Tuesday, Jul 14 2020 | Time 17:49 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • अमज़ेन ने लॉन्च किया कौशल विकास कार्यक्रम
  • कोरोना से बचाव के लिए शारीरिक दूरी व मास्क की अनिवार्यता का कड़ाई हो पालन:हाईकोर्ट
  • सीजीएफएस के राशनकार्डों पर नवम्बर तक पांच किलो मुफ्त खाद्यान्न
  • बेतला नेशनल पार्क के निकट मरी मिली हथिनी
  • बोकारो में दामोदर नदी में डूबने से युवक की मौत
  • कोयला ब्लॉक नीलामी मामले में हेमंत ने सर्वोच्च न्यायालय का आभार जताया
  • ऋण हेतु स्टाम्प ड्यूटी कम करने से किसानों को काफी राहत मिलेगी: धानक
  • बाबूलाल ने पार्टी नेताओं को सुरक्षा देने में लापरवाही पर केंद्रीय गृहमंत्री को लिखा पत्र
  • उच्च न्यायालय की अधीनस्थ अदालतों के अंतरिम आदेश 31 जुलाई तक बढ़े
  • छत्तीसगढ़ मंत्रि परिषद ने गोधन न्याय योजना को दी मंजूरी
  • हिमाचल प्रदेश में गत 24 घंटों में कोरोना के 78 नये मामले
  • शामली में आठ और कोरोना पॉजिटिव,संक्रमितों की संख्या 193
  • गांगुली को मामूली अंतर से पछाड़ धोनी बने भारत के सर्वश्रेष्ठ कप्तान
  • राज्यपाल मिश्र से गहलोत ने की मुलाकात
मनोरंजन » कला एवं रंगमंच


भावपूर्ण गीतों से श्रोताओं को दीवाना बनाया गुलशन बावरा ने

भावपूर्ण गीतों से श्रोताओं को दीवाना बनाया गुलशन बावरा ने

..पुण्यतिथि 07 अगस्त  ..
मुंबई 06 अगस्त (वार्ता) बॉलीवुड में गुलशन बावरा को एक ऐसे गीतकार के तौर पर याद किया जाता है जिन्होंने अपने भावपूर्ण गीतों से लगभग तीन दशकों तक श्रोताओं को अपना दीवाना बनाया।

हिन्दी भाषा और साहित्य के करिश्मायी व्यक्तित्व गुलशन कुमार मेहता उर्फ गुलशन बावरा का जन्म 12 अप्रैल 1937 को लाहौर शहर के निकट शेखपुरा में हुआ था।
महज छह वर्ष की उम्र से ही गुलशन बावरा का रूझान कविता लिखने की ओर था।
उनकी मां विधावती धार्मिक क्रियाकलापों के साथ-साथ संगीत में भी काफी रूचि रखती थी।
गुलशन बावरा अक्सर मां के साथ भजन.कीर्तन जैसे धार्मिक कार्यक्रमों में जाया करते थे।

देश के विभाजन के बाद हुये सांप्रदायिक दंगो में उनके माता-पिता की हत्या उनकी नजरो के सामने कर दी गयी इसके बाद वह अपनी बड़ी बहन के पास दिल्ली आ गये।
गुलशन बावरा ने अपनी स्नातक की पढ़ाई दिल्ली
विश्वविद्यालय से पूरी की।
पारिवारिक परंपरा को निभाते हुये गुलशन मेहता ने वर्ष 1955 में अपने करियर की शुरूआत मुंबई में एक लिपिक के तौर पर की।
उनका मानना था कि सरकारी नौकरी करने से उनका भविष्य सुरक्षित रहेगा।
लिपिक की नौकरी उनके स्वभाव के अनुकूल नहीं थी।
इसलिए उन्होंने रेलवे में लिपिक की नौकरी छोड़ दी और अपना ध्यान फिल्म इंडस्ट्री की ओर लगाना शुरू कर दिया।
फिल्म इंडस्ट्री में उन्हें कई कठिनाइयों का सामना करना पड़ा।
उन्होंने अपना संघर्ष जारी रखा और कई छोटे बजट की फिल्में भी की जिनसे उन्हें कुछ खास फायदा नहीं हुआ।
इस बीच गुलशन की मुलाकात संगीतकार जोड़ी कल्याण जी- आनंद जी से हुयी और इनके लिए गुलशन मेहता ने फिल्म सट्टा-बाजार के लिये ..तुम्हे याद होगा कभी हम मिले थे .. गीत लिखा लेकिन इस फिल्म के जरिये वह कुछ खास पहचान नहीं बना पाये।

फिल्म ..सट्टा बाजार.. में उनके गीत को सुनकर फिल्म के वितरक शांतिभाई दबे काफी खुश हुये।
उन्हें विश्वास नहीं हुआ कि इतनी छोटी सी उम्र में कोई व्यक्ति इस गीत को इतनी गहराई के साथ लिख सकता है।
शांति भाई ने गुलशन मेहता को ..बावरा .. कहकर संबोधित किया।
इसके बाद से गुलशन मेहता ..गुलशन बावरा .. के रूप में फिल्म इंडस्ट्री में प्रसिद्ध हो गये।
लगभग आठ वर्ष तक मायानगरी मुंबई में गुलशन बावरा ने अथक परिश्रम किया।
आखिरकार उनकी मेहनत रंग लाई और उन्हें कल्याण जी-आनंद जी के संगीत निर्देशन में निर्माता-निर्देशक मनोज कुमार की फिल्म ..उपकार .. में गीत लिखने का मौका मिला।
मनोज कुमार ने गुलशन बावरा के साथ फिल्म इंडस्ट्री में संघर्ष किया था और दोनों में काफी घनिष्ठता थी।

मनोज कुमार ने गुलशन बावरा से गीत की कोई पंक्ति सुनाने के लिए कहा।
तब गुलशन बावरा ने ..मेरे देश की धरती सोना उगले ..गाकर सुनाया।
गीत के बोल सुनने के बाद मनोज कुमार बहुत खुश हुये और उन्होंने गुलशन बावरा से फिल्म ..उपकार .. में गीत लिखने की पेशकश की।
फिल्म उपकार में अपने गीत ..मेरे देश की धरती सोना उगले .. की सफलता के बाद गुलशन बावरा ने कभी पीछे मुड़कर नही देखा।
गुलशन बावरा को इसके बाद कई अच्छी फिल्मों के प्रस्ताव मिलने शुरू हो गये।
वर्ष 1969 में प्रदर्शित फिल्म ..विश्वास .. में कल्याण जी आनंद जी के ही संगीत निर्देशन में गुलशन बावरा ने .. चांदी की दीवार ना तोड़ी जैसे भावपूर्ण गीत की रचना कर अपना अलग ही समां बांधा।

इसके बाद गुलशन बावरा ने सफलता की नयी बुलंदियों को छुआ और एक से बढ़कर एक गीत लिखे।
बहुमुखी प्रतिभा के धनी गुलशन बावरा ने कई फिल्मों में अभिनय भी किया है।
इन फिल्मों मे उपकार विश्वास .पवित्र पापी. बेइमान.जंजीर. अगर तुम ना होते.बीवी हो तो ऐसी. इंद्रजीत आदि प्रमुख है।
इसके अलावा गुलशन बावरा ने पुकार. सत्ते पे सत्ता मे पार्श्वगायन किया।
गुलशन बावरा को दो बार फिल्म फेयर के सर्वश्रेष्ठ गीतकार से नवाजा गया।
इनमें वर्ष 1967 में प्रदर्शित फिल्म ..उपकार ..का गीत ..मेरे देश की धरती सोना उगले ..वर्ष 1973 मे प्रदर्शित फिल्म जंजीर का गीत ..यारी है ईमान मेरा यार मेरी जिंदगी ..शामिल है।
अपने गीतो से श्रोताओं को मंत्रमुग्ध करने वाले गुलशन बावरा 07 अगस्त 2009 को इस दुनिया को अलविदा कह गये।

 

मुंबई

मुंबई के डब्बे वालों की मदद के लिये आगे आये संजय-सुनील

मुंबई, 14 जुलाई (वार्ता) बॉलीवुड के माचो मैन संजय दत्त और सुनील शेट्टी डब्बे वालों की मदद के लिये आगे आये हैं।

प्रियंका

प्रियंका ने महिलाओं के बिजनेस को सपोर्ट करने की अपील की

मुंबई 14 जुलाई (वार्ता) बॉलीवुड अभिनेत्री प्रियंका चोपड़ा ने कोरोना संकट काल में महिलाओं के बिजनेस को सपोर्ट करने की लोगों से अपील की है।

....लगी

....लगी आज सावन की फिर से झड़ी है

मुंबई, 14 जुलाई (वार्ता) प्रकृति के श्रृंगार माह के रूप में माने जाने वाले श्रावण (सावन) माह के रिमझिम फुहारों पर आधारित गीतों की रचना कर फिल्मकारों ने प्यार के विभिन्न रूपों का खूबसूरती से चित्रण किया है।

....लगी

....लगी आज सावन की फिर से झड़ी है

मुंबई, 14 जुलाई (वार्ता) प्रकृति के श्रृंगार माह के रूप में माने जाने वाले श्रावण (सावन) माह के रिमझिम फुहारों पर आधारित गीतों की रचना कर फिल्मकारों ने प्यार के विभिन्न रूपों का खूबसूरती से चित्रण किया है।

सुशांत

सुशांत को याद कर भावुक हुयी संजना

मुंबई 14 जुलाई (वार्ता) बॉलीवुड अभिनेत्री संजना संघी , अंकिता लोखंडे और रिया चकवर्ती दिवंगत अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत को याद कर भावुक हो गयी है।

संजना

संजना ने शेयर की फिल्म ‘दिल बेचारा’ की तस्वीर

मुंबई 13 जुलाई (वार्ता) बॉलीवुड अभिनेत्री संजना संघी ने आने वाली फिल्म ‘दिल बेचारा’ की एक तस्वीर शेयर की है और उसे फेवरेट सीन बताया है।

मुंबई

मुंबई पुलिस की मदद के लिये आगे आये रोहित शेट्ठी

मुंबई 13 जुलाई (वार्ता) बॉलीवुड के इंटरटेनर नंबर वन निर्देशक रोहित शेट्टी ने मुंबई पुलिस की मदद के लिये 11 होटल उपलब्ध कराए हैं।

कव्वाली

कव्वाली को संगीतबद्ध करने में माहिर थे रौशन

..जन्मदिवस 14 जुलाई  ..
मुंबई 13 जुलाई (वार्ता) हिंदी फिल्मों में जब कभी कव्वाली का जिक्र होता है तो संगीतकार रौशन का नाम सबसे पहले लिया जाता है।

400

400 प्रवासी परिवारों की मदद को फिर आगे आये सोनू सूद

मुंबई 13 जुलाई (वार्ता) बॉलीवुड अभिनेता सोनू सूद 400 प्रवासी मजदूर की आर्थिक मदद के लिये आगे आये हैं।

आपकी

आपकी नजरों ने समझा के संगीत के कायल हो गये थे नौशाद

..पुण्यितिथि 14 जुलाई --
मुंबई 13 जुलाई (वार्ता) बॉलीवुड के मशहूर संगीतकार मदनमोहन के एक गीत 'आपकी नजरो ने समझा प्यार के काबिल मुझे, दिल की ऐ धडकन ठहर जा मिल गयी मंजिल मुझे' से संगीत सम्राट नौशाद इस कदर प्रभावित हुये थे कि उन्होंने मदन मोहन से इस धुन के बदले अपने संगीत का पूरा खजाना लुटा देने की इच्छा जाहिर कर दी थी।

....लगी आज सावन की फिर से झड़ी है

....लगी आज सावन की फिर से झड़ी है

मुंबई, 14 जुलाई (वार्ता) प्रकृति के श्रृंगार माह के रूप में माने जाने वाले श्रावण (सावन) माह के रिमझिम फुहारों पर आधारित गीतों की रचना कर फिल्मकारों ने प्यार के विभिन्न रूपों का खूबसूरती से चित्रण किया है।

आपकी नजरों ने समझा के संगीत के कायल हो गये थे नौशाद

आपकी नजरों ने समझा के संगीत के कायल हो गये थे नौशाद

..पुण्यितिथि 14 जुलाई --
मुंबई 13 जुलाई (वार्ता) बॉलीवुड के मशहूर संगीतकार मदनमोहन के एक गीत 'आपकी नजरो ने समझा प्यार के काबिल मुझे, दिल की ऐ धडकन ठहर जा मिल गयी मंजिल मुझे' से संगीत सम्राट नौशाद इस कदर प्रभावित हुये थे कि उन्होंने मदन मोहन से इस धुन के बदले अपने संगीत का पूरा खजाना लुटा देने की इच्छा जाहिर कर दी थी।

बिंदास अभिनय से पहचान बनायी करिश्मा कपूर ने

बिंदास अभिनय से पहचान बनायी करिश्मा कपूर ने

.जन्मदिन 25 जून .
मुंबई, 25 जून (वार्ता) बॉलीवुड में करिश्मा कपूर को एक ऐसी अभिनेत्री के तौर पर शुमार किया जाता है जिन्होंने अभिनेत्रियों को फिल्मों में परंपरागत रूप से पेश किये जाने के तरीके को बदलकर अपने बिंदास अभिनय से दर्शको के बीच अपनी खास पहचान बनायी।

image