Tuesday, Apr 7 2020 | Time 03:01 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • जॉनसन के जल्द स्वस्थ्य होने की कामना करता हूं : मोदी
  • मोदी ने बेहरीन के किंग से बात की
  • बोरिस जॉनसन की हालत बिगड़ी, आईसीयू में भर्ती
  • अमेरिका में कोरोना से 10000 लोगों की मौत
  • नागपुर में कोरोना से हुई पहली मौत
  • कोरोना: कतर में 279 नये मामले सामने आये
  • महाराष्ट्र में कोरोना के 120 नये मामले सामने आए
  • इराक में कोरोना के मामले 1000 पार पहुंचे
  • तुर्की में कोरोना के मामले 30000 पार पहुंचे
मनोरंजन » कला एवं रंगमंच


पचास के दशक के सुपरस्टार थे भगवान दादा

पचास के दशक के सुपरस्टार थे भगवान दादा

(पुण्यतिथि 04 फरवरी )
मुंबई 03 फरवरी (वार्ता) हिंदी सिनेमा जगत में सुपरस्टार अमिताभ बच्चन की नृत्य शैली के कई दीवाने है लेकिन खुद सुपरस्टार अमिताभ जिनके दीवाने थे और उनकी नृत्य शैली को अपनाया लेकिन उस अभिनेता को आज की पीढ़ी नहीं जानती है यह अभिनेता थे पचास के दशक के सुपरस्टार “भगवान दादा”।

फिल्म जगत में “भगवान दादा” के नाम से मशहूर भगवान आभा जी पल्लव से फिल्मों से जुड़ी कोई भी विधा अछूती नहीं रही।
वह ऐसे हसमुख इंसान थे जिनकी उपस्थिति मात्र से माहौल खुशनुमा हो उठता था।
हंसते हंसाते रहने की प्रवृति को उन्होंने अपने अभिनय, निर्माण और निर्देशन में खूब बारीकी से उकेरा।
उनका यह अंदाज आज भी उनके चहेतों की यादों मे तरोताजा है ।

भगवान दादा का जन्म वर्ष 1913 में मुंबई में एक मध्यम वर्गीय परिवार में हुआ था।
उनके पिता एक मिल वर्कर थे।
बचपन के दिनों से भगवान दादा का रूझान फिल्मों की ओर था और वह अभिनेता बनना चाहते थे ।
अपने शुरूआती दौर में भगवान दादा ने श्रमिक के तौर पर काम किया।
भगवान दादा ने अपने फिल्मी करियर के शुरूआती दौर में बतौर अभिनेता मूक फिल्मों में काम किया।
इसके साथ ही उन्होंने फिल्म स्टूडियो में रहकर फिल्म निर्माण के तकनीक सीखनी शुरू कर दी।
इस बीच उनकी मुलाकात स्टंट फिल्मों के नामी निर्देशक जी.पी. पवार से हुयी और वह उनके सहायक के तौर पर काम करने लगे।

बतौर निर्देशक वर्ष 1938 प्रदर्शित फिल्म “बहादुर किसान” भगवान दादा के सिने करियर की पहली फिल्म थी जिसमें उन्होंने जी.पी. पवार के साथ मिलकर निर्देशन किया था।
इसके बाद भगवान दादा ने राजा गोपीचंद बदला, सुखी जीवन, बहादुर, दोस्ती जैसी कई फिल्मों का निर्देशन किया लेकिन ये सभी टिकट खिड़की पर असफल साबित हुयी।

वर्ष 1942 में भगवान दादा ने फिल्म निर्माण के क्षेत्र में भी कदम रख दिया और “जागृति पिक्चर्स” की स्थापना की।
इस बीच उन्होंने अपना संघर्ष जारी रखा और कई फिल्मों का निर्माण और निर्देशन किया लेकिन इससे उन्हें कोई खास फायदा नही पहुंचा।
वर्ष 1947 में भगवान दादा ने अपनी खुद की स्टूडियों कंपनी “जागृति स्टूडियो” की स्थापना की।
भगवान दादा की किस्मत का सितारा वर्ष 1951 में प्रदर्शित फिल्म “अलबेला” से चमका।
राजकपूर के कहने पर भगवान दादा ने फिल्म “अलबेला” का निर्माण और निर्देशन किया।
बेहतरीन गीत-संगीत और अभिनय से सजी इस फिल्म की कामयाबी ने भगवान दादा को ‘स्टार’ के रूप में स्थापित कर दिया।

आज भी इस फिल्म के सदाबहार गीत दर्शकों और श्रोताओंको मंत्रमुग्ध कर देते हैं।
सी.राम. चंद्र के संगीत निर्देशन में भगवान दादा पर फिल्माये गीत “शोला जो भड़के दिल मेरा धड़के” उन दिनों युवाओं के बीच क्रेज बन गये थे ।
इसके अलावा भोली सूरत दिल के खोटे नाम बड़े और दर्शन छोटे, शाम ढ़ले खिड़की तले तुम सीटी बजाना छोड़ दो भी श्रोतोओं के बीच लोकप्रिय हुये थे।
फिल्म अलबेला की सफलता के बाद भगवान दादा ने झमेला, रंगीला, भला आदमी, शोला जो भड़के, हल्ला गुल्ला जैसी फिल्मों का निर्देशन किया लेकिन ये सारी फिल्म टिकट खिड़की पर असफल साबित हुयी।
इस बीच हालांकि उनकी वर्ष 1956 में प्रदर्शित फिल्म “भागम भाग” हिट रही ।

वर्ष 1966 में प्रदर्शित फिल्म लाबेला बतौर निर्देशक भगवान दादा के सिने करियर की अंतिम फिल्म साबित हुयी।
दुर्भाग्य से इस फिल्म को भी दर्शकों ने बुरी तरह नकार दिया।
फिल्म “लाबेला” की असफलता के बाद बतौर निर्देशक भगवान दादा को फिल्मों में काम मिलना बंद कर दिया और बतौर अभिनेता भी उन्हें काम मिलना बंद हो गया।
परिवार की जरूरत को पूरा करने के लिये उन्हें अपना बंगला और कार बेचकर एक छोटे से चाल में रहने के लिये विवश होना पड़ा।

इसके बाद वह माहौल और फिल्मों के विषय की दिशा बदल जाने पर भगवान दादा चरित्र अभिनेता के रूप में काम करने लगे लेकिन नौबत यहां तक आ गई कि जो निर्माता-निर्देशक पहले उनको लेकर फिल्म बनाने के लिए लालायित रहते थे।
उन्होंने भी उनसे मुंह मोड़ लिया।
इस स्थिति में उन्होंने अपना गुजारा चलाने के लिए फिल्मों में छोटी-छोटी मामूली भूमिकाएं करनी शुरु कर दीं।
बाद में हालात ऐसे हो गए कि भगवान दादा को फिल्मों में काम मिलना लगभग बंद हो गया।
हालात की मार और वक्त के सितम से बुरी तरह टूट चुके हिन्दी फिल्मों के स्वर्णिम युग के अभिनेता भगवान दादा ने चार फरवरी 2002 को गुमनामी के अंधरे में रहते हुये इस दुनिया को अलविदा कह दिया।

 

एक

एक लाख मजदूरों के परिवार की मदद को आगे आये अमिताभ

मुंबई 06 अप्रैल (वार्ता) बॉलीवुड के महानायक अमिताभ बच्चन ने ऑल इंडिया फिल्म एंप्लॉइज कन्फेडरेशन से जुड़े एक लाख दिहाड़ी मजदूरों के परिवार की मदद करने का एलान किया है।

प्रियंका

प्रियंका ने प्रधानंत्री मोदी के प्रति जताया आभार

मुंबई 06 अप्रैल (वार्ता) बॉलीवुड अभिनेत्री प्रियंका चोपड़ा ने पीएम केयर फंड में योगदान देने के बाद प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के स्वागत किये जाने पर उनका आभार जताया है।

बॉलीवुड

बॉलीवुड के पहले रियल डांसिग स्टार हैं जीतेन्द्र

..जन्मदिन 07 अप्रैल ..
मुंबई 06 अप्रैल (वार्ता) मुंबई के गोरेगांव में लड़कों का एक समूह अक्सर फिल्मों का पहला शो देखा करता था।

कोरोना

कोरोना के खिलाफ जंग में अर्जुन ने दिया डोनेशन

मुबई 06 अप्रैल (वार्ता) बॉलीवुड अभिनेता अर्जुन कपूर ने कोरोना वायरस के विरूद्ध चल रही जंग में पीएम-केयर्स फंड में डोनेशन दिया है।

सनी-बॉबी

सनी-बॉबी बनने वाले थे करण-अर्जुन

मुंबई 05 अप्रैल (वार्ता) बॉलीवुड अभिनेता सनी देओल और उनके भाई बॉबी देओल सुपरहिट फिल्म करण-अर्जुन में काम करने वाले थे लेकिन सनी देओल के मना करने पर बात नहीं बन सकी।

द

द बर्निंग ट्रेन के रीमेक में काम करेंगे ऋतिक रोशन!

मुंबई 05 अप्रैल (वार्ता) बॉलीवुड के माचो मैन ऋतिक रौशन अस्सी के दशक में बनी 'द बर्निंग ट्रेन' के रीमेक में काम करते नजर आ सकते हैं।

लॉकडाउन

लॉकडाउन में लोगों को ऑनलाइन डांस सीखा रही है माधुरी दीक्षित

मुंबई 06 अप्रैल (वार्ता) बॉलीवुड अभिनेत्री माधुरी दीक्षित लॉकडाउन में लोगों को ऑनलाइन डांस सीखा रही है1
प्रधानंमंत्री नरेंद्र मोदी ने 21 दिनों तक सभी से घर में रहने की अपील की है।

अंतराष्ट्रीय

अंतराष्ट्रीय स्तर पर पहचान बनायी थी सुचित्रा सेन ने..

जन्मदिवस 06 अप्रैल  ..
मुंबई 05 अप्रैल(वार्ता)भारतीय सिनेमा में सुचित्रा सेन को एक ऐसी अभिनेत्री के रूप में याद किया जायेगा जिन्होंने बंगला फिल्मों में उल्लेखनीय योगदान करने के साथ ही अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर भी अपनी विशेष पहचान बनायी।

रूमानी

रूमानी अदाओं से दीवाना बनाया दिव्या भारती ने

....पुण्यतिथि 05 अप्रैल ...
मुंबई 04 अप्रैल(वार्ता) बॉलीवुड में दिव्या भारती को एक ऐसी अभिनेत्री के तौर पर याद किया जाता है जिन्होंने अपनी रूमानी अदाओं से दर्शकों के बीच खास पहचान बनायी थी।

रणवीर-दीपिका

रणवीर-दीपिका ने पीएम केयर्स फंड में दिया डोनेशन

मुंबई 04 अप्रैल (वार्ता) बॉलीवुड अभिनेता रणवीर सिंह और उनकी पत्नी दीपिका पादुकोण ने कोरोना वायरस के विरूद्ध चल रही जंग में पीएम-केयर्स फंड में डोनेशन दिया है।

दिलकश अदाओं से दर्शकों को मंत्रमुग्ध किया नंदा ने

दिलकश अदाओं से दर्शकों को मंत्रमुग्ध किया नंदा ने

..पुण्यतिथि 25 मार्च के अवसर पर ..
मुम्बई 25 मार्च (वार्ता)बॉलीवुड में अपनी दिलकश अदाओं से अभिनेत्री नंदा ने लगभग तीन दशक तक दर्शकों को मंत्रमुग्ध किया लेकिन बहुत कम लोगो को पता होगा कि वह फिल्म अभिनेत्री न बनकर सेना में काम करना चाहती थीं ।

दिलकश आवाज से श्रोताओं को मंत्रमुग्ध कर रही है अलका याज्ञनिक

दिलकश आवाज से श्रोताओं को मंत्रमुग्ध कर रही है अलका याज्ञनिक

.. जन्मदिन 20 मार्च के अवसर पर पर ..
मुंबई 19 मार्च (वार्ता) आकाशवाणी कोलकाता से अपने करियर की शुरूआत करके शोहरत की बुलंदियों तक पहुंचने वाली बॉलीवुड की सुप्रसिद्ध पार्श्वगायिका अलका याज्ञनिक अपने गानों से आज भी श्रोताओं के दिलों पर राज कर रही हैं।

image