Thursday, Jul 2 2020 | Time 20:39 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • रियायंस जियो का घरेलु वीडियो कांफ्रेंसिंग एप ‘जियोमीट’ अब मुफ्त उपलब्ध
  • नीतीश ने वज्रपात से 26 लोगों की मौत पर जताया शोक, चार लाख मुआवजे का दिया निर्देश
  • गोपालगंज में नदी में डूबकर युवक की मौत
  • नालंदा में 184 कार्टन विदेशी शराब बरामद
  • रोहतास में छज्जा गिरने से महिला की मौत, दो घायल
  • महिला पुलिस कांस्टेबल के कोरोना संक्रमित होने के बाद ट्रैफिक पुलिस स्टेशन सील
  • सुपौल में यातायात बाधित करने पर वाहन मालिकों से जुर्माना
  • रोहतास में तलवार से हमला कर युवक की हत्या
  • दिल्ली सरकार ने आर्थिक सुधार के लिए 12 सदस्यीय विशेषज्ञ समिति का किया गठन
  • गढ़वा में ऑटो पलटने से यात्री की मौत
  • गुमला में ट्रक से कुचल कर भाई-बहन की मौत
  • रामगढ़ में दो भारी वाहनों के बीच फंसी कार, बच्चे समेत तीन की मौत
  • पटना में 64 हुए संक्रमित, बिहार में कुल पॉजिटिव 10393
  • ललितपुर: कोरोना संक्रमण का एक नया मामला, कुल संख्या नौ
  • बंगाल में कोरोना मामले 19800 के पार, 691 की मौत
मनोरंजन » कला एवं रंगमंच


कैफी ने कहा था अम्मा एक दिन बहुत बड़ा शायर बनकर दिखाउंगा

कैफी ने कहा था अम्मा एक दिन बहुत बड़ा शायर बनकर दिखाउंगा

.. पुण्यतिथि 10 मई --
मुंबई, 09 मई (वार्ता) हिंदी फिल्म जगत के मशहूर शायर और गीतकार कैफी आजमी की शेरो-शायरी की प्रतिभा बचपन के दिनों से ही दिखाई देने लगी थी।

चौदह जनवरी 1919 को उत्तर प्रदेश में आजमगढ़ जिले के मिजवां गांव में जन्मे सैयद अतहर हुसैन रिजवी उर्फ कैफी आजमी के पिता जमींदार थे।
पिता हुसैन उन्हें ऊंची से ऊंची तालीम देना चाहते थे और इसी उद्वेश्य से उन्होंने उनका दाखिला लखनऊ के प्रसिद्ध सेमिनरी ..सुल्तान उल मदारिस..में कराया था ।

कैफी आजमी के अंदर का शायर बचपन से पनप रहा था।
महज ग्यारह वर्ष की उम्र से हीं कैफी आजमी ने मुशायरों मे हिस्सा लेना शुरू कर दिया था जहां उन्हें काफी दाद भी मिला करती थी लेकिन बहुत से लोग जिनमें उनके पिता
भी शामिल थे ऐसा सोचा करते थे कि कैफी आजमी मुशायरों के दौरान खुद की नहीं बल्कि अपने बड़े भाई की गजलों को सुनाया करते हैं।

एक बार पुत्र की परीक्षा लेने के लिये पिता ने उन्हें गाने की एक पंक्ति दी और उस पर उन्हें गजल लिखने को कहा।
कैफी आजमी ने इसे एक चुनौती के रूप मे स्वीकार किया और उस पंक्ति पर एक गजल की रचना की।
उनकी यह गजल उन दिनों काफी लोकप्रिय हुई और बाद मे सप्रसिद्ध पार्श्व गायिका बेगम अख्तर ने उसे अपना स्वर दिया।
गजल के बोल कुछ इस तरह से थे..इतना तो जिंदगी में किसी की खलल पड़े ..ना हंसने से हो सुकून, ना रोने से कल पड़े।

कैफी आजमी महफिलों में शिरकत करते वक्त नज्मों को बड़े प्यार से सुनाया करते थे।
इसके लिये उन्हें कई बार डांट भी सुननी पड़ती थी जिसके बाद वह रोते हुये अपनी वालिदा के पास जाते और कहते, “अम्मा देखना एक दिन
मैं बहुत बड़ा शायर बनकर दिखाउंगा।

कैफी आजमी कभी भी उच्च शिक्षा की ख्वाहिश नहीं रखते थे।
सेमिनरी में अपनी शिक्षा यात्रा के दौरान वहां की कुव्यवस्था को देखकर कैफी आजमी ने छात्र संघ का निर्माण किया और अपनी मांग पूरी नहीं होने पर छात्रों से हड़ताल पर जाने की अपील की।
कैफी आजमी की अपील पर छात्र हड़ताल पर चले गये और इस दौरान उनका धरना करीब डेढ़ साल तक चला लेकिन इस हड़ताल के कारण कैफी आजमी सेमिनरी प्रशासन के कोपभाजन बने और धरने की समाप्ति के बाद उन्हें सेमिनरी से निकाल दिया गया।

इस हड़ताल से कैफी आजमी को फायदा भी पहुंचा और इस दौरान उस समय के कुछ प्रगतिशील लेखकों की नजर उन पर पड़ी जो उनके नेतृत्व को देखकर काफी प्रभावित हुये थे।
कैफी आजमी के अंदर उन्हें एक उभरता हुआ कवि दिखाई दिया और उन्होंने उनको प्रोत्साहित करने एवं हर संभव सहायता देने की पेशकश की।

वर्ष 1942 में कैफी आजमी उर्दू और फारसी की उच्च शिक्षा के लिये लखनऊ और इलाहाबाद भेजे गये लेकिन कैफी ने कम्युनिस्ट पार्टी ऑफ इंडिया की सदस्यता ग्रहण करके पार्टी कार्यकर्ता के रूप मे कार्य करना शुरू कर दिया
और फिर भारत छोड़ो आंदोलन में शामिल हो गये।

इस बीच मुशायरों में कैफी आजमी की शिरकत जारी रही।
इसी दौरान वर्ष 1947 में एक मुशायरे में भाग लेने के लिये वह हैदराबाद पहुंचे जहां उनकी मुलाकात शौकत आजमी से हुयी और उनकी यह मुलाकात जल्दी ही शादी मे तब्दील हो गयी।
आजादी के बाद उनके पिता और भाई पाकिस्तान चले गये लेकिन कैफी आजमी ने हिंदुस्तान में ही रहने का निर्णय लिया।

शादी के बाद बढ़ते खर्चों को देखकर कैफी आजमी ने एक उर्दू अखबार के लिये लिखना शुरू कर दिया जहां से उन्हें 150 रुपये माहवार वेतन मिला करता था।
उनकी पहली नज्म ..सरफराज.. लखनऊ में छपी।
शादी के बाद उनके घर का खर्च बहुत मुश्किल से चल पाता था।
उन्होंने एक अन्य रोजाना अखबार में हास्य व्यंग्य भी लिखना शुरू किया।
इसके बाद अपने घर के बढ़ते खर्चो को देख कैफी आजमी ने फिल्मी गीत लिखने का निश्चय किया।

कैफी आजमी ने सबसे पहले शाहिद लतीफ की फिल्म ..बुजदिल.. के लिये दो गीत लिखे जिसके एवज मे उन्हें 1000 रूपये मिले।
इसके बाद वर्ष 1959 में प्रदर्शित फिल्म फिल्म कागज के फूल के लिये कैफी आजमी ने ..वक्त ने किया
क्या हसीं सितम तुम रहे ना तुम हम रहे ना हम .जैसा सदाबहार गीत लिखा।
वर्ष 1965 में प्रदर्शित फिल्म ..हकीकत .. में उनके रचित गीत ..कर चले हम फिदा जानों तन साथियों अब तुम्हारे हवाले वतन साथियों ..की कामयाबी के बाद कैफी
आजमी सफलता के शिखर पर जा पहुंचे।

बहुमुखी प्रतिभा के धनी कैफी आजमी ने फिल्म गर्म हवा की कहानी संवाद और स्क्रीन प्ले भी लिखे जिनके लिये उन्हें फिल्म फेयर के पुरस्कार से भी सम्मानित किया गया।
फिल्म हीर-रांझा के डॉयलाग के साथ-साथ कैफी आजमी ने श्याम बेनेगल की फिल्म ..मंथन ..की पटकथा भी लिखी।

लगभग 75 वर्ष की आयु के बाद कैफी आजमी ने अपने गांव मिजवां में ही रहने का निर्णय किया।
अपने रचित गीतों से श्रोताओं को भावविभोर करने वाले महान शायर और गीतकार कैफी आजमी 10 मई 2002 को इस दुनिया से रुखसत हो
गये।

 

नेपोटिज्म

नेपोटिज्म के शिकार हुये थे सैफ अली खान

मुंबई 02 जुलाई (वार्ता) बॉलीवुड अभिनेता सैफ अली खान का कहना है कि वह भी नेपोटिज्म (भाई-भतीजावाद) के शिकार हो चुके हैं।

‘साइकल

‘साइकल गर्ल’ ज्योति के पिता का किरदार निभायेंगे संजय मिश्रा

मुंबई 02 जुलाई (वार्ता) बिहार की बेटी ‘साइकल गर्ल’ ज्योति पर बनने वाली फिल्म में संजय मिश्रा , ज्योति के पिता का किरदार निभाते नजर आयेंगे।

बेलबॉटम

'बेलबॉटम' में अक्षय के साथ काम करेंगी वाणी कपूर

मुंबई 02 जुलाई (वार्ता) बॉलीवुड अभिनेत्री वाणी कपूर फिल्म 'बेलबॉटम' में अक्षय कुमार के साथ काम करती नजर आयेंगी।

आलोचनाएं

आलोचनाएं मुझे विचलित नहीं करतीं: पूजा भट्ट

मुंबई 02 जुलाई (वार्ता) बॉलीवुड अभिनेत्री-फिल्मकार पूजा भट्ट का कहना है कि आलोचनायें उन्हें विचलित नहीं करती है।

अमिताभ

अमिताभ को पसंद आया ब्रीद का ट्रेलर

मुंबई, 02 जुलाई (वार्ता) बॉलीवुड के महानायक अमिताभ बच्चन को अपने पुत्र अभिषेक बच्चन की आने वाली वेब सीरीज ‘ब्रीद 2 इंटू द शैडोज़’ का ट्रेलर बेहद पसंद आया है।

अभिमान

अभिमान को त्याग कर प्रियंका ने शुरू किया हॉलीवुड में सफर

मुंबई 02 जुलाई (वार्ता) बॉलीवुड के साथ ही हॉलीवुड में अपनी पहचान बना चुकी प्रियंका चोपड़ा का कहना है कि हॉलीवुड में जब उन्होंने अपना करियर बनाने का प्रयास किया, तो पहले उन्हें अपने अभिमान को त्यागना पड़ा।

किसी

किसी भी फिल्म को ठुकराने का अफसोस नहीं :करीना

मुंबई 02 जुलाई (वार्ता) बॉलीवुड अभिनेत्री करीना कपूर का कहना है कि उन्हें किसी भी फिल्म को ठुकराने का अफसोस नहीं है।

संवाद

संवाद अदायगी के बादशाह थे राजकुमार

.. पुण्यतिथि 03 जुलाई  ..
मुंबई 02 जुलाई (वार्ता) हिन्दी सिनेमा जगत में यूं तो अपने दमदार अभिनय से कई सितारों ने दर्शकों के दिलों पर राज किया लेकिन एक ऐसा भी सितारा हुआ जिसने न सिर्फ दर्शकों के दिल पर राज किया बल्कि फिल्म इंडस्ट्री ने भी उन्हें ..राजकुमार.. माना. वह थे ..संवाद अदायगी के बेताज बादशाह कुलभूषण पंडित उर्फ राजकुमार .. ।

पवन

पवन सिंह की 'घातक' का फर्स्ट लुक आउट

मुंबई 02 जुलाई (वार्ता) भोजपुरी फिल्म अभिनेता पवन सिंह की आने वाली फिल्म 'घातक' का फर्स्ट लुक आउट हो गया है।

नेपोटिज़्म

नेपोटिज़्म की वजह से फिल्म से बाहर कर दी गयी :प्रियंका

मुंबई 01 जुलाई (वार्ता) बॉलीवुड अभिनेत्री प्रियंका चोपड़ा का कहना है कि नेपोटिज़्म (भाई-भतीजावाद) के कारण वह एक बार फिल्म से बाहर कर दी गयी थी।

संवाद अदायगी के बादशाह थे राजकुमार

संवाद अदायगी के बादशाह थे राजकुमार

.. पुण्यतिथि 03 जुलाई  ..
मुंबई 02 जुलाई (वार्ता) हिन्दी सिनेमा जगत में यूं तो अपने दमदार अभिनय से कई सितारों ने दर्शकों के दिलों पर राज किया लेकिन एक ऐसा भी सितारा हुआ जिसने न सिर्फ दर्शकों के दिल पर राज किया बल्कि फिल्म इंडस्ट्री ने भी उन्हें ..राजकुमार.. माना. वह थे ..संवाद अदायगी के बेताज बादशाह कुलभूषण पंडित उर्फ राजकुमार .. ।

बिंदास अभिनय से पहचान बनायी करिश्मा कपूर ने

बिंदास अभिनय से पहचान बनायी करिश्मा कपूर ने

.जन्मदिन 25 जून .
मुंबई, 25 जून (वार्ता) बॉलीवुड में करिश्मा कपूर को एक ऐसी अभिनेत्री के तौर पर शुमार किया जाता है जिन्होंने अभिनेत्रियों को फिल्मों में परंपरागत रूप से पेश किये जाने के तरीके को बदलकर अपने बिंदास अभिनय से दर्शको के बीच अपनी खास पहचान बनायी।

image