Saturday, Dec 14 2019 | Time 20:48 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • जामिया के छात्रों ने आंदोलन फिलहाल वापस लिया
  • हिन्द प्रशांत क्षेत्र को एक मुक्त, खुला एवं समावेशी मंच बनाने की वकालत
  • यशपाल आर्य से संबंधित दस्तावेज हाईकोर्ट में तलब
  • फिलीपींस में बस-वैन की भिड़ंत, पांच मरे, 33 घायल
  • फारूक अब्दुल्ला की हिरासत अवधि बढ़ाना असंवैधानिक: ममता
  • मध्यप्रदेश में अब कड़ाके की ठंड पड़ेगी
  • बब्बर शेरों और हिरणों के जोड़े बनेंगे धौलाधार चिड़ियाघर में दर्शकों के आर्कषण का केंद्र
  • अमूल दूध कल से हो जायेगा दो रुपये प्रति लीटर महंगा
  • गिर वन में झाड़ियों के पीछे से शेर का शव बरामद
  • हरियाणा का 2022 तक ग्रामीण क्षेत्रों के सभी घरों में नल कनैक्शन देने का लक्ष्य
  • अमूल दूध कल से हो जायेगा दो रूपये प्रति लीटर महंगा
  • आर्थिक, राजनीतिक रूप से अलग-थलग पड़ गया भारत: चिदम्बरम
  • मुसलमान विरोधी नहीं है नागरिकता संशोधन अधिनियम : शाह
  • बंगाल में प्रदर्शन, बिलासपुर होकर गुजरने वाली लंबी दूरी की ट्रेनें रद्द
  • सड़क दुर्घटना में एक की मौत ,दूसरा घायल
मनोरंजन » कला एवं रंगमंच


अभिनय की दुनिया के विधाता थे संजीव कुमार

अभिनय की दुनिया के विधाता थे संजीव कुमार

(पुण्यतिथि 06 नवंबर )
मुंबई 05 नवंबर (वार्ता) गुरूदत्त की असमय मौत के बाद निर्माता निर्देशक के. आसिफ ने अपनी महात्वाकांक्षी फिल्म “लव एंड गॉड” का निर्माण बंद कर दिया और अपनी नई फिल्म “सस्ता खून मंहगा पानी” के निर्माण में जुट गये।
राजस्थान के खूबसूरत नगर जोधपुर में हो रही फिल्म की शूटिंग के दौरान एक नया कलाकार फिल्म में अपनी बारी आने का इंतजार करता रहा।

इसी तरह लगभग दस दिन बीत गये और उसे काम करने का अवसर नहीं मिला।
बाद में के. आसिफ ने उसे वापस मुंबई लौट जाने को कहा।
यह सुनकर उस नये लड़के की आंखों में आंसू आ गये।
कुछ दिन बाद के. आसिफ ने सस्ता खून और मंहगा पानी बंद कर दी और एक बार फिर से “लव एंड गॉड” बनाने की घोषणा की।

गुरूदत्त की मौत के बाद वह अपनी फिल्म के लिये एक ऐसे अभिनेता की तलाश में थे “जिसकी आंखें भी रूपहले पर्दे पर बोलती हो” और वह अभिनेता उन्हें मिल चुका था।
यह अभिनेता वहीं लड़का था जिसे के. आसिफ ने
अपनी फिल्म “सस्ता खून मंहगा पानी” के शूटिंग के दौरान मुंबई लौट जाने को कहा था।
बाद में यही कलाकार फिल्म इंडस्ट्री में संजीव कुमार के नाम से प्रसिद्ध हुआ।

अपने दमदार अभिनय से हिंदी सिनेमा जगत में अपनी विशिष्ट पहचान बनाने वाले संजीव कुमार को अपने करियर के शुरूआती दिनों में वह दिन भी देखना पड़ा जब उन्हें फिल्मों में नायक के रूप में काम करने का अवसर नहीं मिलता था ।

मुंबई में 09 जुलाई 1938 को एक मध्यम वर्गीय गुजराती परिवार में जन्मे संजीव कुमार बचपन से ही फिल्मों में नायक बनने का सपना देखा करते थे।
इस सपने को पूरा करने के लिये उन्होंने फिल्मालय के एक्टिंग स्कूल में दाखिला लिया।
वर्ष 1962 में राजश्री प्रोडक्शन की निर्मित फिल्म “आरती” के लिये उन्होंने स्क्रीन टेस्ट दिया।
जिसमें वह पास नहीं हो सके।

संजीव कुमार को सर्वप्रथम मुख्य अभिनेता के रूप में उन्हें 1965 में प्रदर्शित फिल्म “निशान” में काम करने का मौका मिला।
वर्ष 1960 से 1968 तक संजीव कुमार फिल्म इंडस्ट्री मे अपनी जगह बनाने के लिये संघर्ष करते रहे।
फिल्म “हम हिंदुस्तानी” के बाद उन्हें जो भी भूमिका मिली वह उसे स्वीकार करते चले गये।
इस बीच उन्होंने स्मगलर, पति-पत्नी, हुस्न और इश्क, बादल, नौनिहाल और गुनहगार जैसी कई बी ग्रेड फिल्मों मे अभिनय किया लेकिन इनमें से कोई भी फिल्म बाॅक्स आॅफिस पर सफल नहीं हुयी ।

वर्ष 1968 मे प्रदर्शित फिल्म “शिकार” में संजीव कुमार पुलिस ऑफिसर की भूमिका में दिखाई दिये।
यह फिल्म पूरी तरह अभिनेता धर्मेन्द्र पर केन्द्रित थी फिर भी संजीव अपने अभिनय की छाप छोड़ने में वह कामयाब रहे।
इस फिल्म में दमदार अभिनय के लिये उन्हें सहायक अभिनेता का फिल्म फेयर अवार्ड भी मिला।

वर्ष 1970 में प्रदर्शित फिल्म खिलौना की जबरदस्त कामयाबी के बाद संजीव कुमार ने नायक के रूप में अपनी अलग पहचान बना ली।
वर्ष 1970 में ही प्रदर्शित फिल्म “दस्तक” में लाजवाब अभिनय के लिये उन्हें सर्वश्रेष्ठ अभिनेता के राष्ट्रीय पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

वर्ष 1972 मे प्रदर्शित फिल्म “कोशिश” में उनके अभिनय का नया आयाम दर्शकों को देखने को मिला।
इस फिल्म में गूंगे की भूमिका निभाना किसी भी अभिनेता के लिये बहुत बड़ी चुनौती थी।
बगैर संवाद बोले सिर्फ आंखों और
चेहरे के भाव से दर्शकों को सब कुछ बता देना संजीव कुमार की अभिनय प्रतिभा का ऐसा उदाहरण था।
जिसे शायद ही कोई अभिनेता दोहरा पाये।
इस फिल्म में उनके लाजवाब अभिनय के लिये उन्हें दूसरी बार सर्वश्रेष्ठ अभिनेता का
राष्ट्रीय पुरस्कार दिया गया ।

संजीव कुमार के अभिनय की विशेषता यह रही कि वह किसी भी तरह की भूमिका के लिये सदा उपयुक्त रहते थे ।
फिल्म “कोशिश” में गूंगे की भूमिका हो या फिर “शोले” में ठाकुर या सीता और गीता और अनामिका जैसी
फिल्मों में लवर बॉय की भूमिका हो अथवा नया दिन नई रात में “नौ अलग-अलग” भूमिकाएं हर भूमिका को उन्होंने इतनी खूबसूरती से निभाया जैसे वह उन्हीं के लिए बनी हो।

अभिनय में एकरूपता से बचने और स्वयं को चरित्र अभिनेता के रूप में भी स्थापित करने के लिये संजीव कुमार ने अपने को विभिन्न भूमिकाओं में पेश किया।
इस क्रम में 1975 में प्रदर्शित रमेश सिप्पी की सुपरहिट फिल्म शोले में वह फिल्म अभिनेत्री जया भादुड़ी के ससुर की भूमिका निभाने से भी नहीं हिचके।
हालांकि संजीव कुमार ने फिल्म शोले के पहले जया भादुड़ी के साथ कोशिश और अनामिका में नायक की भूमिका निभायी थी।

संजीव कुमार दो बार सर्वश्रेष्ठ अभिनेता के फिल्म फेयर पुरस्कार से सम्मानित किये गये है।
अपने दमदार अभिनय से दर्शकों में खास पहचान बनाने वाला यह अजीम कलाकार 06 नवंबर 1985 को इस दुनिया को अलविदा
कह गया।

 

लाल

लाल सिंह चड्ढा के संगीत से खुश हैं आमिर

मुंबई 14 दिसंबर (वार्ता) बॉलीवुड के मिस्टर परफेक्शनिस्ट आमिर खान अपनी आने वाली फिल्म लाल सिंह चड्ढा के संगीत से बेहद खुश हैं।

दी‍पिका

दी‍पिका ने छपाक के लिये लगवाया प्रोस्थेटिक्स

मुंबई 12 दिसंबर (वार्ता) बॉलीवुड की डिंपल गर्ल दीपिका पादुकोण ने अपनी आने वाली फिल्म छपाक के लिये जब प्रोस्थेटिक्स मेकअप लगवाया तब वह खुद को देखकर दंग रह गयी।

युवा

युवा पीढ़ी के कलाकारों से तुलना गलत : करीना

मुंबई 14 दिसंबर (वार्ता) बॉलीवुड अभिनेत्री करीना कपूर खान का कहना है कि युवा पीढ़ी के कलाकारों से उनकी तुलना करना गलत है।

स्मिता

स्मिता पाटिल ने समानांतर फिल्मों को नया आयाम दिया

.. पुण्यतिथि 13 दिसंबर  ..
मुंबई 12 दिसंबर (वार्ता) भारतीय सिनेमा के नभमंडल में स्मिता पाटिल ऐसे ध्रुवतारे की तरह है जिन्होंने अपने सशक्त अभिनय से समानांतर सिनेमा के साथ-साथ व्यावसायिक सिनेमा में भी दर्शकों के बीच अपनी खास पहचान बनायी ।

आदित्य

आदित्य ने पहली बार कर दिया था रिजेक्ट : अर्जुन

मुंबई 14 दिसंबर (वार्ता) बॉलीवुड अभिनेता अर्जुन कपूर का कहना है कि फिल्मकार आदित्य चोपड़ा ने उनकी तस्वीर देखकर उन्हें रिजेक्ट कर दिया था।

किच्चा

किच्चा सुदीप के साथ बेंगलुरु में दबंग 3 का प्रमोशन करेंगे सलमान खान

मुंबई 10 दिसंबर (वार्ता) बॉलीवुड अभिनेता सलमान खान अपनी आने वाली फिल्म ‘दबंग 3’ का प्रमोशन किच्चा सुदीप के साथ बेंगलुरु में करेंगे।

करीना

करीना कपूर पर हमेशा से क्रश रहा है: कियारा

मुंबई 14 दिसंबर (वार्ता) बॉलीवुड अभिनेत्री कियारा आडवाणी का कहना है कि उनका करीना कपूर पर हमेशा से ही गर्ल क्रश रहा है।

मेहनत

मेहनत और नसीब में विश्वास रखती है कियारा आडवाणी

मुंबई 10 दिसंबर (वार्ता) बॉलीवुड अभिनेता कियारा आडवाणी का कहना है कि वह ज्योतिष में नही बल्कि मेहनत और नसीब में विश्वास रखती है।

समानांतर

समानांतर सिनेमा को पहचान दिलायी श्याम बेनेगल ने

..जन्मदिवस 14 दिसंबर के अवसर पर..
मुंबई 14 दिसंबर (वार्ता) भारतीय सिनेमा जगत में श्याम बेनेगल का नाम एक ऐसे फिल्मकार के रूप में शुमार किया जाता है जिन्होंने न सिर्फ सामानांतर सिनेमा को पहचान दिलायी बल्कि स्मिता पाटिल, शबाना आजमी और नसीरउद्दीन साह समेत कई सितारों को स्थापित किया।

बालाकोट

बालाकोट एयर स्ट्राइक पर फिल्म बनायेंगे भंसाली

मुंबई, 13 दिसंबर (वार्ता) बॉलीवुड फिल्मकार संजय लीला भंसाली बालाकोट एयर स्ट्राइक पर फिल्म बनाने जा रहे हैं।

राम के किरदार के लिये रिजेक्ट कर दिये गये थे अरुण गोविल

राम के किरदार के लिये रिजेक्ट कर दिये गये थे अरुण गोविल

पटना 27 नवंबर (वार्ता) दूरदर्शन के लोकप्रिय सीरियल रामायण में अपने निभाये किरदार ‘राम’ के जरिये दर्शकों के दिलों पर अमिट छाप छोड़ने वाले अरुण गोविल का कहना है कि पहले उन्हें राम के किरदार के लिये रिजेक्ट कर दिया गया था।

दिल्ली में भी होगा फिल्म उद्योग, डियोरामा अंतरराष्ट्रीय फिल्म समारोह आरंभ

दिल्ली में भी होगा फिल्म उद्योग, डियोरामा अंतरराष्ट्रीय फिल्म समारोह आरंभ

नयी दिल्ली 15 जनवरी (वार्ता) दिल्ली में भी फिल्म उद्योग स्थापित करने के मकसद से पहले डियोरामा अंतरराष्ट्रीय फिल्म समारोह एवं विपणन 2019 की कल रात यहां देश-विदेश के फिल्मी जगत के लोगों की मौजूदगी में शुरूआत हुयी।

स्मिता पाटिल ने समानांतर फिल्मों को नया आयाम दिया

स्मिता पाटिल ने समानांतर फिल्मों को नया आयाम दिया

.. पुण्यतिथि 13 दिसंबर  ..
मुंबई 12 दिसंबर (वार्ता) भारतीय सिनेमा के नभमंडल में स्मिता पाटिल ऐसे ध्रुवतारे की तरह है जिन्होंने अपने सशक्त अभिनय से समानांतर सिनेमा के साथ-साथ व्यावसायिक सिनेमा में भी दर्शकों के बीच अपनी खास पहचान बनायी ।

समानांतर सिनेमा को पहचान दिलायी श्याम बेनेगल ने

समानांतर सिनेमा को पहचान दिलायी श्याम बेनेगल ने

..जन्मदिवस 14 दिसंबर के अवसर पर..
मुंबई 14 दिसंबर (वार्ता) भारतीय सिनेमा जगत में श्याम बेनेगल का नाम एक ऐसे फिल्मकार के रूप में शुमार किया जाता है जिन्होंने न सिर्फ सामानांतर सिनेमा को पहचान दिलायी बल्कि स्मिता पाटिल, शबाना आजमी और नसीरउद्दीन साह समेत कई सितारों को स्थापित किया।

image