Friday, Apr 10 2020 | Time 11:23 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • कोरोना के खिलाफ बेहतर काम करने वाले पुलिसकर्मी होंगे सम्मानित
  • न्यूजीलैंड में कोरोना से दूसरी मौत
  • फसल खरीद के दौरान किसानों की सुविधा के लिये हैल्पलाईन
  • सीवान में दो और कोरोना पॉजिटिव, बिहार में संक्रमितों की संख्या हुई 60
  • मोदी और केजरीवाल ने गुड फ्राइडे पर किया यीशु को याद
  • कोरोना पीड़ितों और नियंत्रण में लगे मैडीकल कर्मियों को मिलेगा दुगुना वेतन
  • असम में कोरोना से पहली मौत
  • महाराष्ट्र की कई जेलों में संपूर्ण लॉकडाउन
  • कोरोना के कारण महाराष्ट्र में सर्वाधिक 97 की मौत, 1364 संक्रमित
  • दक्षिण अफ्रीका में लॉकडाउन की अवधि दो सप्ताह बढ़ी
  • देश में कोरोना से 199 की मौत, 6412 संक्रमित
  • आज का इतिहास (प्रकाशनार्थ 11 अप्रैल)
  • कोरोना : विश्व में 95080 लोगों की मौत, 15 92 लाख संक्रमित
  • एएसआई ने गले में फंदा लगाकर की आत्महत्या
  • ट्रम्प ने तेल उत्पादन को लेकर पुतिन और सऊदी के शाह से की चर्चा
मनोरंजन » कला एवं रंगमंच


अभिनेता बनना चाहते थे जयदेव

अभिनेता बनना चाहते थे जयदेव

.पुण्यतिथि 06 जनवरी  ..
मुंबई 05 जनवरी (वार्ता) अपने संगीतबद्ध गीतों से श्रोताओं को मंत्रमुग्ध करने वाले संगीतकार जयदेव अभिनेता बनना चाहते थे।

03 अगस्त 1919 को लुधियाना में जन्मे जयदेव का रूझान बचपन के दिनों से ही फिल्मों की ओर था।
जयदेव अभिनेता के रूप मे अपनी पहचान बनाना चाहते थे।
अपने सपने को पूरा करने के लिये वह 15 वर्ष की उम्र में ही घर से
भागकर फिल्म नगरी मुंबई आये जहां उन्हें बतौर बाल कलाकार ..वाडिया फिल्म्स..निर्मित आठ फिल्मों में अभिनय करने का मौका मिला।
इस बीच जयदेव ने कृष्णाराव और जर्नादन राव से संगीत की शिक्षा भी ली।
कुछ वर्षो के पश्चात जयदेव अपने पिता की बीमारी के कारण मुंबई फिल्म इंडस्ट्री को छोड़ वापस अपने घर लुधियाना लौट गये।

पिता की अकस्मात मृत्यु के बाद परिवार और बहन की देखभाल की सारी जिम्मेदारी जयदेव पर आ गयी।
बहन की शादी के बाद वर्ष 1943 में वह लखनऊ चले गये और वहां उन्होंनें उस्ताद अली अकबर खान से संगीत की शिक्षा हासिल की।
बचपन से ही मजबूत इरादे वाले जयदेव अपने सपनों को साकार करने के लिये एक नये जोश के साथ फिर मुंबई पहुंचे।
वर्ष 1951 में जयदेव को नवकेतन के बैनर तले निर्मित बनी फिल्म ..आंधिया .. में सहायक संगीतीकार काम करने का मौका मिला ।
इसके बाद जयदेव ने महान संगीतकार एस.डी.बर्मन के सहायक के रूप में भी काम किया ।

इस बीच जयदेव ने अपना संघर्ष जारी रखा।
शायद नियति को यह मंजूर था कि जयदेव संगीतकार ही बने इसलिये चेतन आंनद ने उन्हें अपनी ही फिल्म ..जोरू का भाई ..में संगीतकार के रूप मे काम करने का मौका दिया ।
इस
फिल्म के जरिये पहचान बनाने मे वह भले ही सफल नहीं हो पाये लेकिन एक संगीतकार के रूप मे उन्होनें अपने सिने करियर का सफर शुरू कर दिया।

इसके बाद चेतन आंनद की ही फिल्म ..अंजली ..की कामयाबी के बाद जयदेव बतौर संगीतकार फिल्म इंडस्ट्री में अपनी पहचान बनाने में कामयाब हो गये।
वर्ष 1961 में प्रदर्शित नवकेतन के बैनर तले निर्मित फिल्म ..हमदोनों ..की कामयाबी के बाद जयेदव बतौर संगीतकार सफलता के शिखर पर जा पहुंचे।
यूं तो फिल्म ..हमदोनों ..में उनके संगीत से सजे सारे गाने हिट साबित हुये लेकिन फिल्म का यह गीत ..अल्लाह तेरो नाम ..श्रोताओं के बीच आज भी लोकप्रिय है।

वर्ष 1963 में सुनील दत्त के बैनर अजंता आर्टस निर्मित फिल्म..मुझे जीने दो .. जयदेव के सिने करियर की एक और अहम फिल्म साबित हुई।
इस फिल्म में जयदेव ने फिल्म ..हम दोनों .. के बाद एक बार फिर से गीतकार साहिर लुधियानवी के साथ मिलकर काम किया और .. रात भी है कुछ भींगी भींगी ..और .. तेरे बचपन को जवानी जीने की दुआये देती हूँ .. जैसे सुपरहिट गीतों से श्रोताओं को मंत्रमुग्ध किया ।

श्रोताओं को हमेशा कुछ नया देने के उद्देश्य से वह अपनी फिल्मों के संगीतबद्ध गीतों में प्रयोग किया करते थे और ऐसा ही प्रयोग उन्होंने वर्ष 1963 में प्रदर्शित फिल्म ..किनारे किनारे ..में भी किया ।
फिल्म किनारे ..किनारे के माध्यम से उन्होंने अभिनेता देवानंद पर फिल्माये गानों के पार्श्वगायन के लिये तलत महमूद.मोहम्मद.रफी मन्ना डे और मुकेश की आवाज का इस्तेमाल किया ।
सत्तर के दशक में जयदेव की फिल्में व्यावसायिक तौर पर सफल नहीं रही ।
इसके बाद निर्माता .निर्देशकों ने जयदेव की ओर से अपना मुख मोड लिया लेकिन वर्ष 1977 मे प्रदर्शित फिल्म ..घरौंदा ..और वर्ष 1979 में प्रदर्शित फिल्म .गमन .में उनके संगीतबद्ध गीत की कामयाबी के बाद जयदेव एक बार फिर से अपनी खोयी हुई लोकप्रियता पाने में सफल हो गये ।

जयदेव को मिले सम्मानों पर यदि नजर डालें तो उन्हें उनके संगीतबद्ध गीतों के लिये तीन बार राष्ट्रीय पुरस्कार से सम्मानित किया गया।
फिल्मी गीतों के अलावा जयदेव ने गैर फिल्मी गीतों को भी संगीतबद्ध किया।
इनमें प्रख्यात कवि हरिवंश राय बच्चन की मधुशाला के गीत भी शामिल हैं।
अपने संगीतबद्ध गीतों से श्रोताओं के दिलों में खास पहचान बनाने
वाले महान संगीतकार जयदेव 06 जनवरी 1987 को इस दुनिया को अलविदा कह गये ।

 

लॉकडाउन

लॉकडाउन में स्क्रिप्ट लिख रहे हैं सलीम खान

मुंबई 10 अप्रैल (वार्ता) बॉलीवुड के जाने माने लेखक सलीम खान लॉकडाउन में स्क्रिप्ट लिख रहे हैं।

मसक्कली

मसक्कली गाना के रीमेक से खुश नहीं हैं रहमान

मुंबई 09 अप्रैल (वार्ता) बॉलीवुड के जाने माने संगीतकार और गायक ए. आर. रहमान मसक्कली गाने के रीमेक से खुश नहीं हैं।

365

365 दिन काम करती है तमन्ना भाटिया

मुंबई 09 अप्रैल (वार्ता) जानी मानी अभिनेत्री तमन्ना भाटिया का कहना है कि वह बेरोजगार नहीं हैं और साल के 365 दिन काम करती हैं।

सलमान

सलमान के कहने पर गोविंदा ने छोड़ी थी जुड़वा

मुंबई 09 अप्रैल (वार्ता) बॉलीवुड अभिनेता गोविंदा का कहना है कि उन्होंने सलमान खान के कहने पर जुड़वा फिल्म में काम करने से मना कर दिया था।

अजय

अजय देवगन ने मुंबई पुलिस की तारीफ की

मुंबई 09 अप्रैल (वार्ता) बॉलीवुड के सिंघम स्टार अजय देवगन ने मुंबई पुलिस की तारीफ की है।

1.2

1.2 लाख लोगों को खाना मुहैया करवाएंगे ऋतिक रौशन

मुंबई 08 अप्रैल (वार्ता) बॉलीवुड के माचो मैन ऋतिक रोशन कोरोना वायरस महामारी में 1.2 लाख जरूरतमंद लोगों को खाना मुहैया करवा रहे हैं।

60

60 हजार दिहाड़ी मजदूर की मदद करेंगे अर्जुन कपूर

मुंबई 08 अप्रैल (वार्ता) बॉलीवुड अभिनेता अर्जुन कपूर ने 60 हजार दिहाड़ी मजदूर की मदद करने का एलान किया है।

कोरोना

कोरोना वायरस से जंग में अजीत ने किया 1.25 करोड़ दान

मुंबई 08 अप्रैल (वार्ता) दक्षिण भारतीय फिल्मों के सुपरस्टार अजीत ने कोरोना वायरस की जंग से लड़ने के लिए 1.25 करोड़ का दान किया है।

सलमान

सलमान ने बॉलीवुड के दिहाड़ी कर्मियों को दिए छह करोड़

मुंबई 08 अप्रैल (वार्ता) बॉलीवुड के दबंग स्टार सलमान खान ने कोरोना संक्रमण रोकने के लिए लागू लॉकडाउन की वजह से आर्थिक परेशानियां झेल रहे इंडस्ट्री के दिहाड़ी मजदूरों को बतौर मदद छह करोड़ रुपये दिये हैं।

दमदार

दमदार अभिनय से खास पहचान बनायी जया भादुड़ी ने

..जन्मदिन 09 अप्रैल ..
मुंबई 08 अप्रैल (वार्ता)बॉलीवुड में जया भादुड़ी उन चंद अभिनेत्रियों में शुमार की जाती है जिन्होंने महज शोपीस के तौर पर अभिनेत्रियों को इस्तेमाल किये जाने जाने की विचार धारा को बदल कर फिल्म इंडस्ट्री में दमदार अभिनय से अपनी सशक्त पहचान बनायी।

दिलकश अदाओं से दर्शकों को मंत्रमुग्ध किया नंदा ने

दिलकश अदाओं से दर्शकों को मंत्रमुग्ध किया नंदा ने

..पुण्यतिथि 25 मार्च के अवसर पर ..
मुम्बई 25 मार्च (वार्ता)बॉलीवुड में अपनी दिलकश अदाओं से अभिनेत्री नंदा ने लगभग तीन दशक तक दर्शकों को मंत्रमुग्ध किया लेकिन बहुत कम लोगो को पता होगा कि वह फिल्म अभिनेत्री न बनकर सेना में काम करना चाहती थीं ।

दिलकश आवाज से श्रोताओं को मंत्रमुग्ध कर रही है अलका याज्ञनिक

दिलकश आवाज से श्रोताओं को मंत्रमुग्ध कर रही है अलका याज्ञनिक

.. जन्मदिन 20 मार्च के अवसर पर पर ..
मुंबई 19 मार्च (वार्ता) आकाशवाणी कोलकाता से अपने करियर की शुरूआत करके शोहरत की बुलंदियों तक पहुंचने वाली बॉलीवुड की सुप्रसिद्ध पार्श्वगायिका अलका याज्ञनिक अपने गानों से आज भी श्रोताओं के दिलों पर राज कर रही हैं।

image