Saturday, Jul 20 2019 | Time 21:10 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • डीजीपी का निर्देश- एलसीबी में एसपी के नाकाबिल चहेते न हो भर्ती, मीडिया में छाने की प्रवृत्ति वालों को रखो दूर
  • खट्टर और अभिमन्यु का शीला दीक्षित के निधन पर शोक
  • ढाई लाख से अधिक श्रद्धालु पवित्र शिवलिंग का कर चुके दर्शन
  • हरियाणा खट्टर-घोषणाएं दो अंतिम चंडीगढ़
  • नगर कार्यपालक पदाधिकारी रिश्वत लेते गिरफ्तार
  • कर्मचारियों को 7वें वेतनायोग की तर्ज पर किराया भत्ता, मृतकों के आश्रितों हेतु अनुग्रह राशि योजना
  • मौसम विभाग ने एक और दिन के लिए बढ़ायी भारी वर्षा की चेतावनी, कई स्थानों पर हल्की से मध्यम बरसात
  • रेव पार्टी: एक महिला डांसर समेत पांच लोग गिरफ्तार
  • शीला दीक्षित के निधन पर एसोचैम ने जताया शोक
  • मोदी, प्रणब, सोनिया समेत कई नेताओं ने दी शीला को श्रद्धांजलि
  • सुशील के वज़न वर्ग में होगा घमासान
  • पुन: जारी राजनीति नर्मदा गुजरात मुख्यमंत्री दो अंतिम गांधीनगर
  • दुष्कर्म के मामले में दोषी युवक को 10 साल की सजा
  • बिहार के मुख्य सचिव कार्यालय की कुर्की पर रोक
  • टोक्यो में दोहरी पदक संख्या का लक्ष्य: बत्रा
मनोरंजन » कला एवं रंगमंच


एक दिन बिक जायेगा के लिये राजकपूर ने दिये थे 1000 रुपये

एक दिन बिक जायेगा के लिये राजकपूर ने दिये थे 1000 रुपये

.. पुण्यतिथि 24 मई के अवसर पर ..
मुंबई, 23 मई (वार्ता) महान शायर और गीतकार मजरूह सुल्तानपुरी को अपने रचित गीत ‘एक दिन बिक जायेगा माटी के मोल’ के लिये शोमैन राजकपूर ने 1000 रुपये दिये थे।

मजरूह सुल्तान पुरी का जन्म उत्तर प्रदेश के सुल्तानपुर शहर मे एक अक्तूबर 1919 को हुआ था।
उनके पिता एक सब इंस्पेक्टर थे और वह मजरूह सुल्तान पुरी को ऊंची से ऊंची तालीम देना चाहते थे।
मजरूह सुल्तानपुरी ने लखनऊ के तकमील उल तीब कॉलेज से यूनानी पद्धति की मेडिकल की परीक्षा उत्तीर्ण की और बाद मे वह हकीम के रूप में काम करने लगे।

बचपन के दिनों से ही मजरूह सुल्तान पुरी को शेरो-शायरी करने का काफी शौक था और वह अक्सर सुल्तानपुर में हो रहे मुशायरों में हिस्सा लिया करते थे जिनसे उन्हें काफी नाम और शोहरत मिली।
उन्होंने अपनी मेडिकल की प्रेक्टिस बीच में ही छोड़ दी और अपना ध्यान शेरो-शायरी की ओर लगाना शुरू कर दिया।
इसी दौरान उनकी मुलाकात मशहूर शायर जिगर मुरादाबादी से हुयी।

वर्ष 1945 में सब्बो सिद्धकी इंस्टीट्यूट द्वारा संचालित एक मुशायरे में हिस्सा लेने मजरूह सुल्तान पुरी बम्बई आये।
मुशायरे के कार्यक्रम में उनकी शायरी सुन मशहूर निर्माता ए.आर.कारदार काफी प्रभावित हुये और उन्होंने मजरूह सुल्तानपुरी से अपनी फिल्म के लिये गीत लिखने की पेशकश की।
मजरूह सुल्तानपुरी ने कारदार साहब की इस पेशकश को ठुकरा दिया क्योंकि फिल्मों के लिये गीत लिखना वह अच्छी बात नहीं समझते थे।

जिगर मुरादाबादी ने मजरूह सुल्तानपुरी को तब सलाह दी कि फिल्मों के लिये गीत लिखना कोई बुरी बात नहीं है।
गीत लिखने से मिलने वाली धन राशि में से कुछ पैसे वह अपने परिवार के खर्च के लिये भेज सकते हैं।
जिगर मुरादाबादी की सलाह पर मजरूह सुल्तानपुरी फिल्म में गीत लिखने के लिये राजी हो गये।
संगीतकार नौशाद ने मजरूह सुल्तानपुरी को एक धुन सुनायी और उनसे उस धुन पर एक गीत लिखने को कहा।

मजरूह सुल्तान पुरी ने उस धुन पर .. जब उनके गेसू बिखराये बादल आये झूम के .. गीत की रचना की।
मजरूह के गीत लिखने के अंदाज से नौशाद काफी प्रभावित हुये और उन्होंने अपनी नयी फिल्म ..शाहजहां .. के लिये गीत लिखने की पेशकश की।

फिल्म शाहजहां के बाद महबूब खान की ..अंदाज.. और एस फाजिल की ..मेहन्दी.. जैसे फिल्म मे अपने रचित गीतों की सफलता के बाद मजरूह सुल्तानपुरी बतौर गीतकार फिल्म जगत मे अपनी पहचान बनाने मे सफल हो गये।
अपनी वामपंथी विचार धारा के कारण मजरूह सुल्तानपुरी को कई कठिनाइयों का सामना करना पड़ा।
कम्युनिस्ट विचारों के कारण उन्हें जेल भी जाना पड़ा।
मजरूह सुल्तानपुरी को सरकार ने सलाह दी कि यदि वह माफी मांग लेते हैं तो उन्हें जेल से आजाद कर दिया जायेगा लेकिन मजरूह सुल्तानपुरी इस बात के लिये राजी नहीं हुये और उन्हें दो वर्ष के लिये जेल भेज दिया गया।

जेल मे रहने के कारण मजरूह सुल्तानपुरी के परिवार की माली हालत काफी खराब हो गयी।
राजकपूर ने उनकी सहायता करनी चाही लेकिन मजरूह सुल्तानपुरी ने उनकी सहायता लेने से मना कर दिया।
इसके बाद राजकपूर ने उनसे एक गीत लिखने की पेशकश की।
मजरूह सुल्तान पुरी ने ..एक दिन बिक जायेगा माटी के मोल ..गीत की रचना की जिसके एवज मे राजकपूर ने उन्हें एक हजार रूपये दिये।
वर्ष 1975 में राजकपूर ने अपनी फिल्म धरम-करम के लिये इस गीत का इस्तेमाल किया।

लगभग दो वर्ष तक जेल मे रहने के बाद मजरूह सुल्तानपुरी ने एक बार फिर से नये जोशो-खरोश के साथ काम करना शुरू कर दिया।
वर्ष 1953 में प्रदर्शित फिल्म फुटपाथ और आर-पार में अपने रचित गीतों की कामयाबी के बाद मजरूह सुल्तानपुरी फिल्म इंडस्ट्री मे पुन: अपनी खोई हुयी पहचान बनाने मे सफल हो गये।

मजरूह सुल्तानपुरी के महत्वपूर्ण योगदान को देखते हुये वर्ष 1993 में उन्हें फिल्म जगत के सर्वोच्च सम्मान दादा साहब फाल्के पुरस्कार से नवाजा गया।
इसके अलावा वर्ष 1964 मे प्रदर्शित फिल्म ..दोस्ती .. में अपने रचित गीत ..चाहूंगा मै तुझे सांझ सवेरे ..के लिये वह सर्वश्रेष्ठ गीतकार के फिल्म फेयर पुरस्कार से सम्मानित किये गये।

मजरूह सुल्तान पुरी ने चार दशक से भी ज्यादा लंबे सिने कैरियर मे लगभग 300 फिल्मों के लिये लगभग 4000 गीतों की रचना की।
अपने रचित गीतों से श्रोताओं को भावविभोर करने वाले महान शायर और गीतकार 24 मई
2000 को इस दुनिया को अलविदा कह गये।

 

खुद

खुद को मिसफिट एक्टर समझता था :अनिल कपूर

मुंबई 20 जुलाई (वार्ता) बॉलीवुड अभिनेता अनिल कपूर का कहना है कि अपने शुरूआती दौर में वह खुद को मिसफिट समझते थे।

39

39 वर्ष की हुयीं ग्रेसी सिंह

मुंबई 20 जुलाई (वार्ता) बॉलीवुड की जानीमानी अभिनेत्री ग्रेसी सिंह शनिवार को 39 वर्ष की हो गयीं।

आलिया

आलिया भट्ट को अपनी प्रेरणा मानती हैं अनन्या पांडे

मुंबई 20 जुलाई (वार्ता) बॉलीवुड अभिनेत्री अनन्या पांडे, आलिया भट्ट को अपनी प्रेरणा मानती हैं।

मिशन

मिशन मंगल की स्क्रिप्ट काफी बेहतरीन :विद्या बालन

मुंबई 20 जुलाई (वार्ता) बॉलीवुड अभिनेत्री विद्या बालन का कहना है कि मिशन मंगल की स्क्रिप्ट काफी बेहतरीन है इसलिये उन्होंने इस फिल्म में काम किया है।

गायक

गायक बनने की तमन्ना रखते थे आनंद बख्शी

..जन्मदिवस 21 जुलाई ..
मुंबई 20 जुलाई (वार्ता) अपने सदाबहार गीतों से श्रोताओं को दीवाना बनाने वाले बालीवुड के मशहूर गीतकार आनंद बख्शी ने लगभग चार दशक तक श्रोताओं को मंत्रमुग्ध किया लेकिन कम लोगो को पता होगा कि वह गीतकार नहीं बल्कि पार्श्वगायक बनना चाहते थे।

नसीरूद्दीन

नसीरूद्दीन ने समानांतर फिल्मों को नया आयाम दिया

.. जन्मदिवस 20 जुलाई के अवसर पर .
मुंबई 19 जुलाई (वार्ता) बॉलीवुड में नसीरूदीन शाह ऐसे धु्रवतारे की तरह है जिन्होंने अपने सशक्त अभिनय से समानांतर सिनेमा के साथ-साथ व्यावसायिक सिनेमा में भी दर्शको के बीच अपनी खास पहचान बनायी।

मिशन

मिशन मंगल को लेकर गर्व महसूस कर रहे हैं अक्षय

मुंबई 19 जुलाई (वार्ता) बॉलीवुड के खिलाड़ी कुमार अक्षय कुमार अपनी आने वाली फिल्म मिशन मंगल को लेकर गर्व महसूस कर रहे हैं।

बॉलीवुड

बॉलीवुड के पहले सुपरस्टार थे राजेश खन्ना

पुण्यतिथि 18 जुलाई के अवसर पर ..
मुंबई 17 जुलाई (वार्ता) हिंदी फिल्म जगत में अपने अभिनय से लोगों को दीवाना बनाने वाले अभिनेता तो कई हुये और दर्शकों ने उन्हें स्टार कलाकार माना पर सत्तर के दशक में राजेश खन्ना पहले ऐसे अभिनेता के तौर पर अवतरित
हुये जिन्हें दर्शको ने सुपर स्टार की उपाधि दी।

स्टारडम

स्टारडम लंबे समय तक कायम रखना चुनौती:सलमान

मुंबई 13 जुलाई (वार्ता) बॉलीवुड के दबंग स्टार सलमान खान स्टारडम को लंबे समय तक कायम रखना चुनौती मानते हैं।

राइटर

राइटर के किरदार से कमबैक करेंगी शिल्‍पा शेट्टी

मुंबई 19 जुलाई (वार्ता) बॉलीवुड अभिनेत्री शिल्पा शेट्टी राइटर के किरदार से कमबैक करने जा रही हैं।

पॉप गायिकी को अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर पहचान दिलायी माइकल जैक्सन ने

पॉप गायिकी को अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर पहचान दिलायी माइकल जैक्सन ने

..जन्मदिवस 29 अगस्त के अवसर पर ..
मुंबई 28 अगस्त(वार्ता)किंग ऑफ पॉप माइकल जैक्सन को ऐसी शख्सियत के तौर पर याद किया जाता है जिन्होंने पॉप संगीत की दुनिया को पूरी तरह बदलकर अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर अपनी पहचान बनायी है।

दिल्ली में भी होगा फिल्म उद्योग, डियोरामा अंतरराष्ट्रीय फिल्म समारोह आरंभ

दिल्ली में भी होगा फिल्म उद्योग, डियोरामा अंतरराष्ट्रीय फिल्म समारोह आरंभ

नयी दिल्ली 15 जनवरी (वार्ता) दिल्ली में भी फिल्म उद्योग स्थापित करने के मकसद से पहले डियोरामा अंतरराष्ट्रीय फिल्म समारोह एवं विपणन 2019 की कल रात यहां देश-विदेश के फिल्मी जगत के लोगों की मौजूदगी में शुरूआत हुयी।

बॉलीवुड के पहले सुपरस्टार थे राजेश खन्ना

बॉलीवुड के पहले सुपरस्टार थे राजेश खन्ना

पुण्यतिथि 18 जुलाई के अवसर पर ..
मुंबई 17 जुलाई (वार्ता) हिंदी फिल्म जगत में अपने अभिनय से लोगों को दीवाना बनाने वाले अभिनेता तो कई हुये और दर्शकों ने उन्हें स्टार कलाकार माना पर सत्तर के दशक में राजेश खन्ना पहले ऐसे अभिनेता के तौर पर अवतरित
हुये जिन्हें दर्शको ने सुपर स्टार की उपाधि दी।

नसीरूद्दीन ने समानांतर फिल्मों को नया आयाम दिया

नसीरूद्दीन ने समानांतर फिल्मों को नया आयाम दिया

.. जन्मदिवस 20 जुलाई के अवसर पर .
मुंबई 19 जुलाई (वार्ता) बॉलीवुड में नसीरूदीन शाह ऐसे धु्रवतारे की तरह है जिन्होंने अपने सशक्त अभिनय से समानांतर सिनेमा के साथ-साथ व्यावसायिक सिनेमा में भी दर्शको के बीच अपनी खास पहचान बनायी।

image