Tuesday, Aug 20 2019 | Time 21:33 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • रामबिलास शर्मा ने केन्द्रीय मानव संसाधन मंत्री से बातचीत की
  • ई-वीजा शुल्क को बनाया गया आकर्षक-पटेल
  • चिदम्बरम के घर से बैरंग लौटी सीबीआई और ईडी की टीम
  • सहारनपुर पत्रकार हत्याकाण्ड के मुख्य आरोपी समेत तीन गिरफ्तार
  • जम्मू-कश्मीर के लोगों को विश्वास में लिए बिना अनुच्छेद 370 हटाया गया: मुकुल संगमा
  • भारत के बारे में पर्यटकों की राय पता लगाने का निर्देश
  • वन महोत्सव के तहत कोविंद ने किया पौधारोपण
  • आजाद को जम्मू हवाई अड्डे से वापस किया गया
  • मजदूरी मांगने पर मजदूर की गोली मारकर हत्या
  • दिल्ली में बाढ़ का खतरा बढ़ा
  • डायमंड ब्लाक से निकले हीरों का अवलोकन करने पहुंची छह कंपनियां
  • राखी गढ़ी के बारे में हरियाणा सरकार के प्रस्ताव को केन्द्र की सहमति
  • झांसी में कांग्रेसियों ने किया राजीव गांधी को याद
  • भाखड़ा बांध का जल-स्तर दो फीट और बढ़ सकता है
  • धोनी के रिकॉर्ड की बराबरी करने से एक जीत दूर विराट
मनोरंजन » कला एवं रंगमंच


कैफी ने कहा था अम्मा एक दिन बहुत बड़ा शायर बनकर दिखाउंगा

कैफी ने कहा था अम्मा एक दिन बहुत बड़ा शायर बनकर दिखाउंगा

.. पुण्यतिथि 10 मई --
मुंबई, 09 मई (वार्ता) हिंदी फिल्म जगत के मशहूर शायर और गीतकार कैफी आजमी की शेरो-शायरी की प्रतिभा बचपन के दिनों से ही दिखाई देने लगी थी।

चौदह जनवरी 1919 को उत्तर प्रदेश में आजमगढ़ जिले के मिजवां गांव में जन्मे सैयद अतहर हुसैन रिजवी उर्फ कैफी आजमी के पिता जमींदार थे।
पिता हुसैन उन्हें ऊंची से ऊंची तालीम देना चाहते थे और इसी उद्वेश्य से उन्होंने उनका दाखिला लखनऊ के प्रसिद्ध सेमिनरी ..सुल्तान उल मदारिस..में कराया था ।

कैफी आजमी के अंदर का शायर बचपन से पनप रहा था।
महज ग्यारह वर्ष की उम्र से हीं कैफी आजमी ने मुशायरों मे हिस्सा लेना शुरू कर दिया था जहां उन्हें काफी दाद भी मिला करती थी लेकिन बहुत से लोग जिनमें उनके पिता
भी शामिल थे ऐसा सोचा करते थे कि कैफी आजमी मुशायरों के दौरान खुद की नहीं बल्कि अपने बड़े भाई की गजलों को सुनाया करते हैं।

एक बार पुत्र की परीक्षा लेने के लिये पिता ने उन्हें गाने की एक पंक्ति दी और उस पर उन्हें गजल लिखने को कहा।
कैफी आजमी ने इसे एक चुनौती के रूप मे स्वीकार किया और उस पंक्ति पर एक गजल की रचना की।
उनकी यह गजल उन दिनों काफी लोकप्रिय हुई और बाद मे सप्रसिद्ध पार्श्व गायिका बेगम अख्तर ने उसे अपना स्वर दिया।
गजल के बोल कुछ इस तरह से थे..इतना तो जिंदगी में किसी की खलल पड़े ..ना हंसने से हो सुकून, ना रोने से कल पड़े।

कैफी आजमी महफिलों में शिरकत करते वक्त नज्मों को बड़े प्यार से सुनाया करते थे।
इसके लिये उन्हें कई बार डांट भी सुननी पड़ती थी जिसके बाद वह रोते हुये अपनी वालिदा के पास जाते और कहते, “अम्मा देखना एक दिन
मैं बहुत बड़ा शायर बनकर दिखाउंगा।

कैफी आजमी कभी भी उच्च शिक्षा की ख्वाहिश नहीं रखते थे।
सेमिनरी में अपनी शिक्षा यात्रा के दौरान वहां की कुव्यवस्था को देखकर कैफी आजमी ने छात्र संघ का निर्माण किया और अपनी मांग पूरी नहीं होने पर छात्रों से हड़ताल पर जाने की अपील की।
कैफी आजमी की अपील पर छात्र हड़ताल पर चले गये और इस दौरान उनका धरना करीब डेढ़ साल तक चला लेकिन इस हड़ताल के कारण कैफी आजमी सेमिनरी प्रशासन के कोपभाजन बने और धरने की समाप्ति के बाद उन्हें सेमिनरी से निकाल दिया गया।

इस हड़ताल से कैफी आजमी को फायदा भी पहुंचा और इस दौरान उस समय के कुछ प्रगतिशील लेखकों की नजर उन पर पड़ी जो उनके नेतृत्व को देखकर काफी प्रभावित हुये थे।
कैफी आजमी के अंदर उन्हें एक उभरता हुआ कवि दिखाई दिया और उन्होंने उनको प्रोत्साहित करने एवं हर संभव सहायता देने की पेशकश की।

वर्ष 1942 में कैफी आजमी उर्दू और फारसी की उच्च शिक्षा के लिये लखनऊ और इलाहाबाद भेजे गये लेकिन कैफी ने कम्युनिस्ट पार्टी ऑफ इंडिया की सदस्यता ग्रहण करके पार्टी कार्यकर्ता के रूप मे कार्य करना शुरू कर दिया
और फिर भारत छोड़ो आंदोलन में शामिल हो गये।

इस बीच मुशायरों में कैफी आजमी की शिरकत जारी रही।
इसी दौरान वर्ष 1947 में एक मुशायरे में भाग लेने के लिये वह हैदराबाद पहुंचे जहां उनकी मुलाकात शौकत आजमी से हुयी और उनकी यह मुलाकात जल्दी ही शादी मे तब्दील हो गयी।
आजादी के बाद उनके पिता और भाई पाकिस्तान चले गये लेकिन कैफी आजमी ने हिंदुस्तान में ही रहने का निर्णय लिया।

शादी के बाद बढ़ते खर्चों को देखकर कैफी आजमी ने एक उर्दू अखबार के लिये लिखना शुरू कर दिया जहां से उन्हें 150 रुपये माहवार वेतन मिला करता था।
उनकी पहली नज्म ..सरफराज.. लखनऊ में छपी।
शादी के बाद उनके घर का खर्च बहुत मुश्किल से चल पाता था।
उन्होंने एक अन्य रोजाना अखबार में हास्य व्यंग्य भी लिखना शुरू किया।
इसके बाद अपने घर के बढ़ते खर्चो को देख कैफी आजमी ने फिल्मी गीत लिखने का निश्चय किया।

कैफी आजमी ने सबसे पहले शाहिद लतीफ की फिल्म ..बुजदिल.. के लिये दो गीत लिखे जिसके एवज मे उन्हें 1000 रूपये मिले।
इसके बाद वर्ष 1959 में प्रदर्शित फिल्म फिल्म कागज के फूल के लिये कैफी आजमी ने ..वक्त ने किया
क्या हसीं सितम तुम रहे ना तुम हम रहे ना हम .जैसा सदाबहार गीत लिखा।
वर्ष 1965 में प्रदर्शित फिल्म ..हकीकत .. में उनके रचित गीत ..कर चले हम फिदा जानों तन साथियों अब तुम्हारे हवाले वतन साथियों ..की कामयाबी के बाद कैफी
आजमी सफलता के शिखर पर जा पहुंचे।

बहुमुखी प्रतिभा के धनी कैफी आजमी ने फिल्म गर्म हवा की कहानी संवाद और स्क्रीन प्ले भी लिखे जिनके लिये उन्हें फिल्म फेयर के पुरस्कार से भी सम्मानित किया गया।
फिल्म हीर-रांझा के डॉयलाग के साथ-साथ कैफी आजमी ने श्याम बेनेगल की फिल्म ..मंथन ..की पटकथा भी लिखी।

लगभग 75 वर्ष की आयु के बाद कैफी आजमी ने अपने गांव मिजवां में ही रहने का निर्णय किया।
अपने रचित गीतों से श्रोताओं को भावविभोर करने वाले महान शायर और गीतकार कैफी आजमी 10 मई 2002 को इस दुनिया से रुखसत हो
गये।

 

फुटबॉल

फुटबॉल कोच का किरदार निभायेंगे अजय देवगन

मुंबई 20 अगस्त (वार्ता) बॉलीवुड के सिंघम स्टार अजय देवगन अपनी आने वाली फिल्म में फुटबॉल कोच का किरदार निभाते नजर आयेंगे।

ऑक्सफोर्ड

ऑक्सफोर्ड में स्पीच देंगे ऋतिक रोशन

मुंबई 20 अगस्त (वार्ता) बॉलीवुड के माचो मैन ऋतिक रौशन ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी में स्पीच देने जा रहे हैं।

पुनीत

पुनीत इस्सर के बेटे सिद्धांत को लॉन्च करेंगे सलमान

मुंबई 20 अगस्त (वार्ता) बॉलीवुड के दबंग स्टार सलमान खान अपने दोस्त पुनीत इस्सर के पुत्र सिद्धांत को लांच
करने जा रहे हैं।

अनन्या

अनन्या पांडे की एक्टिंग से खुश डायरेक्टर ने दिया 500 रुपये इनाम

मुंबई 19 अगस्त (वार्ता) बॉलीवुड अभिनेत्री अनन्या पांडे की एक्टिंग से खुश होकर निर्देशक मुदस्सर अजीज ने उन्हें 500 रूपये इनाम दिये हैं।

“मैं

“मैं तो रस्ते से जा रहा था” को रिक्रियेट करेंगे वरूण-सारा

मुंबई 19 अगस्त (वार्ता) बॉलीवुड अभिनेता वरूण धवन और सारा अली खान सुपरहिट डांस नंबर “मैं तो रस्ते से जा रहा था” को रिक्रियेट करने जा रहे हैं।

सड़क

सड़क 2 को खास फिल्म मानती है आलिया भट्ट

मुंबई  बॉलीवुड अभिनेत्री आलिया भट्ट फिल्म सड़क 2 को खास फिल्म मानती है।

शिल्पा

शिल्पा शेट्टी ने ठुकरायी स्लिमिंग पिल के इंडोर्समेंट की 10 करोड़ की डील

मुंबई 18 अगस्त (वार्ता) बॉलीवुड की जानी मानी अभिनेत्री शिल्पा शेट्टी ने स्लिमिंग पिल के इंडोर्समेंट की 10 करोड़ की डील ठुकरा दी है।

कुछ

कुछ कुछ होता है के रीमेक में रणवीर सिंह को लेना चाहते हैं करण जौहर!

मुंबई 18 अगस्त (वार्ता) बॉलीवुड फिल्मकार करण जौहर अपनी सुपरहिट फिल्म कुछ कुछ होता है के रीमेक के लिये रणवीर सिंह को लेना चाहते हैं।

अशआर

अशआर मेरे यूं तो जमाने के लिये है ..

..पुण्यतिथि 19 अगस्त  ..
मुंबई 18 अगस्त ( वार्ता ) भारतीय सिनेमा जगत में जां निसार अख्तर को एक ऐसे फिल्म गीतकार के रूप याद किया जाता है जिन्होंने अपने गीतों को आम जिंदगी से जोड़कर एक नये युग की शुरूआत की ।

भावपूर्ण

भावपूर्ण अभिनय करने में माहिर है सचिन

. .जन्मदिवस 17 अगस्त ..
मुंबई 17 अगस्त (वार्ता) बॉलीवुड सिनेमा में सचिन को एक ऐसे अभिनेताओं में शुमार किया जाता है जिन्होंने अपने भावपूर्ण अभिनय से दर्शकों के बीच खास पहचान बनायी है।

पॉप गायिकी को अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर पहचान दिलायी माइकल जैक्सन ने

पॉप गायिकी को अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर पहचान दिलायी माइकल जैक्सन ने

..जन्मदिवस 29 अगस्त के अवसर पर ..
मुंबई 28 अगस्त(वार्ता)किंग ऑफ पॉप माइकल जैक्सन को ऐसी शख्सियत के तौर पर याद किया जाता है जिन्होंने पॉप संगीत की दुनिया को पूरी तरह बदलकर अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर अपनी पहचान बनायी है।

दिल्ली में भी होगा फिल्म उद्योग, डियोरामा अंतरराष्ट्रीय फिल्म समारोह आरंभ

दिल्ली में भी होगा फिल्म उद्योग, डियोरामा अंतरराष्ट्रीय फिल्म समारोह आरंभ

नयी दिल्ली 15 जनवरी (वार्ता) दिल्ली में भी फिल्म उद्योग स्थापित करने के मकसद से पहले डियोरामा अंतरराष्ट्रीय फिल्म समारोह एवं विपणन 2019 की कल रात यहां देश-विदेश के फिल्मी जगत के लोगों की मौजूदगी में शुरूआत हुयी।

खलनायकी के बेताज बादशाह थे अमजद खान

खलनायकी के बेताज बादशाह थे अमजद खान

..पुण्यतिथि 27 जुलाई के अवसर पर .
मुंबई 26 जुलाई (वार्ता) बॉलीवुड की ब्लॉक बस्टर फिल्म ..शोले.. के किरदार गब्बर सिंह ने अमजद खान को फिल्म इंडस्ट्री में सशक्त पहचान दिलायी लेकिन फिल्म के निर्माण के समय गब्बर सिंह की भूमिका के लिये पहले डैनी
का नाम प्रस्तावित था।

image