Tuesday, Feb 18 2020 | Time 22:30 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • जामिया हिंसा जांच के लिए अपराध शाखा ने घटनास्थल का किया मुआयना
  • फोटो कैप्शन-तीसरा सेट
  • मध्यप्रदेश में सात नगरीय निकायों में प्रशासक नियुक्त
  • नक्सलियों के साथ मुठभेड़ में एक जवान शहीद
  • ललितपुर : पच्चीस हजार का ईनामी बदमाश गिरफ्तार
  • स्कूल वैन दुर्घटना : दो दिन के अभियान में 2680 वाहनों के काटे चालान, 430 वाहनों किये जब्त
  • अम्बेडकरनगर पुलिस ने दो इनामी समेत किए आठ बदमाश गिरफ्तार
  • ललितपुर में कर्ज तले दबे किसान ने लगायी फांसी
  • बिहार के पंचायतों में 18 मार्च को होंगे उप चुनाव
  • कोलकाता के पास देसी बम फटने से तीन बच्चे घायल
  • लखनऊ,गौतमबुद्धनगर एवं गाजियाद ध्वनि प्रदूषण के टॉप पांच शरों में शामिल
  • रामकृष्ण परमहंस की जयंती पर भूपेश ने किया नमन
  • झांसी :व्यापारियों ने किया बजट का स्वागत, किसानों ने बताया निराशाजनक
  • उत्तर प्रदेश बोर्ड परीक्षा में सवा दो लाख से अधिक परीक्षार्थियों ने छोड़ी परीक्षा
  • बिजनौर में कार को टक्कर मारने के बाद बस पलटी, एक की मृत्यु 26 घायल
मनोरंजन » कला एवं रंगमंच


‘क्लैपर ब्वॉय’ बना भारतीय सिनेमा का पहला शो मैन

‘क्लैपर ब्वॉय’ बना भारतीय सिनेमा का पहला शो मैन

(पुण्यतिथि 02 जून के अवसर पर)
मुंबई 01 जून (वार्ता) भारतीय सिनेमा को एक से बढ़कर नायाब फिल्में देने वाले पहले शो मैन राजकपूर बचपन के दिनों से अभिनेता बनना चाहते थे और इसके लिये उन्हें न सिर्फ ‘क्लैपर ब्वॉय’ बनना पड़ा साथ ही केदार शर्मा का थप्पड़ भी खाना पड़ा था।

पेशावर (अब पाकिस्तान) में 14 दिसंबर 1924 को जन्मे राजकपूर जब मैट्रिक की परीक्षा में एक विषय में फेल हो गये थे।
तब उन्होंने अपने पिता पृथ्वीराज कपूर से कहा, “मैं पढ़ना नहीं चाहता, फिल्मों में काम करना चाहता हूं, मैं एक्टर बनना चाहता हूं, फिल्में बनाना चाहता हूँ।
” राजकपूर की बात सुनकर पृथ्वीराज कपूर की आंख खुशी से चमक उठी।

राजकपूर ने अपने सिने करियर की शुरूआत बतौर बाल कलाकार वर्ष 1935 में प्रदर्शित फिल्म “इंकलाब” से की।
बतौर अभिनेता वर्ष 1947 में प्रदर्शित फिल्म “नीलकमल” उनकी पहली फिल्म थी।
राज कपूर का फिल्म नीलकमल में काम करने का किस्सा काफी दिलचस्प है।

पृथ्वीराज कपूर ने अपने पुत्र राज को केदार शर्मा की यूनिट में “क्लैपर ब्वॉय” के रूप में काम करने की सलाह दी।
फिल्म की शूटिंग के समय वह अक्सर आइने के पास चले जाते थे और अपने बालों में कंघी करने लगते थे।
क्लैप देते समय इस कोशिश में रहते कि किसी तरह उनका भी चेहरा कैमरे के सामने आ जाये।

    एकबार फिल्म विषकन्या की शूटिंग के दौरान राजकपूर का चेहरा कैमरे के सामने आ गया और हड़बडाहट में चरित्र अभिनेता की दाढी क्लैप बोर्ड में उलझकर निकल गयी।
बताया जाता है केदार शर्मा ने राजकपूर को अपने पास बुलाकर जोर का थप्पड़ लगाया।
हालांकि केदार शर्मा को इसका अफसोस रात भर रहा।
अगले दिन उन्होंने अपनी नयी फिल्म नीलकमल के लिये राजकपूर को साइन कर लिया।
राजकपूर फिल्मों में अभिनय के साथ ही कुछ और भी करना चाहते थे।
वर्ष 1948 में आर. के. फिल्मस की स्थापना कर “आग” का निर्माण किया।
वर्ष 1952 में प्रदर्शित फिल्म “आवारा” राजकपूर के सिने करियर की अहम फिल्म साबित हुयी।
फिल्म की सफलता ने राजकपूर को अंतरराष्ट्रीय ख्याति दिलाई।
फिल्म का शीर्षक गीत “आवारा हूं या गर्दिश में आसमान का तारा हूँ” देश-विदेश में बहुत लोकप्रिय हुआ।

राजकपूर के सिने करियर में उनकी जोड़ी अभिनेत्री नरगिस के साथ काफी पसंद की गयी।
दोनों ने सबसे पहले वर्ष 1948 में प्रदर्शित फिल्म बरसात में नजर आयी।
इसके बाद अंदाज, जान पहचान, आवारा, अनहोनी, आशियाना, अंबर, आह, धुन, पापी, श्री 420, जागते रहो और -चोरी जैसी कई फिल्मों में भी दोनों कलाकारों ने एक साथ काम किया।
श्री 420 फिल्म में बारिश में एक छाते के नीचे फिल्माये गीत “प्यार हुआ इकरार हुआ” में नरगिस और राजकपूर के प्रेम प्रसंग के अविस्मरणीय दृश्य को सिने दर्शक शायद ही कभी भूल पायें।

राज कपूर ने अपनी बनायी फिल्मों के जरिए कई छुपी हुयी प्रतिभा को आगे बढ़ने का मौका दिया इनमें संगीतकार शंकर जयकिशन, गीतकार हसरत जयपुरी, शैलेन्द्र और पार्श्वगायक मुकेश जैसे बड़े नाम शामिल है।
वर्ष 1949 में राजकपूर की निर्मित फिल्म ‘बरसात’ के जरिये राजकपूर ने गीतकार के रूप में शैलेन्द्र, हसरत जयपुरी और संगीतकार के तौर पर शंकर जयकिशन ने अपने करियर की शुरूआत की थी।

   वर्ष 1970 में राजकपूर ने फिल्म “मेरा नाम जोकर” का निर्माण किया जो बॉक्स ऑफिस पर बुरी तरह नकार दी गयी।
अपनी फिल्म मेरा नाम जोकर की असफलता से राजकपूर को गहरा सदमा पहुंचा।
उन्हें काफी आर्थिक नुकसान भी हुयी।
उन्होंने निश्चय किया कि भविष्य में यदि वह फिल्म का निर्माण करेंगे तो मुख्य अभिनेता के रूप में काम नहीं करेंगे।

मुकेश को यदि राजकपूर की आवाज कहा जाये तो इसमें कोई अतिशयोक्ति नहीं होगी।
मुकेश ने राजकपूर अभिनीत सभी फिल्मों में उनके लिये पार्श्वगायन किया।
उनकी मौत के बाद राजकपूर ने कहा था “लगता है मेरी आवाज ही चली गयी है।

राजकपूर को अपने सिने करियर में मानसम्मान खूब मिला।
वर्ष 1971 में राजकपूर पद्मभूषण पुरस्कार और वर्ष 1987 में हिंदी फिल्म जगत के सर्वोच्च सम्मान दादा साहब फाल्के पुरस्कार से भी सम्मानित किये गये।
बतौर अभिनेता उन्हें दो बार, बतौर निर्देशक उन्हें चार बार फिल्म फेयर पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

वर्ष 1985 में राजकपूर निर्देशित अंतिम फिल्म ‘राम तेरी गंगा मैली’ प्रदर्शित हुयी।
इसके बाद राजकपूर अपने महात्वाकांक्षी फिल्म “हिना” के निर्माण में व्यस्त हो गये लेकिन उनका सपना साकार नहीं हुआ और दो जून 1988 को वह इस दुनिया को अलविदा कह गये।

कबीर

कबीर सिंह जैसा किरदार निभाना चाहते हैं वरुण धवन

मुंबई 18 फरवरी (वार्ता) बॉलीवुड अभिनेता वरुण धवन सिल्वर स्क्रीन पर कबीर सिंह जैसा किरदार निभाना चाहते हैं।

‘मलंग’

‘मलंग’ की सफलता से खुश हैं आदित्य राॅय कपूर

मुंबई 18 फरवरी (वार्ता) बॉलीवुड अभिनेता आदित्य राय कपूर फिल्म मलंग की सफलता से काफी खुश हैं।

हॉलीवुड

हॉलीवुड में अभी काम नहीं करना चाहती हैं दिशा पटानी

मुंबई 18 फरवरी (वार्ता) बॉलीवुड अभिनेत्री दिशा पटानी अभी हॉलीवुड में काम नहीं करना चाहती हैं।

बहुमुखी

बहुमुखी प्रतिभा के धनी थे पंकज मल्लिक

.पुण्यतिथि 19 फरवरी  ..
मुंबई 18 फरवरी (वार्ता) पंकज मल्लिक को एक ऐसी बहुमुखी प्रतिभा के रूप में याद किया जाता है जिन्होंने अपने अभिनय. पार्श्वगायन और संगीत निर्देशन से बंगला फिल्मों के साथ ही हिंदी फिल्म इंडस्ट्री में भी अपनी अमिट छाप छोड़ी।

साउथ

साउथ के सुपर स्टार शिव कान्तमणिनी के साथ काम करेंगी पाखी हेगड़े

मुंबई 18 फरवरी (वार्ता) भोजपुरी सिनेमा की सुपरस्टार अभिनेत्री पाखी हेगड़े साउथ के सुपरस्टार शिव कान्तमणिनी के साथ काम करने जा रही हैं।

21

21 फरवरी को रिलीज होगी प्रमोद प्रेमी की प्रेमी ऑटोवाला

मुंबई 17 फरवरी (वार्ता) भोजपुरी फिल्म अभिनेता-गायक प्रमोद प्रेमी की फिल्म ‘प्रेमी ऑटोवाला’ 21 फरवरी को रिलीज होगी।

बेटी

बेटी अनन्या को फिल्मफेयर अवार्ड मिलने पर खुश हैं चंकी पांडे

मुंबई 17 फरवरी (वार्ता) बॉलीवुड अभिनेता चंकी पांडे अपनी बेटी अनन्या पांडे को फिल्मफेयर अवार्ड मिलने पर बेहद खुश हैं।

जादुई

जादुई संगीत से लोगों को मंत्रमुग्ध किया ख्य्याम ने

..जन्मदिन 18 फरवरी ..
मुंबई 17 फरवरी (वार्ता) बॉलीवुड के जाने-माने संगीतकार ख्य्याम ने लगभग पांच दशकों से अपनी मधुर धुनो से लोगो को अपना दीवाना बनाया लेकिन वह संगीतकार नहीं अभिनेता बनना चाहते थे।

मोगैंबो

मोगैंबो का किरदार निभायेंगे शाहरुख खान

मुंबई 17 फरवरी (वार्ता) बॉलीवुड के किंग खान शाहरुख खान सिल्वर स्क्रीन पर मोगैंबो का किरदार निभाते नजर आ सकते हैं।

दमदार

दमदार अभिनय से खास पहचान बनायी निम्मी ने

..जन्मदिन 18 फरवरी  ..
मुम्बई 17 फरवरी(वार्ता) बॉलीवुड में निम्मी को एक ऐसी अभिनेत्री के तौर पर शुमार किया जाता है जिन्होंने पचास और साठ के दशक में महज शोपीस के तौर पर अभिनेत्रियों को इस्तेमाल किये जाने जाने की विचारधारा को बदल दिया।

बहुमुखी प्रतिभा के धनी थे कमाल अमरोही

बहुमुखी प्रतिभा के धनी थे कमाल अमरोही

...पुण्यतिथि 11 फरवरी के अवसर पर ..
मुंबई 10 फरवरी (वार्ता) बॉलीवुड में कमाल अमरोही का नाम एक ऐसी शख्सियत के रूप में याद किया जाता है जिन्होंने बेहतरीन गीतकार,पटकथा और संवाद लेखक तथा निर्माता एवं निर्देशक के रूप में भारतीय सिनेमा पर अपनी अमिट छाप छोड़ी।

image