Saturday, Jul 11 2020 | Time 15:51 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • प्रो लीग से ओलंपिक तैयारियों में मदद मिलेगी: रीड
  • डीयू के शिक्षकों, कर्मचारियों के वेतन का जल्द हो भुगतानःविधूड़ी
  • कैमूर में लूटकांड में शामिल होमगार्ड जवान समेत आठ अपराधी गिरफ्तार
  • चीन को कोरोना वायरस की पहले से जानकारी थी : लि मेंग येन
  • गोपालगंज में भारी मात्रा में शराब बरामद, तीन गिरफ्तार
  • दरभंगा में भारी मात्रा में शराब जब्त, एक गिरफ्तार
  • विकास दुबे की ‘मुठभेड़’ का मामला सुप्रीम कोर्ट पहुंचा
  • गोवा में कोरोना संक्रमण से दो लोगों की मौत
  • कर्नाटक में भाजपा विधायक कोरोना संक्रमित
  • पिछले 100 साल का सबसे गंभीर आर्थिक संकट लेकर आया कोरोना: शक्तिकांता
  • मुंबई के बोरीवली शॉपिंग सेंटर में आग लगी
  • विभाग वितरण रविवार को होगा - शिवराज
  • चार दिन में कोरोना संक्रमण के एक लाख से अधिक मामले
  • नेपाल में बाढ़ से 11 लोगों की मौत, 23 लापता
मनोरंजन » कला एवं रंगमंच


एक दिन बिक जायेगा के लिये राजकपूर ने दिये थे 1000 रुपये

एक दिन बिक जायेगा के लिये राजकपूर ने दिये थे 1000 रुपये

.. पुण्यतिथि 24 मई के अवसर पर ..
मुंबई, 23 मई (वार्ता) महान शायर और गीतकार मजरूह सुल्तानपुरी को अपने रचित गीत ‘एक दिन बिक जायेगा माटी के मोल’ के लिये शोमैन राजकपूर ने 1000 रुपये दिये थे।

मजरूह सुल्तान पुरी का जन्म उत्तर प्रदेश के सुल्तानपुर शहर मे एक अक्तूबर 1919 को हुआ था।
उनके पिता एक सब इंस्पेक्टर थे और वह मजरूह सुल्तान पुरी को ऊंची से ऊंची तालीम देना चाहते थे।
मजरूह सुल्तानपुरी ने लखनऊ के तकमील उल तीब कॉलेज से यूनानी पद्धति की मेडिकल की परीक्षा उत्तीर्ण की और बाद मे वह हकीम के रूप में काम करने लगे।

बचपन के दिनों से ही मजरूह सुल्तान पुरी को शेरो-शायरी करने का काफी शौक था और वह अक्सर सुल्तानपुर में हो रहे मुशायरों में हिस्सा लिया करते थे जिनसे उन्हें काफी नाम और शोहरत मिली।
उन्होंने अपनी मेडिकल की प्रेक्टिस बीच में ही छोड़ दी और अपना ध्यान शेरो-शायरी की ओर लगाना शुरू कर दिया।
इसी दौरान उनकी मुलाकात मशहूर शायर जिगर मुरादाबादी से हुयी।

वर्ष 1945 में सब्बो सिद्धकी इंस्टीट्यूट द्वारा संचालित एक मुशायरे में हिस्सा लेने मजरूह सुल्तान पुरी बम्बई आये।
मुशायरे के कार्यक्रम में उनकी शायरी सुन मशहूर निर्माता ए.आर.कारदार काफी प्रभावित हुये और उन्होंने मजरूह सुल्तानपुरी से अपनी फिल्म के लिये गीत लिखने की पेशकश की।
मजरूह सुल्तानपुरी ने कारदार साहब की इस पेशकश को ठुकरा दिया क्योंकि फिल्मों के लिये गीत लिखना वह अच्छी बात नहीं समझते थे।

जिगर मुरादाबादी ने मजरूह सुल्तानपुरी को तब सलाह दी कि फिल्मों के लिये गीत लिखना कोई बुरी बात नहीं है।
गीत लिखने से मिलने वाली धन राशि में से कुछ पैसे वह अपने परिवार के खर्च के लिये भेज सकते हैं।
जिगर मुरादाबादी की सलाह पर मजरूह सुल्तानपुरी फिल्म में गीत लिखने के लिये राजी हो गये।
संगीतकार नौशाद ने मजरूह सुल्तानपुरी को एक धुन सुनायी और उनसे उस धुन पर एक गीत लिखने को कहा।

मजरूह सुल्तान पुरी ने उस धुन पर .. जब उनके गेसू बिखराये बादल आये झूम के .. गीत की रचना की।
मजरूह के गीत लिखने के अंदाज से नौशाद काफी प्रभावित हुये और उन्होंने अपनी नयी फिल्म ..शाहजहां .. के लिये गीत लिखने की पेशकश की।

फिल्म शाहजहां के बाद महबूब खान की ..अंदाज.. और एस फाजिल की ..मेहन्दी.. जैसे फिल्म मे अपने रचित गीतों की सफलता के बाद मजरूह सुल्तानपुरी बतौर गीतकार फिल्म जगत मे अपनी पहचान बनाने मे सफल हो गये।
अपनी वामपंथी विचार धारा के कारण मजरूह सुल्तानपुरी को कई कठिनाइयों का सामना करना पड़ा।
कम्युनिस्ट विचारों के कारण उन्हें जेल भी जाना पड़ा।
मजरूह सुल्तानपुरी को सरकार ने सलाह दी कि यदि वह माफी मांग लेते हैं तो उन्हें जेल से आजाद कर दिया जायेगा लेकिन मजरूह सुल्तानपुरी इस बात के लिये राजी नहीं हुये और उन्हें दो वर्ष के लिये जेल भेज दिया गया।

जेल मे रहने के कारण मजरूह सुल्तानपुरी के परिवार की माली हालत काफी खराब हो गयी।
राजकपूर ने उनकी सहायता करनी चाही लेकिन मजरूह सुल्तानपुरी ने उनकी सहायता लेने से मना कर दिया।
इसके बाद राजकपूर ने उनसे एक गीत लिखने की पेशकश की।
मजरूह सुल्तान पुरी ने ..एक दिन बिक जायेगा माटी के मोल ..गीत की रचना की जिसके एवज मे राजकपूर ने उन्हें एक हजार रूपये दिये।
वर्ष 1975 में राजकपूर ने अपनी फिल्म धरम-करम के लिये इस गीत का इस्तेमाल किया।

लगभग दो वर्ष तक जेल मे रहने के बाद मजरूह सुल्तानपुरी ने एक बार फिर से नये जोशो-खरोश के साथ काम करना शुरू कर दिया।
वर्ष 1953 में प्रदर्शित फिल्म फुटपाथ और आर-पार में अपने रचित गीतों की कामयाबी के बाद मजरूह सुल्तानपुरी फिल्म इंडस्ट्री मे पुन: अपनी खोई हुयी पहचान बनाने मे सफल हो गये।

मजरूह सुल्तानपुरी के महत्वपूर्ण योगदान को देखते हुये वर्ष 1993 में उन्हें फिल्म जगत के सर्वोच्च सम्मान दादा साहब फाल्के पुरस्कार से नवाजा गया।
इसके अलावा वर्ष 1964 मे प्रदर्शित फिल्म ..दोस्ती .. में अपने रचित गीत ..चाहूंगा मै तुझे सांझ सवेरे ..के लिये वह सर्वश्रेष्ठ गीतकार के फिल्म फेयर पुरस्कार से सम्मानित किये गये।

मजरूह सुल्तान पुरी ने चार दशक से भी ज्यादा लंबे सिने कैरियर मे लगभग 300 फिल्मों के लिये लगभग 4000 गीतों की रचना की।
अपने रचित गीतों से श्रोताओं को भावविभोर करने वाले महान शायर और गीतकार 24 मई
2000 को इस दुनिया को अलविदा कह गये।

 

2021

2021 का इंतजार कर रही हैं करीना

मुंबई 11 जुलाई (वार्ता) बॉलीवुड अभिनेत्री करीना कपूर वर्ष 2020 से परेशान हो गयी है और वर्ष 2021 का इंतजार कर रही है।

धाकड़

धाकड़ बनने की तैयारी कर रही है कंगना रनौत

मुंबई 11 जुलाई (वार्ता) बॉलीवुड अभिनेत्री कंगना रनौत अपनी आने वाली फिल्म धाकड़ की तैयारी में लग गयी हैं।

एक

एक हजार के लिये जगदीप ने सूरमा भोपाली का रोल छोड़ने का किया था इरादा

मुंबई 11 जुलाई (वार्ता) बॉलीवुड के दिग्गज हास्य अभिनेता जगदीप ने फिल्म शोले में अपने निभाये किरदार सूरमा भोपाली के जरिये दर्शकों के दिलों पर अमिट पहचान बनायी है लेकिन एक हजार रुपये के लिये उन्होंने इस किरदार को छोड़ने का मन बना लिया था।

बॉलीवुड

बॉलीवुड के जुबली कुमार थे राजेन्द्र कुमार

...पुण्यतिथि 12 जुलाई  ...
मुम्बई 11 जुलाई (वार्ता) बॉलीवुड में जुबली कुमार के नाम से मशहूर राजेन्द्र कुमार ने कई सुपरहिट फिल्मों में अपने दमदार अभिनय से दर्शकों को मंत्रमुग्ध किया लेकिन उन्हें अपने करियर के शुरुआती दौर में कड़ा संघर्ष करना पड़ा था।

खलनायकी

खलनायकी को नये अंदाज में पेश किया प्राण ने

..पुण्यतिथि 12 जुलाई  ..
मुंबई 11 जुलाई (वार्ता) बॉलीवुड में प्राण ऐसे अभिनेता थे, जिन्होंने पचास और सत्तर के दशक के बीच फिल्म इंडस्ट्री पर खलनायकी के क्षेत्र में एकछत्र राज किया और अपने अभिनय का लोहा मनवाया।

रणवीर-कैटरीना

रणवीर-कैटरीना को लेकर फिल्म बनायेंगी जोया अख्तर

मुंबई 10 जुलाई (वार्ता) बॉलीवुड अभिनेता रणवीर सिंह और कैटरीना कैफ की जोड़ी सिल्वर स्क्रीन पर साथ नजर आ सकती है।

जावेद

जावेद अख्तर ने जगदीप को बताया ग्रेट टैलेंट

मुंबई 10 जुलाई (वार्ता) बॉलीवुड के मशहूर गीतकार-शायर जावेद अख्तर ने जगदीप के निधन पर शोक संवेदना व्यक्त करते हुये उन्हें ग्रेट टैलेंट बताया है।

सूरमा

सूरमा भोपाली से गब्बर सिंह के फिल्मी किरदार बने सितारों की पहचान

मुम्बई 10 जुलाई (वार्ता) बॉलीवुड फिल्म इंडस्ट्री में न जाने कितने कलाकारों के निभाये किरदार लोकप्रिय हुए है लेकिन कुछ तो अभिनेता-अभिनेत्रियों की पहचान ही बन गये है और आज भी दर्शक उन्हें उनके किरदार के नाम से ही जानते है।

ऋतिक

ऋतिक ने कृष 4 के लिये शाहरुख से मिलाया हाथ

मुंबई 10 जुलाई (वार्ता) बॉलीवुड के माचो मैन ऋतिक रोशन ने अपनी आने वाली फिल्म ‘कृष 4’ के लिये शाहरुख खान से हाथ मिलाया है।

पहली

पहली फिल्म के लिये जगदीप को मिले थे छह रुपये

मुंबई 09 जुलाई (वार्ता) बॉलीवुड में अपने कॉमिक अभिनय से पांच दशक से अधिक समय तक दर्शकों को मंत्रमुग्ध करने वाले जगदीप को अपनी पहली फिल्म के लिये छह रुपये मिले थे।

जगदीप के निधन से एक और नगीना खो दिया : अमिताभ

जगदीप के निधन से एक और नगीना खो दिया : अमिताभ

मुंबई, 09 जुलाई (वार्ता) बॉलीवुड के महानायक अमिताभ बच्चन ने हास्य अभिनेता जगदीप के निधन पर गहरा शोक व्यक्त करते हुये कहा कि उनके निधन से हिन्दी फिल्म इंडस्ट्री एक और नगीना खो दिया है।

खलनायकी को नये अंदाज में पेश किया प्राण ने

खलनायकी को नये अंदाज में पेश किया प्राण ने

..पुण्यतिथि 12 जुलाई  ..
मुंबई 11 जुलाई (वार्ता) बॉलीवुड में प्राण ऐसे अभिनेता थे, जिन्होंने पचास और सत्तर के दशक के बीच फिल्म इंडस्ट्री पर खलनायकी के क्षेत्र में एकछत्र राज किया और अपने अभिनय का लोहा मनवाया।

बिंदास अभिनय से पहचान बनायी करिश्मा कपूर ने

बिंदास अभिनय से पहचान बनायी करिश्मा कपूर ने

.जन्मदिन 25 जून .
मुंबई, 25 जून (वार्ता) बॉलीवुड में करिश्मा कपूर को एक ऐसी अभिनेत्री के तौर पर शुमार किया जाता है जिन्होंने अभिनेत्रियों को फिल्मों में परंपरागत रूप से पेश किये जाने के तरीके को बदलकर अपने बिंदास अभिनय से दर्शको के बीच अपनी खास पहचान बनायी।

image