Thursday, Apr 25 2019 | Time 05:36 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • लीबिया में हुई झड़प में मरने वालों की संख्या बढ़कर हुई 272 : डब्ल्यूएचओ
  • अल्जीरिया के पूर्व ऊर्जा मंत्री पर लगे भ्रष्टाचार के आरोप
  • वेनेजुएला के विदेश मंत्री ने एंटोनियो गुटेरेस से की मुलाकात
  • घंटे भर चलेगी पुतिन-किम की मुलाकात : सूत्र
मनोरंजन » कला एवं रंगमंच


खनकती आवाज की मल्लिका थी शमशाद बेगम

खनकती आवाज की मल्लिका थी शमशाद बेगम

(जन्म शताब्दी 14 अप्रैल)
मुंबई 13 अप्रैल (वार्ता) जिन लोगों ने चालीस के दशक में बनी फिल्म पतंगा के गीत ‘मेरे पिया गये रंगून किया है वहां से टेलीपून..सुना होगा उन्हें अवश्य पता होगा कि इस फिल्म में शमशाद बेगम ने अपनी जादुई आवाज दी थी।

खनकती आवाज की मल्लिका कही जाने वाली शमशाद बेगम का जन्म पंजाब के अमृतसर में 14 अप्रैल 1919 को हुआ।
इस दौर में भोंपू और ग्रामोफोन से यदि कोई आवाज निकलती तो शमशाद उसे गाने लगती।
यही उनका रियाज और उनकी साधना थी।
संगीतकार मास्टर गुलाम हैदर ने जब शमशाद की आवाज को सुना तब महज 13 वर्ष की उम्र में एक पंजाबी गीत “हथ जोड़िया पंखिया दे” गवाया।

शमशाद बेगम की आवाज में रचा बस यह गीत काफी लोकप्रिय हुआ।
इसके बाद रिकार्ड कंपनी ने उनसे कई गीत गवाये।
उस दौर में शमशाद बेगम को प्रति गीत साढ़े 12 रुपये मिला करते थे।
इसी दौरान पंजाबी फिल्मों के जाने माने फिल्मकार दिलसुख पंचोली ने शमशाद बेगम की प्रतिभा को पहचाना और उन्हें अपनी फिल्म यमला जट में पार्श्वगायन का मौका दिया।
इस फिल्म के लिये शमशाद बेगम ने आठ गीत गाये।
रोचक तथ्य है इसी फिल्म से सदी के खलनायक प्राण ने अपनी अभिनय यात्रा शुरू की थी।

वर्ष 1941 में प्रदर्शित फिल्म खजांची से शमशाद बेगम ने हिंदी फिल्मों में भी अपना कदम रख दिया।
इस फिल्म में उन्होंने अपना पहला गीत “सावन के नजारे है” गाया।
इसी फिल्म में पार्श्वगायक मुकेश के साथ उनका गाया गीत “मोती चुगने गई रे हंसनी मनसरोवर तीर” बहुत लोकप्रिय हुआ।
खजांची में उनके गाये अन्य लोकप्रिय गीतों में लौट गयी पापन अंधियारी और दीवाली फिर आई सजनी श्रोताओं के बीच पसंद की गयी।

वर्ष 1950 में प्रदर्शित फिल्म बाबुल में नौशाद के संगीत निर्देशन में शमशाद बेगम की आवाज में गाया गीत “छोड़ बाबुल का घर मोहे पी के नगर आज जाना पड़ा” आज भी जब विदाई के समय बजता है तो सुनने वालो की आंखें नम हो जाती है।

शमशाद बेगम ने एक बार इससे जुड़ा संस्मरण सुनाया था “मेरी बेटी की शादी हो रही थी।
सारा वातावरण गमगीन था।
अचानक ही यह गीत बजाया गया।
मेरी बेटी रोते रोते हंस दी और उसने कहा अरे ये तो मेरी अम्मी का गीत है।
” इसी फिल्म में शमशाद बेगम ने लता मंगेश्कर के साथ “किसी के दिल में रहना था” गाया था।

वर्ष 1951 में प्रदर्शित फिल्म दीदार में शमशाद बेगम ने नौशाद के संगीत निर्देशन में “चमन में रहके वीराना होता है” जैसे सुपरहिट गीत गाये।
वर्ष 1952 में प्रदर्शित बहार में जहां शमशाद ने “दुनिया का मजा ले लो दुनिया तुम्हारी है” जैसा फड़कता हुआ गीत गाया वही इसी फिल्म में उनका गाया गीत “सइंया दिल में आना रे” बेहद लोकप्रिय हुआ था।

शमशाद बेगम ने जहां मदर इंडिया में विदाई के अवसर पर “पी के घर आज प्यारी दुल्हनिया चली” जैसा भावविभोर करने वाला गीत गाया।
आज के दौर में जो गीत धूम धड़ाके वाले कहे जाते है इन गीतों का आगाज करने का श्रेय शमशाद बेगम को जाता है।
उन्होंने राजकपूर की फिल्म आवारा में “एक दो तीन आजा मौसम है रंगीन” जैसा फड़कता गाना गाया।
गीत गाने में उन्हें कोई कठिनाई नहीं हुयी।

शमशाद बेगम के गाये उल्लेखनीय गीतों में “जब उसने गेसू बिखराये बादल आया झूम के, न आखों में आंसू ना होठों पे हाय, लेके पहला पहला प्यार, रेशमी सलवार कुर्ता जाली का, तेरी महफिल में किस्मत आजमा के हमभी देखेगे, कजरा मोहब्बत वाला आंखों में ऐसा डाला, होली आई रे कन्हाई, बूझ मेरा क्या नाम रे, कही पे निगाहें कही पे निशाना, कभी आर कभी पार, आना मेरी जान संडे के संडे” जैसे कई सुपरहिट नगमे शामिल है।

उन्होंने अपने दौर के सभी दिग्गज संगीतकार नौशाद, गुलाम हैदर, ओपी नैय्यर, कल्याणजी-आनंद जी, सी. रामचंद्र के साथ काम किया।
वर्ष 2009 में शमशाद बेगम को उनके उल्लेखनीय योगदान को देखते हुए पद्म भूषण पुरस्कार से सम्मानित किया गया।
वह सहगल की बड़ी प्रशंसक थी और उन्होंने उनकी फिल्म देवदास 14 बार देखी थी।
अपनी खनकती आवाज से श्रोताओं को मंत्रमुग्ध करने वाली शमशाद बेगम 23 अप्रैल 2013 को इस दुनिया को अलविदा कह गयी।

 

दक्षिण

दक्षिण भारतीय फिल्म में खलनायक का किरदार निभायेंगे शाहरूख खान!

मुंबई 24 अप्रैल (वार्ता) बॉलीवुड के किंग खान शाहरूख खान दक्षिण भारतीय फिल्म थालापैथी 63 में खलनायक
का किरदार निभाते नजर आ सकते हैं।

रणबीर

रणबीर के साथ लिव-इन में रहने नहीं जा रही है आलिया

मुंबई 24 अप्रैल (वार्ता) बॉलीवुड अभिनेत्री आलिया भट्ट ने कहा है कि वह रणबीर कपूर के साथ लिव-इन में रहने नही जा रही है।

उड़नपरी

उड़नपरी का किरदार निभायेगी कैटरीना कैफ!

मुंबई 24 अप्रैल (वार्ता) बॉलीवुड की बार्बी गर्ल कैटरीना कैफ सिल्वर स्क्रीन पर उड़नपरी पी.टी.उषा का किरदार निभाती
नजर आ सकती है।

भारत

भारत में सलमान अपने लुक को लेकर काफी सजग थे : जफर

मुंबई 24 अप्रैल (वार्ता) बॉलीवुड निर्देशक अली अब्बास जफर का कहना है कि सलमान खान फिल्म भारत में अपने लुक को लेकर बहुत सजग थे।

करण

करण जौहर की फिल्म से डेब्यू करना चाहती है खुशी कपूर

मुंबई 24 अप्रैल (वार्ता) बॉलीवुड अभिनेत्री श्रीदेवी और फिल्मकार बोनी कपूर की बेटी खुशी कपूर ,करण जौहर की फिल्म से डेब्यू करना चाहती है।

बॉक्स

बॉक्स ऑफिस पर फिल्म की असफलता पर स्ट्रेस नही लेती सोनाक्षी

मुंबई 23 अप्रैल (वार्ता) बॉलीवुड की दबंग गर्ल सोनाक्षी सिन्हा का कहना है कि वह बॉक्स ऑफिस पर फिल्म की असफलता पर स्ट्रेस नही लेती है।

अभी

अभी डेब्यू नहीं कर रही है न्यासा :काजोल

मुंबई 23 अप्रैल (वार्ता) जानी मानी अभिनेत्री काजोल का कहना है कि उनकी बेटी न्यासा अभी बॉलीवुड में डेब्यू नही कर रही है।

तेरे

तेरे नाम का सीक्वल बनायेंगे सतीश कौशिक

मुंबई 23 अप्रैल (वार्ता) बॉलीवुड के जाने माने निर्देशक सतीश कौशिक अपनी सुपरहिट फिल्म तेरे नाम का सीक्वल बनाने जा रहे हैं।

शाहरूख

शाहरूख को पसंद आया भारत का ट्रेलर

मुंबई 23 अप्रैल (वार्ता) बॉलीवुड के किंग खान शाहरूख खान को सलमान खान की आने वाली फिल्म भारत का ट्रेलर पसंद आया है।

सत्यजीत

सत्यजीत रे ने बाइसाईकिल थीफस देख किया फिल्म निर्माण का इरादा

..पुण्यतिथि 23 अप्रैल ..
मुंबई 22 अप्रैल(वार्ता) भारतीय सिनेमा जगत में युगपुरूष सत्यजीत रे को एक ऐसे फिल्मकार के तौर पर याद किया जाता है जिन्होंने अपनी निर्मित फिल्मों के जरिये भारतीय सिनेमा जगत को अंतरराष्ट्रीय स्तर पर विशिष्ट पहचान दिलाई।

पॉप गायिकी को अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर पहचान दिलायी माइकल जैक्सन ने

पॉप गायिकी को अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर पहचान दिलायी माइकल जैक्सन ने

..जन्मदिवस 29 अगस्त के अवसर पर ..
मुंबई 28 अगस्त(वार्ता)किंग ऑफ पॉप माइकल जैक्सन को ऐसी शख्सियत के तौर पर याद किया जाता है जिन्होंने पॉप संगीत की दुनिया को पूरी तरह बदलकर अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर अपनी पहचान बनायी है।

दिल्ली में भी होगा फिल्म उद्योग, डियोरामा अंतरराष्ट्रीय फिल्म समारोह आरंभ

दिल्ली में भी होगा फिल्म उद्योग, डियोरामा अंतरराष्ट्रीय फिल्म समारोह आरंभ

नयी दिल्ली 15 जनवरी (वार्ता) दिल्ली में भी फिल्म उद्योग स्थापित करने के मकसद से पहले डियोरामा अंतरराष्ट्रीय फिल्म समारोह एवं विपणन 2019 की कल रात यहां देश-विदेश के फिल्मी जगत के लोगों की मौजूदगी में शुरूआत हुयी।

सत्यजीत रे ने बाइसाईकिल थीफस देख किया फिल्म निर्माण का इरादा

सत्यजीत रे ने बाइसाईकिल थीफस देख किया फिल्म निर्माण का इरादा

..पुण्यतिथि 23 अप्रैल ..
मुंबई 22 अप्रैल(वार्ता) भारतीय सिनेमा जगत में युगपुरूष सत्यजीत रे को एक ऐसे फिल्मकार के तौर पर याद किया जाता है जिन्होंने अपनी निर्मित फिल्मों के जरिये भारतीय सिनेमा जगत को अंतरराष्ट्रीय स्तर पर विशिष्ट पहचान दिलाई।

भारतीय सिनेमा जगत के युगपुरूष थे बी.आर. चोपड़ा

भारतीय सिनेमा जगत के युगपुरूष थे बी.आर. चोपड़ा

..जन्मदिवस 22 अप्रैल  ..
मुम्बई 21 अप्रैल (वार्ता) भारतीय सिनेमा जगत में बी.आर.चोपड़ा को एक ऐसे फिल्मकार के रूप में याद किया जायेगा जिन्होंने पारिवारिक, सामाजिक और साफ-सुथरी फिल्में बनाकर लगभग पांच दशक तक सिने प्रेमियों के दिलो-दिमाग में
अपनी खास जगह बनायी।

image