Thursday, Oct 24 2019 | Time 08:08 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • हरियाणा में विधानसभा चुनावों की मतगणना शुरू
  • उप्र में विधानसभा उपचुनाव की मतगणना शुरु
  • आज का इतिहास (प्रकाशनार्थ 25 अक्टूबर)
  • पेट्रिव्स्के, जोलोटे से सेना को अलग करने की तैयारी जारी : जेलेंस्की
  • ‘सीरिया में सुरक्षित क्षेत्र बनाने के जर्मनी के प्रस्ताव पर फैसला लेगा संरा’
  • फैजल बिन फरहान सऊदी के नए विदेश मंत्री नियुक्त
  • बुर्किना फासो में अज्ञात बंदूकधारी के हमले में छह सैनिकों की मौत
  • 39 विस्थापितों की मौत के लिए तस्कर जिम्मेदार : गुटेरस
  • लीबिया में अंधाधुंध गोलाबारी में तीन लोगों की मौत
  • उत्तरी एसकेंसन द्वीप में महसूस किए गए भूकंप के झटके
  • तुर्की की सीरिया में स्थायी युद्धविराम पर सहमति, अमेरिका ने सभी प्रतिबंध हटाये
  • रिवलिन ने गैंट्ज को सरकार बनाने का दिया न्यौता
मनोरंजन » कला एवं रंगमंच


निर्देशक नहीं पार्श्वगायक बनना चाहते थे राज खोसला

निर्देशक नहीं पार्श्वगायक बनना चाहते थे राज खोसला

(पुण्यतिथि 09 जून के अवसर पर)
मुंबई 08 जून (वार्ता) बॉलीवुड में अपनी निर्देशित फिल्मों से दर्शकों को मंत्रमुग्ध करने वाले राज खोसला फिल्म निर्देशक नही पार्श्वगायक बनने की हसरत रखते थे।

पंजाब के लुधियाना शहर में 31 मई 1925 को जन्मे राज खोसला का बचपन से ही रूझान गीत संगीत की ओर था।
वह फिल्मी दुनिया में पार्श्वगायक बनना चाहते थे।
आकाशवाणी में बतौर उद्घोषक और पार्श्वगायक का काम करने के बाद राजखोसला 19 वर्ष की उम्र में पार्श्वगायक की तमन्ना लिये मुंबई आ गये।
मुंबई आने के बाद राज खोसला ने रंजीत स्टूडियों में अपना स्वर परीक्षण कराया और इस कसौटी पर वह खरे भी उतरे लेकिन रंजीत स्टूडियों के मालिक सरदार चंदू लाल ने उन्हें बतौर पार्श्वगायक अपनी फिल्म में काम करने का मौका नहीं दिया।
उनदिनों रंजीत स्टूडियो की स्थिति ठीक नही थी और सरदार चंदूलाल को नये पार्श्वगायक की अपेक्षा मुकेश पर ज्यादा भरोसा था अतः उन्होंने अपनी फिल्म में मुकेश को ही पार्श्वगायन करने का मौका देना उचित समझा।

इस बीच राजखोसला फिल्म इंडस्ट्री में अपनी पहचान बनाने के लिये संघर्ष करते रहे।
उन्हीं दिनों उनके पारिवारिक मित्र और अभिनेता देवानंद ने राज खोसला को अपनी फिल्म “बाजी” में गुरूदत्त के सहायक निर्देशक के तौर पर नियुक्त कर लिया ।
वर्ष 1954 में राज खोसला को स्वतंत्र निर्देशक के तौर पर फिल्म मिलाप को निर्देशित करने का मौका मिला ।
देवानंद और गीताबाली अभिनीत फिल्म मिलाप की सफलता के बाद बतौर निर्देशक राज खोसला फिल्म इंडस्ट्री में अपनी पहचान बनाने में कामयाब हो गये।

वर्ष 1956 में राजखोसला ने सी.आई.डी फिल्म निर्देशित की।
जब फिल्म ने बॉक्स ऑफिस पर अपनी सिल्वर जुबली पूरी की तब गुरुदत्त इससे काफी खुश हुये।
उन्होंने राज खोसला को एक नयी कार भेंट की और कहा “यह कार आपकी है” इसमें दिलचस्प बात यह है कि गुरूदत्त ने कार के सारे कागजात भी राज खोसला के नाम से ही बनवाये थे ।
सी.आई.डी की सफलता के बाद गुरूदत्त ने राज खोसला को अपनी एक अन्य फिल्म के निर्देशन की भी जिम्मेवारी सौंपनी चाही लेकिन राज खोसला ने उन्हें यह कह कर इंकार कर दिया कि “एक बड़े पेड़ के नीच भला दूसरा पेड़ कैसे पनप सकता है।
” इस पर गुरूदत्त ने राज खोसला से कहा “गुरूदत्त फिल्मस पर जितना मेरा अधिकार है उतना
तुम्हारा भी है।

     वर्ष 1958 में राज खोसला ने नवकेतन बैनर तले निर्मित फिल्म सोलहवां साल निर्देशित की।
देवानंद और वहीदा रहमान अभिनीत इस फिल्म को सेंसर का वयस्क प्रमाण पत्र मिलने के कारण फिल्म को देखने ज्यादा दर्शक नहीं आ सके और अच्छी पटकथा और निर्देशन के बावजूद फिल्म बॉक्स ऑफिस पर कोई खास कमाल नहीं दिखा सकी।
इसके बाद राज खोसला को नवकेतन के बैनर तले ही निर्मित फिल्म काला पानी को निर्देशित करने का मौका मिला।
यह बात कितनी दिलचस्प है कि जिस देवानंद की बदौलत राज खोसला को फिल्म इंडस्ट्री में काम करने का मौका मिला था उन्हीं की वजह से देवानंद को अपने फिल्मी करियर का बतौर अभिनेता पहला फिल्म फेयर पुरस्कार प्राप्त हुआ।

वर्ष 1960 में राज खोसला ने निर्माण के क्षेत्र में भी कदम रख दिया और “बंबई का बाबू” का निर्माण किया ।
फिल्म के जरिये राज खोसला ने अभिनेत्री सुचित्रा सेन को रूपहले पर्दे पर पेश किया।
हालांकि फिल्म दर्शकों के बीच सराही गयी लेकिन बॉक्स ऑफिस पर इसे अपेक्षित कामयाबी नही मिल पायी।
फिल्म की असपलता से राज खोसला आर्थिक तंगी में फंस गये।
इसके बाद राज खोसला को फिल्मालय की एस. मुखर्जी निर्मित एक मुसाफिर एक हसीना निर्देशित करने का मौका मिला।
फिल्म की कहानी एक ऐसे फौजी अफसर की जिंदगी पर आधारित थी जिसकी याददाश्त चली जाती है ।

फिल्म के निर्माण के समय एस. मुखर्जी ने राज खोसला को यह राय दी कि फिल्म की कहानी फ्लैशबैक से शुरू की जाये।
एस. मुखर्जी की इस बात से राज खोसला सहमत नही थे ।
बाद में वर्ष 1962 में जब फिल्म प्रदर्शित हुयी तो आरंभ में उसे दर्शकों का अपेक्षित प्यार नही मिला और राज खोसला के कहने पर एस. मुखर्जी ने फिल्म का संपादन कराया और जब फिल्म को दुबारा प्रदर्शित किया तो फिल्म पर बॉक्स ऑफिस पर सुपरहिट साबित हुयी ।

    वर्ष 1964 में राज खोसला की एक और सुपरहिट फिल्म प्रदर्शित हुयी “वह कौन थी” फिल्म के निर्माण के समय मनोज कुमार और अभिनेत्री के रूप में निम्मी का चयन किया गया था लेकिन राज खोसला ने निम्मी की जगह साधना का चयन किया।
रहस्य और रोमांच से भरपूर इस फिल्म में साधना की रहस्यमयी मुस्कान के दर्शक दीवाने हो गये।
साथ ही फिल्म की सफलता के बाद राज खोसला का निर्णय सही साबित हुआ।

वर्ष 1967 में राज खोसला ने फिल्म “अनिता” का निर्माण किया जो बॉक्स ऑफिस पर बुरी तरह नकार दी गयी जिससे उन्हें गहरा सदमा पहुंचा और उन्हें आर्थिक क्षति हुयी।
इससे राज खोसला टूट से गये, बाद में अपनी मां के कहने पर उन्होंने वर्ष 1969 में फिल्म “चिराग” का निर्माण किया जो सुपरहिट रही ।

वर्ष 1971 में राज खोसला की एक और सुपरहिट फिल्म प्रदर्शित हुयी “मेरा गांव मेरा देश” इस फिल्म में विनोद खन्ना खलनायक की भूमिका में थे।
फिल्म की कहानी उन दिनों एक अखबार में छपी कहानी पर आधारित थी।
वर्ष 1978 में राजखोसला ने लीक से हटकर फिल्में बनाने का काम करना शुरू कर दिया और नूतन और विजय आनंद को लेकर “मैं तुलसी तेरे आंगन की” का निर्माण किया।
पारिवारिक पृष्ठभूमि पर बनी फिल्म दर्शकों के बीच काफी सराही गयी।
वर्ष 1980 में प्रदर्शित फिल्म “दोस्ताना” राज खोसला के सिने करियर की अंतिम सुपरहिट फिल्म थी।
फिल्म में अमिताभ बच्चन, शत्रुघ्न सिन्हा और जीनत अमान ने मुख्य भूमिका निभायी थी।

अस्सी के दशक में राजखोसला की फिल्में व्यावसायिक तौर पर सफल नहीं रही।
इन फिल्मों में दासी, तेरी मांग सितारों से भर दूं, मेरा दोस्त मेरा दुश्मन और माटी मांगे खून शामिल है।
हालांकि वर्ष 1984 में प्रदर्शित फिल्म “सन्नी” ने बॉक्स ऑफिस पर औसत व्यापार किया।
वर्ष 1989 में प्रदर्शित फिल्म “नकाब” राज खोसला के सिने करियर की अंतिम फिल्म साबित हुयी।
अपने दमदार निर्देशन से लगभग चार दशक तक सिने प्रेमियों का भरपूर मनोरंजन करने वाले निर्माता-निर्देशक राज खोसला 09 जून 1991 को इस दुनिया को अलविदा कह गये ।

पद्मावत

पद्मावत के लिए सलमान, ऐश्‍वर्या और अजय को रीकास्‍ट करना चाहेंगे शाहिद

मुंबई 23 अक्टूबर (वार्ता) बॉलीवुड अभिनेता शाहिद कपूर का कहना है कि फिल्म पद्मावत यदि फिर से बनायी जाती है तो वह सलमान खान ,ऐश्वर्या राय और अजय देवगन को कास्ट करना चाहेंगे।

‘के

‘के तुमि नंदिनी’ का वर्ल्ड टीवी प्रीमियर शो रविवार को

कोलकाता, 21 अक्टूबर (वार्ता) प्रेम कहानी पर आधारित ‘के तुमि नंदिनी’ फिल्म का वर्ल्ड टीवी प्रीमियर शो जलसा मूवीज पर रविवार को प्रसारण होगा।

रणवीर

रणवीर को सैफ से बेहतर अभिनेता मानते हैं शाहिद

मुंबई 23 अक्टूबर(वार्ता) बॉलीवुड अभिनेता शाहिद कपूर , रणवीर सिंह को सैफ अली खान से बेहतर अभिनेता मानते हैं।

कड़े

कड़े संघर्ष के बाद फिल्मों में पहचान बनायी अजित ने

..पुण्यतिथि 22 अक्टूबर के अवसर पर ..
मुंबई 21 अक्टूबर (वार्ता) दर्शकों में अपनी विशिष्ट अदाकारी और संवाद अदायगी के लिए मशहूर अभिनेता अजित को बालीवुड में एक अलग मुकाम हासिल करने के लिए प्रारंभिक दौर में कड़ा संघर्ष करना पड़ा था।

सैफ

सैफ ने सारा को दी अभिनय पर ध्यान देने की नसीहत

मुंबई 17 अक्टूबर (वार्ता) बॉलीवुड अभिनेता सैफ अली खान ने अपनी पुत्री सारा को स्टार बनने पर नहीं बल्कि अभिनय पर ध्यान केन्द्रित करने की नसीहत दी है।

यूनिसेफ

यूनिसेफ से जुड़े आयुष्मान खुराना

मुंबई 23 अक्टूबर (वार्ता) बॉलीवुड अभिनेता आयुष्मान खुराना संयुक्त राष्ट्र बाल कोष (यूनिसेफ) से जुड़ गये हैं।

अभिनेत्री

अभिनेत्री नहीं बनना चाहती थी परिणीति चोपड़ा

मुंबई 22 अक्टूबर (वार्ता) बॉलीवुड की जानी मानी अभिनेत्री परिणीति चोपड़ा आज 31 वर्ष की हो गयी।

अपने

अपने प्रॉडक्शन की फिल्मों में काम नही करेंगी कंगना

मुंबई 17 अक्टूबर (वार्ता) बॉलीवुड अभिनेत्री कंगना रनौत का कहना है कि वह अपने प्रॉडक्शन की फिल्मों में काम नहीं करेंगी ।

उधम

उधम सिंह बायोपिक के लिए विक्की ने 13 किलो वजन घटाया

मुंबई 23 अक्टूबर (वार्ता) बॉलीवुड अभिनेता विक्की कौशल ने फिल्म उधम सिंह बायोपिक के लिए 13 किलो वजन
घटाया है।

बहुमखी

बहुमखी प्रतिभा के रूप मे पहचान बनायी देवेन वर्मा ने

..जन्म दिवस 23 अक्तूबर के अवसर पर ..
मुंबई 22 अक्तूबर (वार्ता) हिंदी फिल्म जगत में देवेन वर्मा का नाम एक ऐसी शख्सियत के तौर पर लिया जाता है जिन्होंने न सिर्फ अभिनय की प्रतिभा बल्कि फिल्म निर्माण और निर्देशन से भी दर्शकों को अपना दीवाना बनाया है।

दिल्ली में भी होगा फिल्म उद्योग, डियोरामा अंतरराष्ट्रीय फिल्म समारोह आरंभ

दिल्ली में भी होगा फिल्म उद्योग, डियोरामा अंतरराष्ट्रीय फिल्म समारोह आरंभ

नयी दिल्ली 15 जनवरी (वार्ता) दिल्ली में भी फिल्म उद्योग स्थापित करने के मकसद से पहले डियोरामा अंतरराष्ट्रीय फिल्म समारोह एवं विपणन 2019 की कल रात यहां देश-विदेश के फिल्मी जगत के लोगों की मौजूदगी में शुरूआत हुयी।

कड़े संघर्ष के बाद फिल्मों में पहचान बनायी अजित ने

कड़े संघर्ष के बाद फिल्मों में पहचान बनायी अजित ने

..पुण्यतिथि 22 अक्टूबर के अवसर पर ..
मुंबई 21 अक्टूबर (वार्ता) दर्शकों में अपनी विशिष्ट अदाकारी और संवाद अदायगी के लिए मशहूर अभिनेता अजित को बालीवुड में एक अलग मुकाम हासिल करने के लिए प्रारंभिक दौर में कड़ा संघर्ष करना पड़ा था।

image