Thursday, Nov 14 2019 | Time 07:21 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • तुर्की ने सीरिया में संघर्ष विराम जारी रखने का वादा: ट्रम्प
  • जर्मनी, फ्रांस और ब्रिटेन ने उत्तर कोरिया के मिसाइल परीक्षणों पर जतायी चिंता
  • मोदी ने पुतिन, जिनपिंग और बोल्सोनारो से की द्विपक्षीय भेंट
  • जिनपिंग ने मोदी को तीसरे अनौपचारिक शिखर सम्मेन के लिए चीन आने का आमंत्रण दिया
  • मोदी ने बोल्सोनारो से की मुलाकात, भारत आने का दिया न्योता
  • मोदी ने पुतिन से की द्विपक्षीय मुद्दों पर चर्चा
  • एल साल्वाडोर में मध्यमस्तर के भूकंप के झटके
मनोरंजन » कला एवं रंगमंच


गीतकारों को उनका वाजिव हक दिलाया साहिर लुधियानवी ने

गीतकारों को उनका वाजिव हक दिलाया साहिर लुधियानवी ने

. पुण्यतिथि 25 अक्टूबर के अवसर पर ..
मुंबई 24 अक्टूबर (वार्ता) साहिर लुधियानवी हिन्दी फिल्मों के ऐसे पहले गीतकार थे जिनका नाम रेडियो से प्रसारित फरमाइशी गानों में दिया गया ।

साहिर से पहले किसी गीतकार को रेडियो से प्रसारित फरमाइशी गानों में श्रेय नहीं दिया जाता था ।
साहिर ने इस बात का काफी विरोध किया जिसके बाद रेडियो पर प्रसारित गानों में गायक और संगीतकार के साथ..साथ गीतकार
का नाम भी दिया जाने लगा।
इसके अलावा वह पहले गीतकार हुये जिन्होंने गीतकारों के लिये रायलटी टी की व्यवस्था करायी।

आठ मार्च 1921 को पंजाब के लुधियाना शहर में एक जमींदार परिवार में जन्मे साहिर की जिंदगी काफी संघर्षों में बीती।
साहिर ने अपनी मैट्रिक तक की पढ़ाई लुधियाना के खालसा स्कूल से पूरी की ।
इसके बाद वह लाहौर चले
गये जहां उन्होंने अपनी आगे की पढ़ाई सरकारी कॉलेज से पूरी की।
कॉलेज के कार्यक्रमों में वह अपनी गजलें और नज्में पढ़कर सुनाया करते थे जिससे उन्हें काफी शोहरत मिली।

जानी मानी पंजाबी लेखिका अमृता प्रीतम कॉलेज में साहिर के साथ ही पढ़ती थी जो उनकी गजलों और नज्मों की मुरीद हो गयी और उनसे प्यार करने लगीं लेकिन कुछ समय के बाद ही साहिर कालेज से निष्कासित कर दिये गये।
इसका कारण यह माना जाता है कि अमृता प्रीतम के पिता को साहिर और अमृता के रिश्ते पर एतराज था क्योंकि साहिर मुस्लिम थे और अमृता सिख थी ।
इसकी एक वजह यह भी थी कि उन दिनो साहिर की माली हालत भी ठीक नहीं थी।

     साहिर 1943 में कालेज से निष्कासित किये जाने के बाद लाहौर चले आये . जहां उन्होंने अपनी पहली उर्दू पत्रिका..तल्खियां. .लिखीं ।
लगभग दो वर्ष के अथक प्रयास के बाद आखिरकार उनकी मेहनत रंग लायी और
..तल्खियां.. का प्रकाशन हुआ।
इस बीच साहिर ने प्रोग्रेसिव रायटर्स एसोसियेशन से जुडकर आदाबे लतीफ. शाहकार. और सेवरा जैसी कई लोकप्रिय उर्दू पत्रिकाएं निकालीं लेकिन सवेरा में उनके क्रांतिकारी विचार को देखकर पाकिस्तान सरकार ने उनके खिलाफ गिरफ्तारी का वारंट जारी कर दिया।
इसके बाद वह 1950 में मुंबई आ गये।

साहिर ने 1950 में प्रदर्शित ..आजादी की राह पर ..फिल्म में अपना पहला गीत ..बदल रही है जिंदगी..लिखा लेकिन फिल्म सफल नही रही।
वर्ष 1951 मे एस.डी.बर्मन की धुन पर फिल्म ..नौजवान ..में लिखे अपने गीत
..ठंडी हवाएं लहरा के आये ..के बाद वह कुछ हद तक गीतकार के रूप में कुछ हद तक अपनी पहचान बनाने में सफल हो गये।
साहिर ने खय्याम के संगीत निर्देशन में भी कई सुपरहिट गीत लिखे ।

वर्ष 1958 में प्रदर्शित फिल्म ..फिर सुबह होगी ..के लिये पहले अभिनेता राजकपूर यह चाहते थे कि उनके पंसदीदा संगीतकार शंकर जयकिशन इसमें संगीत दें जबकि साहिर इस बात से खुश नहीं थे ।
उन्होंने इस बात पर जोर दिया कि फिल्म में संगीत खय्याम का ही हो ।
वो सुबह कभी तो आयेगी ..जैसे गीतों की कामयाबी से साहिर का निर्णय सही साबित हुआ ।
यह गाना आज भी क्लासिक गाने के रूप में याद किया जाता है।

     साहिर अपनी शर्तो पर गीत लिखा करते थे ।
एक बार एक फिल्म निर्माता ने नौशाद के संगीत निर्देशन में उनसे से गीत लिखने की पेशकश की ।
साहिर को जब इस बात का पता चला कि संगीतकार नौशाद को उनसे अधिक
पारिश्रमिक दिया जा रहा है तो उन्होंने निर्माता को अनुबंध समाप्त करने को कहा ।
उनका कहना था कि नौशाद महान संगीतकार है लेकिन धुनों को शब्द ही वजनी बनाते है।
अतः एक रूपया ही अधिक सही गीतकार को संगीतकार से अधिक पारिश्रमिक मिलना चाहिये ।

गुरूदत्त की फिल्म ..प्यासा.. साहिर के सिने कैरियर की अहम फिल्म साबित हुयी ।
फिल्म के प्रदर्शन के दौरान अदभुत नजारा दिखाई दिया।
मुंबई के मिनर्वा टॉकीज में जब यह फिल्म दिखाई जा रही थी तब जैसे ही ..जिन्हे नाज है हिंद पर वो कहां है ..बजा तब सभीदर्शक अपनी सीट से उठकर खड़े हो गये और गाने की समाप्ति तक ताली बजाते रहे ।
बाद में दर्शको की मांग पर इसे तीन बार और दिखाया गया ।
फिल्म इंडस्ट्री के इतिहास में शायद पहले कभी ऐसा नहीं हुआ था।

साहिर अपने सिने कैरियर में दो बार सर्वश्रेष्ठ गीतकार के फिल्मफेयर पुरस्कार से सम्मानित किये गये।
लगभग तीन दशक तक हिन्दी सिनेमा को अपने रूमानी गीतों से सराबोर करने वाले साहिर लुधियानवी 59 वर्ष की उम्र में 25 अक्टूबर 1980 को इस दुनिया को अलविदा कह गये ।

16

16 साल बाद कमबैक करेंगी राखी

मुंबई 13 नवंबर (वार्ता) बॉलीवुड की जानी मानी अभिनेत्री राखी 16 साल बाद सिल्वर स्क्रीन पर वापसी करने जा रही है।

अमिताभ

अमिताभ बच्चन लेने जा रहे लंबा ब्रेक !

मुंबई 13 नवंबर (वार्ता) बॉलीवुड के महानायक अमिताभ बच्चन शूटिंग से लंबा ब्रेक लेने जा रहे हैं।

फिल्मों

फिल्मों में बाल कलाकारों का जलवा भी कम नहीं

..बाल दिवस 14 नवंबर ..
मुंबई 13 नवंबर (वार्ता) बॉलीवुड सिनेमा यूं तो युवा प्रधान है और समूचा सिने उद्योग युवा सोच की मांग को ध्यान में रखकर फिल्मों का निर्माण करता है लेकिन बाल कलाकारों ने इस व्यवस्था को अपने दमदार अभिनय से लगातार चुनौती दी है।

बाजीगर

बाजीगर के 26 साल पूरे होने पर काजोल ने शेयर किया वीडियो

मुंबई 13 नवंबर (वार्ता) बॉलीवुड अभिनेत्री काजोल ने अपनी सुपरहिट फिल्म बाजीगर के प्रदर्शन के 26 साल पूरे होने पर सोशल मीडिया पर एक वीडियो शेयर किया है।

बेहद

बेहद केयरिंग है कार्तिक : अनन्या

मुंबई 13 नवंबर (वार्ता) बॉलीवुड अभिनेत्री अनन्या पांडे का कहना है कि कार्तिक आर्यन काफी केयरिंग इंसान हैं और सबका बेहद ख्याल रखते हैं।

अक्षय

अक्षय ने अजय को 100 वीं फिल्म के लिये दी शुभकामना

मुंबई 13 नवंबर (वार्ता) बॉलीवुड के खिलाड़ी कुमार अक्षय कुमार ने अजय देवगन को 100वीं फिल्म के लिये शुभकामना दी है।

मधुबाला

मधुबाला पर बायोपिक बनाएंगे इम्तियाज अली

मुंबई 13 नवंबर (वार्ता) बॉलीवुड फिल्मकार इम्तियाज अली बेपनाह हुस्न की मल्लिका मधुबाला के जीवन पर फिल्म बनाने जा रहे हैं।

नो

नो एंट्री का सीक्वल बनायेंगे बोनी कपूर

मुंबई 12 नवंबर (वार्ता) बॉलीवुड फिल्मकार बोनी कपूर अपनी सुपरहिट फिल्म नो एंट्री का सीक्वल बनाने जा रहे हैं।

‘फूल

‘फूल और कांटे’ का रीमेक बनाएंगे अजय देवगन

मुंबई 12 नवंबर (वार्ता) बॉलीवुड के सिंघम स्टार अजय देवगन अपनी सुपरहिट फिल्म ‘फूल और कांटे’ का रीमेक
बनाना चाहते हैं।

सलमान

सलमान को कड़ी टक्कर देने के लिये मेहनत कर रहे हैं रणदीप हुड्डा

मुंबई 12 नवंबर (वार्ता) बॉलीवुड के माचो मैन रणदीप हुड्डा आने वाली फिल्म राधे में दबंग स्टार सलमान खान को कड़ी टक्कर देने के लिये मेहनत कर रहे हैं।

दिल्ली में भी होगा फिल्म उद्योग, डियोरामा अंतरराष्ट्रीय फिल्म समारोह आरंभ

दिल्ली में भी होगा फिल्म उद्योग, डियोरामा अंतरराष्ट्रीय फिल्म समारोह आरंभ

नयी दिल्ली 15 जनवरी (वार्ता) दिल्ली में भी फिल्म उद्योग स्थापित करने के मकसद से पहले डियोरामा अंतरराष्ट्रीय फिल्म समारोह एवं विपणन 2019 की कल रात यहां देश-विदेश के फिल्मी जगत के लोगों की मौजूदगी में शुरूआत हुयी।

पार्श्वगायिका बनना चाहती थीं पद्मिनी कोल्हापुरी

पार्श्वगायिका बनना चाहती थीं पद्मिनी कोल्हापुरी

..जन्मदिन 01 नवंबर के अवसर पर ..
मुंबई 31 अक्टूबर (वार्ता) बॉलीवुड में अपनी दिलकश अदाओं से अभिनेत्री पद्मिनी कोल्हापुरी ने दर्शकों को मंत्रमुग्ध किया लेकिन वह फिल्म अभिनेत्री न बनकर पार्श्वगायिका बनना चाहती थीं ।

image