Friday, Jul 3 2020 | Time 16:55 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • एचएसईबी वर्कर्स यूनियन ने फरीदाबाद लघु सचिवालय पर किया प्रदर्शन
  • पाकिस्तान में भयानक ट्रेन हादसा, 20 सिख यात्रियों की मौत
  • सोनभद्र में दो करोड़ की हेरोइन बरामद, तीन तस्कर गिरफ्तार
  • पाकिस्तान के पंजाब प्रांत में शुक्रवार को एक भयानक ट्रेन हादसे में कम से कम 20 सिख श्रद्धालुओं की मौत
  • मोदी के समक्ष भाजपा का प्रस्तुतीकरण कल
  • गरीबों को मुफ्त भोजन योजना बंद करने पर पुनर्विचार करे दिल्ली सरकार: विधूड़ी
  • लीजेंड पेले ने मैसी को सराहा
  • लीजेंड पेले ने मैसी को सराहा
  • राजीव स्वरूप ने संभाला राजस्थान के मुख्य सचिव का पदभार
  • इंडोनेशिया में कोरोना मामले 60000 के पार, 3000 से अधिक की मौत
  • रूस में कोरोना मामले 6 70 लाख के करीब, रिकवरी दर 65 56 प्रतिशत
  • हरियाणा में कोरोना के 223 नये मामले, कुल संख्या 155732 पहुंची, 251 मौतें
  • कानपुर में शहीद पुलिसकर्मियों को हर्षवर्धन ने दी श्रद्धांजलि
  • सेंसेक्स चार महीने बाद हुआ 36 हजारी
मनोरंजन » जानीमानी हस्तियों का जन्म दिन


जो भी हो तुम खुदा की कसम लाजवाब हो

जो भी हो तुम खुदा की कसम लाजवाब हो

(जन्मदिवस 03 अगस्त के अवसर पर)
मुंबई 02 अगस्त (वार्ता) मशहूर शायर और गीतकार शकील बदायूं का अपनी जिंदगी के प्रति नजरिया उनकी रचित इन पंक्तियों में समाया हुआ है।

...मैं शकील दिल का हूँ तर्जुमा, कि मोहब्बतों का हूँ राजदान
मुझे फख्र है मेरी शायरी मेरी जिंदगी से जुदा नहीं।

उत्तर प्रदेश के बदांयू कस्बे में 03 अगस्त 1916 को जन्मे शकील अहमद उर्फ शकील बदायूंनी बी.ए. पास करने के बाद वर्ष 1942 में वह दिल्ली पहुंचे जहां उन्होंने आपूर्ति विभाग में आपूर्ति अधिकारी के रूप मे अपनी पहली नौकरी की।
इस बीच वह मुशायरों में भी हिस्सा लेते रहे जिससे उन्हें पूरे देश भर में शोहरत हासिल हुई।

अपनी शायरी की बेपनाह कामयाबी से उत्साहित शकील बदायूं ने नौकरी छोड़ दी और वर्ष 1946 में दिल्ली से मुंबई आ गये।
मुंबई में उनकी मुलाकात उस समय के मशहूर निर्माता ए.आर. कारदार उर्फ कारदार साहब और महान संगीतकार नौशाद से हुयी।
नौशाद के कहने पर शकील ने हम दिल का अफसाना दुनिया को सुना देंगे, हर दिल में मोहब्बत की आग लगा देंगे गीत लिखा।
यह गीत नौशाद साहब को काफी पसंद आया जिसके बाद उन्हें तुंरत ही कारदार साहब की फिल्म “दर्द” के लिये साइन कर लिया गया।

वर्ष 1947 मे अपनी पहली ही फिल्म “दर्द” के गीत “अफसाना लिख रही हूं” की अपार सफलता से शकील बदायूंनी कामयाबी के शिखर पर जा बैठे।
शकील बदायूंनी के फिल्मी सफर पर यदि एक नजर डाले तो पायेंगे कि उन्होने सबसे ज्यादा फिल्में संगीतकार नौशाद के साथ ही की।
उनकी जोड़ी प्रसिद्ध संगीतकार नौशाद के साथ खूब जमी और उनके लिखे गाने जबर्दस्त हिट हुये।

शकील बदायूंनी और नौशाद की जोड़ी वाले गीतों में कुछ है तू मेरा चांद मैं तेरी चांदनी, सुहानी रात ढल चुकी, वो दुनिया के रखवाले, मन तड़पत हरि दर्शन को, दुनिया में हम आयें है तो जीना ही पड़ेगा, दो सितारों का जमीं पे है मिलन आज की रात, मधुबन में राधिका नाची रे, जब प्यार किया तो डरना क्या, नैन लड़ जइहें तो मन वा में कसक होइबे करी, दिल तोड़ने वाले तुझे दिल ढूंढ रहा है, तेरे हुस्न की क्या तारीफ करूं, दिलरूबा मैंने तेरे प्यार में क्या क्या न किया, कोई सागर दिल को बहलाता नहीं प्रमुख हैं।

शकील बदायूंनी को अपने गीतों के लिये तीन बार फिल्म फेयर अवार्ड से नवाजा गया।
इनमें वर्ष 1960 में प्रदर्शित “चौदहवीं का चांद” के गीत चौदहवीं का चांद हो या आफताब हो, वर्ष 1961 में “घराना” के गीत हुस्न वाले तेरा जवाब नहीं और 1962 में बीस साल बाद में “कहीं दीप जले कहीं दिल” गाने के लिये फिल्म फेयर अवार्ड से सम्मानित किया गया।
फिल्मीं गीतों के अलावे शकील बदायूंनी ने कई गायकों के लिये गजल लिखे हैं जिनमें पंकज उदास प्रमुख रहे है।
लगभग 54 वर्ष की उम्र में 20 अप्रैल 1970 को शकील इस दुनिया को अलविदा कह गये।

प्रेम, उप्रेती
वार्ता

बॉलीवुड

बॉलीवुड की मशहूर कोरियोग्राफर सरोज खान का निधन

मुंबई,03 जुलाई (वार्ता) बाॅलीवुड की मशहूर कोरियोग्राफर सरोज खान का शुक्रवार तड़के हृदयाघात से बांद्रा के गुरु नानक अस्पताल में निधन हो गया।

सरोज

सरोज खान ने फिल्मफेयर अवार्ड में कोरियोग्राफरों को दिलायी पहचान

मुंबई 03 जुलाई (वार्ता) बॉलीवुड में डांस की मल्लिका के नाम से मशहूर सरोज खान पहली कोरियोग्राफर थी जिन्हें फिल्म फेयर अवार्ड से सम्मानित किया गया।

नेपोटिज्म

नेपोटिज्म के शिकार हुये थे सैफ अली खान

मुंबई 02 जुलाई (वार्ता) बॉलीवुड अभिनेता सैफ अली खान का कहना है कि वह भी नेपोटिज्म (भाई-भतीजावाद) के शिकार हो चुके हैं।

‘साइकल

‘साइकल गर्ल’ ज्योति के पिता का किरदार निभायेंगे संजय मिश्रा

मुंबई 02 जुलाई (वार्ता) बिहार की बेटी ‘साइकल गर्ल’ ज्योति पर बनने वाली फिल्म में संजय मिश्रा , ज्योति के पिता का किरदार निभाते नजर आयेंगे।

बाल

बाल कलाकार से कोरियोग्राफर बनीं सरोज खान

मुंबई 03 जुलाई (वार्ता) बाल कलाकार के तौर पर अपने करियर की शुरूआत कर बॉलीवुड में सभी स्टार्स को अपनी ताल पर नचाने वाली सरोज खान ने कोरियोग्राफर के रूप में अपनी सशक्त पहचान बनायी।

सरोज

सरोज खान के निधन पर बॉलीवुड सितारों ने जताया शोक

मुंबई 03 जुलाई (वार्ता) बॉलीवुड की दिग्गज कोरियोग्राफर सरोज खान के निधन पर बॉलीवुड के सितारों ने शोक व्यक्त किया है।

बेलबॉटम

'बेलबॉटम' में अक्षय के साथ काम करेंगी वाणी कपूर

मुंबई 02 जुलाई (वार्ता) बॉलीवुड अभिनेत्री वाणी कपूर फिल्म 'बेलबॉटम' में अक्षय कुमार के साथ काम करती नजर आयेंगी।

आलोचनाएं

आलोचनाएं मुझे विचलित नहीं करतीं: पूजा भट्ट

मुंबई 02 जुलाई (वार्ता) बॉलीवुड अभिनेत्री-फिल्मकार पूजा भट्ट का कहना है कि आलोचनायें उन्हें विचलित नहीं करती है।

अक्षय

अक्षय भी हुये थे नेपोटिज्म के शिकार

मुंबई 03 जुलाई (वार्ता) बॉलीवुड के खिलाड़ी कुमार अक्षय कुमार को करियर के शुरुआती दौर में नेपोटिज्म (भाई-भतीजावाद) का शिकार होना पड़ा था।

अमिताभ

अमिताभ को पसंद आया ब्रीद का ट्रेलर

मुंबई, 02 जुलाई (वार्ता) बॉलीवुड के महानायक अमिताभ बच्चन को अपने पुत्र अभिषेक बच्चन की आने वाली वेब सीरीज ‘ब्रीद 2 इंटू द शैडोज़’ का ट्रेलर बेहद पसंद आया है।

संवाद अदायगी के बादशाह थे राजकुमार

संवाद अदायगी के बादशाह थे राजकुमार

.. पुण्यतिथि 03 जुलाई  ..
मुंबई 02 जुलाई (वार्ता) हिन्दी सिनेमा जगत में यूं तो अपने दमदार अभिनय से कई सितारों ने दर्शकों के दिलों पर राज किया लेकिन एक ऐसा भी सितारा हुआ जिसने न सिर्फ दर्शकों के दिल पर राज किया बल्कि फिल्म इंडस्ट्री ने भी उन्हें ..राजकुमार.. माना. वह थे ..संवाद अदायगी के बेताज बादशाह कुलभूषण पंडित उर्फ राजकुमार .. ।

बिंदास अभिनय से पहचान बनायी करिश्मा कपूर ने

बिंदास अभिनय से पहचान बनायी करिश्मा कपूर ने

.जन्मदिन 25 जून .
मुंबई, 25 जून (वार्ता) बॉलीवुड में करिश्मा कपूर को एक ऐसी अभिनेत्री के तौर पर शुमार किया जाता है जिन्होंने अभिनेत्रियों को फिल्मों में परंपरागत रूप से पेश किये जाने के तरीके को बदलकर अपने बिंदास अभिनय से दर्शको के बीच अपनी खास पहचान बनायी।

image