Friday, Jul 19 2019 | Time 01:24 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • तुर्की में बाढ़ से सात लोग लापता, 69 लोगों को बचाया गया
  • हवाई हमले में आईएस के छह आतंकवादी की मौत
मनोरंजन » जानीमानी हस्तियों का जन्म दिन


सिनेमा जगत के पहले महानायक थे सहगल

सिनेमा जगत के पहले महानायक थे सहगल

(जन्मदिवस 04 अप्रैल के अवसर पर)
मुंबई 04 अप्रैल (वार्ता) भारतीय सिने जगत के पहले ‘महानायक’ का दर्जा प्राप्त करने वाले के. एल. सहगल ने अपने दो दशक के लंबे करियर में महज 185 गीत ही गाये जिनमें 142 फिल्मी और 43 गैर फिल्मी शामिल हैं।
लेकिन उन्हें जितनी ख्याति प्राप्त हुयी उतनी हजारों की संख्या में गीत गाने वाले गायकों को नसीब नहीं होती।

जम्मू के नवाशहर में रियासत के तहसीलदार अमर चंद सहगल के घर जब कुंदन का चार अप्रैल 1904 को जन्म हुआ तो उनके पिता ने यह कभी नहीं सोचा होगा कि उनका पुत्र अपने नाम को सार्थक करते हुए वाकई एक दिन ‘कुंदन’ की तरह ही चमकेगा।
कुंदन दरअसल स्वर्ण का शुद्धतम रूप होता है।
सामान्य तौर पर स्वर्ण को कई बार गलाने-तपाने पर जो धातु बनता है उसे कुंदन कहा जाता है जिसकी आभा कभी कम नहीं होती।
यही बात कुंदन लाल सहगल पर चरितार्थ होती है।

बचपन से ही सहगल का रूझान गीत-संगीत की ओर था।
उनकी मां केसरीबाई कौर धार्मिक कार्यकलापों के साथ साथ संगीत में भी काफी रूचि रखती थीं।
सहगल अक्सर मां के साथ भजन, कीर्तन जैसे धार्मिक कार्यक्रमों में जाया करते थे और अपने शहर में रामलीला के कार्यक्रमों में भी हिस्सा लिया करते थे।

सहगल ने किसी उस्ताद से संगीत की शिक्षा नहीं ली थी लेकिन सबसे पहले उन्होंने संगीत के गुर एक सूफी संत सलमान यूसुफ से सीखे थे।
बचपन से ही सहगल को संगीत की गहरी समझ थी और एक बार सुने हुये गानों के लय को वह बारीकी से पकड़ लेते थे।
उनकी प्रारंभिक शिक्षा बहुत ही साधारण तरीके से हुयी थी।
उन्हें अपनी पढ़ाई बीच में ही छोड़ देनी पड़ी और जीवन यापन के लिये रेलवे में टाईमकीपर की मामूली नौकरी की थी।
बाद मे उन्होंने रेमिंगटन नामक टाइपराइंटिग मशीन की कंपनी में सेल्समैन की नौकरी भी की।

    वर्ष 1930 में कोलकाता के न्यू थियेटर के बी.एन. सरकार ने सहगल को 200 रुपये मासिक पर अपने यहां काम करने का मौका दिया।
वहां उनकी मुलकात संगीतकार आर. सी. बोराल से हुयी जो सहगल की प्रतिभा से काफी प्रभावित हुये।
धीरे -धीरे सहगल न्यू थियेटर मे अपनी पहचान बनाते चले गये।
शुरूआती दौर में बतौर अभिनेता सहगल को वर्ष 1932 में प्रदर्शित उर्दू फिल्म ‘मोहब्बत के आंसू’ में काम करने का मौका मिला।
वर्ष 1932 में ही बतौर कलाकार उनकी दो और फिल्में ‘सुबह का सितारा’और ‘ जिंदा लाश’ भी प्रदर्शित हुयी लेकिन इन फिल्मों से उन्हें कोई खास पहचान नहीं मिली।

वर्ष 1933 में प्रदर्शित फिल्म ‘पुराण भगत’ की कामयाबी के बाद बतौर गायक सहगल कुछ हद तक फिल्म इंडस्ट्री में अपनी पहचान बनाने में सफल हो गये।
इस फिल्म में उनके गाये चार भजन देश भर में काफी लोकप्रिय हुये।
इसके बाद ‘यहूदी की लड़की’, ‘चंडीदास’ और ‘रुपलेखा’ जैसी फिल्मों की कामयाबी से सहगल ने दर्शकों का ध्यान अपनी गायकी और अदाकारी की ओर आकर्षित किया।
शरत चंद्र चट्टोपाध्याय के उपन्यास पर आधारित पी.सी. बरूआ निर्देशित फिल्म ‘देवदास’की कामयाबी के बाद सहगल बतौर गायक और अभिनेता शोहरत की बुंलदियों पर जा पहुंचे।
इस फिल्म में उनके गाये गीत काफी लोकप्रिय हुये।
इस बीच सहगल ने न्यू थियेटर निर्मित कई बांग्ला फिल्मों में भी काम किया।

वर्ष 1937 में प्रदर्शित बंग्ला फिल्म ‘दीदी’ की अपार सफलता के बाद सहगल बंगाली परिवार में हृदय सम्राट बन गये।
उनका गायन सुनकर रवीन्द्र नाथ टैगोर ने कहा था ,“सुंदर गला तोमार आगे जानले कतो ना आंनद पैताम।
” अर्थात आपका सुर कितना सुंदर है पहले पता चलता तो और भी आनंद होता।
वर्ष 1946 मे सहगल ने संगीत सम्राट ‘नौशाद’ के संगीत निर्देशन में फिल्म ‘शाहजहां’ में ‘गम दिये मुस्तकिल’ और ‘जब दिल ही टूट गया’ जैसे गीत गाकर गायिकी का अलग समां बांधा।
दो दशक के सिने करियर में सहगल ने 36 फिल्मों में अभिनय भी किया।

हिंदी फिल्मों के अलावा सहगल ने उर्दू, बंग्ला और तमिल फिल्म में भी अभिनय किया।
अपनी जादुई आवाज और अभिनय से सिने प्रेमियों के दिल पर राज करने वाले के. एल. सहगल 18 जनवरी 1947 को महज 43 वर्ष की उम्र में इस दुनिया को अलविदा कह गये।
सहगल के निधन के बाद बी. एन. सरकार ने उन्हें श्रंद्धाजलि देते हुये उनके जीवन पर एक वृत्त चित्र ‘अमर सहगल’ का निर्माण किया।
इस फिल्म में सहगल के गाये गीतों में से 19 गीत को शामिल किया गया।

 

बॉलीवुड

बॉलीवुड को अंतराष्ट्रीय स्तर पहचान दिलाई प्रियंका चोपड़ा ने

.जन्मदिवस 18 जुलाई के अवसर पर:
मुंबई 18 जुलाई(वार्ता) बॉलीवुड की देशी गर्ल प्रियंका चोपड़ा उन चुनिंदा अभिनेत्रियों में शुमार की जाती है जिन्होंने अभिनेत्रियों के महज शोपीस के तौर पर इस्तेमाल किये जाने की परंपरागत सोच को न सिर्फ बदला बल्कि बॉलीवुड को अंतरराष्ट्रीय स्तर पर भी विशेष पहचान दिलाई।

बॉलीवुड

बॉलीवुड के पहले सुपरस्टार थे राजेश खन्ना

पुण्यतिथि 18 जुलाई के अवसर पर ..
मुंबई 17 जुलाई (वार्ता) हिंदी फिल्म जगत में अपने अभिनय से लोगों को दीवाना बनाने वाले अभिनेता तो कई हुये और दर्शकों ने उन्हें स्टार कलाकार माना पर सत्तर के दशक में राजेश खन्ना पहले ऐसे अभिनेता के तौर पर अवतरित
हुये जिन्हें दर्शको ने सुपर स्टार की उपाधि दी।

भंसाली

भंसाली की पीरियड फिल्म में काम करना चाहती है सारा अली खान

मुंबई 17 जुलाई (वार्ता) बॉलीवुड अभिनेत्री सारा अली खान , संजय लीला भंसाली की पीरियड फिल्म में काम करना चाहती है।

स्टारडम

स्टारडम लंबे समय तक कायम रखना चुनौती:सलमान

मुंबई 13 जुलाई (वार्ता) बॉलीवुड के दबंग स्टार सलमान खान स्टारडम को लंबे समय तक कायम रखना चुनौती मानते हैं।

रीबॉक

रीबॉक जैसे ब्रांड से जुड़ना अद्भुत : वरूण धवन

नई दिल्ली, 18 जुलाई (वार्ता) बॉलीवुड के चॉकलेटी हीरो वरूण धवन का कहना है कि रीबॉक जैसे ब्रांड से जुड़ना उनके लिये अद्भुत अनुभव रहा है।

कबीर

कबीर सिंह ने 250 करोड़ की कमाई की

मुंबई 13 जुलाई (वार्ता) बॉलीवुड के चॉकलेटी हीरो शाहिद कपूर की फिल्म ‘कबीर सिंह’ ने बॉक्स ऑफिस पर 250 करोड़ से अधिक की कमाई कर ली है।

मुन्ना

मुन्ना भाई 3 की शूटिंग का बेसब्री से इंतजार : संजय दत्त

मुंबई 18 जुलाई (वार्ता) बॉलीवुड के माचो मैन संजय दत्त का कहना है कि वह मुन्ना भाई सीरीज की तीसरी फिल्म का बेसब्री से इंतजार कर रहे हैं।

मेहनत

मेहनत और संघर्ष से मेगास्टार बने रवि किशन

मुंबई 17 जुलाई (वार्ता) भोजपुरी सिनेमा के मेगास्टार रवि किशन आज 50 वर्ष के हो गये।

कव्वाली

कव्वाली को संगीतबद्ध करने के महारथी थे रौशन

..जन्मदिन 14 जुलाई  ..
मुंबई 13 जुलाई(वार्ता) हिंदी फिल्मों में जब कभी कव्वाली का जिक्र होता है संगीतकार रौशन का नाम सबसे पहले लिया जाता है।

दबंग

दबंग 3 से मेरा कोई संबंध नहीं: मलाइका अरोड़ा

मुंबई 18 जुलाई (वार्ता) बॉलीवुड अभिनेत्री मलाइका अरोड़ा का कहना है कि फिल्म ‘दबंग 3’ से उनका कोई मतलब नहीं है।

पॉप गायिकी को अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर पहचान दिलायी माइकल जैक्सन ने

पॉप गायिकी को अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर पहचान दिलायी माइकल जैक्सन ने

..जन्मदिवस 29 अगस्त के अवसर पर ..
मुंबई 28 अगस्त(वार्ता)किंग ऑफ पॉप माइकल जैक्सन को ऐसी शख्सियत के तौर पर याद किया जाता है जिन्होंने पॉप संगीत की दुनिया को पूरी तरह बदलकर अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर अपनी पहचान बनायी है।

दिल्ली में भी होगा फिल्म उद्योग, डियोरामा अंतरराष्ट्रीय फिल्म समारोह आरंभ

दिल्ली में भी होगा फिल्म उद्योग, डियोरामा अंतरराष्ट्रीय फिल्म समारोह आरंभ

नयी दिल्ली 15 जनवरी (वार्ता) दिल्ली में भी फिल्म उद्योग स्थापित करने के मकसद से पहले डियोरामा अंतरराष्ट्रीय फिल्म समारोह एवं विपणन 2019 की कल रात यहां देश-विदेश के फिल्मी जगत के लोगों की मौजूदगी में शुरूआत हुयी।

बॉलीवुड के पहले सुपरस्टार थे राजेश खन्ना

बॉलीवुड के पहले सुपरस्टार थे राजेश खन्ना

पुण्यतिथि 18 जुलाई के अवसर पर ..
मुंबई 17 जुलाई (वार्ता) हिंदी फिल्म जगत में अपने अभिनय से लोगों को दीवाना बनाने वाले अभिनेता तो कई हुये और दर्शकों ने उन्हें स्टार कलाकार माना पर सत्तर के दशक में राजेश खन्ना पहले ऐसे अभिनेता के तौर पर अवतरित
हुये जिन्हें दर्शको ने सुपर स्टार की उपाधि दी।

बॉलीवुड को अंतराष्ट्रीय स्तर पहचान दिलाई प्रियंका चोपड़ा ने

बॉलीवुड को अंतराष्ट्रीय स्तर पहचान दिलाई प्रियंका चोपड़ा ने

.जन्मदिवस 18 जुलाई के अवसर पर:
मुंबई 18 जुलाई(वार्ता) बॉलीवुड की देशी गर्ल प्रियंका चोपड़ा उन चुनिंदा अभिनेत्रियों में शुमार की जाती है जिन्होंने अभिनेत्रियों के महज शोपीस के तौर पर इस्तेमाल किये जाने की परंपरागत सोच को न सिर्फ बदला बल्कि बॉलीवुड को अंतरराष्ट्रीय स्तर पर भी विशेष पहचान दिलाई।

image