Tuesday, Feb 18 2020 | Time 20:38 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • मेरठ पुलिस मुठभेड़ में एक लाख का इनामी बदमाश ढेर, डीएसपी घायल
  • प्रवासी भारतीय ने दिये मुख्यमंत्री राहत कोष में 16000 डॉलर
  • आरपीएफ को मिली बड़ी कामयाबी, किया अवैध सॉफ्टवेयरों के सफाये का दावा
  • धनखड़ ने जताया तापस पॉल के निधन पर शोक, अंतिम संस्कार कल
  • नीतीश को किसी ऐरे-गैरे से प्रमाणपत्र लेने की जरूरत नहीं : आरसीपी
  • कन्नड़ अभिनेत्री किशोरी बल्लाल का निधन
  • हरियाणा में कारोना वायरस को लेकर युवाओं को जागृति फैलाने के निर्देश
  • सुनील ने जीता स्वर्ण, 27 साल बाद रचा इतिहास
  • कोरोना वायरस के प्रभावाें से निपटने के लिए आयात शुल्क में कटौती करने की अपील
  • हिमाचल में ऊर्जा क्षेत्र के लिये 3184 करोड़ रूपये मंजूर
  • युवती और पड़ोेसी ने खाया जहर, युवती की मौत
  • श्याम लाल और खालसा कॉलेज फाइनल में
  • पेंट लदे ट्रक से 250 कार्टन शराब जब्त, दो गिरफ्तार
  • भारत की विंडीज पर दो रन से रोमांचक जीत
मनोरंजन » कला एवं रंगमंच


एक दिन बिक जायेगा के लिये राजकपूर ने दिये थे 1000 रुपये

एक दिन बिक जायेगा के लिये राजकपूर ने दिये थे 1000 रुपये

.. पुण्यतिथि 24 मई के अवसर पर ..
मुंबई, 23 मई (वार्ता) महान शायर और गीतकार मजरूह सुल्तानपुरी को अपने रचित गीत ‘एक दिन बिक जायेगा माटी के मोल’ के लिये शोमैन राजकपूर ने 1000 रुपये दिये थे।

मजरूह सुल्तान पुरी का जन्म उत्तर प्रदेश के सुल्तानपुर शहर मे एक अक्तूबर 1919 को हुआ था।
उनके पिता एक सब इंस्पेक्टर थे और वह मजरूह सुल्तान पुरी को ऊंची से ऊंची तालीम देना चाहते थे।
मजरूह सुल्तानपुरी ने लखनऊ के तकमील उल तीब कॉलेज से यूनानी पद्धति की मेडिकल की परीक्षा उत्तीर्ण की और बाद मे वह हकीम के रूप में काम करने लगे।

बचपन के दिनों से ही मजरूह सुल्तान पुरी को शेरो-शायरी करने का काफी शौक था और वह अक्सर सुल्तानपुर में हो रहे मुशायरों में हिस्सा लिया करते थे जिनसे उन्हें काफी नाम और शोहरत मिली।
उन्होंने अपनी मेडिकल की प्रेक्टिस बीच में ही छोड़ दी और अपना ध्यान शेरो-शायरी की ओर लगाना शुरू कर दिया।
इसी दौरान उनकी मुलाकात मशहूर शायर जिगर मुरादाबादी से हुयी।

वर्ष 1945 में सब्बो सिद्धकी इंस्टीट्यूट द्वारा संचालित एक मुशायरे में हिस्सा लेने मजरूह सुल्तान पुरी बम्बई आये।
मुशायरे के कार्यक्रम में उनकी शायरी सुन मशहूर निर्माता ए.आर.कारदार काफी प्रभावित हुये और उन्होंने मजरूह सुल्तानपुरी से अपनी फिल्म के लिये गीत लिखने की पेशकश की।
मजरूह सुल्तानपुरी ने कारदार साहब की इस पेशकश को ठुकरा दिया क्योंकि फिल्मों के लिये गीत लिखना वह अच्छी बात नहीं समझते थे।

जिगर मुरादाबादी ने मजरूह सुल्तानपुरी को तब सलाह दी कि फिल्मों के लिये गीत लिखना कोई बुरी बात नहीं है।
गीत लिखने से मिलने वाली धन राशि में से कुछ पैसे वह अपने परिवार के खर्च के लिये भेज सकते हैं।
जिगर मुरादाबादी की सलाह पर मजरूह सुल्तानपुरी फिल्म में गीत लिखने के लिये राजी हो गये।
संगीतकार नौशाद ने मजरूह सुल्तानपुरी को एक धुन सुनायी और उनसे उस धुन पर एक गीत लिखने को कहा।

मजरूह सुल्तान पुरी ने उस धुन पर .. जब उनके गेसू बिखराये बादल आये झूम के .. गीत की रचना की।
मजरूह के गीत लिखने के अंदाज से नौशाद काफी प्रभावित हुये और उन्होंने अपनी नयी फिल्म ..शाहजहां .. के लिये गीत लिखने की पेशकश की।

फिल्म शाहजहां के बाद महबूब खान की ..अंदाज.. और एस फाजिल की ..मेहन्दी.. जैसे फिल्म मे अपने रचित गीतों की सफलता के बाद मजरूह सुल्तानपुरी बतौर गीतकार फिल्म जगत मे अपनी पहचान बनाने मे सफल हो गये।
अपनी वामपंथी विचार धारा के कारण मजरूह सुल्तानपुरी को कई कठिनाइयों का सामना करना पड़ा।
कम्युनिस्ट विचारों के कारण उन्हें जेल भी जाना पड़ा।
मजरूह सुल्तानपुरी को सरकार ने सलाह दी कि यदि वह माफी मांग लेते हैं तो उन्हें जेल से आजाद कर दिया जायेगा लेकिन मजरूह सुल्तानपुरी इस बात के लिये राजी नहीं हुये और उन्हें दो वर्ष के लिये जेल भेज दिया गया।

जेल मे रहने के कारण मजरूह सुल्तानपुरी के परिवार की माली हालत काफी खराब हो गयी।
राजकपूर ने उनकी सहायता करनी चाही लेकिन मजरूह सुल्तानपुरी ने उनकी सहायता लेने से मना कर दिया।
इसके बाद राजकपूर ने उनसे एक गीत लिखने की पेशकश की।
मजरूह सुल्तान पुरी ने ..एक दिन बिक जायेगा माटी के मोल ..गीत की रचना की जिसके एवज मे राजकपूर ने उन्हें एक हजार रूपये दिये।
वर्ष 1975 में राजकपूर ने अपनी फिल्म धरम-करम के लिये इस गीत का इस्तेमाल किया।

लगभग दो वर्ष तक जेल मे रहने के बाद मजरूह सुल्तानपुरी ने एक बार फिर से नये जोशो-खरोश के साथ काम करना शुरू कर दिया।
वर्ष 1953 में प्रदर्शित फिल्म फुटपाथ और आर-पार में अपने रचित गीतों की कामयाबी के बाद मजरूह सुल्तानपुरी फिल्म इंडस्ट्री मे पुन: अपनी खोई हुयी पहचान बनाने मे सफल हो गये।

मजरूह सुल्तानपुरी के महत्वपूर्ण योगदान को देखते हुये वर्ष 1993 में उन्हें फिल्म जगत के सर्वोच्च सम्मान दादा साहब फाल्के पुरस्कार से नवाजा गया।
इसके अलावा वर्ष 1964 मे प्रदर्शित फिल्म ..दोस्ती .. में अपने रचित गीत ..चाहूंगा मै तुझे सांझ सवेरे ..के लिये वह सर्वश्रेष्ठ गीतकार के फिल्म फेयर पुरस्कार से सम्मानित किये गये।

मजरूह सुल्तान पुरी ने चार दशक से भी ज्यादा लंबे सिने कैरियर मे लगभग 300 फिल्मों के लिये लगभग 4000 गीतों की रचना की।
अपने रचित गीतों से श्रोताओं को भावविभोर करने वाले महान शायर और गीतकार 24 मई
2000 को इस दुनिया को अलविदा कह गये।

 

कबीर

कबीर सिंह जैसा किरदार निभाना चाहते हैं वरुण धवन

मुंबई 18 फरवरी (वार्ता) बॉलीवुड अभिनेता वरुण धवन सिल्वर स्क्रीन पर कबीर सिंह जैसा किरदार निभाना चाहते हैं।

‘मलंग’

‘मलंग’ की सफलता से खुश हैं आदित्य राॅय कपूर

मुंबई 18 फरवरी (वार्ता) बॉलीवुड अभिनेता आदित्य राय कपूर फिल्म मलंग की सफलता से काफी खुश हैं।

हॉलीवुड

हॉलीवुड में अभी काम नहीं करना चाहती हैं दिशा पटानी

मुंबई 18 फरवरी (वार्ता) बॉलीवुड अभिनेत्री दिशा पटानी अभी हॉलीवुड में काम नहीं करना चाहती हैं।

बहुमुखी

बहुमुखी प्रतिभा के धनी थे पंकज मल्लिक

.पुण्यतिथि 19 फरवरी  ..
मुंबई 18 फरवरी (वार्ता) पंकज मल्लिक को एक ऐसी बहुमुखी प्रतिभा के रूप में याद किया जाता है जिन्होंने अपने अभिनय. पार्श्वगायन और संगीत निर्देशन से बंगला फिल्मों के साथ ही हिंदी फिल्म इंडस्ट्री में भी अपनी अमिट छाप छोड़ी।

साउथ

साउथ के सुपर स्टार शिव कान्तमणिनी के साथ काम करेंगी पाखी हेगड़े

मुंबई 18 फरवरी (वार्ता) भोजपुरी सिनेमा की सुपरस्टार अभिनेत्री पाखी हेगड़े साउथ के सुपरस्टार शिव कान्तमणिनी के साथ काम करने जा रही हैं।

21

21 फरवरी को रिलीज होगी प्रमोद प्रेमी की प्रेमी ऑटोवाला

मुंबई 17 फरवरी (वार्ता) भोजपुरी फिल्म अभिनेता-गायक प्रमोद प्रेमी की फिल्म ‘प्रेमी ऑटोवाला’ 21 फरवरी को रिलीज होगी।

बेटी

बेटी अनन्या को फिल्मफेयर अवार्ड मिलने पर खुश हैं चंकी पांडे

मुंबई 17 फरवरी (वार्ता) बॉलीवुड अभिनेता चंकी पांडे अपनी बेटी अनन्या पांडे को फिल्मफेयर अवार्ड मिलने पर बेहद खुश हैं।

जादुई

जादुई संगीत से लोगों को मंत्रमुग्ध किया ख्य्याम ने

..जन्मदिन 18 फरवरी ..
मुंबई 17 फरवरी (वार्ता) बॉलीवुड के जाने-माने संगीतकार ख्य्याम ने लगभग पांच दशकों से अपनी मधुर धुनो से लोगो को अपना दीवाना बनाया लेकिन वह संगीतकार नहीं अभिनेता बनना चाहते थे।

मोगैंबो

मोगैंबो का किरदार निभायेंगे शाहरुख खान

मुंबई 17 फरवरी (वार्ता) बॉलीवुड के किंग खान शाहरुख खान सिल्वर स्क्रीन पर मोगैंबो का किरदार निभाते नजर आ सकते हैं।

दमदार

दमदार अभिनय से खास पहचान बनायी निम्मी ने

..जन्मदिन 18 फरवरी  ..
मुम्बई 17 फरवरी(वार्ता) बॉलीवुड में निम्मी को एक ऐसी अभिनेत्री के तौर पर शुमार किया जाता है जिन्होंने पचास और साठ के दशक में महज शोपीस के तौर पर अभिनेत्रियों को इस्तेमाल किये जाने जाने की विचारधारा को बदल दिया।

बहुमुखी प्रतिभा के धनी थे कमाल अमरोही

बहुमुखी प्रतिभा के धनी थे कमाल अमरोही

...पुण्यतिथि 11 फरवरी के अवसर पर ..
मुंबई 10 फरवरी (वार्ता) बॉलीवुड में कमाल अमरोही का नाम एक ऐसी शख्सियत के रूप में याद किया जाता है जिन्होंने बेहतरीन गीतकार,पटकथा और संवाद लेखक तथा निर्माता एवं निर्देशक के रूप में भारतीय सिनेमा पर अपनी अमिट छाप छोड़ी।

image