Wednesday, Oct 23 2019 | Time 10:48 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • पुलिस पर हमला करने के मामले में सात गिरफ्तार
  • शांति प्रक्रिया के सफल होने के लिए नागा संगठन रखेंगे उपवास
  • झोपड़ी में छुपाकर रखी 146 कार्टन विदेशी शराब बरामद
  • नवाज शरीफ की प्लेटलेट्स संख्या काफी कम, हालात नाजुक
  • बस और ट्रक की टक्कर में दो की मौत ,छह घायल
  • आज का इतिहास (प्रकाशनार्थ 24 अक्टूबर)
  • प्रतापगढ़ में हुई पुलिस मुठभेड़ में 50 हजार का इनामी ढेर
  • ओएएस ने चुनाव परिणाम सत्यापित करने के बोलीविया के आमंत्रण को स्वीकारा
  • चिली के कोंसेपसिओन, वालपारैसो में प्रदर्शन के कारण कर्फ्यू लगाया गया
  • यूक्रेन में विस्फोट, दो लोगों की मौत, एक घायल
  • इंडोनेशिया के पापुआ में महसूस हुए भूकंप के झटके
  • आईएस आतंकवादियों के साथ झड़प में इराक के पुलिस कमांडर की मौत
  • उत्तरी सीरिया को आतंक से मुक्त कराने लिए अभियान चलाया : एर्दोगन
  • तैमिरस्की खदान में हुए एक दुर्घटना में तीन की मौत
  • युगांडा में सड़क हादसा, आठ की मौत
मनोरंजन » कला एवं रंगमंच


रूमानी गीतों से दीवाना बनाया था अंजान ने

रूमानी गीतों से दीवाना बनाया था अंजान ने

पुण्यतिथि 13 सिंतबर
मुंबई 12 सितंबर (वार्ता) लगभग तीन दशक से अपने रचित गीतो से हिन्दी फिल्म जगत को सराबोर करने वाले गीतकार अंजान के रूमानी नज्म आज भी लोगों को अपनी ओर आकर्षित कर लेते है ।

28 अक्टूबर 1930 को बनारस मे जन्में अंजान को बचपन के दिनों से हीं उन्हें शेरो शायरी के प्रति गहरा लगाव था।
अपने इसी शौक को पूरा करने के लिये वह बनारस मे आयोजित सभी कवि सम्मेलन और मुशायरों के कार्यक्रम में
हिस्सा लिया करते थे।
हांलाकि मुशायरो के कार्यक्रम मे भी वह उर्दू का इस्तेमाल कम हीं किया करते थे।
जहां हिन्दी फिल्मों में उर्दू का इस्तेमाल एक पैशन की तरह किया जाता था।
वही अंजान अपने रचित गीतों मे हिन्दी पर ही ज्यादा जोर दिया करते थे।

गीतकार के रूप मे उन्होने अपने कैरियर की शुरूआत वर्ष 1953 मे अभिनेता प्रेमनाथ की फिल्म ..गोलकुंडा का कैदी ..से की।
इस फिल्म के लिये सबसे पहले उन्होंने ..लहर ये डोले कोयल बोले ..और शहीदो अमर है तुम्हारी कहानी गीत लिखा लेकिन इस फिल्म के जरिये वह कुछ खास पहचान नहीं बना पाये।
अंजान ने अपना संघर्ष जारी रखा।
इस बीच उन्हाेंने कई छोटे बजट फिल्में भी की जिनसे उन्हे कुछ खास फायदा नहीं हुआ।
अचानक हीं उनकी मुलाकात जी. एस. कोहली से हुयी जिनमे संगीत निर्देशन मे उन्होंने फिल्म लंबे हाथ के लिये ..मत पूछ मेरा है मेरा कौन ..गीत लिखा।
इस गीत के जरिये वह काफी हद तक बनाने मे सफल हो गये।

लगभग दस वर्ष तक मायानगरी मुंबई मे संघर्ष करने के बाद वर्ष 1963 में पंडित रविशंकर के संगीत से सजी प्रेमचंद के उपन्यास गोदान पर आधारित फिल्म ..गोदान.. मे उनके रचित गीत ..चली आज गोरी पिया की नगरिया .. की सफलता के बाद उन्होंने कभी पीछे मुड़कर नहीं देखा।
गीतकार अंजान को इसके बाद कई अच्छी फिल्मो के प्रस्ताव मिलने शुरू हो गये।
जिनमे बहारे फिर भी आयेगी, बंधन, कब क्यों और कहां, उमंग, रिवाज ,एक नारी एक बह्चारी और हंगामा जैसी कई फिल्में शामिल है ।

साठ के दशक में अंजान ने संगीतकार श्याम सागर के संगीत निर्देशन में कई गैर फिल्मी गीत भी लिखे।

अंजान द्वारा रचित इन गीतो को बाद में मोहम्मद रफी, मन्ना डे और सुमन कल्याणपुरी जैसे गायको ने अपना स्वर दिया।
जिनमे मोहम्मद रफी द्वारा गाया गीत ..मै कब गाता.. काफी लोकप्रिय भी हुआ था।
अंजान ने कई भोजपुरी फिल्मो के लिये भी गीत लिखे।
जिनमे सत्तर के दशक में बलम परदेसिया का ..गोरकी पतरकी के मारे गुलेलवा.. गाना आज भी लोगो के जुबान पर चढ़ा हुआ है।

अंजान के सिने कैरियर पर यदि नजर डाले तो सुपरस्टार अमिताभ बच्चन पर फिल्माये उनके रचित गीत कापी लोकप्रिय हुआ करते थे।
वर्ष 1976 में प्रदर्शित फिल्म दो अंजाने के.. लुक छिप लुक छिप जाओ ना ..गीत की कामयाबी के बाद अंजान ने अमिताभ बच्चन के लिये कई सफल गीत लिखे जिनमें ..बरसो पुराना ये याराना, खून पसीने की मिलेगी तो खायेंगे, रोते हुये आते है सब, ओ साथी रे तेरे बिना भी क्या जीना, खइके पान बनारस वाला जैसे कई सदाबहार गीत शामिल है।

अमिताभ बच्चन के अलाव मिथुन चक्रवर्ती की फिल्मो के लिये भी अंजान ने सुपरहिट गीत लिखकर उनकी फिल्मों को सफल बनाया है।
इन फिल्मों में डिस्को डांसर, डांस डांस, कसम पैदा करने वाले, करिश्मा कुदरत का, कमांडो, हम इंतजार करेंगे, दाता और दलाल आदि फिल्में शामिल है।
जाने माने निर्माता-निर्देशक प्रकाश मेहरा की फिल्मों के लिये अंजान ने गीत लिखकर उनकी फिल्मों को सफल बनाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभायी है।
उनकी सदाबहार गीतों के कारण हीं प्रकाश मेहरा की ज्यादातार फिल्मे अपने गीत-संगीत के कारण हीं आज भी याद की जाती है ।

अंजान के पसंदीदा संगीतकार के तौर पर कल्याण जी आनंद जी का नाम सबसे उपर आता है।
अंजान ने अपने तीन दशक से भी ज्यादा लंबे सिने कैरियर में लगभग 200 फिल्मो के लिये गीत लिखे।
लगभग तीन दशको तक हिन्दी सिनेमा को अपने गीतों से संवारने वाले अंजान 67 वर्ष की आयु मे 13 सिंतबर 1997 को सबो से अलविदा कह गये।
अंजान के पुत्र समीर ने बतौर गीतकार फिल्म इंडस्ट्री ने अपनी खास पहचान बनायी है।

 

भूल

भूल भुलैया 2 का हिस्सा नहीं होंगे अक्षय कुमार: अनीस बज्मी

मुंबई 22 अक्टूबर (वार्ता) बॉलीवुड निर्देशक अनीस बज्मी का कहना है कि अक्षय कुमार फिल्म भूल भुलैया 2 का हिस्सा नहीं होंगे।

‘के

‘के तुमि नंदिनी’ का वर्ल्ड टीवी प्रीमियर शो रविवार को

कोलकाता, 21 अक्टूबर (वार्ता) प्रेम कहानी पर आधारित ‘के तुमि नंदिनी’ फिल्म का वर्ल्ड टीवी प्रीमियर शो जलसा मूवीज पर रविवार को प्रसारण होगा।

तानाजी

तानाजी में अजय देवगन का लुक हुआ रिलीज

मुंबई 22 अक्टूबर (वार्ता) बॉलीवुड के सिंघम स्टार अजय देवगन का लुक उनकी वाली फिल्म 'तानाजी: द अनसंग वॉरियर' में रिलीज हो गया है।

कड़े

कड़े संघर्ष के बाद फिल्मों में पहचान बनायी अजित ने

..पुण्यतिथि 22 अक्टूबर के अवसर पर ..
मुंबई 21 अक्टूबर (वार्ता) दर्शकों में अपनी विशिष्ट अदाकारी और संवाद अदायगी के लिए मशहूर अभिनेता अजित को बालीवुड में एक अलग मुकाम हासिल करने के लिए प्रारंभिक दौर में कड़ा संघर्ष करना पड़ा था।

सैफ

सैफ ने सारा को दी अभिनय पर ध्यान देने की नसीहत

मुंबई 17 अक्टूबर (वार्ता) बॉलीवुड अभिनेता सैफ अली खान ने अपनी पुत्री सारा को स्टार बनने पर नहीं बल्कि अभिनय पर ध्यान केन्द्रित करने की नसीहत दी है।

अभिनेत्री

अभिनेत्री नहीं बनना चाहती थी परिणीति चोपड़ा

मुंबई 22 अक्टूबर (वार्ता) बॉलीवुड की जानी मानी अभिनेत्री परिणीति चोपड़ा आज 31 वर्ष की हो गयी।

अपने

अपने प्रॉडक्शन की फिल्मों में काम नही करेंगी कंगना

मुंबई 17 अक्टूबर (वार्ता) बॉलीवुड अभिनेत्री कंगना रनौत का कहना है कि वह अपने प्रॉडक्शन की फिल्मों में काम नहीं करेंगी ।

बहुमखी

बहुमखी प्रतिभा के रूप मे पहचान बनायी देवेन वर्मा ने

..जन्म दिवस 23 अक्तूबर के अवसर पर ..
मुंबई 22 अक्तूबर (वार्ता) हिंदी फिल्म जगत में देवेन वर्मा का नाम एक ऐसी शख्सियत के तौर पर लिया जाता है जिन्होंने न सिर्फ अभिनय की प्रतिभा बल्कि फिल्म निर्माण और निर्देशन से भी दर्शकों को अपना दीवाना बनाया है।

करिश्मा

करिश्मा ने शेयर की 90 के दशक की तस्वीर

मुंबई 21 अक्टूबर (वार्ता) बॉलीवुड अभिनेत्री करिश्मा कपूर ने सोशल मीडिया पर 90 के दशक की अपनी एक तस्वीर शेयर की है।

रेलवे

रेलवे ड्राइवर बनना चाहते थे ओमपुरी

..जन्मदिन 18 अक्टूबर  ..
मुंबई 17 अक्टूबर (वार्ता)भारतीय सिनेमा जगत में अपने दमदार अभिनय और संवाद अदायगी से ओमपुरी ने लगभग तीन दशक से दर्शको को अपना दीवाना बनाया है लेकिन कम लोगो को पता होगा कि वह अभिनेता नही बल्कि रेलवे ड्राइवर बनना चाहते थे ।

दिल्ली में भी होगा फिल्म उद्योग, डियोरामा अंतरराष्ट्रीय फिल्म समारोह आरंभ

दिल्ली में भी होगा फिल्म उद्योग, डियोरामा अंतरराष्ट्रीय फिल्म समारोह आरंभ

नयी दिल्ली 15 जनवरी (वार्ता) दिल्ली में भी फिल्म उद्योग स्थापित करने के मकसद से पहले डियोरामा अंतरराष्ट्रीय फिल्म समारोह एवं विपणन 2019 की कल रात यहां देश-विदेश के फिल्मी जगत के लोगों की मौजूदगी में शुरूआत हुयी।

कड़े संघर्ष के बाद फिल्मों में पहचान बनायी अजित ने

कड़े संघर्ष के बाद फिल्मों में पहचान बनायी अजित ने

..पुण्यतिथि 22 अक्टूबर के अवसर पर ..
मुंबई 21 अक्टूबर (वार्ता) दर्शकों में अपनी विशिष्ट अदाकारी और संवाद अदायगी के लिए मशहूर अभिनेता अजित को बालीवुड में एक अलग मुकाम हासिल करने के लिए प्रारंभिक दौर में कड़ा संघर्ष करना पड़ा था।

image