Sunday, Sep 27 2020 | Time 10:10 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • लॉकडाउन में भूले बिसरे गीतकारों के इतिहास पर किताब
  • जसवंत सिंह ने एक कुशल राजनीतिज्ञ के रूप में की देशसेवा: बिरला
  • मोदी ने जसवंत सिंह के निधन पर जताया शोक
  • पूर्व रक्षा मंत्री जसवंत सिंह का निधन
  • पूर्व रक्षा मंत्री जसवंत सिंह का निधन
  • पाकिस्तान में वैन में आग लगने से 13 की मौत, पांच घायल
  • मराठवाड़ा में कोरोना के 1441 नये मामले, 27 की मौत
  • पाकिस्तान: वैन में आग लगने से 13 की मौत
  • उमा भारती कोरोना संक्रमित
  • आज का इतिहास (प्रकाशनार्थ 28 सितंबर)
  • चीन: कार्बन मोनोऑक्साइड की मात्रा बढ़ने से कोयला खदान में 17 लोग फंसे
  • ब्राजील के राष्ट्रपति बोलसोनारो का ऑपरेशन सफल, मिली अस्पताल से छुट्टी
  • ब्रिटेन में कोरोना के 6042 नए मामले साम
  • लेबनान में सुरक्षाबलों के साथ मुठभेड़ में 13 आतंकी ढेर
  • डोनाल्ड ट्रम्प ने कोनी बैरेट को सुप्रीम कोर्ट के नए जज के तौर पर नामित किया
मनोरंजन » कला एवं रंगमंच


फिल्म जगत की पहली संगीतकार जोड़ी थी हुस्नलाल-भगतराम की

फिल्म जगत की पहली संगीतकार जोड़ी थी हुस्नलाल-भगतराम की

(हुस्नलाल की पुण्यतिथि 28 दिसंबर के अवसर पर)
मुंबई 27 दिसंबर (वार्ता) भारतीय फिल्म संगीत जगत में अपनी धुनों के जादू से श्रोताओं को मंत्रमुग्ध करने वाले संगीतकार तो कई हुए और उनका जादू भी श्रोताओं के सर चढ़कर बोला लेकिन उनमें कुछ ऐसे भी थे जो बाद में गुमनामी के अंधेरे में खो गये और आज उन्हें कोई याद भी नहीं करता।
फिल्म इंडस्ट्री की पहली संगीतकार जोड़ी हुस्नलाल-भगतराम भी ऐसी ही एक प्रतिभा थे।

हिन्दी फिल्मों के सुप्रसिद्ध पार्श्वगायक मोहम्मद रफी को प्रारंभिक सफलता दिलाने में हुस्नलाल-भगतराम का अहम योगदान रहा था।
चालीस के दशक के अंतिम वर्षों में जब मोहम्मद रफी फिल्म जगत में बतौर पार्श्वगायक अपनी पहचान बनाने में लगे थे तो उन्हें काम ही नहीं मिलता था।
तब हुस्नलाल-भगतराम की जोड़ी ने उन्हें एक गैर फिल्मी गीत गाने का अवसर दिया था।
वर्ष 1948 में महात्मा गांधी की हत्या के बाद इस जोड़ी ने मोहम्मद रफी को राजेन्द्र कृष्ण रचित गीत “सुनो सुनो ऐ दुनिया वालो बापू की अमर कहानी” गाने का अवसर दिया।
देशभक्ति के जज्बे से परिपूर्ण यह गीत श्रोताओं में काफी लोकप्रिय हुआ।
इसके बाद अन्य संगीतकार भी मोहम्मद रफी की प्रतिभा को पहचानकर उनकी तरफ आकर्षित हुये और अपनी फिल्मों में उन्हें गाने का मौका देने लगे।

मोहम्मद रफी हुस्नलाल-भगतराम के संगीत बनाने के अंदाज से काफी प्रभावित थे और उन्होंने कई मौकों पर इस बात का जिक्र भी किया है।
मोहम्मद रफी सुबह चार बजे ही इस संगीतकार जोड़ी के घर तानपुरा लेकर चले जाते थे जहां वह संगीत का रियाज किया करते थे।
हुस्नलाल-भगतराम ने मोहम्मद रफी के अलावा कई अन्य संगीतकारों को पहचान दिलाने में अहम भूमिका निभायी थी।
सुप्रसिद्ध संगीतकार जोडी शंकर जयकिशन ने हुस्नलाल-भगतराम से ही संगीत की शिक्षा हासिल की थी।
मशहूर संगीतकार लक्ष्मीकांत भी हुस्नलाल-भगतराम से वायलिन बजाना सीखा करते थे।

छोटे भाई हुस्नलाल का जन्म 1920 में पंजाब में जालंधर जिले के कहमां गावं में हुआ था जबकि बडे भाई भगतराम का जन्म भी इसी गांव में वर्ष 1914 में हुआ था।
बचपन से ही दोनों का रूझान संगीत की ओर था।
हुस्नलाल वायलिन और भगतराम हारमोनियम बजाने में रूचि रखते थे।
हुस्नलाल और भगतराम ने संगीत की प्रारंभिक शिक्षा अपने बडे भाई और संगीतकार पंडित अमरनाथ से हासिल की।
इसके अलावा उन्होंने पंडित दिलीप चंद बेदी से से भी शास्त्रीय संगीत की शिक्षा ली थी।

      वर्ष 1930-1940 के दौरान संगीत निर्देशक शास्त्रीय संगीत की राग-रागिनी पर आधारित संगीत दिया करते थे।
हुस्नलाल-भगतराम इसके पक्ष में नहीं थे।
उन्होंने शास्त्रीय संगीत में पंजाबी धुनों का मिश्रण करके एक अलग तरह का संगीत देने का प्रयास दिया और उनका यह प्रयास काफी सफल भी रहा।
उन्होंने अपने सिने करियर की शुरूआत वर्ष 1944 में प्रदर्शित फिल्म “चांद” से की।
इस फिल्म में उनके संगीतबद्ध गीत “दो दिलों की ये दुनिया” श्रोताओं में काफी लोकप्रिय हुये लेकिन फिल्म की असफलता के कारण संगीतकार के रूप में वे अपनी खास पहचान नहीं बना सके।

वर्ष 1948 में प्रदर्शित फिल्म “प्यार की जीत” में अपने संगीतबद्ध गीत “एक दिल के टुकड़े हजार हुये” की सफलता के बाद हुस्नलाल-भगतराम फिल्म जगत में अपनी पहचान बनाने में कामयाब हो गये।
मोहम्मद रफी की आवाज में कमर जलालाबादी रचित यह गीत आज भी रफी के दर्द भरे गीतों में विशिष्ट स्थान रखता है लेकिन दिलचस्प बात यह है कि हुस्नलाल-भगतराम ने यह गीत फिल्म “प्यार की जीत” के लिये नही बल्कि फिल्म “सिंदूर” के लिये संगीतबद्ध किया था।

फिल्म “सिंदूर” के निर्माण के समय जब हुस्नलाल-भगतराम ने फिल्म निर्माता शशिधर मुखर्जी को यह गीत सुनाया तो उन्होंने इसे अनुपयोगी बताकर फिल्म में शामिल करने से मना कर दिया।
बाद मे निर्माता ओ. पी. दत्ता ने इस गीत को अपनी फिल्म “प्यार की जीत” में इस्तेमाल किया।
वर्ष 1950 में प्रदर्शित फिल्म “चांद” में अपने संगीतबद्ध गीत “चुप चुप खडे हो जरूर कोई बात है” की सफलता के बाद यह जोड़ी फिल्म जगत में चोटी के संगीतकारो में शुमार हो गयी।
इस गीत से जुड़ा एक रोचक तथ्य है कि उस जमाने में गांवों में रामलीला के मंचन से पहले दर्शको की मांग पर इसे अवश्य बजाया जाता था।
लता मंगेशकर और प्रेमलता की युगल आवाज में रचे-बसे इस गीत की तासीर आज भी बरकरार है ।

साठ के दशक मे पाश्चात्य गीत.संगीत की चमक से निर्माता निर्देशक अपने आप को नही बचा सके और धीरे धीरे निर्देशकों ने हुस्नलाल-भगतराम की ओर से अपना मुख मोड़ लिया।
इसके बाद हुस्नालाल दिल्ली चले गये और आकाशवाणी में काम करने लगे जबकि भगतराम मुंबई में ही रहकर छोटे-मोटे स्टेज कार्यक्रम में हिस्सा लेने लगे।
अपनी मधुर धनु से श्रोताओं को मंत्रमुग्ध करने वाले हुस्नलाल 28 दिसंबर 1968 को इस दुनिया को अलविदा कह गये।

मां

मां से दस महीने बाद मिलकर खुश है जैकलीन

मुंबई, 26 सितंबर (वार्ता) बॉलीवुड अभिनेत्री जैकलीन फर्नांडीस दस महीने बाद अपनी मां से मिलकर बहुत खुश हैं।

सात

सात साल से बीमारी से जूझ रही हैं सोनम कपूर

मुंबई, 26 सितंबर (वार्ता) बॉलीवुड अभिनेत्री सोनम कपूर सात सालों से एक बीमारी से जूझ रही है।

सोनीलिव

सोनीलिव के ‘केबीसी प्ले अलॉन्ग’ ने केबीसी 12 के साथ दर्शकों की खुशियां बढ़ाईं

मुंबई, 26 सितंबर (वार्ता) सोनी पिक्चर्स नेटवर्क डिजिटल प्लेटफार्म सोनीलिव ने ‘केबीसी प्ले अलॉन्ग’ के अंतर्गत ‘हर दिन 10 लखपति’ की अभूतपूर्व पेशकश के साथ लोगों को घर पर रहकर इनाम जीतने का ऑफर दिया है।

आलिया-रणबीर

आलिया-रणबीर को दर्शकों ने स्टार बनाया : विक्रम भट्ट

मुंबई, 23 सितंबर (वार्ता) बॉलीवुड फिल्मकार विक्रम भट्ट ने आलिया भट्ट और रणबीर कपूर का नाम नेपोटिज्म को लेकर घसीटे जाने पर उनका बचाव करते हुये कहा है कि दर्शकों ने उन्हें स्टार बनाया है।

तीन

तीन दशक में काम से लंबा ब्रेक नहीं लिया: सलमान

मुंबई, 25 सितंबर (वार्ता) बॉलीवुड के दबंग स्टार सलमान खान का कहना है कि उन्होंने पिछले 30 वर्षों में काम से इतना लंबा ब्रेक नहीं लिया है।

टाइगर

टाइगर श्रॉफ का पहला गाना ‘अनबिलिवेबल’ रिलीज

मुंबई, 23 सितंबर (वार्ता) बॉलीवुड के एक्शन स्टार टाइगर श्रॉफ का पहला गाना ‘अनबिलिवेबल’ रिलीज हो गया है।

इंस्टाग्राम

इंस्टाग्राम पर दिशा पाटनी के हुये 40 मिलियन फॉलोअर्स

मुंबई, 25 सितंबर (वार्ता) बॉलीवुड अभिनेत्री दिशा पाटनी के फॉलोअर्स की संख्या इंस्टाग्राम पर 40 मिलियन हो गयी है।

टाइम 100

'टाइम 100' की लिस्ट में शामिल हुये आयुष्मान

मुंबई, 23 सितंबर (वार्ता) बॉलीवुड अभिनेता आयुष्मान खुराना को टाइम 100 की सबसे प्रभावशाली लोगों की साल 2020 की सूची में शामिल किया गया है।

इंजीनियर

इंजीनियर बनना चाहते थे एसपी बालासुब्रमण्यम

मुंबई, 25 सितंबर (वार्ता) अपनी आवाज के जादू से करीब पांच दशक तक श्रोताओं को मंत्रमुग्ध करने वाले एसपी बालासुब्रमण्यम इंजीनियर बनना चाहते थे।

कार्तिक

कार्तिक ने 75 करोड़ में साइन की तीन फिल्मों की डील!

मुंबई, 22 सितंबर (वार्ता) बॉलीवुड अभिनेता कार्तिक आर्यन के तीन फिल्मों के लिये 75 करोड़ में डील साइन किये जाने की चर्चा है।

राम मंदिर शिलान्यास से स्वर्णिम अक्षरों में लिखा जाएगा आज का दिन : अरुण गोविल

राम मंदिर शिलान्यास से स्वर्णिम अक्षरों में लिखा जाएगा आज का दिन : अरुण गोविल

मुंबई, 05 अगस्त (वार्ता) लोकप्रिय टीवी सीरियल ‘रामायण’ में भगवान श्री राम का किरदार निभाने वाले अरूण गोविल का कहना है कि श्रीराम मंदिर के शिलान्यास से पांच अगस्त का दिन इतिहास में स्वर्णिम अक्षरों में दर्ज हो जायेगा।

बालीवुड के ‘याहू्’ स्टार थे शम्मी कपूर

बालीवुड के ‘याहू्’ स्टार थे शम्मी कपूर

..पुण्यतिथि 14 अगस्त के अवसर पर ..
मुंबई 14 अगस्त (वार्ता) बॉलीवुड के ‘याहू्’ स्टार कहे जाने वाले शम्मी कपूर ने उदासी, मायूसी और देवदास नुमा अभिनय की परम्परागत शैली को बिल्कुल नकार करके अपने अभिनय की नयी शैली विकसित कर दर्शकों का मनोरंजन किया।

image