Saturday, Jul 20 2019 | Time 22:09 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • डीजीपी का निर्देश- एलसीबी में एसपी के नाकाबिल चहेते न हो भर्ती, मीडिया में छाने की प्रवृत्ति वालों को रखो दूर
  • खट्टर और अभिमन्यु का शीला दीक्षित के निधन पर शोक
  • ढाई लाख से अधिक श्रद्धालु पवित्र शिवलिंग का कर चुके दर्शन
  • हरियाणा खट्टर-घोषणाएं दो अंतिम चंडीगढ़
  • नगर कार्यपालक पदाधिकारी रिश्वत लेते गिरफ्तार
  • कर्मचारियों को 7वें वेतनायोग की तर्ज पर किराया भत्ता, मृतकों के आश्रितों हेतु अनुग्रह राशि योजना
  • मौसम विभाग ने एक और दिन के लिए बढ़ायी भारी वर्षा की चेतावनी, कई स्थानों पर हल्की से मध्यम बरसात
  • रेव पार्टी: एक महिला डांसर समेत पांच लोग गिरफ्तार
  • शीला दीक्षित के निधन पर एसोचैम ने जताया शोक
  • मोदी, प्रणब, सोनिया समेत कई नेताओं ने दी शीला को श्रद्धांजलि
  • सुशील के वज़न वर्ग में होगा घमासान
  • सुशील के वज़न वर्ग में होगा घमासान
  • पुन: जारी राजनीति नर्मदा गुजरात मुख्यमंत्री दो अंतिम गांधीनगर
  • दुष्कर्म के मामले में दोषी युवक को 10 साल की सजा
  • बिहार के मुख्य सचिव कार्यालय की कुर्की पर रोक
मनोरंजन » कला एवं रंगमंच


‘क्लैपर ब्वॉय’ बना भारतीय सिनेमा का पहला शो मैन

‘क्लैपर ब्वॉय’ बना भारतीय सिनेमा का पहला शो मैन

(पुण्यतिथि 02 जून के अवसर पर)
मुंबई 01 जून (वार्ता) भारतीय सिनेमा को एक से बढ़कर नायाब फिल्में देने वाले पहले शो मैन राजकपूर बचपन के दिनों से अभिनेता बनना चाहते थे और इसके लिये उन्हें न सिर्फ ‘क्लैपर ब्वॉय’ बनना पड़ा साथ ही केदार शर्मा का थप्पड़ भी खाना पड़ा था।

पेशावर (अब पाकिस्तान) में 14 दिसंबर 1924 को जन्मे राजकपूर जब मैट्रिक की परीक्षा में एक विषय में फेल हो गये थे।
तब उन्होंने अपने पिता पृथ्वीराज कपूर से कहा, “मैं पढ़ना नहीं चाहता, फिल्मों में काम करना चाहता हूं, मैं एक्टर बनना चाहता हूं, फिल्में बनाना चाहता हूँ।
” राजकपूर की बात सुनकर पृथ्वीराज कपूर की आंख खुशी से चमक उठी।

राजकपूर ने अपने सिने करियर की शुरूआत बतौर बाल कलाकार वर्ष 1935 में प्रदर्शित फिल्म “इंकलाब” से की।
बतौर अभिनेता वर्ष 1947 में प्रदर्शित फिल्म “नीलकमल” उनकी पहली फिल्म थी।
राज कपूर का फिल्म नीलकमल में काम करने का किस्सा काफी दिलचस्प है।

पृथ्वीराज कपूर ने अपने पुत्र राज को केदार शर्मा की यूनिट में “क्लैपर ब्वॉय” के रूप में काम करने की सलाह दी।
फिल्म की शूटिंग के समय वह अक्सर आइने के पास चले जाते थे और अपने बालों में कंघी करने लगते थे।
क्लैप देते समय इस कोशिश में रहते कि किसी तरह उनका भी चेहरा कैमरे के सामने आ जाये।

    एकबार फिल्म विषकन्या की शूटिंग के दौरान राजकपूर का चेहरा कैमरे के सामने आ गया और हड़बडाहट में चरित्र अभिनेता की दाढी क्लैप बोर्ड में उलझकर निकल गयी।
बताया जाता है केदार शर्मा ने राजकपूर को अपने पास बुलाकर जोर का थप्पड़ लगाया।
हालांकि केदार शर्मा को इसका अफसोस रात भर रहा।
अगले दिन उन्होंने अपनी नयी फिल्म नीलकमल के लिये राजकपूर को साइन कर लिया।
राजकपूर फिल्मों में अभिनय के साथ ही कुछ और भी करना चाहते थे।
वर्ष 1948 में आर. के. फिल्मस की स्थापना कर “आग” का निर्माण किया।
वर्ष 1952 में प्रदर्शित फिल्म “आवारा” राजकपूर के सिने करियर की अहम फिल्म साबित हुयी।
फिल्म की सफलता ने राजकपूर को अंतरराष्ट्रीय ख्याति दिलाई।
फिल्म का शीर्षक गीत “आवारा हूं या गर्दिश में आसमान का तारा हूँ” देश-विदेश में बहुत लोकप्रिय हुआ।

राजकपूर के सिने करियर में उनकी जोड़ी अभिनेत्री नरगिस के साथ काफी पसंद की गयी।
दोनों ने सबसे पहले वर्ष 1948 में प्रदर्शित फिल्म बरसात में नजर आयी।
इसके बाद अंदाज, जान पहचान, आवारा, अनहोनी, आशियाना, अंबर, आह, धुन, पापी, श्री 420, जागते रहो और -चोरी जैसी कई फिल्मों में भी दोनों कलाकारों ने एक साथ काम किया।
श्री 420 फिल्म में बारिश में एक छाते के नीचे फिल्माये गीत “प्यार हुआ इकरार हुआ” में नरगिस और राजकपूर के प्रेम प्रसंग के अविस्मरणीय दृश्य को सिने दर्शक शायद ही कभी भूल पायें।

राज कपूर ने अपनी बनायी फिल्मों के जरिए कई छुपी हुयी प्रतिभा को आगे बढ़ने का मौका दिया इनमें संगीतकार शंकर जयकिशन, गीतकार हसरत जयपुरी, शैलेन्द्र और पार्श्वगायक मुकेश जैसे बड़े नाम शामिल है।
वर्ष 1949 में राजकपूर की निर्मित फिल्म ‘बरसात’ के जरिये राजकपूर ने गीतकार के रूप में शैलेन्द्र, हसरत जयपुरी और संगीतकार के तौर पर शंकर जयकिशन ने अपने करियर की शुरूआत की थी।

   वर्ष 1970 में राजकपूर ने फिल्म “मेरा नाम जोकर” का निर्माण किया जो बॉक्स ऑफिस पर बुरी तरह नकार दी गयी।
अपनी फिल्म मेरा नाम जोकर की असफलता से राजकपूर को गहरा सदमा पहुंचा।
उन्हें काफी आर्थिक नुकसान भी हुयी।
उन्होंने निश्चय किया कि भविष्य में यदि वह फिल्म का निर्माण करेंगे तो मुख्य अभिनेता के रूप में काम नहीं करेंगे।

मुकेश को यदि राजकपूर की आवाज कहा जाये तो इसमें कोई अतिशयोक्ति नहीं होगी।
मुकेश ने राजकपूर अभिनीत सभी फिल्मों में उनके लिये पार्श्वगायन किया।
उनकी मौत के बाद राजकपूर ने कहा था “लगता है मेरी आवाज ही चली गयी है।

राजकपूर को अपने सिने करियर में मानसम्मान खूब मिला।
वर्ष 1971 में राजकपूर पद्मभूषण पुरस्कार और वर्ष 1987 में हिंदी फिल्म जगत के सर्वोच्च सम्मान दादा साहब फाल्के पुरस्कार से भी सम्मानित किये गये।
बतौर अभिनेता उन्हें दो बार, बतौर निर्देशक उन्हें चार बार फिल्म फेयर पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

वर्ष 1985 में राजकपूर निर्देशित अंतिम फिल्म ‘राम तेरी गंगा मैली’ प्रदर्शित हुयी।
इसके बाद राजकपूर अपने महात्वाकांक्षी फिल्म “हिना” के निर्माण में व्यस्त हो गये लेकिन उनका सपना साकार नहीं हुआ और दो जून 1988 को वह इस दुनिया को अलविदा कह गये।

दिव्या

दिव्या दत्ता को गौर गोपाल दास ने उबारा डिप्रेशन से

नयी दिल्ली 20 जुलाई (वार्ता) मनमोहक मुस्कान से दर्शकों का दिल जीतने वाली बाॅलीवुड की जानी-मानी अभिनेत्री दिव्या दत्ता को देखकर शायद ही लोगों को एहसास हाे कि वह कभी डिप्रेशन की शिकार भी हुयी होंगी लेकिन उनकी जिन्दगी में एक ऐसा मोड़ आया था जब वह घोर निराशा तथा अवसाद में घिर गयीं थी और तब विश्वविख्यात मोटिवेशनल शख्सियत गौर गोपाल दास के एक वीडियो ने डिप्रेशन के दलदल से उन्हें निकाल कर उनका जीवन बदल दिया।

खुद

खुद को मिसफिट एक्टर समझता था :अनिल कपूर

मुंबई 20 जुलाई (वार्ता) बॉलीवुड अभिनेता अनिल कपूर का कहना है कि अपने शुरूआती दौर में वह खुद को मिसफिट समझते थे।

39

39 वर्ष की हुयीं ग्रेसी सिंह

मुंबई 20 जुलाई (वार्ता) बॉलीवुड की जानीमानी अभिनेत्री ग्रेसी सिंह शनिवार को 39 वर्ष की हो गयीं।

आलिया

आलिया भट्ट को अपनी प्रेरणा मानती हैं अनन्या पांडे

मुंबई 20 जुलाई (वार्ता) बॉलीवुड अभिनेत्री अनन्या पांडे, आलिया भट्ट को अपनी प्रेरणा मानती हैं।

मिशन

मिशन मंगल की स्क्रिप्ट काफी बेहतरीन :विद्या बालन

मुंबई 20 जुलाई (वार्ता) बॉलीवुड अभिनेत्री विद्या बालन का कहना है कि मिशन मंगल की स्क्रिप्ट काफी बेहतरीन है इसलिये उन्होंने इस फिल्म में काम किया है।

गायक

गायक बनने की तमन्ना रखते थे आनंद बख्शी

..जन्मदिवस 21 जुलाई ..
मुंबई 20 जुलाई (वार्ता) अपने सदाबहार गीतों से श्रोताओं को दीवाना बनाने वाले बालीवुड के मशहूर गीतकार आनंद बख्शी ने लगभग चार दशक तक श्रोताओं को मंत्रमुग्ध किया लेकिन कम लोगो को पता होगा कि वह गीतकार नहीं बल्कि पार्श्वगायक बनना चाहते थे।

नसीरूद्दीन

नसीरूद्दीन ने समानांतर फिल्मों को नया आयाम दिया

.. जन्मदिवस 20 जुलाई के अवसर पर .
मुंबई 19 जुलाई (वार्ता) बॉलीवुड में नसीरूदीन शाह ऐसे धु्रवतारे की तरह है जिन्होंने अपने सशक्त अभिनय से समानांतर सिनेमा के साथ-साथ व्यावसायिक सिनेमा में भी दर्शको के बीच अपनी खास पहचान बनायी।

बॉलीवुड

बॉलीवुड के पहले सुपरस्टार थे राजेश खन्ना

पुण्यतिथि 18 जुलाई के अवसर पर ..
मुंबई 17 जुलाई (वार्ता) हिंदी फिल्म जगत में अपने अभिनय से लोगों को दीवाना बनाने वाले अभिनेता तो कई हुये और दर्शकों ने उन्हें स्टार कलाकार माना पर सत्तर के दशक में राजेश खन्ना पहले ऐसे अभिनेता के तौर पर अवतरित
हुये जिन्हें दर्शको ने सुपर स्टार की उपाधि दी।

स्टारडम

स्टारडम लंबे समय तक कायम रखना चुनौती:सलमान

मुंबई 13 जुलाई (वार्ता) बॉलीवुड के दबंग स्टार सलमान खान स्टारडम को लंबे समय तक कायम रखना चुनौती मानते हैं।

मिशन

मिशन मंगल को लेकर गर्व महसूस कर रहे हैं अक्षय

मुंबई 19 जुलाई (वार्ता) बॉलीवुड के खिलाड़ी कुमार अक्षय कुमार अपनी आने वाली फिल्म मिशन मंगल को लेकर गर्व महसूस कर रहे हैं।

दिव्या दत्ता को गौर गोपाल दास ने उबारा डिप्रेशन से

दिव्या दत्ता को गौर गोपाल दास ने उबारा डिप्रेशन से

नयी दिल्ली 20 जुलाई (वार्ता) मनमोहक मुस्कान से दर्शकों का दिल जीतने वाली बाॅलीवुड की जानी-मानी अभिनेत्री दिव्या दत्ता को देखकर शायद ही लोगों को एहसास हाे कि वह कभी डिप्रेशन की शिकार भी हुयी होंगी लेकिन उनकी जिन्दगी में एक ऐसा मोड़ आया था जब वह घोर निराशा तथा अवसाद में घिर गयीं थी और तब विश्वविख्यात मोटिवेशनल शख्सियत गौर गोपाल दास के एक वीडियो ने डिप्रेशन के दलदल से उन्हें निकाल कर उनका जीवन बदल दिया।

पॉप गायिकी को अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर पहचान दिलायी माइकल जैक्सन ने

पॉप गायिकी को अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर पहचान दिलायी माइकल जैक्सन ने

..जन्मदिवस 29 अगस्त के अवसर पर ..
मुंबई 28 अगस्त(वार्ता)किंग ऑफ पॉप माइकल जैक्सन को ऐसी शख्सियत के तौर पर याद किया जाता है जिन्होंने पॉप संगीत की दुनिया को पूरी तरह बदलकर अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर अपनी पहचान बनायी है।

दिल्ली में भी होगा फिल्म उद्योग, डियोरामा अंतरराष्ट्रीय फिल्म समारोह आरंभ

दिल्ली में भी होगा फिल्म उद्योग, डियोरामा अंतरराष्ट्रीय फिल्म समारोह आरंभ

नयी दिल्ली 15 जनवरी (वार्ता) दिल्ली में भी फिल्म उद्योग स्थापित करने के मकसद से पहले डियोरामा अंतरराष्ट्रीय फिल्म समारोह एवं विपणन 2019 की कल रात यहां देश-विदेश के फिल्मी जगत के लोगों की मौजूदगी में शुरूआत हुयी।

बॉलीवुड के पहले सुपरस्टार थे राजेश खन्ना

बॉलीवुड के पहले सुपरस्टार थे राजेश खन्ना

पुण्यतिथि 18 जुलाई के अवसर पर ..
मुंबई 17 जुलाई (वार्ता) हिंदी फिल्म जगत में अपने अभिनय से लोगों को दीवाना बनाने वाले अभिनेता तो कई हुये और दर्शकों ने उन्हें स्टार कलाकार माना पर सत्तर के दशक में राजेश खन्ना पहले ऐसे अभिनेता के तौर पर अवतरित
हुये जिन्हें दर्शको ने सुपर स्टार की उपाधि दी।

नसीरूद्दीन ने समानांतर फिल्मों को नया आयाम दिया

नसीरूद्दीन ने समानांतर फिल्मों को नया आयाम दिया

.. जन्मदिवस 20 जुलाई के अवसर पर .
मुंबई 19 जुलाई (वार्ता) बॉलीवुड में नसीरूदीन शाह ऐसे धु्रवतारे की तरह है जिन्होंने अपने सशक्त अभिनय से समानांतर सिनेमा के साथ-साथ व्यावसायिक सिनेमा में भी दर्शको के बीच अपनी खास पहचान बनायी।

image