Monday, Feb 17 2020 | Time 04:46 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • अज्ञात कैमिकल लीक होने से पाकिस्तान में पांच की मौत
  • यूएई में कोरोना वायरस का नौंवां मामला सामने आया
  • यमन में धमाके में चार नागरिकों की मौत
  • टोरंटो में गोलीबारी में एक व्यक्ति घायल
  • सऊदी अरब यमन में आक्रमकण नहीं करे : रुहानी
  • दवाब में अमेरिका से बातचीत नहीं करेंगे : रुहानी
  • सीएए के विरोध में प्रस्ताव पास करेगा तेलंगाना
मनोरंजन » कला एवं रंगमंच


बहुमुखी प्रतिभा के धनी थे सी. रामचंद्र

बहुमुखी प्रतिभा के धनी थे सी. रामचंद्र

.. पुण्यतिथि 05 जनवरी  .
मुंबई, 04 जनवरी (वार्ता) बॉलीवुड में सी.रामचंद्र का नाम एक ऐसी शख्सियत के तौर पर याद किया जाता है जिन्होंने न केवल संगीत निर्देशन की प्रतिभा से बल्कि गायकी, फिल्म निर्माण, निर्देशन और अभिनय से भी सिने प्रेमियों को अपना दीवाना बनाये रखा।

फिल्म जगत में ‘अन्ना साहब’ के नाम से मशहूर सी.रामचंद्र से फिल्मों से जुड़ी कोई भी विधा अछूती नहीं रही।
वर्ष 1918 में महाराष्ट्र के अहमदनगर जिले के एक छोटे से गांव पुंतबा में जन्मे सी.रामचंद्र का रूझान बचपन से ही संगीत की ओर था।
उन्होंने संगीत की प्रारंभिक शिक्षा गंधर्व महाविद्यालय के विनाय कबुआ पटवर्धन से हासिल की।
सी.रामचंद्र ने अपने सिने कैरियर की शुरूआत बतौर अभिनेता यू.भी.राव की फिल्म ‘नागानंद’ से की।
उसी दौरान उन्हें मिनर्वा मूवीटोन की निर्मित कुछ फिल्मों में अभिनय करने का मौका मिला।
तभी उनकी मुलाकात महान निर्माता निर्देशक सोहराब मोदी से हुयी।
सोहराब मोदी ने सी.रामचंद्र को सलाह दी कि यदि वह अभिनय के बजाय संगीत की ओर ध्यान दें तो फिल्म इंडस्ट्री में सफल हो सकते है ।

इसके बाद सी.रामचंद्र मिनर्वा मूविटोन के संगीतकार बिंदु खान और हबीब खान के ग्रुप में शामिल हो गये और बतौर हारमोनियम वादक काम करने लगे।
बतौर संगीतकार उन्हें सबसे पहले एक तमिल फिल्म में काम करने का मौका मिला।
वर्ष 1942 में प्रदर्शित फिल्म ‘सुखी जीवन’ की सफलता के बाद रामचंद्र कुछ हद तक बतौर संगीतकार फिल्म इंडस्ट्री में अपनी पहचान बनाने में सफल रहे।
चालीस के दशक में रामचंद्र ने संगीतकार के रूप में जिन फिल्मों को संगीतबद्ध किया उनमें ‘सावन’, ‘शहनाई’, ‘पतंगा’, ‘समाधि’ एवं ‘सरगम’ प्रमुख रही।

वर्ष 1951 में रामचंद्र को भगवान दादा की निर्मित फिल्म ‘अलबेला’ में संगीत देने का मौका मिला।
फिल्म अलबेला में अपने संगीतबद्ध गीतों की कामयाबी के बाद रामचंद्र बतौर संगीतकार फिल्मी दुनिया में अपनी पहचान बनाने मे सफल हो गये।
यूं तो फिल्म ‘अलबेला’ में उनके संगीतबद्ध सभी गाने सुपरहिट हुये लेकिन खासकर ‘शोला जो भड़के दिल मेरा धड़के’, ‘भोली सूरत दिल के खोटे नाम बड़े और दर्शन छोटे’, ‘मेरे पिया गये रंगून किया है वहां से टेलीफून’ ने पूरे भारत वर्ष में धूम मचा दी।
वर्ष 1953 में प्रदीप कुमार, बीना राय अभिनीत फिल्म ‘अनारकली’ की सफलता के बाद रामचंद्र शोहरत की बुंलदियों पर जा पहुंचे।
फिल्म अनारकली में उनके संगीत से सजे ये गीत ‘जाग दर्द इश्क जाग’, ‘ये जिंदगी उसी की है’ श्रोताओं के बीच आज भी लोकप्रिय है ।

वर्ष 1953 में रामचंद्र ने फिल्म निर्माण के क्षेत्र में भी कदम रखा और ‘न्यू सांई प्रोडक्शन’ का निर्माण किया जिसके बैनर तले उन्होंने ‘झंझार’, ‘लहरें’ और ‘दुनिया गोल’ है जैसी फिल्मों का निर्माण किया लेकिन दुर्भाग्य से इनमें से कोई भी फिल्म बॉक्स ऑफिस पर सफल नही हुयी जिससे उन्हें काफी आर्थिक नुकसान झेलना पड़ा।
इसके बाद उन्होंने फिल्म निर्माण से तौबा कर ली और अपना ध्यान संगीत की ओर लगाना शुरू कर दिया।

वर्ष 1954 मे प्रदर्शित फिल्म ‘नास्तिक’ में उनके संगीतबद्ध गीत ‘देख तेरे संसार की हालत क्या हो गयी भगवान कितना बदल गया इंसान’ समाज में बढ़ रही कुरीतियों पर उनका सीधा प्रहार था।
पचास के दशक में स्वर साम्राग्यी लता मंगेश्कर ने संगीतकार रामचन्द्र की धुनों पर कई गीत गाये।
फिल्म ‘अनारकली’ के गीत ‘ये जिंदगी उसी की है’, ‘जाग दर्दे इश्क जाग’ जैसे गीत इन दोनों फनकारों की जोड़ी की बेहतरीन मिसाल है।

साठ के दशक मे पाश्चात्य गीत संगीत की चमक से फिल्मकार अपने आप को नहीं बचा सके और धीरे धीरे निर्देशकों ने रामचंद्र की ओर से अपना मुख मोड़ लिया लेकिन वर्ष 1958 में प्रदर्शित फिल्म ‘तलाक’ और वर्ष 1959 में प्रदर्शित फिल्म ‘पैगाम’ में उनके संगीतबद्ध गीत ‘इंसान का इंसान से हो भाईचारा’ की कामयाबी के बाद रामचंद्र एक बार फिर से अपनी खोयी हुई लोकप्रियता पाने में सफल हो गये।

वर्ष 1962 में देश के वीरों को श्रद्धाजंलि देने के लिये कवि प्रदीप ने ‘ऐ मेरे वतन के लोगों जरा आंख में भर लो पानी’ गीत की रचना की और उसका संगीत बनाने की जिम्मेदारी रामचंद्र को दी।
रामचंद्र के संगीत निर्देशन में एक कार्यक्रम के दौरान लता मंगेश्कर की आवाज में देशभक्ति की भावना से परिपूर्ण इस गीत को सुनकर तत्कालीन प्रधानमंत्री जवाहर लाल नेहरू की आंखों मे आंसू छलक आये थे।
इसे आज भी भारत के महान देशभक्ति गीत के रूप मे याद किया जाता है।

साठ के दशक में रामचंद्र ने ‘धनंजय’ और ‘घरकुल’ जैसी मराठी फिल्मों का निर्माण किया।
रामचंद्र ने इन फिल्मों में अभिनय और संगीत निर्देशन भी किया।
संगीत निर्देशन के अलावे रामचंद्र ने अपने पार्श्वगायन से भी श्रोताओं को मंत्रमुग्ध किया।
इन गीतों में ’मेरी जान मेरी जान संडे के संडे’, ‘शहनाई’, ‘कदम कदम बढ़ाये जा खुशी के गीत गाये जा’, ‘समाधि’, ‘भोली सूरत दिल के खोटे नाम बड़े और दर्शन छोटे’, ‘शोला जो भड़के दिल मेरा धड़के’, ‘अलबेला’, ‘कितना हसीं है मौसम कितना हसीं सफर है’, ‘आजाद’, ‘अरे जा रे हट नटखट ना छू रे मेरा घूंघट’ नवरंग आदि न भूलने वाले गीत शामिल है।
रामचंद्र ने अपने चार दशक लंबे सिने कैरियर में लगभग 150 फिल्मों को संगीतबद्ध किया।
उन्होंने हिंदी फिल्मों के अलावा तमिल, मराठी, तेलगु और भोजपुरी फिल्मों को भी संगीतबद्ध किया।
अपने संगीतबद्ध गीतों से श्रोताओं के दिलों में खास पहचान बनाने वाले संगीतकार रामचंद्र पांच जनवरी 1982 को इस दुनिया को अलविदा कह गये।

 

फिल्मफेयर

फिल्मफेयर अवार्ड में गली बॉय ने मचायी धूम ,रणवीर और आलिया बने विनर

मुंबई, 16 फरवरी (वार्ता) बॉलीवुड अभिनेता रणवीर सिंह और आलिया भट्ट को फिल्म ‘गली बॉय’ के लिये 65 वें फिल्म फेयर अवार्ड समारोह में सर्वश्रेष्ठ अभिनेता और अभिनेत्री का पुरस्कार दिया गया है।

सिद्धार्थ

सिद्धार्थ शुक्ला बने बिगबॉस सीजन 13 के विनर

मुंबई 16 फरवरी (वार्ता) टीवी के जाने माने अभिनेता सिद्धार्थ शुक्ला बिगबॉस सीजन 13 के विजेता बन गये हैं।

एकता

एकता कपूर की वेबसीरीज में काम करेंगे अर्सलान गोनी

मुंबई 15 फरवरी (वार्ता) बॉलीवुड अभिनेता अर्सलान गोनी ,एकता कपूर की वेबसीरीज में काम करने जा रहे हैं।

ब्राज़ीलियाई

ब्राज़ीलियाई एक्ट्रेस और मॉडल लैरिसा बोन्सी को लांच करेंगे सलमान खान

मुंबई 15 फरवरी (वार्ता) बॉलीवुड के दबंग स्टार सलमान खान ब्राज़ीलियाई एक्ट्रेस और मॉडल लैरिसा बोन्सी को लांच करने जा रहे हैं।

खेसारीलाल

खेसारीलाल यादव की फिल्‍म मेंहंदी लगाके रखना 3 का ट्रेलर रिलीज

मुंबई 15 फरवरी (वार्ता) भोजपुरी सिनेमा के सुपरस्टार खेसारी लाल यादव की आने वाली फिल्म ‘मेहंदी लगाके रखना 3’ का ट्रेलर रिलीज हो गया है।

राधे

राधे में अपना फेमस डायलॉग बोलते नजर आएंगे सलमान खान!

मुंबई 15 फरवरी (वार्ता) बॉलीवुड के दबंग स्टार सलमान खान अपनी आने वाली फिल्म ‘राधे: योर मोस्ट वॉन्टेड भाई’ में अपना फेमस डायलॉग बोलते नजर आ सकते हैं।

शाहरुख-सलमान

शाहरुख-सलमान के गानों पर परफॉर्म करेंगे कार्तिक आर्यन

मुंबई 15 फरवरी (वार्ता) बॉलीवुड अभिनेता कार्तिक आर्यन, शाहरूख खान और सलमान खान के गानों पर फिल्मफेयर अवार्डस में परफार्म करने जा रहे हैं।

अपने

अपने बेटों को जबरस्ती फिल्मों में लॉन्च नहीं करेंगी माधुरी दीक्षित

मुंबई 14 फरवरी (वार्ता) बॉलीवुड की धकधक गर्ल माधुरी दीक्षित अपने बेटों को जबरदस्ती फिल्मों में लॉन्च नहीं करेंगी।

अपनी

अपनी फिल्मों से खास पहचान बनायी आशुतोष गोवारिकर ने

..जन्मदिवस 15 फरवरी  ..
मुबई 14 फरवरी(वार्ता)बॉलीवुड में आशुतोष गोवारिकर का नाम एक ऐसे फिल्मकार के रूप में लिया जाता है जिन्होंने अपनी निर्मित.निर्देशित फिल्मों के जरिये दर्शकों के दिलो में खास पहचान बनायी है।

बहुमुखी

बहुमुखी प्रतिभा के धनी है रणधीर कपूर

..जन्मदिन 15 फरवरी ..
मुंबई 14 फरवरी (वार्ता)बॉलीवुड में रणधीर कपूर को एक ऐसी शख्सियत के तौर पर शुमार किया जाता है जिन्होंने न सिर्फ अभिनय के क्षेत्र में बल्कि फिल्म निर्माण और निर्देशन के जरिये भी दर्शकों को अपना दीवाना बनाया है।

बहुमुखी प्रतिभा के धनी थे कमाल अमरोही

बहुमुखी प्रतिभा के धनी थे कमाल अमरोही

...पुण्यतिथि 11 फरवरी के अवसर पर ..
मुंबई 10 फरवरी (वार्ता) बॉलीवुड में कमाल अमरोही का नाम एक ऐसी शख्सियत के रूप में याद किया जाता है जिन्होंने बेहतरीन गीतकार,पटकथा और संवाद लेखक तथा निर्माता एवं निर्देशक के रूप में भारतीय सिनेमा पर अपनी अमिट छाप छोड़ी।

खलनायकी की दुनिया में खास पहचान बनायी प्राण ने

खलनायकी की दुनिया में खास पहचान बनायी प्राण ने

..जन्मदिवस 12 फरवरी के अवसर पर ..
मुंबई, 11 फरवरी (वार्ता) बॉलीवुड में प्राण एक ऐसे खलनायक थे जिन्होंने 50 और 70 के दशक के बीच फिल्म इंडस्ट्री पर खलनायकी के क्षेत्र में एकछत्र राज किया और अपने अभिनय का लोहा मनवाया।

image