Friday, Jul 3 2020 | Time 15:25 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • गलवान के पराक्रम से सेना ने देश की ताकत का संदेश दिया: मोदी
  • एनबीए के नौ खिलाड़ी कोरोना से संक्रमित
  • ओडिशा में काेरोना मामले 8000 के पार, 37 की मौत
  • फोटो कैप्शन पहला सेट
  • खाद्य तेलों, अनाजों में टिकाव, गुड़ महँगा, दालों में मिश्रित रुख
  • 'फोर डी' था कांग्रेस सरकार के पतन का कारण - शिवराज
  • स्टोक्स ने अभ्यास मैच में खेली कप्तानी पारी
  • स्टोक्स ने अभ्यास मैच में खेली कप्तानी पारी
  • एक ही परिवार के चार सदस्यों की हत्या
  • तमिलनाडु में हमले में दो की मौत, दो घायल
  • कारखाना मजदूर यूनियन ने लुधियाना में किया प्रदर्शन
  • विंडीज टीम से जुड़े तेज गेंदबाज शैनन गेब्रियल
  • विंडीज टीम से जुड़े तेज गेंदबाज शैनन गेब्रियल
  • मेघालय में कोरोना मरीजों की रिकवरी दर 72 88 फीसदी
  • कोरोना के साथ मोटापा हो सकता है घातक : डब्ल्यूएचओ
मनोरंजन » कला एवं रंगमंच


फकीर की प्रेरणा से आवाज की दुनिया के बेताज बादशाह बने रफी

फकीर की प्रेरणा से आवाज की दुनिया के बेताज बादशाह बने रफी

(पुण्यतिथि 31 जुलाई )
मुंबई 30 जुलाई (वार्ता) आवाज की दुनिया के बेताज बादशाह मोहम्मद रफी को पार्श्वगायन करने की प्रेरणा एक फकीर से मिली थी।

पंजाब के कोटला सुल्तान सिंह गांव मे 24 दिसंबर 1924 को एक मध्यम वर्गीय मुस्लिम परिवार मे जन्मे रफी एक फकीर के गीतों को सुना करते थे जिससे उनके दिल में संगीत के प्रति एक अटूट लगाव पैदा हो गया।
उनके बड़े भाई हमीद ने रफी के मन में संगीत के प्रति बढ़ते रूझान को पहचान लिया था और उन्हें इस राह पर आगे बढ़ने में प्रेरित किया।
लाहौर में रफी संगीत की शिक्षा उस्ताद अब्दुल वाहिद खान से लेने लगे और साथ ही उन्होंने गुलाम अलीखान से भारतीय शास्त्रीय संगीत भी सीखना शुरू कर दिया।
एक बार हमीद रफी को लेकर के. एल. सहगल संगीत के कार्यक्रम में
गये लेकिन बिजली नहीं रहने के कारण के. एल. सहगल ने गाने से इंकार कर दिया ।

हमीद ने कार्यक्रम के संचालक से गुजारिश की वह उनके भाई रफी को गाने का मौका दें।
संचालक के राजी होने पर रफी ने पहली बार 13 वर्ष की उम्र में अपना पहला गीत स्टेज पर दर्शकों के बीच पेश किया।
दर्शकों के बीच बैठे संगीतकार श्याम सुंदर को उनका गाना अच्छा लगा और उन्होंने रफी को मुंबई आने के लिये न्यौता दिया।
श्याम सुंदर के संगीत निर्देशन मे रफी ने अपना पहला गाना “सोनिये नी हिरीये नी” पार्श्वगायिका जीनत बेगम के साथ एक पंजाबी फिल्म “गुल बलोच” के लिये गाया।
वर्ष 1944 मे नौशाद के संगीत निर्देशन में उन्हें अपना पहला हिन्दी गाना हिन्दुस्तान के हम है “पहले आप” के लिये गाया ।

वर्ष 1949 मे नौशाद के संगीत निर्देशन मे दुलारी फिल्म मे गाये गीत “सुहानी रात ढ़ल चुकी” के जरिये वह सफलता की ऊंचाईयों पर पहुंच गये और इसके बाद उन्होंने पीछे मुड़कर नहीं देखा।
दिलीप कुमार, देवानंद, शम्मी कपूर, राजेन्द्र कुमार, शशि कपूर, राजकुमार जैसे नामचीन नायकों की आवाज कहे जाने वाले रफी ने अपने संपूर्ण सिने करियर में लगभग 700 फिल्मों के लिये 26000 से भी ज्यादा गीत गाये ।

मोहम्मद रफी फिल्म इंडस्ट्री में मृदु भाषी एवं स्वाभाव के कारण जाने जाते थे लेकिन एक बार उनकी कोकिल कंठ लता मंगेश्कर के साथ अनबन हो गयी थी।
मोहम्मद रफी ने लता मंगेशकर के साथ सैकड़ों गीत गाये थे लेकिन एक वक्त ऐसा भी आया था जब रफी ने लता से बातचीत तक करनी बंद कर दी थी।
लता मंगेशकर गानों पर रॉयल्टी की पक्षधर थीं जबकि रफी ने कभी भी रॉयल्टी की मांग नहीं की।

रफी साहब मानते थे कि एक बार जब निर्माताओं ने गाने के पैसे दे दिए तो फिर रॉयल्टी किस बात की मांगी जाए।
दोनों के बीच विवाद इतना बढ़ा कि मोहम्मद रफी और लता मंगेशकर के बीच बातचीत भी बंद हो गई और दोनों ने एक साथ गीत गाने से इंकार कर दिया हालांकि चार वर्ष के बाद अभिनेत्री नरगिस के प्रयास से दोनों ने एक साथ एक कार्यक्रम में ‘दिल पुकारे’ गीत गाया।
मोहम्मद रफी ने हिन्दी फिल्मों के अलावा मराठी और तेलगू फिल्मों के लिये भी गाने गाये।
मोहम्मद रफी अपने करियर में छह बार फिल्म फेयर अवार्ड से सम्मानित किये गये।
वर्ष 1965 मे रफी पद्मश्री पुरस्कार से भी सम्मानित किये गये।

मोहम्मद रफी, बॉलीवुड के महानायक अमिताभ बच्चन के बहुत बड़े प्रशंसक थे।
वह फिल्म देखने के शौकीन नहीं थे लेकिन कभी-कभी वह फिल्म देख लिया करते थे।
एक बार रफी ने अमिताभ बच्चन की फिल्म दीवार देखी थी।
दीवार देखने के बाद वह अमिताभ के बहुत बड़े प्रशंसक बन गये।
वर्ष 1980 में प्रदर्शित फिल्म नसीब में रफी को अमिताभ के साथ युगल गीत “चल चल मेरे भाई” गाने का अवसर मिला।
अमिताभ के साथ इस गीत को गाने के बाद रफी बेहद खुश हुये थे।
जब रफी साहब अपने घर पहुंचे तो उन्होंने अपने परिवार के लोगों को अपने पसंदीदा अभिनेता अमिताभ के साथ गाने की बात को खुश होते हुये बताया था।
अमिताभ के अलावा रफी को शम्मी कपूर और धर्मेन्द्र की फिल्में भी बेहद पसंद आती थी।
मोहम्मद रफी को अमिताभ-धर्मेन्द्र की फिल्म शोले बेहद पंसद थी और उन्होंने इसे तीन बार देखा था।

30 जुलाई 1980 को “आस पास” फिल्म के गाने “शाम क्यू उदास है दोस्त” गाने के पूरा करने के बाद जब रफी ने लक्ष्मीकांत प्यारेलाल से कहा “शूड आई लीव” जिसे सुनकर लक्ष्मीकांत प्यारे लाल अचंभित हो गये क्योंकि इसके पहले रफी ने उनसे कभी इस तरह की बात नहीं की थी।
अगले दिन 31 जुलाई 1980 को रफी को दिल का दौरा पड़ा और वह इस दुनिया को ही छोड़कर चले गये।

 

बॉलीवुड

बॉलीवुड की मशहूर कोरियोग्राफर सरोज खान का निधन

मुंबई,03 जुलाई (वार्ता) बाॅलीवुड की मशहूर कोरियोग्राफर सरोज खान का शुक्रवार तड़के हृदयाघात से बांद्रा के गुरु नानक अस्पताल में निधन हो गया।

सरोज

सरोज खान ने फिल्मफेयर अवार्ड में कोरियोग्राफरों को दिलायी पहचान

मुंबई 03 जुलाई (वार्ता) बॉलीवुड में डांस की मल्लिका के नाम से मशहूर सरोज खान पहली कोरियोग्राफर थी जिन्हें फिल्म फेयर अवार्ड से सम्मानित किया गया।

नेपोटिज्म

नेपोटिज्म के शिकार हुये थे सैफ अली खान

मुंबई 02 जुलाई (वार्ता) बॉलीवुड अभिनेता सैफ अली खान का कहना है कि वह भी नेपोटिज्म (भाई-भतीजावाद) के शिकार हो चुके हैं।

‘साइकल

‘साइकल गर्ल’ ज्योति के पिता का किरदार निभायेंगे संजय मिश्रा

मुंबई 02 जुलाई (वार्ता) बिहार की बेटी ‘साइकल गर्ल’ ज्योति पर बनने वाली फिल्म में संजय मिश्रा , ज्योति के पिता का किरदार निभाते नजर आयेंगे।

बाल

बाल कलाकार से कोरियोग्राफर बनीं सरोज खान

मुंबई 03 जुलाई (वार्ता) बाल कलाकार के तौर पर अपने करियर की शुरूआत कर बॉलीवुड में सभी स्टार्स को अपनी ताल पर नचाने वाली सरोज खान ने कोरियोग्राफर के रूप में अपनी सशक्त पहचान बनायी।

सरोज

सरोज खान के निधन पर बॉलीवुड सितारों ने जताया शोक

मुंबई 03 जुलाई (वार्ता) बॉलीवुड की दिग्गज कोरियोग्राफर सरोज खान के निधन पर बॉलीवुड के सितारों ने शोक व्यक्त किया है।

बेलबॉटम

'बेलबॉटम' में अक्षय के साथ काम करेंगी वाणी कपूर

मुंबई 02 जुलाई (वार्ता) बॉलीवुड अभिनेत्री वाणी कपूर फिल्म 'बेलबॉटम' में अक्षय कुमार के साथ काम करती नजर आयेंगी।

आलोचनाएं

आलोचनाएं मुझे विचलित नहीं करतीं: पूजा भट्ट

मुंबई 02 जुलाई (वार्ता) बॉलीवुड अभिनेत्री-फिल्मकार पूजा भट्ट का कहना है कि आलोचनायें उन्हें विचलित नहीं करती है।

अक्षय

अक्षय भी हुये थे नेपोटिज्म के शिकार

मुंबई 03 जुलाई (वार्ता) बॉलीवुड के खिलाड़ी कुमार अक्षय कुमार को करियर के शुरुआती दौर में नेपोटिज्म (भाई-भतीजावाद) का शिकार होना पड़ा था।

अमिताभ

अमिताभ को पसंद आया ब्रीद का ट्रेलर

मुंबई, 02 जुलाई (वार्ता) बॉलीवुड के महानायक अमिताभ बच्चन को अपने पुत्र अभिषेक बच्चन की आने वाली वेब सीरीज ‘ब्रीद 2 इंटू द शैडोज़’ का ट्रेलर बेहद पसंद आया है।

संवाद अदायगी के बादशाह थे राजकुमार

संवाद अदायगी के बादशाह थे राजकुमार

.. पुण्यतिथि 03 जुलाई  ..
मुंबई 02 जुलाई (वार्ता) हिन्दी सिनेमा जगत में यूं तो अपने दमदार अभिनय से कई सितारों ने दर्शकों के दिलों पर राज किया लेकिन एक ऐसा भी सितारा हुआ जिसने न सिर्फ दर्शकों के दिल पर राज किया बल्कि फिल्म इंडस्ट्री ने भी उन्हें ..राजकुमार.. माना. वह थे ..संवाद अदायगी के बेताज बादशाह कुलभूषण पंडित उर्फ राजकुमार .. ।

बिंदास अभिनय से पहचान बनायी करिश्मा कपूर ने

बिंदास अभिनय से पहचान बनायी करिश्मा कपूर ने

.जन्मदिन 25 जून .
मुंबई, 25 जून (वार्ता) बॉलीवुड में करिश्मा कपूर को एक ऐसी अभिनेत्री के तौर पर शुमार किया जाता है जिन्होंने अभिनेत्रियों को फिल्मों में परंपरागत रूप से पेश किये जाने के तरीके को बदलकर अपने बिंदास अभिनय से दर्शको के बीच अपनी खास पहचान बनायी।

image