Wednesday, Oct 23 2019 | Time 20:41 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • बिहार में शैक्षिक प्रगति को गुणवत्तापूर्ण बनाने में विवि दे सकते हैं योगदान : चौहान
  • पांच विधानसभा क्षेत्रों में पांच केंद्रों पर पुर्नमतदान हुआ
  • कार्यवाही की सूचना अवैध शराब कारोबारियों को देने पर दो पुलिसकर्मी लाइन हाजिर
  • रेसर गौरव गिल को मिली जमानत
  • उत्तरमध्यरेलवे के झांसी मंडल में सर्वप्रथम ई-ऑफिस का शुभारंभ
  • जेल में बीमार युवक की मौत, परिजनों ने बठिंडा-मानसा हाइवे किया जाम
  • दानवे गौ हत्या विवादित बयान पर माफी मांगे : विहिप
  • ब्रेक्जिट पर ब्रिटेन को और समय देना चाहिए: ससोली
  • सीबीआरई ने रजत जयंती पर विशेष डाक टिकट किया जारी
  • भाजपा नेता को गोली मारने वाला गिरफ्तार
  • उप्र में दीपावाली के दिन शाम आठ से 10 बजे तक ही पटाखे जलाने की अनुमति
  • नौसेना ने किया 16 मछुआरों को गिरफ्तार
  • बीएसएनएल को पैकेज से निजी कंपनियों के शेयर धड़ाम
  • अभिषेक नायर ने क्रिकेट से लिया संन्यास
  • तोमर ने किया पंचायतों से नये भारत के निर्माण में सहयोग का आह्वान
मनोरंजन » कला एवं रंगमंच


भावपूर्ण गीतों से श्रोताओं को दीवाना बनाया गुलशन बावरा ने

भावपूर्ण गीतों से श्रोताओं को दीवाना बनाया गुलशन बावरा ने

..पुण्यतिथि 07 अगस्त  ..
मुंबई 06 अगस्त (वार्ता) बॉलीवुड में गुलशन बावरा को एक ऐसे गीतकार के तौर पर याद किया जाता है जिन्होंने अपने भावपूर्ण गीतों से लगभग तीन दशकों तक श्रोताओं को अपना दीवाना बनाया।

हिन्दी भाषा और साहित्य के करिश्मायी व्यक्तित्व गुलशन कुमार मेहता उर्फ गुलशन बावरा का जन्म 12 अप्रैल 1937 को लाहौर शहर के निकट शेखपुरा में हुआ था।
महज छह वर्ष की उम्र से ही गुलशन बावरा का रूझान कविता लिखने की ओर था।
उनकी मां विधावती धार्मिक क्रियाकलापों के साथ-साथ संगीत में भी काफी रूचि रखती थी।
गुलशन बावरा अक्सर मां के साथ भजन.कीर्तन जैसे धार्मिक कार्यक्रमों में जाया करते थे।

देश के विभाजन के बाद हुये सांप्रदायिक दंगो में उनके माता-पिता की हत्या उनकी नजरो के सामने कर दी गयी इसके बाद वह अपनी बड़ी बहन के पास दिल्ली आ गये।
गुलशन बावरा ने अपनी स्नातक की पढ़ाई दिल्ली
विश्वविद्यालय से पूरी की।
पारिवारिक परंपरा को निभाते हुये गुलशन मेहता ने वर्ष 1955 में अपने करियर की शुरूआत मुंबई में एक लिपिक के तौर पर की।
उनका मानना था कि सरकारी नौकरी करने से उनका भविष्य सुरक्षित रहेगा।
लिपिक की नौकरी उनके स्वभाव के अनुकूल नहीं थी।
इसलिए उन्होंने रेलवे में लिपिक की नौकरी छोड़ दी और अपना ध्यान फिल्म इंडस्ट्री की ओर लगाना शुरू कर दिया।
फिल्म इंडस्ट्री में उन्हें कई कठिनाइयों का सामना करना पड़ा।
उन्होंने अपना संघर्ष जारी रखा और कई छोटे बजट की फिल्में भी की जिनसे उन्हें कुछ खास फायदा नहीं हुआ।
इस बीच गुलशन की मुलाकात संगीतकार जोड़ी कल्याण जी- आनंद जी से हुयी और इनके लिए गुलशन मेहता ने फिल्म सट्टा-बाजार के लिये ..तुम्हे याद होगा कभी हम मिले थे .. गीत लिखा लेकिन इस फिल्म के जरिये वह कुछ खास पहचान नहीं बना पाये।

फिल्म ..सट्टा बाजार.. में उनके गीत को सुनकर फिल्म के वितरक शांतिभाई दबे काफी खुश हुये।
उन्हें विश्वास नहीं हुआ कि इतनी छोटी सी उम्र में कोई व्यक्ति इस गीत को इतनी गहराई के साथ लिख सकता है।
शांति भाई ने गुलशन मेहता को ..बावरा .. कहकर संबोधित किया।
इसके बाद से गुलशन मेहता ..गुलशन बावरा .. के रूप में फिल्म इंडस्ट्री में प्रसिद्ध हो गये।
लगभग आठ वर्ष तक मायानगरी मुंबई में गुलशन बावरा ने अथक परिश्रम किया।
आखिरकार उनकी मेहनत रंग लाई और उन्हें कल्याण जी-आनंद जी के संगीत निर्देशन में निर्माता-निर्देशक मनोज कुमार की फिल्म ..उपकार .. में गीत लिखने का मौका मिला।
मनोज कुमार ने गुलशन बावरा के साथ फिल्म इंडस्ट्री में संघर्ष किया था और दोनों में काफी घनिष्ठता थी।

मनोज कुमार ने गुलशन बावरा से गीत की कोई पंक्ति सुनाने के लिए कहा।
तब गुलशन बावरा ने ..मेरे देश की धरती सोना उगले ..गाकर सुनाया।
गीत के बोल सुनने के बाद मनोज कुमार बहुत खुश हुये और उन्होंने गुलशन बावरा से फिल्म ..उपकार .. में गीत लिखने की पेशकश की।
फिल्म उपकार में अपने गीत ..मेरे देश की धरती सोना उगले .. की सफलता के बाद गुलशन बावरा ने कभी पीछे मुड़कर नही देखा।
गुलशन बावरा को इसके बाद कई अच्छी फिल्मों के प्रस्ताव मिलने शुरू हो गये।
वर्ष 1969 में प्रदर्शित फिल्म ..विश्वास .. में कल्याण जी आनंद जी के ही संगीत निर्देशन में गुलशन बावरा ने .. चांदी की दीवार ना तोड़ी जैसे भावपूर्ण गीत की रचना कर अपना अलग ही समां बांधा।

इसके बाद गुलशन बावरा ने सफलता की नयी बुलंदियों को छुआ और एक से बढ़कर एक गीत लिखे।
बहुमुखी प्रतिभा के धनी गुलशन बावरा ने कई फिल्मों में अभिनय भी किया है।
इन फिल्मों मे उपकार विश्वास .पवित्र पापी. बेइमान.जंजीर. अगर तुम ना होते.बीवी हो तो ऐसी. इंद्रजीत आदि प्रमुख है।
इसके अलावा गुलशन बावरा ने पुकार. सत्ते पे सत्ता मे पार्श्वगायन किया।
गुलशन बावरा को दो बार फिल्म फेयर के सर्वश्रेष्ठ गीतकार से नवाजा गया।
इनमें वर्ष 1967 में प्रदर्शित फिल्म ..उपकार ..का गीत ..मेरे देश की धरती सोना उगले ..वर्ष 1973 मे प्रदर्शित फिल्म जंजीर का गीत ..यारी है ईमान मेरा यार मेरी जिंदगी ..शामिल है।
अपने गीतो से श्रोताओं को मंत्रमुग्ध करने वाले गुलशन बावरा 07 अगस्त 2009 को इस दुनिया को अलविदा कह गये।

 

पद्मावत

पद्मावत के लिए सलमान, ऐश्‍वर्या और अजय को रीकास्‍ट करना चाहेंगे शाहिद

मुंबई 23 अक्टूबर (वार्ता) बॉलीवुड अभिनेता शाहिद कपूर का कहना है कि फिल्म पद्मावत यदि फिर से बनायी जाती है तो वह सलमान खान ,ऐश्वर्या राय और अजय देवगन को कास्ट करना चाहेंगे।

‘के

‘के तुमि नंदिनी’ का वर्ल्ड टीवी प्रीमियर शो रविवार को

कोलकाता, 21 अक्टूबर (वार्ता) प्रेम कहानी पर आधारित ‘के तुमि नंदिनी’ फिल्म का वर्ल्ड टीवी प्रीमियर शो जलसा मूवीज पर रविवार को प्रसारण होगा।

रणवीर

रणवीर को सैफ से बेहतर अभिनेता मानते हैं शाहिद

मुंबई 23 अक्टूबर(वार्ता) बॉलीवुड अभिनेता शाहिद कपूर , रणवीर सिंह को सैफ अली खान से बेहतर अभिनेता मानते हैं।

कड़े

कड़े संघर्ष के बाद फिल्मों में पहचान बनायी अजित ने

..पुण्यतिथि 22 अक्टूबर के अवसर पर ..
मुंबई 21 अक्टूबर (वार्ता) दर्शकों में अपनी विशिष्ट अदाकारी और संवाद अदायगी के लिए मशहूर अभिनेता अजित को बालीवुड में एक अलग मुकाम हासिल करने के लिए प्रारंभिक दौर में कड़ा संघर्ष करना पड़ा था।

सैफ

सैफ ने सारा को दी अभिनय पर ध्यान देने की नसीहत

मुंबई 17 अक्टूबर (वार्ता) बॉलीवुड अभिनेता सैफ अली खान ने अपनी पुत्री सारा को स्टार बनने पर नहीं बल्कि अभिनय पर ध्यान केन्द्रित करने की नसीहत दी है।

यूनिसेफ

यूनिसेफ से जुड़े आयुष्मान खुराना

मुंबई 23 अक्टूबर (वार्ता) बॉलीवुड अभिनेता आयुष्मान खुराना संयुक्त राष्ट्र बाल कोष (यूनिसेफ) से जुड़ गये हैं।

अभिनेत्री

अभिनेत्री नहीं बनना चाहती थी परिणीति चोपड़ा

मुंबई 22 अक्टूबर (वार्ता) बॉलीवुड की जानी मानी अभिनेत्री परिणीति चोपड़ा आज 31 वर्ष की हो गयी।

अपने

अपने प्रॉडक्शन की फिल्मों में काम नही करेंगी कंगना

मुंबई 17 अक्टूबर (वार्ता) बॉलीवुड अभिनेत्री कंगना रनौत का कहना है कि वह अपने प्रॉडक्शन की फिल्मों में काम नहीं करेंगी ।

उधम

उधम सिंह बायोपिक के लिए विक्की ने 13 किलो वजन घटाया

मुंबई 23 अक्टूबर (वार्ता) बॉलीवुड अभिनेता विक्की कौशल ने फिल्म उधम सिंह बायोपिक के लिए 13 किलो वजन
घटाया है।

बहुमखी

बहुमखी प्रतिभा के रूप मे पहचान बनायी देवेन वर्मा ने

..जन्म दिवस 23 अक्तूबर के अवसर पर ..
मुंबई 22 अक्तूबर (वार्ता) हिंदी फिल्म जगत में देवेन वर्मा का नाम एक ऐसी शख्सियत के तौर पर लिया जाता है जिन्होंने न सिर्फ अभिनय की प्रतिभा बल्कि फिल्म निर्माण और निर्देशन से भी दर्शकों को अपना दीवाना बनाया है।

दिल्ली में भी होगा फिल्म उद्योग, डियोरामा अंतरराष्ट्रीय फिल्म समारोह आरंभ

दिल्ली में भी होगा फिल्म उद्योग, डियोरामा अंतरराष्ट्रीय फिल्म समारोह आरंभ

नयी दिल्ली 15 जनवरी (वार्ता) दिल्ली में भी फिल्म उद्योग स्थापित करने के मकसद से पहले डियोरामा अंतरराष्ट्रीय फिल्म समारोह एवं विपणन 2019 की कल रात यहां देश-विदेश के फिल्मी जगत के लोगों की मौजूदगी में शुरूआत हुयी।

कड़े संघर्ष के बाद फिल्मों में पहचान बनायी अजित ने

कड़े संघर्ष के बाद फिल्मों में पहचान बनायी अजित ने

..पुण्यतिथि 22 अक्टूबर के अवसर पर ..
मुंबई 21 अक्टूबर (वार्ता) दर्शकों में अपनी विशिष्ट अदाकारी और संवाद अदायगी के लिए मशहूर अभिनेता अजित को बालीवुड में एक अलग मुकाम हासिल करने के लिए प्रारंभिक दौर में कड़ा संघर्ष करना पड़ा था।

image