Saturday, Mar 28 2020 | Time 16:26 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • कर्फ़्यू दौरान दरबार साहिब में फंसे लोगों को घर पहुंचा रही एसजीपीसी
  • अफगान सिखों के भारत आने पर एसजीपीसी करेगी उनका पुनर्वास:लोंगोवाल
  • सेना की वर्कशॉप में हुए विस्फोट से एक की मौत तीन घायल
  • जालंधर में खाद्य पदार्थ बनाने वाली इकाइयों को कर्फ़्यू से छूट
  • इंडोनेशिया में कोरोना का कहर,100 से अधिक लोगों की मौत
  • असम में भीड़ को तितर-बितर करने के लिए पुलिस ने की हवाई फायरिंग
  • लॉकडाउन : शराब की ‘होम डिलीवरी‘ करते कई पकड़े गये
  • लॉकडाउन में कोयला आपूर्ति सुनिश्चित करने के निर्देश
  • न्यायिक दंडाधिकारी एवं पदाधिकारी भी कोरोना से लोगों को कर रहे जागरूक
  • असम में एआईएसएफ जवान की लिंच कर हत्या
  • आपात योजना पर काम कर रहे हैं: आईसीसी
  • आपात योजना पर काम कर रहे हैं: आईसीसी
  • बेघरों के लिए भोजन और अस्थायी ठिकाना मुहैया करायें राज्य सरकार: केन्द्र
  • कोरोना के चलते रूस ने रोके डोपिंग टेस्ट
  • कोरोना के चलते रूस ने रोके डोपिंग टेस्ट
मनोरंजन » कला एवं रंगमंच


एक दिन बिक जायेगा के लिये राजकपूर ने दिये थे 1000 रुपये

एक दिन बिक जायेगा के लिये राजकपूर ने दिये थे 1000 रुपये

.. पुण्यतिथि 24 मई के अवसर पर ..
मुंबई, 23 मई (वार्ता) महान शायर और गीतकार मजरूह सुल्तानपुरी को अपने रचित गीत ‘एक दिन बिक जायेगा माटी के मोल’ के लिये शोमैन राजकपूर ने 1000 रुपये दिये थे।

मजरूह सुल्तान पुरी का जन्म उत्तर प्रदेश के सुल्तानपुर शहर मे एक अक्तूबर 1919 को हुआ था।
उनके पिता एक सब इंस्पेक्टर थे और वह मजरूह सुल्तान पुरी को ऊंची से ऊंची तालीम देना चाहते थे।
मजरूह सुल्तानपुरी ने लखनऊ के तकमील उल तीब कॉलेज से यूनानी पद्धति की मेडिकल की परीक्षा उत्तीर्ण की और बाद मे वह हकीम के रूप में काम करने लगे।

बचपन के दिनों से ही मजरूह सुल्तान पुरी को शेरो-शायरी करने का काफी शौक था और वह अक्सर सुल्तानपुर में हो रहे मुशायरों में हिस्सा लिया करते थे जिनसे उन्हें काफी नाम और शोहरत मिली।
उन्होंने अपनी मेडिकल की प्रेक्टिस बीच में ही छोड़ दी और अपना ध्यान शेरो-शायरी की ओर लगाना शुरू कर दिया।
इसी दौरान उनकी मुलाकात मशहूर शायर जिगर मुरादाबादी से हुयी।

वर्ष 1945 में सब्बो सिद्धकी इंस्टीट्यूट द्वारा संचालित एक मुशायरे में हिस्सा लेने मजरूह सुल्तान पुरी बम्बई आये।
मुशायरे के कार्यक्रम में उनकी शायरी सुन मशहूर निर्माता ए.आर.कारदार काफी प्रभावित हुये और उन्होंने मजरूह सुल्तानपुरी से अपनी फिल्म के लिये गीत लिखने की पेशकश की।
मजरूह सुल्तानपुरी ने कारदार साहब की इस पेशकश को ठुकरा दिया क्योंकि फिल्मों के लिये गीत लिखना वह अच्छी बात नहीं समझते थे।

जिगर मुरादाबादी ने मजरूह सुल्तानपुरी को तब सलाह दी कि फिल्मों के लिये गीत लिखना कोई बुरी बात नहीं है।
गीत लिखने से मिलने वाली धन राशि में से कुछ पैसे वह अपने परिवार के खर्च के लिये भेज सकते हैं।
जिगर मुरादाबादी की सलाह पर मजरूह सुल्तानपुरी फिल्म में गीत लिखने के लिये राजी हो गये।
संगीतकार नौशाद ने मजरूह सुल्तानपुरी को एक धुन सुनायी और उनसे उस धुन पर एक गीत लिखने को कहा।

मजरूह सुल्तान पुरी ने उस धुन पर .. जब उनके गेसू बिखराये बादल आये झूम के .. गीत की रचना की।
मजरूह के गीत लिखने के अंदाज से नौशाद काफी प्रभावित हुये और उन्होंने अपनी नयी फिल्म ..शाहजहां .. के लिये गीत लिखने की पेशकश की।

फिल्म शाहजहां के बाद महबूब खान की ..अंदाज.. और एस फाजिल की ..मेहन्दी.. जैसे फिल्म मे अपने रचित गीतों की सफलता के बाद मजरूह सुल्तानपुरी बतौर गीतकार फिल्म जगत मे अपनी पहचान बनाने मे सफल हो गये।
अपनी वामपंथी विचार धारा के कारण मजरूह सुल्तानपुरी को कई कठिनाइयों का सामना करना पड़ा।
कम्युनिस्ट विचारों के कारण उन्हें जेल भी जाना पड़ा।
मजरूह सुल्तानपुरी को सरकार ने सलाह दी कि यदि वह माफी मांग लेते हैं तो उन्हें जेल से आजाद कर दिया जायेगा लेकिन मजरूह सुल्तानपुरी इस बात के लिये राजी नहीं हुये और उन्हें दो वर्ष के लिये जेल भेज दिया गया।

जेल मे रहने के कारण मजरूह सुल्तानपुरी के परिवार की माली हालत काफी खराब हो गयी।
राजकपूर ने उनकी सहायता करनी चाही लेकिन मजरूह सुल्तानपुरी ने उनकी सहायता लेने से मना कर दिया।
इसके बाद राजकपूर ने उनसे एक गीत लिखने की पेशकश की।
मजरूह सुल्तान पुरी ने ..एक दिन बिक जायेगा माटी के मोल ..गीत की रचना की जिसके एवज मे राजकपूर ने उन्हें एक हजार रूपये दिये।
वर्ष 1975 में राजकपूर ने अपनी फिल्म धरम-करम के लिये इस गीत का इस्तेमाल किया।

लगभग दो वर्ष तक जेल मे रहने के बाद मजरूह सुल्तानपुरी ने एक बार फिर से नये जोशो-खरोश के साथ काम करना शुरू कर दिया।
वर्ष 1953 में प्रदर्शित फिल्म फुटपाथ और आर-पार में अपने रचित गीतों की कामयाबी के बाद मजरूह सुल्तानपुरी फिल्म इंडस्ट्री मे पुन: अपनी खोई हुयी पहचान बनाने मे सफल हो गये।

मजरूह सुल्तानपुरी के महत्वपूर्ण योगदान को देखते हुये वर्ष 1993 में उन्हें फिल्म जगत के सर्वोच्च सम्मान दादा साहब फाल्के पुरस्कार से नवाजा गया।
इसके अलावा वर्ष 1964 मे प्रदर्शित फिल्म ..दोस्ती .. में अपने रचित गीत ..चाहूंगा मै तुझे सांझ सवेरे ..के लिये वह सर्वश्रेष्ठ गीतकार के फिल्म फेयर पुरस्कार से सम्मानित किये गये।

मजरूह सुल्तान पुरी ने चार दशक से भी ज्यादा लंबे सिने कैरियर मे लगभग 300 फिल्मों के लिये लगभग 4000 गीतों की रचना की।
अपने रचित गीतों से श्रोताओं को भावविभोर करने वाले महान शायर और गीतकार 24 मई
2000 को इस दुनिया को अलविदा कह गये।

 

आदित्य

आदित्य राय कपूर के साथ काम करना चाहती हैं कृति खरबंदा

मुंबई 28 मार्च (वार्ता) बॉलीवुड अभिनेत्री कृति खरबंदा अभिनेता आदित्य राय कपूर के साथ काम करना चाहती है।

लाजवाब

लाजवाब अभिनय से दर्शकों को दीवाना बनाया फारूख शेख ने

..जन्मदिन 25 मार्च  ..
मुंबई 24 मार्च (वार्ता) बॉलीवुड में फारूख शेख को एक ऐसे अभिनेता के तौर पर याद किया जाता है जिन्होंने समानांतर सिनेमा के साथ ही व्यावसायिक सिनेमा में भी अपने लाजवाब अभिनय से दर्शको के बीच अपनी खास पहचान बनायी।

फैमिली

फैमिली प्लानिंग नहीं कर रही हैं प्रियंका चोपड़ा

मुंबई 28 मार्च (वार्ता) बॉलीवुड अभिनेत्री प्रियंका चोपड़ा का कहना है कि वह अभी फैमिली प्लानिंग नहीं कर रही हैं।

अमिताभ

अमिताभ के साथ कॉमेडी फिल्म में काम करेंगी कैटरीना!

मुंबई 24 मार्च (वार्ता) बॉलीवुड की बार्बी गर्ल कैटरीना कैफ महानायक अमिताभ बच्चन के साथ कॉमेडी फिल्म में काम करती नजर आ सकती है।

शाहरुख

शाहरुख खान के साथ फिर काम करेंगी आलिया भट्ट!

मुंबई 28 मार्च (वार्ता) बॉलीवुड अभिनेत्री आलिया भट्ट एक बार फिर किंग खान शाहरूख खान के साथ काम करती नजर आ सकती हैं।

कोरोना

कोरोना वायरस से लड़ने के लिए प्रभास ने दिये चार करोड़ रूपये

मुंबई 27 मार्च (वार्ता) दक्षिण भारतीय फिल्मों के सुपरस्टार अभिनेता बाहुबली फेम प्रभास ने कोरोना वायरस से लड़ने के लिए चार करोड़ रूपये का दान दिया है।

दिलकश

दिलकश अदाओं से दर्शकों को मंत्रमुग्ध किया नंदा ने

..पुण्यतिथि 25 मार्च के अवसर पर ..
मुम्बई 25 मार्च (वार्ता)बॉलीवुड में अपनी दिलकश अदाओं से अभिनेत्री नंदा ने लगभग तीन दशक तक दर्शकों को मंत्रमुग्ध किया लेकिन बहुत कम लोगो को पता होगा कि वह फिल्म अभिनेत्री न बनकर सेना में काम करना चाहती थीं ।

अच्छी

अच्छी स्क्रिप्ट मिलने पर करीना के साथ काम करेंगी करिश्मा

मुंबई 23 मार्च (वार्ता) बॉलीवुड अभिनेत्री करिश्मा कपूर का कहना है कि अच्छी स्क्रिप्ट मिलने पर करीना कपूर के साथ काम कर सकती है।

अमृता

अमृता राव के साथ काम करने को मिस करते हैं शाहिद कपूर

मुंबई 27 मार्च (वार्ता) बॉलीवुड अभिनेता शाहिद कपूर का कहना है कि वह अमृता राव के साथ काम करने को मिस करते हैं।

बोल्ड

बोल्ड अभिनय से खास पहचान बनायी इमरान हाशमी ने

..जन्मदिन 24 मार्च ..
मुंबई 24 मार्च(वार्ता) बॉलीवुड में इमरान हाशमी का नाम ऐसे अभिनेता के तौर पर शुमार किया जाता है जिन्होंने अपने बोल्ड अभिनय से दर्शकों के बीच खास पहचान बनायी है।

दिलकश अदाओं से दर्शकों को मंत्रमुग्ध किया नंदा ने

दिलकश अदाओं से दर्शकों को मंत्रमुग्ध किया नंदा ने

..पुण्यतिथि 25 मार्च के अवसर पर ..
मुम्बई 25 मार्च (वार्ता)बॉलीवुड में अपनी दिलकश अदाओं से अभिनेत्री नंदा ने लगभग तीन दशक तक दर्शकों को मंत्रमुग्ध किया लेकिन बहुत कम लोगो को पता होगा कि वह फिल्म अभिनेत्री न बनकर सेना में काम करना चाहती थीं ।

दिलकश आवाज से श्रोताओं को मंत्रमुग्ध कर रही है अलका याज्ञनिक

दिलकश आवाज से श्रोताओं को मंत्रमुग्ध कर रही है अलका याज्ञनिक

.. जन्मदिन 20 मार्च के अवसर पर पर ..
मुंबई 19 मार्च (वार्ता) आकाशवाणी कोलकाता से अपने करियर की शुरूआत करके शोहरत की बुलंदियों तक पहुंचने वाली बॉलीवुड की सुप्रसिद्ध पार्श्वगायिका अलका याज्ञनिक अपने गानों से आज भी श्रोताओं के दिलों पर राज कर रही हैं।

image