Sunday, Sep 20 2020 | Time 12:01 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • पेमा खांडू की जांच रिपोर्ट नेगेटिव
  • कृषि सुधार से किसानों के जीवन में क्रांतिकारी बदलाव आयेगा :तोमर
  • चीन में कोरोना संक्रमण के 10 नये मामले
  • किसानों से जुड़े विधयेक को पारित होने से रोकने में गैर-भाजपा दल एक हो : केजरीवाल
  • एक दिन में 12 लाख से अधिक नमूनों का रिकार्ड परीक्षण
  • विश्व में कोरोना से 3 06 करोड़ संक्रमित, 9 55 लाख की मौत
  • कोरोना संक्रमण के आंकड़े 54 लाख से अधिक
  • देवगौड़ा ने राज्यसभा की सदस्यता की शपथ ली
  • पश्चिम चंपारण से अपराधी गिरफ्तार
  • पश्चिम चंपारण में भारी मात्रा में देशी शराब के साथ कारोबारी गिरफ्तार
  • म्यांमार में भूकंप के झटके
  • पुलवामा , कुलगाम में सुरक्षा बलों का तलाश अभियान
  • एक दिन में 12 लाख से अधिक नमूनों का रिकार्ड परीक्षण
  • चिली में कोरोना के 30 लाख से अधिक नमूनों की पीसीआर जांच
  • ईरान पर संरा के प्रतिबंधों को दोबारा लागू करने का इच्छुक है अमेरिका
मनोरंजन » कला एवं रंगमंच


पहली संगीतकार जोड़ी थी हुस्नलाल-भगतराम की

पहली संगीतकार जोड़ी थी हुस्नलाल-भगतराम की

..पुण्यतिथि 26 नवंबर  ..
मुंबई 25 नवंबर नवंबर (वार्ता) भारतीय फिल्म संगीत जगत में अपनी धुनों के जादू से श्रोताओं को मदहोश करने वाले संगीतकार तो कई हुए और उनका जादू भी श्रोताओं के सर चढ़कर बोला लेकिन उनमें कुछ ऐसे भी थे जो बाद में
गुमनामी के अंधेरे में खो गये और आज उन्हें कोई याद भी नहीं करता।
फिल्म इंडस्ट्री की पहली संगीतकार जोड़ी हुस्नलाल-भगतराम भी ऐसी ही एक प्रतिभा थे।

आवाज की दुनिया के बेताज बादशाह मोहम्मद रफी को प्रारंभिक सफलता दिलाने में हुस्नलाल-भगतराम का अहम योगदान रहा था।
चालीस के दशक कें अंतिम वर्षो में जब मोहम्मद रफी फिल्म इंडस्ट्री में बतौर पार्श्वगायक अपनी पहचान बनाने में लगे थे तो उन्हें काम ही नही मिलता था।
तब हुस्नलाल-भगतराम की जोड़ी ने उन्हें एक गैर फिल्मी गीत गाने का अवसर दिया था।

वर्ष 1948 में महात्मा गांधी की हत्या के बाद इस जोड़ी ने मोहम्मद रफी को राजेन्द्र कृष्ण रचित गीत ..सुनो सुनो ऐ दुनिया वालो बापू की अमर कहानी..गाने का अवसर दिया।
देशभक्ति के जज्बे से परिपूर्ण यह गीत श्रोताओं में काफी लोकप्रिय हुआ।
इसके बाद अन्य संगीतकार भी मोहम्मद रफी की प्रतिभा को पहचानकर उनकी तरफ आकर्षित हुये और अपनी फिल्मों में उन्हें गाने का मौका देने लगे।

मोहम्मद रफी हुस्नलाल-भगतराम के संगीत बनाने के अंदाज से काफी प्रभावित थे और उन्होंने कई मौकों पर इस बात का जिक्र भी किया है।
मोहम्मद रफी सुबह चार बजे ही इस संगीतकार जोडी के घर तानपुरा लेकर चले जाते थे जहां वह संगीत का रियाज किया करते थे।

हुस्नलाल-भगतराम ने मोहम्मद रफी के अलावा कई अन्य संगीतकारों को पहचान दिलाने में अहम भूमिका निभायी थी।
सुप्रसिद्ध संगीतकार जोड़ी शंकर-जयकिशन ने हुस्नलाल-भगतराम से ही संगीत की शिक्षा हासिल की थी।
मशहूर
संगीतकार लक्ष्मीकांत भी हुस्नलाल-भगतराम से वायलिन बजाना सीखा करते थे।

छोटे भाई हुस्नलाल का जन्म 1920 में पंजाब में जालंधर जिले के कहमां गावं में हुआ था जबकि बड़े भाई भगतराम का जन्म भी इसी गांव में वर्ष 1914 में हुआ था।
बचपन से ही दोनों का रूझान संगीत की ओर था।
हुस्नलाल वायलिन और भगतराम हारमोनियम बजाने में रूचि रखते थे।
हुस्नलाल और भगतराम ने संगीत की प्रारंभिक शिक्षा अपने बड़े भाई और संगीतकार पंडित अमरनाथ से हासिल की।
इसके अलावा उन्होंने पंडित दिलीप चंद बेदी से से भी शास्त्रीय संगीत की शिक्षा ली थी।

वर्ष 1930-1940 के दौरान संगीत निर्देशक शास्त्रीय संगीत की राग-रागिनी पर आधारित संगीत दिया करते थे।
हुस्नलाल-भगतराम इसके पक्ष में नहीं थे।
उन्होंने शास्त्रीय संगीत में पंजाबी धुनों का मिश्रण करके एक अलग तरह का संगीत देने का प्रयास दिया और उनका यह प्रयास काफी सफल भी रहा।

हुस्नलाल-भगतराम ने अपने सिने कैरियर की शुरूआत वर्ष 1944 में प्रदर्शित फिल्म ‘चांद’ से की।
इस फिल्म में उनके संगीतबद्ध गीत ..दो दिलों की ये दुनिया ..श्रोताओं में काफी लोकप्रिय हुये लेकिन फिल्म की असफलता के कारण संगीतकार के रूप में वे अपनी खास पहचान नही बना सके।

वर्ष 1948 में प्रदर्शित फिल्म ‘प्यार की जीत’ में अपने संगीतबद्ध गीत ..एक दिल के टुकड़े हजार हुये ..की सफलता के बाद हुस्नलाल-भगतराम फिल्म इंडस्ट्री में अपनी पहचान बनाने में कामयाब हो गये।
मोहम्मद रफी की आवाज में कमर जलालाबादी रचित यह गीत आज भी रफी के दर्द भरे गीतों में विशिष्ट स्थान रखता है लेकिन दिलचस्प बात यह है कि हुस्नलाल-भगतराम ने यह गीत फिल्म ‘प्यार की जीत’ के लिये नही बल्कि फिल्म ‘सिंदूर’ के लिये संगीतबद्ध किया था।

फिल्म ‘सिंदूर’ के निर्माण के समय जब हुस्नलाल-भगतराम ने फिल्म निर्माता शशिधर मुखर्जी को यह गीत सुनाया तो उन्होंने इसे अनुपयोगी बताकर फिल्म में शामिल करने से मना कर दिया।
बाद में निर्माता ओ.पी. दत्ता ने इस गीत को अपनी फिल्म ‘प्यार की जीत’ में इस्तेमाल किया ।

वर्ष 1950 में प्रदर्शित फिल्म ‘चांद’ में अपने संगीतबद्ध गीत ...चुप चुप खडे हो जरूर कोई बात है .. की सफलता के बाद हुस्नलाल-भगतराम फिल्म इंडस्ट्री में चोटी के संगीतकारों में शुमार हो गये।
इस गीत से जुड़ा एक रोचक तथ्य है कि उस जमाने में गांवो में रामलीला के मंचन से पहले दर्शको की मांग पर इसे अवश्य बजाया जाता था।
लता मंगेशकर और प्रेमलता की युगल आवाज में रचे-बसे इस गीत की तासीर आज भी बरकरार है ।

साठ के दशक मे पाश्चात्य गीत-संगीत की चमक से निर्माता निर्देशक अपने आप को नही बचा सके और धीरे धीरे निर्देशकों ने हुस्नलाल-भगतराम की ओर से अपना मुख मोड़ लिया।
इसके बाद हुस्नालाल दिल्ली चले गये और आकाशवाणी में काम करने लगे जबकि भगतराम मुंबई में ही रहकर छोटे-मोटे स्टेज कार्यक्रम में हिस्सा लेने लगे।
भगतराम 26 नवंबर 1973 को बड़ी ही खामोशी के साथ इस दुनिया को अलविदा कह गये।
हुस्नलाल इससे पहले 28 दिसंबर 1968 को ही चल बसे थे।

 

सोशल

सोशल मीडिया को विषैली और अस्थिर जगह मानती है जैकलीन

मुंबई, 20 सितंबर (वार्ता) बॉलीवुड अभिनेत्री जैकलीन फर्नांडीस सोशल मीडिया को विषैली और अस्थिर जगह मानती है।

रणबीर-श्रद्धा

रणबीर-श्रद्धा की जोड़ी मचायेगी धूम!

मुंबई, 19 सितंबर (वार्ता) बॉलीवुड के रॉकस्टार रणबीर कपूर और श्रद्धा कपूर की जोड़ी सिल्वर स्क्रीन पर धूम मचाती नजर आ सकती है।

ग्राफिक

ग्राफिक नॉवेल पर फिल्म बनायेंगे संजय गुप्ता

मुंबई, 18 सितंबर (वार्ता) बॉलीवुड के जाने-माने फिल्मकार संजय गुप्ता ग्राफिक नॉवेल ‘रक्षक’ पर फिल्म बनाने जा रहे हैं।

अक्षय

अक्षय की 'लक्ष्मी बम' 09 नवंबर को होगी रिलीज

मुंबई, 17 सितंबर (वार्ता) बॉलीवुड के खिलाड़ी कुमार अक्षय कुमार की फिल्म 'लक्ष्मी बम' ओटीटी प्लेटफार्म पर 09 नवंबर को रिलीज होगी।

सोनू

सोनू सूद ने ठगी करने वालों लोगों को दी चेतावनी

मुंबई, 18 सितंबर (वार्ता) बॉलीवुड अभिनेता सोनू सूद ने उनके नाम पर लोगों से ठगी करने वाले लोगों को चेतावनी दी है।

...बस

...बस आगे बढ़ती रहूंगी : आलिया

मुंबई, 16 सितंबर (वार्ता) बॉलीवुड अभिनेत्री आलिया भट्ट ने नेपोटिज्म को लेकर जारी बहस के बीच कहा है कि वह लक्ष्य को लेकर आगे बढ़ती रहेंगी।

रजनीकांत

रजनीकांत की फिल्म में विलेन बनेंगे जैकी श्राफ

मुंबई, 18 सितंबर (वार्ता) बॉलीवुड के स्टाइलिश हीरो जैकी श्राफ दक्षिण भारतीय फिल्मों के महानायक रजनीकांत की फिल्म 'अन्नाथे' में विलेन का किरदार निभाते नजर आयेंगे।

इंस्टाग्राम

इंस्टाग्राम पर जरीन के हुये 90 लाख फॉलोअर्स

मुंबई, 16 सितंबर (वार्ता) बॉलीवुड अभिनेत्री जरीन खान के फॉलोअर्स की संख्या इंस्टाग्राम पर 90 लाख हो गयी है।

स्पोर्ट्स

स्पोर्ट्स ड्रामा फिल्म के लिये 30 करोड़ की फीस लेंगे टाइगर श्रॉफ

मुंबई, 16 सितंबर (वार्ता) बॉलीवुड अभिनेता टाइगर श्राफ अपनी आने वाली स्पोर्ट्स ड्रामा फिल्म के लिये 30 करोड़ की फीस ले सकते हैं।

सिल्वर

सिल्वर स्क्रीन पर फिर धूम मचायेगी अनिल-जैकी की जोड़ी!

मुंबई, 16 सितंबर (वार्ता) बॉलीवुड अभिनेता अनिल कपूर और जैकी श्राफ की सुपरहिट जोड़ी सिल्वर स्क्रीन पर फिर से धूम मचाती नजर आ सकती है।

राम मंदिर शिलान्यास से स्वर्णिम अक्षरों में लिखा जाएगा आज का दिन : अरुण गोविल

राम मंदिर शिलान्यास से स्वर्णिम अक्षरों में लिखा जाएगा आज का दिन : अरुण गोविल

मुंबई, 05 अगस्त (वार्ता) लोकप्रिय टीवी सीरियल ‘रामायण’ में भगवान श्री राम का किरदार निभाने वाले अरूण गोविल का कहना है कि श्रीराम मंदिर के शिलान्यास से पांच अगस्त का दिन इतिहास में स्वर्णिम अक्षरों में दर्ज हो जायेगा।

बालीवुड के ‘याहू्’ स्टार थे शम्मी कपूर

बालीवुड के ‘याहू्’ स्टार थे शम्मी कपूर

..पुण्यतिथि 14 अगस्त के अवसर पर ..
मुंबई 14 अगस्त (वार्ता) बॉलीवुड के ‘याहू्’ स्टार कहे जाने वाले शम्मी कपूर ने उदासी, मायूसी और देवदास नुमा अभिनय की परम्परागत शैली को बिल्कुल नकार करके अपने अभिनय की नयी शैली विकसित कर दर्शकों का मनोरंजन किया।

image