Saturday, Jul 11 2020 | Time 17:46 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • रूस में कोरोना के 6,611 नए मामलों की पुष्टि
  • सीपीएल 2020 के लिये त्रिनिदाद-टोबैगो को मिली मेजबानी की मंजूरी
  • बस्ती में 15 और कोरोना पॉजिटिव, संक्रमितों की संख्या 405 पहुंची
  • मैसुरु का कोविड अस्पताल संक्रमितों के इलाज के लिए तैयार
  • संतकबीरनगर में 25 और कोरोना पॉजिटिव,संक्रमितों की संख्या 366 पहुंची
  • वेनेजुएला में एक माह के लिए बढ़ा आपातकाल
  • जौनपुर में 10 पुलिसकर्मियों सहित 45 कोरोना पॉजिटिव,संख्या हुई 701
  • स्पाइस जेट की यूएएई के लिए 12 से 26 जुलाई तक विमान सेवा
  • स्पाइस जेट की यूएएई के लिए 12 से 26 जुलाई तक विमान सेवा
  • हम मैडल तो चाहते हैं लेकिन समन्वित राष्ट्रीय प्रयास नहीं करते: रिजिजू
  • हम मैडल तो चाहते हैं लेकिन समन्वित राष्ट्रीय प्रयास नहीं करते: रिजिजू
  • बीएसएफ ने बांग्लादेश सीमा पर पशु तस्करी की कोशिश नाकाम की
  • नैनीताल में तेंदुए के हमले में महिला की मौत
  • छत्तीसगढ़ उच्च न्यायालय में कोरोना काल में 3956 मामले हुए निस्तारित
  • बोलोवियाई संसद की अध्यक्ष कोरोना से हुयी संक्रमित
मनोरंजन » कला एवं रंगमंच


निर्देशक नहीं पार्श्वगायक बनना चाहते थे राज खोसला

निर्देशक नहीं पार्श्वगायक बनना चाहते थे राज खोसला

(पुण्यतिथि 09 जून के अवसर पर)
मुंबई 08 जून (वार्ता) बॉलीवुड में अपनी निर्देशित फिल्मों से दर्शकों को मंत्रमुग्ध करने वाले राज खोसला फिल्म निर्देशक नही पार्श्वगायक बनने की हसरत रखते थे।

पंजाब के लुधियाना शहर में 31 मई 1925 को जन्मे राज खोसला का बचपन से ही रूझान गीत संगीत की ओर था।
वह फिल्मी दुनिया में पार्श्वगायक बनना चाहते थे।
आकाशवाणी में बतौर उद्घोषक और पार्श्वगायक का काम करने के बाद राजखोसला 19 वर्ष की उम्र में पार्श्वगायक की तमन्ना लिये मुंबई आ गये।
मुंबई आने के बाद राज खोसला ने रंजीत स्टूडियों में अपना स्वर परीक्षण कराया और इस कसौटी पर वह खरे भी उतरे लेकिन रंजीत स्टूडियों के मालिक सरदार चंदू लाल ने उन्हें बतौर पार्श्वगायक अपनी फिल्म में काम करने का मौका नहीं दिया।
उनदिनों रंजीत स्टूडियो की स्थिति ठीक नही थी और सरदार चंदूलाल को नये पार्श्वगायक की अपेक्षा मुकेश पर ज्यादा भरोसा था अतः उन्होंने अपनी फिल्म में मुकेश को ही पार्श्वगायन करने का मौका देना उचित समझा।

इस बीच राजखोसला फिल्म इंडस्ट्री में अपनी पहचान बनाने के लिये संघर्ष करते रहे।
उन्हीं दिनों उनके पारिवारिक मित्र और अभिनेता देवानंद ने राज खोसला को अपनी फिल्म “बाजी” में गुरूदत्त के सहायक निर्देशक के तौर पर नियुक्त कर लिया ।
वर्ष 1954 में राज खोसला को स्वतंत्र निर्देशक के तौर पर फिल्म मिलाप को निर्देशित करने का मौका मिला ।
देवानंद और गीताबाली अभिनीत फिल्म मिलाप की सफलता के बाद बतौर निर्देशक राज खोसला फिल्म इंडस्ट्री में अपनी पहचान बनाने में कामयाब हो गये।

वर्ष 1956 में राजखोसला ने सी.आई.डी फिल्म निर्देशित की।
जब फिल्म ने बॉक्स ऑफिस पर अपनी सिल्वर जुबली पूरी की तब गुरुदत्त इससे काफी खुश हुये।
उन्होंने राज खोसला को एक नयी कार भेंट की और कहा “यह कार आपकी है” इसमें दिलचस्प बात यह है कि गुरूदत्त ने कार के सारे कागजात भी राज खोसला के नाम से ही बनवाये थे ।
सी.आई.डी की सफलता के बाद गुरूदत्त ने राज खोसला को अपनी एक अन्य फिल्म के निर्देशन की भी जिम्मेवारी सौंपनी चाही लेकिन राज खोसला ने उन्हें यह कह कर इंकार कर दिया कि “एक बड़े पेड़ के नीच भला दूसरा पेड़ कैसे पनप सकता है।
” इस पर गुरूदत्त ने राज खोसला से कहा “गुरूदत्त फिल्मस पर जितना मेरा अधिकार है उतना
तुम्हारा भी है।

     वर्ष 1958 में राज खोसला ने नवकेतन बैनर तले निर्मित फिल्म सोलहवां साल निर्देशित की।
देवानंद और वहीदा रहमान अभिनीत इस फिल्म को सेंसर का वयस्क प्रमाण पत्र मिलने के कारण फिल्म को देखने ज्यादा दर्शक नहीं आ सके और अच्छी पटकथा और निर्देशन के बावजूद फिल्म बॉक्स ऑफिस पर कोई खास कमाल नहीं दिखा सकी।
इसके बाद राज खोसला को नवकेतन के बैनर तले ही निर्मित फिल्म काला पानी को निर्देशित करने का मौका मिला।
यह बात कितनी दिलचस्प है कि जिस देवानंद की बदौलत राज खोसला को फिल्म इंडस्ट्री में काम करने का मौका मिला था उन्हीं की वजह से देवानंद को अपने फिल्मी करियर का बतौर अभिनेता पहला फिल्म फेयर पुरस्कार प्राप्त हुआ।

वर्ष 1960 में राज खोसला ने निर्माण के क्षेत्र में भी कदम रख दिया और “बंबई का बाबू” का निर्माण किया ।
फिल्म के जरिये राज खोसला ने अभिनेत्री सुचित्रा सेन को रूपहले पर्दे पर पेश किया।
हालांकि फिल्म दर्शकों के बीच सराही गयी लेकिन बॉक्स ऑफिस पर इसे अपेक्षित कामयाबी नही मिल पायी।
फिल्म की असपलता से राज खोसला आर्थिक तंगी में फंस गये।
इसके बाद राज खोसला को फिल्मालय की एस. मुखर्जी निर्मित एक मुसाफिर एक हसीना निर्देशित करने का मौका मिला।
फिल्म की कहानी एक ऐसे फौजी अफसर की जिंदगी पर आधारित थी जिसकी याददाश्त चली जाती है ।

फिल्म के निर्माण के समय एस. मुखर्जी ने राज खोसला को यह राय दी कि फिल्म की कहानी फ्लैशबैक से शुरू की जाये।
एस. मुखर्जी की इस बात से राज खोसला सहमत नही थे ।
बाद में वर्ष 1962 में जब फिल्म प्रदर्शित हुयी तो आरंभ में उसे दर्शकों का अपेक्षित प्यार नही मिला और राज खोसला के कहने पर एस. मुखर्जी ने फिल्म का संपादन कराया और जब फिल्म को दुबारा प्रदर्शित किया तो फिल्म पर बॉक्स ऑफिस पर सुपरहिट साबित हुयी ।

    वर्ष 1964 में राज खोसला की एक और सुपरहिट फिल्म प्रदर्शित हुयी “वह कौन थी” फिल्म के निर्माण के समय मनोज कुमार और अभिनेत्री के रूप में निम्मी का चयन किया गया था लेकिन राज खोसला ने निम्मी की जगह साधना का चयन किया।
रहस्य और रोमांच से भरपूर इस फिल्म में साधना की रहस्यमयी मुस्कान के दर्शक दीवाने हो गये।
साथ ही फिल्म की सफलता के बाद राज खोसला का निर्णय सही साबित हुआ।

वर्ष 1967 में राज खोसला ने फिल्म “अनिता” का निर्माण किया जो बॉक्स ऑफिस पर बुरी तरह नकार दी गयी जिससे उन्हें गहरा सदमा पहुंचा और उन्हें आर्थिक क्षति हुयी।
इससे राज खोसला टूट से गये, बाद में अपनी मां के कहने पर उन्होंने वर्ष 1969 में फिल्म “चिराग” का निर्माण किया जो सुपरहिट रही ।

वर्ष 1971 में राज खोसला की एक और सुपरहिट फिल्म प्रदर्शित हुयी “मेरा गांव मेरा देश” इस फिल्म में विनोद खन्ना खलनायक की भूमिका में थे।
फिल्म की कहानी उन दिनों एक अखबार में छपी कहानी पर आधारित थी।
वर्ष 1978 में राजखोसला ने लीक से हटकर फिल्में बनाने का काम करना शुरू कर दिया और नूतन और विजय आनंद को लेकर “मैं तुलसी तेरे आंगन की” का निर्माण किया।
पारिवारिक पृष्ठभूमि पर बनी फिल्म दर्शकों के बीच काफी सराही गयी।
वर्ष 1980 में प्रदर्शित फिल्म “दोस्ताना” राज खोसला के सिने करियर की अंतिम सुपरहिट फिल्म थी।
फिल्म में अमिताभ बच्चन, शत्रुघ्न सिन्हा और जीनत अमान ने मुख्य भूमिका निभायी थी।

अस्सी के दशक में राजखोसला की फिल्में व्यावसायिक तौर पर सफल नहीं रही।
इन फिल्मों में दासी, तेरी मांग सितारों से भर दूं, मेरा दोस्त मेरा दुश्मन और माटी मांगे खून शामिल है।
हालांकि वर्ष 1984 में प्रदर्शित फिल्म “सन्नी” ने बॉक्स ऑफिस पर औसत व्यापार किया।
वर्ष 1989 में प्रदर्शित फिल्म “नकाब” राज खोसला के सिने करियर की अंतिम फिल्म साबित हुयी।
अपने दमदार निर्देशन से लगभग चार दशक तक सिने प्रेमियों का भरपूर मनोरंजन करने वाले निर्माता-निर्देशक राज खोसला 09 जून 1991 को इस दुनिया को अलविदा कह गये ।

2021

2021 का इंतजार कर रही हैं करीना

मुंबई 11 जुलाई (वार्ता) बॉलीवुड अभिनेत्री करीना कपूर वर्ष 2020 से परेशान हो गयी है और वर्ष 2021 का इंतजार कर रही है।

धाकड़

धाकड़ बनने की तैयारी कर रही है कंगना रनौत

मुंबई 11 जुलाई (वार्ता) बॉलीवुड अभिनेत्री कंगना रनौत अपनी आने वाली फिल्म धाकड़ की तैयारी में लग गयी हैं।

एक

एक हजार के लिये जगदीप ने सूरमा भोपाली का रोल छोड़ने का किया था इरादा

मुंबई 11 जुलाई (वार्ता) बॉलीवुड के दिग्गज हास्य अभिनेता जगदीप ने फिल्म शोले में अपने निभाये किरदार सूरमा भोपाली के जरिये दर्शकों के दिलों पर अमिट पहचान बनायी है लेकिन एक हजार रुपये के लिये उन्होंने इस किरदार को छोड़ने का मन बना लिया था।

बॉलीवुड

बॉलीवुड के जुबली कुमार थे राजेन्द्र कुमार

...पुण्यतिथि 12 जुलाई  ...
मुम्बई 11 जुलाई (वार्ता) बॉलीवुड में जुबली कुमार के नाम से मशहूर राजेन्द्र कुमार ने कई सुपरहिट फिल्मों में अपने दमदार अभिनय से दर्शकों को मंत्रमुग्ध किया लेकिन उन्हें अपने करियर के शुरुआती दौर में कड़ा संघर्ष करना पड़ा था।

खलनायकी

खलनायकी को नये अंदाज में पेश किया प्राण ने

..पुण्यतिथि 12 जुलाई  ..
मुंबई 11 जुलाई (वार्ता) बॉलीवुड में प्राण ऐसे अभिनेता थे, जिन्होंने पचास और सत्तर के दशक के बीच फिल्म इंडस्ट्री पर खलनायकी के क्षेत्र में एकछत्र राज किया और अपने अभिनय का लोहा मनवाया।

रणवीर-कैटरीना

रणवीर-कैटरीना को लेकर फिल्म बनायेंगी जोया अख्तर

मुंबई 10 जुलाई (वार्ता) बॉलीवुड अभिनेता रणवीर सिंह और कैटरीना कैफ की जोड़ी सिल्वर स्क्रीन पर साथ नजर आ सकती है।

जावेद

जावेद अख्तर ने जगदीप को बताया ग्रेट टैलेंट

मुंबई 10 जुलाई (वार्ता) बॉलीवुड के मशहूर गीतकार-शायर जावेद अख्तर ने जगदीप के निधन पर शोक संवेदना व्यक्त करते हुये उन्हें ग्रेट टैलेंट बताया है।

सूरमा

सूरमा भोपाली से गब्बर सिंह के फिल्मी किरदार बने सितारों की पहचान

मुम्बई 10 जुलाई (वार्ता) बॉलीवुड फिल्म इंडस्ट्री में न जाने कितने कलाकारों के निभाये किरदार लोकप्रिय हुए है लेकिन कुछ तो अभिनेता-अभिनेत्रियों की पहचान ही बन गये है और आज भी दर्शक उन्हें उनके किरदार के नाम से ही जानते है।

ऋतिक

ऋतिक ने कृष 4 के लिये शाहरुख से मिलाया हाथ

मुंबई 10 जुलाई (वार्ता) बॉलीवुड के माचो मैन ऋतिक रोशन ने अपनी आने वाली फिल्म ‘कृष 4’ के लिये शाहरुख खान से हाथ मिलाया है।

पहली

पहली फिल्म के लिये जगदीप को मिले थे छह रुपये

मुंबई 09 जुलाई (वार्ता) बॉलीवुड में अपने कॉमिक अभिनय से पांच दशक से अधिक समय तक दर्शकों को मंत्रमुग्ध करने वाले जगदीप को अपनी पहली फिल्म के लिये छह रुपये मिले थे।

जगदीप के निधन से एक और नगीना खो दिया : अमिताभ

जगदीप के निधन से एक और नगीना खो दिया : अमिताभ

मुंबई, 09 जुलाई (वार्ता) बॉलीवुड के महानायक अमिताभ बच्चन ने हास्य अभिनेता जगदीप के निधन पर गहरा शोक व्यक्त करते हुये कहा कि उनके निधन से हिन्दी फिल्म इंडस्ट्री एक और नगीना खो दिया है।

खलनायकी को नये अंदाज में पेश किया प्राण ने

खलनायकी को नये अंदाज में पेश किया प्राण ने

..पुण्यतिथि 12 जुलाई  ..
मुंबई 11 जुलाई (वार्ता) बॉलीवुड में प्राण ऐसे अभिनेता थे, जिन्होंने पचास और सत्तर के दशक के बीच फिल्म इंडस्ट्री पर खलनायकी के क्षेत्र में एकछत्र राज किया और अपने अभिनय का लोहा मनवाया।

बिंदास अभिनय से पहचान बनायी करिश्मा कपूर ने

बिंदास अभिनय से पहचान बनायी करिश्मा कपूर ने

.जन्मदिन 25 जून .
मुंबई, 25 जून (वार्ता) बॉलीवुड में करिश्मा कपूर को एक ऐसी अभिनेत्री के तौर पर शुमार किया जाता है जिन्होंने अभिनेत्रियों को फिल्मों में परंपरागत रूप से पेश किये जाने के तरीके को बदलकर अपने बिंदास अभिनय से दर्शको के बीच अपनी खास पहचान बनायी।

image