Tuesday, Aug 20 2019 | Time 21:47 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • किसानों को नई सट्टा नीति के तहत गन्ने की पर्चियां होंगी जारी:चौहान
  • उत्तराखंड में भारी बारिश और बाढ़ से अब तक 59 लोगों की मौत
  • रामबिलास शर्मा ने केन्द्रीय मानव संसाधन मंत्री से बातचीत की
  • ई-वीजा शुल्क को बनाया गया आकर्षक-पटेल
  • चिदम्बरम के घर से बैरंग लौटी सीबीआई और ईडी की टीम
  • सहारनपुर पत्रकार हत्याकाण्ड के मुख्य आरोपी समेत तीन गिरफ्तार
  • जम्मू-कश्मीर के लोगों को विश्वास में लिए बिना अनुच्छेद 370 हटाया गया: मुकुल संगमा
  • भारत के बारे में पर्यटकों की राय पता लगाने का निर्देश
  • वन महोत्सव के तहत कोविंद ने किया पौधारोपण
  • आजाद को जम्मू हवाई अड्डे से वापस किया गया
  • मजदूरी मांगने पर मजदूर की गोली मारकर हत्या
  • दिल्ली में बाढ़ का खतरा बढ़ा
  • डायमंड ब्लाक से निकले हीरों का अवलोकन करने पहुंची छह कंपनियां
  • राखी गढ़ी के बारे में हरियाणा सरकार के प्रस्ताव को केन्द्र की सहमति
  • झांसी में कांग्रेसियों ने किया राजीव गांधी को याद
मनोरंजन » कला एवं रंगमंच


मुगले आजम का संगीत देने से मना कर दिया था नौशाद ने

मुगले आजम का संगीत देने से मना कर दिया था नौशाद ने

..पुण्यतिथि 05 मई  ..
मुंबई 04 मई (वार्ता) वर्ष 1960 में प्रदर्शित महान शाहकार मुगले आजम के मधुर संगीत को आज की पीढ़ी भी गुनगुनाती है लेकिन इसके गीत को संगीतबद्ध करने वाले संगीत सम्राट नौशाद ने पहले मुगले आजम का संगीत निर्देशन करने से इंकार कर दिया था।

कहा जाता है मुगले आजम के निर्देशक के. आसिफ एक बार नौशाद के घर उनसे मिलने के लिये गये।
नौशाद उस समय हारमोनियम पर कुछ धुन तैयार कर रहे थे तभी के.आसिफ ने 50 हजार रुपये नोट का बंडल हारमोनियम पर फेंका।
नौशाद इस बात से बेहद क्रोधित हुये और नोटो से भरा बंडल के.आसिफ के मुंह पर मारते हुये कहा ..ऐसा उन लोगों लिये करना जो बिना एडवांस फिल्मों में संगीत नही देते ..मै आपकी फिल्म में संगीत नही दूंगा।
बाद में के.आसिफ की
आरजू-मिन्न्त पर नौशाद न सिर्फ फिल्म का संगीत देने के लिये तैयार हुये बल्कि इसके लिये एक पैसा नही लिया।

लखनऊ के एक मध्यमवर्गीय रूढिवादी मुस्लिम परिवार में 25 दिसम्बर 1919 को जन्मे नौशाद का बचपन से ही संगीत की तरफ रझान था और अपने इस शौक को परवान चढाने के लिए वह फिल्म देखने के बाद रात में देर से घर लौटा करते थे ।
इस पर उन्हें अक्सर अपने पिता की नाराजगी झेलनी पडती थी ।
उनके पिता हमेशा कहा करते थे कि तुम घर या संगीत में से एक को चुन लो ।

एक बार की बात है कि लखनऊ में एक नाटक कम्पनी आई और नौशाद ने आखिरकार हिम्मत करके अपने पिता से बोल ही दिया आपको आपका घर मुबारक, मुझे मेरा संगीत ।
इसके बाद वह घर छोडकर उस नाटक मंडली में शामिल हो गए और उसके साथ जयपुर, जोधपुर, बरेली और गुजरात के बडे शहरों का भ्रमण किया ।

नौशाद के बचपन का एक वाकया बड़ा दिलचस्प है ।
लखनऊ में भोंदूमल एंड संस की वाद्ययंत्रों की एक दुकान थी जिसे संगीत के दीवाने नौशाद अक्सर हसरत भरी निगाहों से देखा करते थे ।
एक बार दुकान के मालिक ने उनसे पूछ ही लिया कि वह दुकान के पास क्यों खड़े रहते हैं ।
नौशाद ने दिल की बात कह दी कि वह उसकी दुकान में काम करना चाहते हैं ।
नौशाद जानते थे कि वह इसी बहाने वाद्ययंत्रों पर रियाज कर सकेंगे।

एक दिन वाद्य यंत्रों पर रियाज करने के दौरान मालिक की निगाह नौशाद पर पड़ गई और उसने उन्हें डांट लगाई कि उन्होंने उसके वाद्य यंत्रों को गंदा कर दिया है।
लेकिन बाद में उसे लगा कि नौशाद ने बहुत मधुर धुन तैयार की है और उसने उन्हें न सिर्फ वाद्ययंत्र उपहार में दे दिए बल्कि उनके लिए संगीत सीखने की व्यवस्था भी करा दी।

नौशाद अपने एक दोस्त से 25 रुपये उधार लेकर 1937 में संगीतकार बनने का सपना लिये मुंबई आ गये।
मुंबई पहुंचने पर नौशाद को कई कठिनाइयों का सामना करना पड़ा।
यहां तक कि उन्हे कई दिन तक फुटपाथ पर ही रात गुजारनी पड़ी ।
इस दौरान नौशाद की मुलाकात निर्माता कारदार से हुयी जिन की सिफारिश पर उन्हें संगीतकार हुसैन खान के यहां चालीस रुपये प्रति माह पर पियानो बजाने का काम मिला ।
इसके बाद संगीतकार खेमचंद्र प्रकाश के सहयोगी के रूप में नौशाद ने काम किया ।

बतौर संगीतकार नौशाद को वर्ष 1940 में प्रदर्शित फिल्म 'प्रेमनगर' में 100 रुपये महीने पर काम करने का मौका मिला।
वर्ष 1944 में प्रदर्शित फिल्म 'रतन' में अपने संगीतबद्ध गीत 'अंखियां मिला के जिया भरमा के चले नहीं जाना' की सफलता के बाद नौशाद 25000 रुपये पारिश्रमिक के तौर पर लेने लगे।
इसके बाद नौशाद ने कभी पीछे मुड़कर नही देखा और फिल्मों में एक से बढ़कर एक संगीत देकर श्रोताओं को मंत्रमुग्ध कर दिया।

नौशाद ने करीब छह दशक के अपने फिल्मी सफर में लगभग 70 फिल्मों में संगीत दिया।
उनके के फिल्मी सफर पर यदि एक नजर डाले तो पायेंगे कि उन्होंने सबसे ज्यादा फिल्म गीतकार शकील बदायूंनी के साथ ही की और उनके बनाये गाने जबर्दस्त हिट हुये।
नौशाद के पसंदीदा गायक के तौर पर मोहम्मद रफी का नाम सबसे उपर आता है ।
नौशाद ने शकील बदायूंनी और मोहम्मद रफी के अलावा लता मंगेशकर, सुरैया, उमा देवी और गीतकार मजरूह सुल्तानपुरी को भी फिल्म इंडस्ट्री में स्थापित करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभायी।

नौशाद ऐसे पहले संगीतकार थे जिन्होंने पार्श्वगायन के क्षेत्र मे सांउड मिक्सिंग और गाने की रिकाॅर्डिग को अलग रखा।
फिल्म संगीत में एकोर्डियन का सबसे पहले इस्तेमाल नौशाद ने ही किया था।
हिंदी फिल्म इंडस्ट्री में संगीत सम्राट नौशाद पहले संगीतकार हुये जिन्हें सर्वप्रथम फिल्म फेयर पुरस्कार से सम्मानित किया गया ।

वर्ष 1953 मे प्रदर्शित फिल्म बैजू बावरा के लिये नौशाद फिल्म फेयर के सर्वश्रेष्ठ संगीतकार के रूप में सम्मानित किये गये।
यह भी चौंकाने वाला तथ्य है कि इसके बाद उन्हें कोई फिल्मफेयर पुरस्कार नही मिला।
भारतीय सिनेमा में उनके महत्वपूर्ण योगदान को देखते हुये उन्हें दादा साहब फाल्के पुरस्कार से भी सम्मानित किया गया।

लगभग छह दशक तक अपने संगीत से श्रोताओं को मंत्रमुग्ध करने वाले महान संगीतकार नौशाद 05 मई 2006 को इस दुनिया से सदा के लिये रूखसत हो गये।

 

फुटबॉल

फुटबॉल कोच का किरदार निभायेंगे अजय देवगन

मुंबई 20 अगस्त (वार्ता) बॉलीवुड के सिंघम स्टार अजय देवगन अपनी आने वाली फिल्म में फुटबॉल कोच का किरदार निभाते नजर आयेंगे।

ऑक्सफोर्ड

ऑक्सफोर्ड में स्पीच देंगे ऋतिक रोशन

मुंबई 20 अगस्त (वार्ता) बॉलीवुड के माचो मैन ऋतिक रौशन ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी में स्पीच देने जा रहे हैं।

पुनीत

पुनीत इस्सर के बेटे सिद्धांत को लॉन्च करेंगे सलमान

मुंबई 20 अगस्त (वार्ता) बॉलीवुड के दबंग स्टार सलमान खान अपने दोस्त पुनीत इस्सर के पुत्र सिद्धांत को लांच
करने जा रहे हैं।

अनन्या

अनन्या पांडे की एक्टिंग से खुश डायरेक्टर ने दिया 500 रुपये इनाम

मुंबई 19 अगस्त (वार्ता) बॉलीवुड अभिनेत्री अनन्या पांडे की एक्टिंग से खुश होकर निर्देशक मुदस्सर अजीज ने उन्हें 500 रूपये इनाम दिये हैं।

“मैं

“मैं तो रस्ते से जा रहा था” को रिक्रियेट करेंगे वरूण-सारा

मुंबई 19 अगस्त (वार्ता) बॉलीवुड अभिनेता वरूण धवन और सारा अली खान सुपरहिट डांस नंबर “मैं तो रस्ते से जा रहा था” को रिक्रियेट करने जा रहे हैं।

सड़क

सड़क 2 को खास फिल्म मानती है आलिया भट्ट

मुंबई  बॉलीवुड अभिनेत्री आलिया भट्ट फिल्म सड़क 2 को खास फिल्म मानती है।

शिल्पा

शिल्पा शेट्टी ने ठुकरायी स्लिमिंग पिल के इंडोर्समेंट की 10 करोड़ की डील

मुंबई 18 अगस्त (वार्ता) बॉलीवुड की जानी मानी अभिनेत्री शिल्पा शेट्टी ने स्लिमिंग पिल के इंडोर्समेंट की 10 करोड़ की डील ठुकरा दी है।

कुछ

कुछ कुछ होता है के रीमेक में रणवीर सिंह को लेना चाहते हैं करण जौहर!

मुंबई 18 अगस्त (वार्ता) बॉलीवुड फिल्मकार करण जौहर अपनी सुपरहिट फिल्म कुछ कुछ होता है के रीमेक के लिये रणवीर सिंह को लेना चाहते हैं।

अशआर

अशआर मेरे यूं तो जमाने के लिये है ..

..पुण्यतिथि 19 अगस्त  ..
मुंबई 18 अगस्त ( वार्ता ) भारतीय सिनेमा जगत में जां निसार अख्तर को एक ऐसे फिल्म गीतकार के रूप याद किया जाता है जिन्होंने अपने गीतों को आम जिंदगी से जोड़कर एक नये युग की शुरूआत की ।

भावपूर्ण

भावपूर्ण अभिनय करने में माहिर है सचिन

. .जन्मदिवस 17 अगस्त ..
मुंबई 17 अगस्त (वार्ता) बॉलीवुड सिनेमा में सचिन को एक ऐसे अभिनेताओं में शुमार किया जाता है जिन्होंने अपने भावपूर्ण अभिनय से दर्शकों के बीच खास पहचान बनायी है।

पॉप गायिकी को अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर पहचान दिलायी माइकल जैक्सन ने

पॉप गायिकी को अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर पहचान दिलायी माइकल जैक्सन ने

..जन्मदिवस 29 अगस्त के अवसर पर ..
मुंबई 28 अगस्त(वार्ता)किंग ऑफ पॉप माइकल जैक्सन को ऐसी शख्सियत के तौर पर याद किया जाता है जिन्होंने पॉप संगीत की दुनिया को पूरी तरह बदलकर अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर अपनी पहचान बनायी है।

दिल्ली में भी होगा फिल्म उद्योग, डियोरामा अंतरराष्ट्रीय फिल्म समारोह आरंभ

दिल्ली में भी होगा फिल्म उद्योग, डियोरामा अंतरराष्ट्रीय फिल्म समारोह आरंभ

नयी दिल्ली 15 जनवरी (वार्ता) दिल्ली में भी फिल्म उद्योग स्थापित करने के मकसद से पहले डियोरामा अंतरराष्ट्रीय फिल्म समारोह एवं विपणन 2019 की कल रात यहां देश-विदेश के फिल्मी जगत के लोगों की मौजूदगी में शुरूआत हुयी।

खलनायकी के बेताज बादशाह थे अमजद खान

खलनायकी के बेताज बादशाह थे अमजद खान

..पुण्यतिथि 27 जुलाई के अवसर पर .
मुंबई 26 जुलाई (वार्ता) बॉलीवुड की ब्लॉक बस्टर फिल्म ..शोले.. के किरदार गब्बर सिंह ने अमजद खान को फिल्म इंडस्ट्री में सशक्त पहचान दिलायी लेकिन फिल्म के निर्माण के समय गब्बर सिंह की भूमिका के लिये पहले डैनी
का नाम प्रस्तावित था।

image