Wednesday, Oct 23 2019 | Time 15:24 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • गैस एजेंसी के कर्मचारी को गोली मारकर साढ़े चार लाख रुपए की लूट
  • पेड़ों की कटाई से पारिस्थितिकी अंसतुलन : जावड़ेकर
  • अतिक्रमण हटाने गए पुलिस दल पर हमला, सीएसपी सहित आधा दर्जन पुलिस कर्मचारी घायल
  • रविदास मंदिर मामले में सुप्रीम कोर्ट के आदेश का स्वागत किया भाजपा ने
  • जानी मानी गुजराती लोकगायिका गीता रबारी डेंगू की चपेट में
  • मराठवाड़ा में पिछले पांच दिनों से बारिश
  • जम्मू-कश्मीर में प्रशासनिक सुधार के लिए सरकार कर रही पहल: जितेंद्र सिंह
  • सीमाओं की रक्षा के लिए तत्पर है आईटीबीपी: देशवाल
  • अपराधों के आंकड़े दबाने पर सरकार पर बरसी कांग्रेस
  • तमिलीसाई सौंदरराजन ने की भगवान वेंकटेश्वर की पूजा-अर्चना
  • अमित शाह के बेटे, अनुराग ठाकुर के भाई बोर्ड के नये पदाधिकारी
  • अमित शाह के बेटे, अनुराग ठाकुर के भाई बोर्ड के नये पदाधिकारी
  • डॉलर में गिरावट, यूरो और पाउंड में उछाल
  • तुर्की की यात्रा करने वाले भारतीयों को ‘अत्यंत सतर्कता’ बरतने का परामर्श
  • गांगुली बने बीसीसीआई अध्यक्ष
मनोरंजन » जानीमानी हस्तियों का जन्म दिन


रूमानी फिल्मों के जरिये पहचान बनायी यश चोपड़ा ने

रूमानी फिल्मों के जरिये पहचान बनायी यश चोपड़ा ने

..जन्मदिन 27 सितंबर के अवसर पर ..
मुंबई 26 सितंबर (वार्ता) बॉलीवुड में ‘किंग ऑफ रोमांस’ यश चोपड़ा को एक फिल्मकार के तौर पर याद किया जाता है जिन्होंने रूमानी पिल्मों के जरिये दर्शको के बीच अपनी खास पहचान बनायी।

पंजाब के लाहौर में 27 सितंबर 1932 को जन्में यश चोपड़ा के बड़े भाई बी.आर.चोपड़ा फिल्म इंडस्ट्री के जाने माने निर्माता-निर्देशक थे।
अपने करियर के शुरूआती दौर में यश चोपड़ा ने आइ.एस .जौहर के साथ बतौर सहायक काम किया।
बतौर निर्देशक यश चोपड़ा ने अपने सिने करियर की शुरूआत वर्ष 1959 में अपने भाई के बैनर तले बनी फिल्म ‘धूल का फूल’ से की।

वर्ष 1961 में यश चोपड़ा को एक बार फिर से अपने भाई के बैनर तले बनी फिल्म ‘धर्म पुत्र’ को निर्देशित करने का मौका मिला ।
इस फिल्म से ही बतौर अभिनेता शशि कपूर ने अपने सिने करियर की शुरूआत की थी।
वर्ष 1965 में प्रदर्शित फिल्म ‘वक्त’ यश चोपड़ा के निर्देशन में बनी उत्कृष्ठ फिल्मों में शुमार की जाती है।
इस फिल्म को बॉलीवुड की पहली मल्टीस्टारर फिल्म माना जाता है।
वक्त में बलराज साहनी, राजकुमार, सुनील दत्त, शशि कपूर और रहमान ने मुख्य भूमिकायें निभायी थीं।

     वर्ष 1969 में यश चोपड़ा के सिने करियर की एक और सुपरहिट फिल्म ‘इत्तेफाक’ प्रदर्शित हुयी।
दिलचस्प बात है कि राजेश खन्ना और नंदा की जोड़ी वाली संस्पेंस थ्रिलर इस फिल्म में कोई गीत नहीं था बावजूद इसके फिल्म को दर्शकों ने काफी पसंद किया और उसे सुपरहिट बना दिया।
वर्ष 1973 में प्रदर्शित फिल्म ‘दाग’ के जरिये यश चोपड़ा ने फिल्म निर्माण के क्षेत्र में भी कदम रख दिया और यश राज बैनर की स्थापना की।
राजेश खन्ना, शर्मिला टैगोर और राखी अभिनीत यह फिल्म टिकट खिड़की पर सुपरहिट साबित हुयी।
वर्ष 1975 में प्रदर्शित फिल्म ‘दीवार’ यश चोपड़ा के सिने करियर के लिये मील का पत्थर साबित हुयी।

वर्ष 1976 में यश चोपड़ा की फिल्म ‘कभी कभी’ प्रदर्शित हुयी।
रूमानी पृष्ठभूमि पर बनी इस फिल्म में यश चोपड़ा ने एंग्री यंग मैन अमिताभ बच्चन से रूमानी किरदार निभाकर दर्शकों को अंचभित कर दिया।
माना जाता है कि यश चोपड़ा ने अमिताभ बच्चन के जरिये गीतकार साहिर लुधियानवी की जिंदगी से जुड़े पहलुओं को रूपहले पर्दे पर पेश किया था।
वर्ष 1981 में प्रदर्शित फिल्म ‘सिलसिला’ यश चोपड़ा निर्देशित महत्वपूर्ण फिल्मों में शुमार की जाती है।
माना जाता है कि इस फिल्म में अमिताभ और रेखा के जीवन को रूपहले पर्दे पर दर्शाया गया है।

वर्ष 1982 से 1989 तक का वक्त यश चोपड़ा के सिने कैरियर के लिये बुरा साबित हुआ।
इस दौरान उनकी नाखुदा, सवाल, फासले, मशाल, विजय जैसी कई फिल्में बॉक्स आफिस पर असफल हो गयीं।

वर्ष 1989 में श्रीदेवी और ऋषि कपूर अभिनीत फिल्म ‘चांदनी’ की कामयाबी के साथ यश चोपड़ा एक बार फिर से शोहरत की बुंलदियो पर जा पहुंचें।
वर्ष 1991 में प्रदर्शित फिल्म ‘लम्हे’ यश चोपड़ा के सिने करियर की अहम फिल्मों में शुमार की जाती है।
इस फिल्म के जरिये यश चोपड़ा ने यह दिखाने का प्रयास किया कि प्यार की कोई उम्र नही होती है।
हालांकि यह फिल्म दर्शको की कसौटी पर खरी नही उतरी लेकिन समीक्षकों का मानना है कि यह फिल्म यश चोपड़ा के करियर की उत्कृष्ठ फिल्मों में एक है।

    वर्ष 1995 में यश चोपड़ा के सिने करियर की एक और सुपरहिट फिल्म ‘दिलवाले दुल्हनियां ले जायेंगे’ प्रदर्शित हुयी।
युवा प्रेम कथा पर बनी काजोल और शाहरूख खान के बेहतरीन अभिनय से सजी यह फिल्म सुपरहिट साबित हुयी।
वर्ष 1997 में प्रदर्शित फिल्म ‘दिल तो पागल है’ यश चोपड़ा निर्देशित सुपरहिट फिल्म में शुमार की जाती है।
माधुरी दीक्षित, शाहरूख खान और करिश्मा कपूर के बीच प्रेम त्रिकोण पर आधारित इस फिल्म के जरिये यश चोपड़ा ने दर्शको को यह बताया कि ..जोड़ी उपर वाले की मर्जी से स्वर्ग में बनती है।
इस फिल्म के बाद बतौर निर्देशक यश चोपड़ा ने कुछ वर्षो तक बतौर निर्देशक काम करना बंद कर दिया।

वर्ष 2004 में प्रदर्शित फिल्म ‘वीर जारा’ से यश चोपड़ा ने एक बार फिर से निर्देशन के क्षेत्र में कदम रख दिया।
शाहरूख और प्रीति जिंटा की मुख्य भूमिका वाली इस फिल्म के जरिये यश चोपड़ा ने बताया कि प्यार किसी देश की सीमा से बंधा नही रह सकता है।
इस फिल्म के संगीत से जुड़ा रोचक तथ्य यह है कि इस फिल्म में स्वर्गीय मदन मोहन की बिना इस्तेमाल की हुयी आठ धुन का इस्तेमाल किया गया।

यश चोपड़ा को अपने सिने कैरियर में 11 बार फिल्म फेयर पुरस्कार से सम्मानित किया गया।
फिल्म के क्षेत्र उल्लेखनीय योगदान को देखते हुये वर्ष 2001 में यश चोपड़ा फिल्म जगत के सर्वोच्च सम्मान ‘दादासाहब फाल्के’ पुरस्कार से भी सम्मानित किये गये।
यश चोपड़ा की अंतिम फिल्म ‘ जब तक है जान’ वर्ष 2012 में प्रदर्शित हुयी।
अपनी निर्मित पिल्मों के जरिये दर्शको को रूमानियत का अहसास कराने वाले यश चोपड़ा 21 अक्टूबर 2012 को इस दुनिया को अलविदा कह गये।

पद्मावत

पद्मावत के लिए सलमान, ऐश्‍वर्या और अजय को रीकास्‍ट करना चाहेंगे शाहिद

मुंबई 23 अक्टूबर (वार्ता) बॉलीवुड अभिनेता शाहिद कपूर का कहना है कि फिल्म पद्मावत यदि फिर से बनायी जाती है तो वह सलमान खान ,ऐश्वर्या राय और अजय देवगन को कास्ट करना चाहेंगे।

‘के

‘के तुमि नंदिनी’ का वर्ल्ड टीवी प्रीमियर शो रविवार को

कोलकाता, 21 अक्टूबर (वार्ता) प्रेम कहानी पर आधारित ‘के तुमि नंदिनी’ फिल्म का वर्ल्ड टीवी प्रीमियर शो जलसा मूवीज पर रविवार को प्रसारण होगा।

रणवीर

रणवीर को सैफ से बेहतर अभिनेता मानते हैं शाहिद

मुंबई 23 अक्टूबर(वार्ता) बॉलीवुड अभिनेता शाहिद कपूर , रणवीर सिंह को सैफ अली खान से बेहतर अभिनेता मानते हैं।

कड़े

कड़े संघर्ष के बाद फिल्मों में पहचान बनायी अजित ने

..पुण्यतिथि 22 अक्टूबर के अवसर पर ..
मुंबई 21 अक्टूबर (वार्ता) दर्शकों में अपनी विशिष्ट अदाकारी और संवाद अदायगी के लिए मशहूर अभिनेता अजित को बालीवुड में एक अलग मुकाम हासिल करने के लिए प्रारंभिक दौर में कड़ा संघर्ष करना पड़ा था।

सैफ

सैफ ने सारा को दी अभिनय पर ध्यान देने की नसीहत

मुंबई 17 अक्टूबर (वार्ता) बॉलीवुड अभिनेता सैफ अली खान ने अपनी पुत्री सारा को स्टार बनने पर नहीं बल्कि अभिनय पर ध्यान केन्द्रित करने की नसीहत दी है।

यूनिसेफ

यूनिसेफ से जुड़े आयुष्मान खुराना

मुंबई 23 अक्टूबर (वार्ता) बॉलीवुड अभिनेता आयुष्मान खुराना संयुक्त राष्ट्र बाल कोष (यूनिसेफ) से जुड़ गये हैं।

अभिनेत्री

अभिनेत्री नहीं बनना चाहती थी परिणीति चोपड़ा

मुंबई 22 अक्टूबर (वार्ता) बॉलीवुड की जानी मानी अभिनेत्री परिणीति चोपड़ा आज 31 वर्ष की हो गयी।

अपने

अपने प्रॉडक्शन की फिल्मों में काम नही करेंगी कंगना

मुंबई 17 अक्टूबर (वार्ता) बॉलीवुड अभिनेत्री कंगना रनौत का कहना है कि वह अपने प्रॉडक्शन की फिल्मों में काम नहीं करेंगी ।

उधम

उधम सिंह बायोपिक के लिए विक्की ने 13 किलो वजन घटाया

मुंबई 23 अक्टूबर (वार्ता) बॉलीवुड अभिनेता विक्की कौशल ने फिल्म उधम सिंह बायोपिक के लिए 13 किलो वजन
घटाया है।

बहुमखी

बहुमखी प्रतिभा के रूप मे पहचान बनायी देवेन वर्मा ने

..जन्म दिवस 23 अक्तूबर के अवसर पर ..
मुंबई 22 अक्तूबर (वार्ता) हिंदी फिल्म जगत में देवेन वर्मा का नाम एक ऐसी शख्सियत के तौर पर लिया जाता है जिन्होंने न सिर्फ अभिनय की प्रतिभा बल्कि फिल्म निर्माण और निर्देशन से भी दर्शकों को अपना दीवाना बनाया है।

दिल्ली में भी होगा फिल्म उद्योग, डियोरामा अंतरराष्ट्रीय फिल्म समारोह आरंभ

दिल्ली में भी होगा फिल्म उद्योग, डियोरामा अंतरराष्ट्रीय फिल्म समारोह आरंभ

नयी दिल्ली 15 जनवरी (वार्ता) दिल्ली में भी फिल्म उद्योग स्थापित करने के मकसद से पहले डियोरामा अंतरराष्ट्रीय फिल्म समारोह एवं विपणन 2019 की कल रात यहां देश-विदेश के फिल्मी जगत के लोगों की मौजूदगी में शुरूआत हुयी।

कड़े संघर्ष के बाद फिल्मों में पहचान बनायी अजित ने

कड़े संघर्ष के बाद फिल्मों में पहचान बनायी अजित ने

..पुण्यतिथि 22 अक्टूबर के अवसर पर ..
मुंबई 21 अक्टूबर (वार्ता) दर्शकों में अपनी विशिष्ट अदाकारी और संवाद अदायगी के लिए मशहूर अभिनेता अजित को बालीवुड में एक अलग मुकाम हासिल करने के लिए प्रारंभिक दौर में कड़ा संघर्ष करना पड़ा था।

image