Wednesday, Oct 23 2019 | Time 22:23 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • आतंकवादियों की सूचना देने पर 30 लाख देगी पुलिस
  • हरीश,हरक के खिलाफ सीबीआई ने दर्ज किया मामला
  • हरीश,हरक के खिलाफ सीबीआई ने दर्ज किया मामला
  • केंद्रीय करों में छत्तीसगढ़ के हिस्से की कटौती की भरपाई करे सरकार: भूपेश
  • मुरादाबाद में अवैध मीट कारोबार पर पुलिस की बडी कार्रवाई,49 गिरफ्तार
  • किसानो के लिए मोदी सरकार का बड़ा कदम: हर्षवर्धन
  • उच्च न्यायालय ने डेंगू रोकने के लिए सरकार को दिए निर्देश
  • मराडु के इमारत निदेशक ने किया अदालत मेें समर्पण
  • फोटो कैप्शन तीसरा सेट
  • उप्र में योगी के नेतृत्व में कानून-व्यवस्था हुई चुस्त-दुरुस्त :डाॅ महेन्द्र सिंह
  • कुल्लू में कार दुर्घटना में पांच की मौत
  • झारखंड कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष समेत विपक्ष के पांच विधायक भाजपा में शामिल
  • छत्तीसगढ़ को चार विभिन्न श्रेणियों में मिला राष्ट्रीय पंचायत पुरस्कार
  • बिहार में लोकसभा की एक और विधानसभा की पांच सीटों के उप चुनाव की मतगणना कल
  • छात्रों की लगन, प्रतिभा से देश का होगा विकास:नायडू
मनोरंजन » जानीमानी हस्तियों का जन्म दिन


जो भी हो तुम खुदा की कसम लाजवाब हो

जो भी हो तुम खुदा की कसम लाजवाब हो

(जन्मदिवस 03 अगस्त के अवसर पर)
मुंबई 02 अगस्त (वार्ता) मशहूर शायर और गीतकार शकील बदायूं का अपनी जिंदगी के प्रति नजरिया उनकी रचित इन पंक्तियों में समाया हुआ है।

...मैं शकील दिल का हूँ तर्जुमा, कि मोहब्बतों का हूँ राजदान
मुझे फख्र है मेरी शायरी मेरी जिंदगी से जुदा नहीं।

उत्तर प्रदेश के बदांयू कस्बे में 03 अगस्त 1916 को जन्मे शकील अहमद उर्फ शकील बदायूंनी बी.ए. पास करने के बाद वर्ष 1942 में वह दिल्ली पहुंचे जहां उन्होंने आपूर्ति विभाग में आपूर्ति अधिकारी के रूप मे अपनी पहली नौकरी की।
इस बीच वह मुशायरों में भी हिस्सा लेते रहे जिससे उन्हें पूरे देश भर में शोहरत हासिल हुई।

अपनी शायरी की बेपनाह कामयाबी से उत्साहित शकील बदायूं ने नौकरी छोड़ दी और वर्ष 1946 में दिल्ली से मुंबई आ गये।
मुंबई में उनकी मुलाकात उस समय के मशहूर निर्माता ए.आर. कारदार उर्फ कारदार साहब और महान संगीतकार नौशाद से हुयी।
नौशाद के कहने पर शकील ने हम दिल का अफसाना दुनिया को सुना देंगे, हर दिल में मोहब्बत की आग लगा देंगे गीत लिखा।
यह गीत नौशाद साहब को काफी पसंद आया जिसके बाद उन्हें तुंरत ही कारदार साहब की फिल्म “दर्द” के लिये साइन कर लिया गया।

वर्ष 1947 मे अपनी पहली ही फिल्म “दर्द” के गीत “अफसाना लिख रही हूं” की अपार सफलता से शकील बदायूंनी कामयाबी के शिखर पर जा बैठे।
शकील बदायूंनी के फिल्मी सफर पर यदि एक नजर डाले तो पायेंगे कि उन्होने सबसे ज्यादा फिल्में संगीतकार नौशाद के साथ ही की।
उनकी जोड़ी प्रसिद्ध संगीतकार नौशाद के साथ खूब जमी और उनके लिखे गाने जबर्दस्त हिट हुये।

शकील बदायूंनी और नौशाद की जोड़ी वाले गीतों में कुछ है तू मेरा चांद मैं तेरी चांदनी, सुहानी रात ढल चुकी, वो दुनिया के रखवाले, मन तड़पत हरि दर्शन को, दुनिया में हम आयें है तो जीना ही पड़ेगा, दो सितारों का जमीं पे है मिलन आज की रात, मधुबन में राधिका नाची रे, जब प्यार किया तो डरना क्या, नैन लड़ जइहें तो मन वा में कसक होइबे करी, दिल तोड़ने वाले तुझे दिल ढूंढ रहा है, तेरे हुस्न की क्या तारीफ करूं, दिलरूबा मैंने तेरे प्यार में क्या क्या न किया, कोई सागर दिल को बहलाता नहीं प्रमुख हैं।

शकील बदायूंनी को अपने गीतों के लिये तीन बार फिल्म फेयर अवार्ड से नवाजा गया।
इनमें वर्ष 1960 में प्रदर्शित “चौदहवीं का चांद” के गीत चौदहवीं का चांद हो या आफताब हो, वर्ष 1961 में “घराना” के गीत हुस्न वाले तेरा जवाब नहीं और 1962 में बीस साल बाद में “कहीं दीप जले कहीं दिल” गाने के लिये फिल्म फेयर अवार्ड से सम्मानित किया गया।
फिल्मीं गीतों के अलावे शकील बदायूंनी ने कई गायकों के लिये गजल लिखे हैं जिनमें पंकज उदास प्रमुख रहे है।
लगभग 54 वर्ष की उम्र में 20 अप्रैल 1970 को शकील इस दुनिया को अलविदा कह गये।

प्रेम, उप्रेती
वार्ता

पद्मावत

पद्मावत के लिए सलमान, ऐश्‍वर्या और अजय को रीकास्‍ट करना चाहेंगे शाहिद

मुंबई 23 अक्टूबर (वार्ता) बॉलीवुड अभिनेता शाहिद कपूर का कहना है कि फिल्म पद्मावत यदि फिर से बनायी जाती है तो वह सलमान खान ,ऐश्वर्या राय और अजय देवगन को कास्ट करना चाहेंगे।

‘के

‘के तुमि नंदिनी’ का वर्ल्ड टीवी प्रीमियर शो रविवार को

कोलकाता, 21 अक्टूबर (वार्ता) प्रेम कहानी पर आधारित ‘के तुमि नंदिनी’ फिल्म का वर्ल्ड टीवी प्रीमियर शो जलसा मूवीज पर रविवार को प्रसारण होगा।

रणवीर

रणवीर को सैफ से बेहतर अभिनेता मानते हैं शाहिद

मुंबई 23 अक्टूबर(वार्ता) बॉलीवुड अभिनेता शाहिद कपूर , रणवीर सिंह को सैफ अली खान से बेहतर अभिनेता मानते हैं।

कड़े

कड़े संघर्ष के बाद फिल्मों में पहचान बनायी अजित ने

..पुण्यतिथि 22 अक्टूबर के अवसर पर ..
मुंबई 21 अक्टूबर (वार्ता) दर्शकों में अपनी विशिष्ट अदाकारी और संवाद अदायगी के लिए मशहूर अभिनेता अजित को बालीवुड में एक अलग मुकाम हासिल करने के लिए प्रारंभिक दौर में कड़ा संघर्ष करना पड़ा था।

सैफ

सैफ ने सारा को दी अभिनय पर ध्यान देने की नसीहत

मुंबई 17 अक्टूबर (वार्ता) बॉलीवुड अभिनेता सैफ अली खान ने अपनी पुत्री सारा को स्टार बनने पर नहीं बल्कि अभिनय पर ध्यान केन्द्रित करने की नसीहत दी है।

यूनिसेफ

यूनिसेफ से जुड़े आयुष्मान खुराना

मुंबई 23 अक्टूबर (वार्ता) बॉलीवुड अभिनेता आयुष्मान खुराना संयुक्त राष्ट्र बाल कोष (यूनिसेफ) से जुड़ गये हैं।

अभिनेत्री

अभिनेत्री नहीं बनना चाहती थी परिणीति चोपड़ा

मुंबई 22 अक्टूबर (वार्ता) बॉलीवुड की जानी मानी अभिनेत्री परिणीति चोपड़ा आज 31 वर्ष की हो गयी।

अपने

अपने प्रॉडक्शन की फिल्मों में काम नही करेंगी कंगना

मुंबई 17 अक्टूबर (वार्ता) बॉलीवुड अभिनेत्री कंगना रनौत का कहना है कि वह अपने प्रॉडक्शन की फिल्मों में काम नहीं करेंगी ।

उधम

उधम सिंह बायोपिक के लिए विक्की ने 13 किलो वजन घटाया

मुंबई 23 अक्टूबर (वार्ता) बॉलीवुड अभिनेता विक्की कौशल ने फिल्म उधम सिंह बायोपिक के लिए 13 किलो वजन
घटाया है।

बहुमखी

बहुमखी प्रतिभा के रूप मे पहचान बनायी देवेन वर्मा ने

..जन्म दिवस 23 अक्तूबर के अवसर पर ..
मुंबई 22 अक्तूबर (वार्ता) हिंदी फिल्म जगत में देवेन वर्मा का नाम एक ऐसी शख्सियत के तौर पर लिया जाता है जिन्होंने न सिर्फ अभिनय की प्रतिभा बल्कि फिल्म निर्माण और निर्देशन से भी दर्शकों को अपना दीवाना बनाया है।

दिल्ली में भी होगा फिल्म उद्योग, डियोरामा अंतरराष्ट्रीय फिल्म समारोह आरंभ

दिल्ली में भी होगा फिल्म उद्योग, डियोरामा अंतरराष्ट्रीय फिल्म समारोह आरंभ

नयी दिल्ली 15 जनवरी (वार्ता) दिल्ली में भी फिल्म उद्योग स्थापित करने के मकसद से पहले डियोरामा अंतरराष्ट्रीय फिल्म समारोह एवं विपणन 2019 की कल रात यहां देश-विदेश के फिल्मी जगत के लोगों की मौजूदगी में शुरूआत हुयी।

कड़े संघर्ष के बाद फिल्मों में पहचान बनायी अजित ने

कड़े संघर्ष के बाद फिल्मों में पहचान बनायी अजित ने

..पुण्यतिथि 22 अक्टूबर के अवसर पर ..
मुंबई 21 अक्टूबर (वार्ता) दर्शकों में अपनी विशिष्ट अदाकारी और संवाद अदायगी के लिए मशहूर अभिनेता अजित को बालीवुड में एक अलग मुकाम हासिल करने के लिए प्रारंभिक दौर में कड़ा संघर्ष करना पड़ा था।

image