Wednesday, Oct 23 2019 | Time 16:25 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • दिल्ली में अनधिकृत कालोनियों को नियमति करने की मंजूरी
  • केंद्रीय विद्यालय संगठन ने सप्ताह में दो दिन का होम वर्क का खंडन किया
  • बीएसएनएल एमटीएनएल के पुनरूद्धार के लिए बाँड से जुटाये जायेंगे 15 हजार करोड़ रुपये, इन दोनों कंपनियों को मिलेगा 4 जी स्पेक्ट्रम
  • निजी कंपनियां भी खोल सकेंगी पेट्रोल और डीजल आउटलेट
  • बीएसएनएल और एमटीएनएल की 38 हजार करोड़ रुपये के संपदा का मौद्रिकरण किया जायेगा
  • भूपेश ने मनमोहन से की मुलाकात
  • बीएसएनएल एमटीएनएल के विलय को मिला सैद्धांतिक मंजूरी
  • करतारपुर गलियारा समझौता पर गुरुवार को हस्ताक्षर: फैजल
  • भारत तिब्बत सीमा पुलिस में कैडर समीक्षा को मंत्रिमंडल की मंजूरी
  • सार्वजनिक क्षेत्र की कंपनी भारत संचार निगम लिमिटेड की स्थिति सुधारेगी सरकार
  • फाेटो कैप्शन पहला सेट
  • सरसों के न्यूनतम समर्थन मूल्य में 225 रूपये की बढोतरी
  • बस और स्कूटी भिड़ंत में शिक्षिका की मौत
  • गेंहूं के न्यूनतम समर्थन मूल्य में 85 रूपये की बढोतरी
  • कृष्ण स्वरूप गोरखपुरिया नहीं रहे
मनोरंजन » कला एवं रंगमंच


फिजांओं में आज भी गूंजती हेमंत कुमार के संगीत की खूशबू

फिजांओं में आज भी गूंजती हेमंत कुमार के संगीत की खूशबू

..पुण्यतिथि 26 सितंबर ..
मुंबई 25 सितंबर (वार्ता) फिल्म जगत को अपनी मधुर संगीत लहरियों से सजाने संवारने वाले महान संगीतकार और पार्श्वगायक हेमंत कुमार मुखोपाध्याय उर्फ हेमंत दा के गीत आज भी फिजां में गूंजते महसूस होते हैं।

16 जून 1920 को बनारस में जन्में हेमंत कुमार ने अपनी प्रारंभिक शिक्षा कलकत्ता के मित्रा इंस्टीच्यूट से पूरी की।
इंटर की परीक्षा उत्तीर्ण करने के बाद हेमंत कुमार ने जादवपुर विश्वविद्यालय मे इंजीनियरिंग मे दाखिला ले लिया, लेकिन कुछ समय बाद हेमंत कुमार ने अपनी इंजीनियरिंग की पढ़ाई छोड़ दी क्योंकि उस समय उनका रूझान संगीत की ओर हो गया था और वह संगीतकार बनना चाहते थे ।

इस बीच हेमंत कुमार ने साहित्य जगत मे भी अपनी पहचान बनानी चाही और एक बंगाली पत्रिका ..देश ..में उनकी एक कहानी भी प्रकाशित हुयी।
लेकिन वर्ष 1930 के अंत तक हेमंत कुमार ने अपना पूरा ध्यान संगीत की ओर लगाना शुरू कर दिया।

अपने बचपन के मित्र सुभाष की सहायता से वर्ष 1930 में हेमंत कुमार को आकाशवाणी के लिये अपना पहला बंगला गीत गाने का मौका मिला।
हेमंत कुमार ने संगीत की अपनी प्रारंभिक शिक्षा एक बंगला संगीतकार शैलेश दत्त गुप्ता से ली।
हेमंत कुमार ने उस्ताद पैयाज खान से शास्त्रीय संगीत की शिक्षा भी ली।

वर्ष 1937 मे शैलेश दत्त गुप्ता के संगीत निर्देशन में एक विदेशी संगीत कंपनी कोलंबिया लेबल के लिये हेमंत कुमार ने गैर फिल्मी गीत गाये।
इसके बाद हेमंत कुमार ने लगभग हर वर्ष ग्रामोफोनिक कंपनी ऑफ इंडिया के लिये अपनी आवाज दी।
ग्रामोपोनिक कंपनी के लिये ही 1940 कमल दास गुप्ता के संगीत निर्देशन में हेमंत कुमार को अपना पहला हिन्दी गाना ..कितना दुख भुलाया तुमने.. गाने का मौका मिला जबकि वर्ष 1941 में प्रदर्शित एक बंगला फिल्म के लिये हेमंत कुमार ने अपनी आवाज दी।

वर्ष 1944 मे एक गैर फिल्मी बंगला गीत के लिये हेमंत कुमार ने संगीत दिया।
इसी वर्ष पंडित अमर नाथ के संगीत निर्देशन में उन्हें अपनी पहली हिन्दी फिल्म ..इरादा ..में गाने का मौका मिला।
इसके साथ ही वर्ष 1944 मे रवीन्द्र नाथ ठाकुर के ..रवीन्द्र संगीत .. के लिये हेमंत कुमार ने कोलंबिया लेबल कंपनी के लिये गाने रिकार्ड किये।
वर्ष 1947 में बंगला फिल्म ..अभियात्री .. के लिये बतौर संगीतकार काम किया।

इस बीच हेमंत कुमार भारतीय जन नाट्य संघ: इप्टाः के सक्रिय सदस्य के रूप में काम करने लगे।
धीरे ..धीरे हेमंत कुमार बंगला फिल्मों में बतौर संगीतकार अपनी पहचान बनाते चले गये।
इस दौरान हेमंत कुमार ने कई बंगला फिल्मों के लिये संगीत दिया जिनमें हेमेन गुप्ता निर्देशित कई फिल्में शामिल है।

कुछ समय के बाद हेमेन गुप्ता मुंबई आ गये और उन्होंने हेमंत कुमार को भी मुंबई आने का न्यौता दिया।
वर्ष 1951 मे फिल्मीस्तान के बैनर तले बनने वाली अपनी पहली हिन्दी फिल्म ..आनंद मठ .. के लिये हेमेन गुप्ता ने हेमंत कुमार से संगीत देने की पेशकश की।
फिल्म आनंदमठ की सफलता के बाद हेमंत कुमार बतौर संगीतकार फिल्म इंडस्ट्री में स्थापित हो गये।
फिल्म आनंदमठ में लता मंगेश्कर की आवाज में गाया हुआ ..वंदे मातरम .. आज भी श्रोताओं को भावावेश में ला देता है।

वर्ष 1954 में हेमंत कुमार के संगीत से सजी फिल्म ..नागिन .. की सफलता के बाद हेमंत कुमार सफलता के शिखर पर पहुंच गये।
फिल्म नागिन का एक गीत .. मन डोले मेरा तन डोले .. आज भी श्रोताओं के बीच काफी लोकप्रिय है।
इस फिल्म के लिये हेमंत कुमार सर्वश्रेष्ठ संगीतकार के फिल्म फेयर पुरस्कार से भी सम्मानित किये गये।

वर्ष 1959 में हेमंत कुमार ने फिल्म निर्माण के क्षेत्र मे भी कदम रखा और ..हेमंता बेला प्रोडक्शन .. नाम की फिल्म कंपनी की स्थापना की जिसके बैनर तले मृणाल सेन के निर्देशन में एक बंगला फिल्म ..नील आकाशेर नीचे.. का निर्माण किया ।
इस फिल्म को प्रेसिडेंट गोल्ड मेडल दिया गया।
इसके बाद हेमंत कुमार ने अपने बैनर तले बीस साल बाद .कोहरा बीबी और मकान .फरार . राहगीर और खामोशी 1969 जैसी कई हिन्दी फिल्मों का भी निर्माण किया।

वर्ष 1971 में हेमंत कुमार ने एक बंगला फिल्म ..आनंदिता .. का निर्देशन भी किया लेकिन यह फिल्म बॉक्स आफिस पर बुरी तरह से नकार दी गयी।
वर्ष 1979 में हेमंत कुमार ने चालीस और पचास के दशक में सलिल चौधरी के संगीत निर्देशन मे गाये गानों को दोबारा रिकार्ड कराया और उसे ..लीजेंड ऑफ ग्लोरी -2 .. के रूप में जारी किया और यह एलबम काफी सफल भी रही।

वर्ष 1989 मे हेमंत कुमार बंगलादेश के ढाका शहर मे ..माइकल मधुसूधन अवार्ड लेने गये जहां उन्होंने एक संगीत समारोह मे हिस्सा भी लिया ।
समारोह की समाप्ति के बाद भारत लौटने के बाद उन्हें दिल का दौरा पड़ा।
जिसके बाद हेमंत कुमार 26 सिंतबर 1989 को इस दुनिया को अलविदा कह गये।

 

पद्मावत

पद्मावत के लिए सलमान, ऐश्‍वर्या और अजय को रीकास्‍ट करना चाहेंगे शाहिद

मुंबई 23 अक्टूबर (वार्ता) बॉलीवुड अभिनेता शाहिद कपूर का कहना है कि फिल्म पद्मावत यदि फिर से बनायी जाती है तो वह सलमान खान ,ऐश्वर्या राय और अजय देवगन को कास्ट करना चाहेंगे।

‘के

‘के तुमि नंदिनी’ का वर्ल्ड टीवी प्रीमियर शो रविवार को

कोलकाता, 21 अक्टूबर (वार्ता) प्रेम कहानी पर आधारित ‘के तुमि नंदिनी’ फिल्म का वर्ल्ड टीवी प्रीमियर शो जलसा मूवीज पर रविवार को प्रसारण होगा।

रणवीर

रणवीर को सैफ से बेहतर अभिनेता मानते हैं शाहिद

मुंबई 23 अक्टूबर(वार्ता) बॉलीवुड अभिनेता शाहिद कपूर , रणवीर सिंह को सैफ अली खान से बेहतर अभिनेता मानते हैं।

कड़े

कड़े संघर्ष के बाद फिल्मों में पहचान बनायी अजित ने

..पुण्यतिथि 22 अक्टूबर के अवसर पर ..
मुंबई 21 अक्टूबर (वार्ता) दर्शकों में अपनी विशिष्ट अदाकारी और संवाद अदायगी के लिए मशहूर अभिनेता अजित को बालीवुड में एक अलग मुकाम हासिल करने के लिए प्रारंभिक दौर में कड़ा संघर्ष करना पड़ा था।

सैफ

सैफ ने सारा को दी अभिनय पर ध्यान देने की नसीहत

मुंबई 17 अक्टूबर (वार्ता) बॉलीवुड अभिनेता सैफ अली खान ने अपनी पुत्री सारा को स्टार बनने पर नहीं बल्कि अभिनय पर ध्यान केन्द्रित करने की नसीहत दी है।

यूनिसेफ

यूनिसेफ से जुड़े आयुष्मान खुराना

मुंबई 23 अक्टूबर (वार्ता) बॉलीवुड अभिनेता आयुष्मान खुराना संयुक्त राष्ट्र बाल कोष (यूनिसेफ) से जुड़ गये हैं।

अभिनेत्री

अभिनेत्री नहीं बनना चाहती थी परिणीति चोपड़ा

मुंबई 22 अक्टूबर (वार्ता) बॉलीवुड की जानी मानी अभिनेत्री परिणीति चोपड़ा आज 31 वर्ष की हो गयी।

अपने

अपने प्रॉडक्शन की फिल्मों में काम नही करेंगी कंगना

मुंबई 17 अक्टूबर (वार्ता) बॉलीवुड अभिनेत्री कंगना रनौत का कहना है कि वह अपने प्रॉडक्शन की फिल्मों में काम नहीं करेंगी ।

उधम

उधम सिंह बायोपिक के लिए विक्की ने 13 किलो वजन घटाया

मुंबई 23 अक्टूबर (वार्ता) बॉलीवुड अभिनेता विक्की कौशल ने फिल्म उधम सिंह बायोपिक के लिए 13 किलो वजन
घटाया है।

बहुमखी

बहुमखी प्रतिभा के रूप मे पहचान बनायी देवेन वर्मा ने

..जन्म दिवस 23 अक्तूबर के अवसर पर ..
मुंबई 22 अक्तूबर (वार्ता) हिंदी फिल्म जगत में देवेन वर्मा का नाम एक ऐसी शख्सियत के तौर पर लिया जाता है जिन्होंने न सिर्फ अभिनय की प्रतिभा बल्कि फिल्म निर्माण और निर्देशन से भी दर्शकों को अपना दीवाना बनाया है।

दिल्ली में भी होगा फिल्म उद्योग, डियोरामा अंतरराष्ट्रीय फिल्म समारोह आरंभ

दिल्ली में भी होगा फिल्म उद्योग, डियोरामा अंतरराष्ट्रीय फिल्म समारोह आरंभ

नयी दिल्ली 15 जनवरी (वार्ता) दिल्ली में भी फिल्म उद्योग स्थापित करने के मकसद से पहले डियोरामा अंतरराष्ट्रीय फिल्म समारोह एवं विपणन 2019 की कल रात यहां देश-विदेश के फिल्मी जगत के लोगों की मौजूदगी में शुरूआत हुयी।

कड़े संघर्ष के बाद फिल्मों में पहचान बनायी अजित ने

कड़े संघर्ष के बाद फिल्मों में पहचान बनायी अजित ने

..पुण्यतिथि 22 अक्टूबर के अवसर पर ..
मुंबई 21 अक्टूबर (वार्ता) दर्शकों में अपनी विशिष्ट अदाकारी और संवाद अदायगी के लिए मशहूर अभिनेता अजित को बालीवुड में एक अलग मुकाम हासिल करने के लिए प्रारंभिक दौर में कड़ा संघर्ष करना पड़ा था।

image