेव अपने सपनों को साकार करने के लिये एक नये जोश के साथ फिर मुंबई पहुंचे।
वर्ष 1951 में जयदेव को नवकेतन के बैनर तले निर्मित बनी फिल्म “आंधिया” में सहायक संगीतकार काम करने का मौका मिला।
इसके बाद उन्होंने महान संगीतकार एस. डी. बर्मन के सहायक के रूप में भी काम किया।
इस बीच उनका अपना संघर्ष जारी रखा।
शायद नियति को यह मंजूर था कि जयदेव संगीतकार ही बने इसलिये चेतन आंनद ने उन्हें अपनी ही फिल्म “जोरू का भाई” में संगीतकार के रूप मे काम करने का मौका दिया।
इस फिल्म के जरिये पहचान बनाने में वह भले ही सफल नहीं हो पाये लेकिन एक संगीतकार के रूप में उन्होनें अपने सिने करियर का सफर शुरू कर दिया।

     इसके बाद चेतन आंनद की ही निर्मित फिल्म “अंजली” की कामयाबी के बाद जयदेव बतौर संगीतकार फिल्म इंडस्ट्री में अपनी पहचान बनाने में कामयाब हो गये।
अपने वजूद को तलाशते उनको लगभग दस वर्षों तक सिने जगत में संघर्ष करना पड़ा।
वर्ष 1961 में प्रदर्शित नवकेतन के बैनर तले निर्मित फिल्म “हम दोनों” की कामयाबी के बाद जयेदव बतौर संगीतकार सफलता के शिखर पर जा पहुंचे।
यूं तो फिल्म “हम दोनों” में उनके संगीत से सजे सारे गाने हिट साबित हुये लेकिन फिल्म का यह गीत “अल्लाह तेरो नाम” श्रोताओं के बीच आज भी लोकप्रिय है ।

वर्ष 1963 में सुनील दत्त के बैनर अजंता आर्टस निर्मित फिल्म “मुझे जीने दो” उनके सिने करियर की एक और अहम फिल्म साबित हुई।
इस फिल्म में जयदेव ने फिल्म “हम दोनों” के बाद एक बार फिर से गीतकार साहिर लुधियानवी के साथ मिलकर काम किया और “रात भी है कुछ भीगी भीगी” और “तेरे बचपन को जवानी जीने की दुआये देती हूँ” जैसे सुपरहिट गीत की रचना कर श्रोताओं को मंत्रमुग्ध किया।

श्रोताओं को हमेशा कुछ नया देने के उद्देश्य से वह अपनी फिल्मों के संगीतबद्ध गीतों में प्रयोग किया करते थे और ऐसा ही प्रयोग उन्होंने वर्ष 1963 में प्रदर्शित फिल्म “किनारे किनारे” में भी किया।
फिल्म “किनारे किनारे” के माध्यम से उन्होंने अभिनेता देवानंद पर फिल्माये गानों के पार्श्वगायन के लिये तलत महमूद, मोहम्मद, रफी, मन्ना डे और मुकेश
की आवाज का इस्तेमाल किया।

सत्तर के दशक में जयदेव की फिल्में व्यावसायिक तौर पर सफल नहीं रही।
इसके बाद निर्माता, निर्देशकों ने जयदेव की ओर से अपना मुख मोड़ लिया लेकिन वर्ष 1977 मे प्रदर्शित फिल्म “घरौंदा” और वर्ष 1979 में प्रदर्शित फिल्म ‘गमन’ में उनके संगीतबद्ध गीत की कामयाबी के बाद जयदेव एक बार फिर से अपनी खोयी हुई लोकप्रियता पाने में सफल रहे।
जयदेव को मिले सम्मानों पर यदि नजर डालें तो उन्हें उनके संगीतबद्ध गीतों के लिये तीन बार राष्ट्रीय पुरस्कार से सम्मानित किया गया।
फिल्मी गीतों के अलावा जयदेव ने गैर फिल्मी गीतो को भी संगीतबद्ध किया।
इनमें प्रख्यात कवि हरिवंश राय बच्चन की मधुशाला के गीत भी शामिल हैं।
अपने संगीतबद्ध गीतों से श्रोताओं के दिलों में खास पहचान बनाने वाले महान संगीतकार जयदेव 06 जनवरी 1987 को इस दुनिया को अलविदा कह गये ।

वार्ता

दक्षिण

दक्षिण भारतीय फिल्म में खलनायक का किरदार निभायेंगे शाहरूख खान!

मुंबई 24 अप्रैल (वार्ता) बॉलीवुड के किंग खान शाहरूख खान दक्षिण भारतीय फिल्म थालापैथी 63 में खलनायक
का किरदार निभाते नजर आ सकते हैं।

रणबीर

रणबीर के साथ लिव-इन में रहने नहीं जा रही है आलिया

मुंबई 24 अप्रैल (वार्ता) बॉलीवुड अभिनेत्री आलिया भट्ट ने कहा है कि वह रणबीर कपूर के साथ लिव-इन में रहने नही जा रही है।

उड़नपरी

उड़नपरी का किरदार निभायेगी कैटरीना कैफ!

मुंबई 24 अप्रैल (वार्ता) बॉलीवुड की बार्बी गर्ल कैटरीना कैफ सिल्वर स्क्रीन पर उड़नपरी पी.टी.उषा का किरदार निभाती
नजर आ सकती है।

भारत

भारत में सलमान अपने लुक को लेकर काफी सजग थे : जफर

मुंबई 24 अप्रैल (वार्ता) बॉलीवुड निर्देशक अली अब्बास जफर का कहना है कि सलमान खान फिल्म भारत में अपने लुक को लेकर बहुत सजग थे।

करण

करण जौहर की फिल्म से डेब्यू करना चाहती है खुशी कपूर

मुंबई 24 अप्रैल (वार्ता) बॉलीवुड अभिनेत्री श्रीदेवी और फिल्मकार बोनी कपूर की बेटी खुशी कपूर ,करण जौहर की फिल्म से डेब्यू करना चाहती है।

बॉक्स

बॉक्स ऑफिस पर फिल्म की असफलता पर स्ट्रेस नही लेती सोनाक्षी

मुंबई 23 अप्रैल (वार्ता) बॉलीवुड की दबंग गर्ल सोनाक्षी सिन्हा का कहना है कि वह बॉक्स ऑफिस पर फिल्म की असफलता पर स्ट्रेस नही लेती है।

अभी

अभी डेब्यू नहीं कर रही है न्यासा :काजोल

मुंबई 23 अप्रैल (वार्ता) जानी मानी अभिनेत्री काजोल का कहना है कि उनकी बेटी न्यासा अभी बॉलीवुड में डेब्यू नही कर रही है।

तेरे

तेरे नाम का सीक्वल बनायेंगे सतीश कौशिक

मुंबई 23 अप्रैल (वार्ता) बॉलीवुड के जाने माने निर्देशक सतीश कौशिक अपनी सुपरहिट फिल्म तेरे नाम का सीक्वल बनाने जा रहे हैं।

शाहरूख

शाहरूख को पसंद आया भारत का ट्रेलर

मुंबई 23 अप्रैल (वार्ता) बॉलीवुड के किंग खान शाहरूख खान को सलमान खान की आने वाली फिल्म भारत का ट्रेलर पसंद आया है।

सत्यजीत

सत्यजीत रे ने बाइसाईकिल थीफस देख किया फिल्म निर्माण का इरादा

..पुण्यतिथि 23 अप्रैल ..
मुंबई 22 अप्रैल(वार्ता) भारतीय सिनेमा जगत में युगपुरूष सत्यजीत रे को एक ऐसे फिल्मकार के तौर पर याद किया जाता है जिन्होंने अपनी निर्मित फिल्मों के जरिये भारतीय सिनेमा जगत को अंतरराष्ट्रीय स्तर पर विशिष्ट पहचान दिलाई।

पॉप गायिकी को अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर पहचान दिलायी माइकल जैक्सन ने

पॉप गायिकी को अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर पहचान दिलायी माइकल जैक्सन ने

..जन्मदिवस 29 अगस्त के अवसर पर ..
मुंबई 28 अगस्त(वार्ता)किंग ऑफ पॉप माइकल जैक्सन को ऐसी शख्सियत के तौर पर याद किया जाता है जिन्होंने पॉप संगीत की दुनिया को पूरी तरह बदलकर अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर अपनी पहचान बनायी है।

दिल्ली में भी होगा फिल्म उद्योग, डियोरामा अंतरराष्ट्रीय फिल्म समारोह आरंभ

दिल्ली में भी होगा फिल्म उद्योग, डियोरामा अंतरराष्ट्रीय फिल्म समारोह आरंभ

नयी दिल्ली 15 जनवरी (वार्ता) दिल्ली में भी फिल्म उद्योग स्थापित करने के मकसद से पहले डियोरामा अंतरराष्ट्रीय फिल्म समारोह एवं विपणन 2019 की कल रात यहां देश-विदेश के फिल्मी जगत के लोगों की मौजूदगी में शुरूआत हुयी।

सत्यजीत रे ने बाइसाईकिल थीफस देख किया फिल्म निर्माण का इरादा

सत्यजीत रे ने बाइसाईकिल थीफस देख किया फिल्म निर्माण का इरादा

..पुण्यतिथि 23 अप्रैल ..
मुंबई 22 अप्रैल(वार्ता) भारतीय सिनेमा जगत में युगपुरूष सत्यजीत रे को एक ऐसे फिल्मकार के तौर पर याद किया जाता है जिन्होंने अपनी निर्मित फिल्मों के जरिये भारतीय सिनेमा जगत को अंतरराष्ट्रीय स्तर पर विशिष्ट पहचान दिलाई।

भारतीय सिनेमा जगत के युगपुरूष थे बी.आर. चोपड़ा

भारतीय सिनेमा जगत के युगपुरूष थे बी.आर. चोपड़ा

..जन्मदिवस 22 अप्रैल  ..
मुम्बई 21 अप्रैल (वार्ता) भारतीय सिनेमा जगत में बी.आर.चोपड़ा को एक ऐसे फिल्मकार के रूप में याद किया जायेगा जिन्होंने पारिवारिक, सामाजिक और साफ-सुथरी फिल्में बनाकर लगभग पांच दशक तक सिने प्रेमियों के दिलो-दिमाग में
अपनी खास जगह बनायी।

image