Monday, Sep 16 2019 | Time 18:32 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • नमो एप में मोदी से सीधे संवाद कर सकेगी जनता
  • मेरे बयान को गलत ढंग से पेश किया गया: गंगवार
  • रूहानी और ट्रंप की नहीं होगी मुलाकात: ईरान
  • भारत ओजोन परत की रक्षा के लिए प्रतिबद्ध: जावड़ेकर
  • न्यू जर्सी के गवर्नर मर्फी मिले मोदी से
  • कश्मीर में व्यावसायिक गतिविधियां ठप, स्थिति शांतिपूर्ण
  • मध्य प्रदेश, गुजरात, बंगाल में भारी बारिश के आसार
  • शामली के कैराना में यमुना में डूबे छह में पांच के शव बरामद
  • चौटाला परिवार की एकता न होने पर जजपा से नाता तोड़ा, सभी सीटों पर चुनाव लड़ेंगे:मिश्रा
  • आसियान देशों के एक हजार शोधार्थियों को मिलेगी आईआईटी में पीएचडी फैलोशिप
  • फारूख अब्दुल्ला सार्वजनिक सुरक्षा अधिनियम के तहत हिरासत में
  • पटना ने पुणेरी को हराया, नीरज का रिकॉर्ड प्रदर्शन
  • पटना ने पुणेरी को हराया, नीरज का रिकॉर्ड प्रदर्शन
  • महापौर और अध्यक्ष पदों का आरक्षण 18 सितंबर को
  • खाद्य तेल सुस्त, चीनी मजबूत, गेहूँ, गुड़ नरम
मनोरंजन » कला एवं रंगमंच


निर्देशक नहीं पार्श्वगायक बनना चाहते थे राज खोसला

निर्देशक नहीं पार्श्वगायक बनना चाहते थे राज खोसला

(पुण्यतिथि 09 जून के अवसर पर)
मुंबई 08 जून (वार्ता) बॉलीवुड में अपनी निर्देशित फिल्मों से दर्शकों को मंत्रमुग्ध करने वाले राज खोसला फिल्म निर्देशक नही पार्श्वगायक बनने की हसरत रखते थे।

पंजाब के लुधियाना शहर में 31 मई 1925 को जन्मे राज खोसला का बचपन से ही रूझान गीत संगीत की ओर था।
वह फिल्मी दुनिया में पार्श्वगायक बनना चाहते थे।
आकाशवाणी में बतौर उद्घोषक और पार्श्वगायक का काम करने के बाद राजखोसला 19 वर्ष की उम्र में पार्श्वगायक की तमन्ना लिये मुंबई आ गये।
मुंबई आने के बाद राज खोसला ने रंजीत स्टूडियों में अपना स्वर परीक्षण कराया और इस कसौटी पर वह खरे भी उतरे लेकिन रंजीत स्टूडियों के मालिक सरदार चंदू लाल ने उन्हें बतौर पार्श्वगायक अपनी फिल्म में काम करने का मौका नहीं दिया।
उनदिनों रंजीत स्टूडियो की स्थिति ठीक नही थी और सरदार चंदूलाल को नये पार्श्वगायक की अपेक्षा मुकेश पर ज्यादा भरोसा था अतः उन्होंने अपनी फिल्म में मुकेश को ही पार्श्वगायन करने का मौका देना उचित समझा।

इस बीच राजखोसला फिल्म इंडस्ट्री में अपनी पहचान बनाने के लिये संघर्ष करते रहे।
उन्हीं दिनों उनके पारिवारिक मित्र और अभिनेता देवानंद ने राज खोसला को अपनी फिल्म “बाजी” में गुरूदत्त के सहायक निर्देशक के तौर पर नियुक्त कर लिया ।
वर्ष 1954 में राज खोसला को स्वतंत्र निर्देशक के तौर पर फिल्म मिलाप को निर्देशित करने का मौका मिला ।
देवानंद और गीताबाली अभिनीत फिल्म मिलाप की सफलता के बाद बतौर निर्देशक राज खोसला फिल्म इंडस्ट्री में अपनी पहचान बनाने में कामयाब हो गये।

वर्ष 1956 में राजखोसला ने सी.आई.डी फिल्म निर्देशित की।
जब फिल्म ने बॉक्स ऑफिस पर अपनी सिल्वर जुबली पूरी की तब गुरुदत्त इससे काफी खुश हुये।
उन्होंने राज खोसला को एक नयी कार भेंट की और कहा “यह कार आपकी है” इसमें दिलचस्प बात यह है कि गुरूदत्त ने कार के सारे कागजात भी राज खोसला के नाम से ही बनवाये थे ।
सी.आई.डी की सफलता के बाद गुरूदत्त ने राज खोसला को अपनी एक अन्य फिल्म के निर्देशन की भी जिम्मेवारी सौंपनी चाही लेकिन राज खोसला ने उन्हें यह कह कर इंकार कर दिया कि “एक बड़े पेड़ के नीच भला दूसरा पेड़ कैसे पनप सकता है।
” इस पर गुरूदत्त ने राज खोसला से कहा “गुरूदत्त फिल्मस पर जितना मेरा अधिकार है उतना
तुम्हारा भी है।

     वर्ष 1958 में राज खोसला ने नवकेतन बैनर तले निर्मित फिल्म सोलहवां साल निर्देशित की।
देवानंद और वहीदा रहमान अभिनीत इस फिल्म को सेंसर का वयस्क प्रमाण पत्र मिलने के कारण फिल्म को देखने ज्यादा दर्शक नहीं आ सके और अच्छी पटकथा और निर्देशन के बावजूद फिल्म बॉक्स ऑफिस पर कोई खास कमाल नहीं दिखा सकी।
इसके बाद राज खोसला को नवकेतन के बैनर तले ही निर्मित फिल्म काला पानी को निर्देशित करने का मौका मिला।
यह बात कितनी दिलचस्प है कि जिस देवानंद की बदौलत राज खोसला को फिल्म इंडस्ट्री में काम करने का मौका मिला था उन्हीं की वजह से देवानंद को अपने फिल्मी करियर का बतौर अभिनेता पहला फिल्म फेयर पुरस्कार प्राप्त हुआ।

वर्ष 1960 में राज खोसला ने निर्माण के क्षेत्र में भी कदम रख दिया और “बंबई का बाबू” का निर्माण किया ।
फिल्म के जरिये राज खोसला ने अभिनेत्री सुचित्रा सेन को रूपहले पर्दे पर पेश किया।
हालांकि फिल्म दर्शकों के बीच सराही गयी लेकिन बॉक्स ऑफिस पर इसे अपेक्षित कामयाबी नही मिल पायी।
फिल्म की असपलता से राज खोसला आर्थिक तंगी में फंस गये।
इसके बाद राज खोसला को फिल्मालय की एस. मुखर्जी निर्मित एक मुसाफिर एक हसीना निर्देशित करने का मौका मिला।
फिल्म की कहानी एक ऐसे फौजी अफसर की जिंदगी पर आधारित थी जिसकी याददाश्त चली जाती है ।

फिल्म के निर्माण के समय एस. मुखर्जी ने राज खोसला को यह राय दी कि फिल्म की कहानी फ्लैशबैक से शुरू की जाये।
एस. मुखर्जी की इस बात से राज खोसला सहमत नही थे ।
बाद में वर्ष 1962 में जब फिल्म प्रदर्शित हुयी तो आरंभ में उसे दर्शकों का अपेक्षित प्यार नही मिला और राज खोसला के कहने पर एस. मुखर्जी ने फिल्म का संपादन कराया और जब फिल्म को दुबारा प्रदर्शित किया तो फिल्म पर बॉक्स ऑफिस पर सुपरहिट साबित हुयी ।

    वर्ष 1964 में राज खोसला की एक और सुपरहिट फिल्म प्रदर्शित हुयी “वह कौन थी” फिल्म के निर्माण के समय मनोज कुमार और अभिनेत्री के रूप में निम्मी का चयन किया गया था लेकिन राज खोसला ने निम्मी की जगह साधना का चयन किया।
रहस्य और रोमांच से भरपूर इस फिल्म में साधना की रहस्यमयी मुस्कान के दर्शक दीवाने हो गये।
साथ ही फिल्म की सफलता के बाद राज खोसला का निर्णय सही साबित हुआ।

वर्ष 1967 में राज खोसला ने फिल्म “अनिता” का निर्माण किया जो बॉक्स ऑफिस पर बुरी तरह नकार दी गयी जिससे उन्हें गहरा सदमा पहुंचा और उन्हें आर्थिक क्षति हुयी।
इससे राज खोसला टूट से गये, बाद में अपनी मां के कहने पर उन्होंने वर्ष 1969 में फिल्म “चिराग” का निर्माण किया जो सुपरहिट रही ।

वर्ष 1971 में राज खोसला की एक और सुपरहिट फिल्म प्रदर्शित हुयी “मेरा गांव मेरा देश” इस फिल्म में विनोद खन्ना खलनायक की भूमिका में थे।
फिल्म की कहानी उन दिनों एक अखबार में छपी कहानी पर आधारित थी।
वर्ष 1978 में राजखोसला ने लीक से हटकर फिल्में बनाने का काम करना शुरू कर दिया और नूतन और विजय आनंद को लेकर “मैं तुलसी तेरे आंगन की” का निर्माण किया।
पारिवारिक पृष्ठभूमि पर बनी फिल्म दर्शकों के बीच काफी सराही गयी।
वर्ष 1980 में प्रदर्शित फिल्म “दोस्ताना” राज खोसला के सिने करियर की अंतिम सुपरहिट फिल्म थी।
फिल्म में अमिताभ बच्चन, शत्रुघ्न सिन्हा और जीनत अमान ने मुख्य भूमिका निभायी थी।

अस्सी के दशक में राजखोसला की फिल्में व्यावसायिक तौर पर सफल नहीं रही।
इन फिल्मों में दासी, तेरी मांग सितारों से भर दूं, मेरा दोस्त मेरा दुश्मन और माटी मांगे खून शामिल है।
हालांकि वर्ष 1984 में प्रदर्शित फिल्म “सन्नी” ने बॉक्स ऑफिस पर औसत व्यापार किया।
वर्ष 1989 में प्रदर्शित फिल्म “नकाब” राज खोसला के सिने करियर की अंतिम फिल्म साबित हुयी।
अपने दमदार निर्देशन से लगभग चार दशक तक सिने प्रेमियों का भरपूर मनोरंजन करने वाले निर्माता-निर्देशक राज खोसला 09 जून 1991 को इस दुनिया को अलविदा कह गये ।

टाइगर

टाइगर श्राफ ने की लंबे एक्शन सीक्वेंस की शूटिंग

मुंबई 16 सितंबर (वार्ता) बॉलीवुड अभिनेता टाइगर श्राफ ने फिल्म वॉर में सबसे लंबे सिंगल-शॉट एक्शन सीक्वेंस की शूटिंग की है।

तापसी

तापसी पन्नू को सड़क किनारे शॉपिंग न कर पाने का मलाल

मुंबई 16 सितंबर (वार्ता) बॉलीवुड अभिनेत्री तापसी पन्नू को दिल्ली में सड़क किनारे शॉपिंग न कर पाने का मलाल है।

संदीप

संदीप वांगा की ‘डेविल’ में काम करेंगे रणबीर!

मुंबई 16 सितंबर (वार्ता) बॉलीवुड के रॉकस्टार रणबीर कपूर फिल्म ‘डेविल’ में काम करते नजर आ सकते हैं।

जाह्नवी

जाह्नवी कपूर ने ‘रूह-अफजा’ की शूटिंग पूरी की

मुंबई 16 सितंबर (वार्ता) बॉलीवुड अभिनेत्री जाह्नवी कपूर ने अपनी आने वाली फिल्म ‘रूह-अफजा’ की शूटिंग पूरी कर ली।

टीवी

टीवी पर कमबैक करेगी श्वेता तिवारी

मुंबई 16 सितंबर (वार्ता) जानीमानी अभिनेत्री श्वेता तिवारी टीवी पर कमबैक करने जा रही हैं।

टाइटल

टाइटल गीत लिखने में माहिर थे हसरत जयपुरी

(पुण्यतिथि 17 सितंबर )
मुम्बई 16 सितंबर (वार्ता) हिन्दी फिल्मों में जब भी टाइटल गीतों का जिक्र होता है गीतकार हसरत जयपुरी का नाम सबसे पहले लिया जाता है।

पिता

पिता की फिल्में देख डर जाती थी सोनम कपूर

मुंबई 16 सितंबर (वार्ता) बॉलीवुड अभिनेत्री सोनम कपूर का कहना है कि वह बचपन में अपने पिता अनिल कपूर की फिल्में देखकर डर जाती थीं।

‘एक

‘एक विलेन’ के सीक्वल में काम करेंगे जॉन अब्राहम!

मुंबई 16 सितंबर (वार्ता) बॉलीवुड के माचो मैन जॉन अब्राहम सुपरहिट फिल्म ‘एक विलेन’ के सीक्वल में काम करते नजर आ सकते हैं।

हमेशा

हमेशा से विलन का रोल करना चाहते थे चंकी पांडे

मुंबई 16 सितंबर (वार्ता) बॉलीवुड अभिनेता चंकी पांडे का कहना है कि वह हमेशा से विलेन का रोल करना चाहते थे।

अमिताभ

अमिताभ बच्चन का लेटर का इंतजार करते हैं आयुष्मान

मुंबई 15 सितंबर (वार्ता) बॉलीवुड अभिनेता आयुष्मान खुराना का कहना कि उन्हें अमिताभ बच्चन के लेटर का हमेशा इंतजार रहता है।

दिल्ली में भी होगा फिल्म उद्योग, डियोरामा अंतरराष्ट्रीय फिल्म समारोह आरंभ

दिल्ली में भी होगा फिल्म उद्योग, डियोरामा अंतरराष्ट्रीय फिल्म समारोह आरंभ

नयी दिल्ली 15 जनवरी (वार्ता) दिल्ली में भी फिल्म उद्योग स्थापित करने के मकसद से पहले डियोरामा अंतरराष्ट्रीय फिल्म समारोह एवं विपणन 2019 की कल रात यहां देश-विदेश के फिल्मी जगत के लोगों की मौजूदगी में शुरूआत हुयी।

शंकर और जयकिशन के बीच भी हुयी थी अनबन

शंकर और जयकिशन के बीच भी हुयी थी अनबन

. जयकिशन पुण्यतिथि 12 सितंबर के अवसर पर .
मुंबई 11 सितंबर (वार्ता) भारतीय सिनेमा जगत में सर्वाधिक कामयाब संगीतकार जोड़ी शंकर -जयकिशन ने अपने सुरो के जादू से श्रोताओं को कई दर्शकों तक मंत्रमुग्ध किया और उनकी जोड़ी एक मिसाल के रूप में ली जाती थी लेकिन एक वक्त ऐसा भी आया जब दोनो के बीच अनबन हो गयी थी।

image