Wednesday, Dec 11 2019 | Time 18:50 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • जापान के साथ इस्पात के क्षेत्र में सहयोग ज्ञापन पर हस्‍ताक्षर को मंजूरी
  • रुपया सात पैसे चढ़ा
  • आंशिक ऋण गारंटी योजना' को मिली मंजूरी
  • विंडीज का टॉस जीतकर पहले गेंदबाजी का फैसला
  • तीन कैबिनेट मंत्रियों ने लिया ई-कैबिनेट का प्रशिक्षण
  • सोना 50 रुपये टूटा, चाँदी 50 रुपये उतरी
  • मंत्रिमंडल ने जम्मू कश्मीर और लद्दाख में प्रधानमंत्री बागवानी विकास पैकेज को और तीन वर्ष के लिए बढ़ाने की मंजूरी दी
  • इमरान खान और कांग्रेस की भाषा एक: विज
  • हैदराबाद एनकाउंटर: उच्चाधिकार जांच समिति के गठन के संकेत
  • भाकियू ने गन्ना मूल्य नहीं बढ़ाने के विरोध में गन्ने की होली जलाई
  • उत्तराखंड में दो दिन भारी बर्फबारी का अनुमान
  • आंशिक क्रेडिट गारंटी योजना काे मंत्रिमंडल की मंजूरी
  • मंत्रिमंडल ने इंडिया इंफ्रास्ट्रचर फाईनेंस कंपनी लिमिटेड की अधिकृत पूंजी 6000 करोड़ रुपए से बढ़ाकर 25000 करोड़ रुपए करने की मंजूरी दी
  • न्यूनतम मूल्य निर्धारण के लिए किसानों की जा रही गोष्ठियां: रमा
मनोरंजन » जानीमानी हस्तियों का जन्म दिन


पार्श्वगायिका बनना चाहती थीं पद्मिनी कोल्हापुरी

पार्श्वगायिका बनना चाहती थीं पद्मिनी कोल्हापुरी

..जन्मदिन 01 नवंबर के अवसर पर ..
मुंबई 31 अक्टूबर (वार्ता) बॉलीवुड में अपनी दिलकश अदाओं से अभिनेत्री पद्मिनी कोल्हापुरी ने दर्शकों को मंत्रमुग्ध किया लेकिन वह फिल्म अभिनेत्री न बनकर पार्श्वगायिका बनना चाहती थीं ।

पद्मिनी का जन्म एक नवंबर 1965 को एक मध्यम वर्गीय महाराष्ट्रियन कोंकणी परिवार में हुआ।
उनके पिता पंढरीनाथ कोल्हापुरे शास्त्रीय गायक थे जबकि उनकी मां एयरलाइंस में काम किया करती थीं।
घर में संगीत का माहौल रहने के कारण पद्मिनी का रूझान भी संगीत की ओर हो गया और वह अपने पिता से संगीत सीखने लगीं।

वर्ष 1973 में प्रदर्शित फिल्म यादो की बारात में पद्मिनी को गाने का अवसर मिला।
इस फिल्म में उनकी आवाज में रचा बसा यह गीत ..यादो की बारात निकली है आज दिल के द्वारे ..श्रोताओं के बीच काफी लोकप्रिय हुआ।
इसके बाद उन्होंने किताब, दुश्मन दोस्त जैसी फिल्मों में भी अपनी बहन शिवांगी के साथ पार्श्वगायन किया ।

पद्मिनी ने बतौर बाल कलाकार अपने करियर की शुरूआत निर्माता बी. एस. थापा की फिल्म ‘एक खिलाड़ी बावन पत्ते’ से की।
वर्ष 1974 में पद्मिनी को अपनी दूर की रिश्तेदार आशा भोंसले के प्रयास से देवानंद की फिल्म इश्क इश्क इश्क में बतौर बाल कलाकार काम करने का मौका मिला।
इसके बाद उन्होंने ड्रीमगर्ल, साजन बिना सुहागन, जिंदगी जैसी फिल्मों में भी बतौर बाल कलाकार काम किया।

    वर्ष 1977 में प्रदर्शित फिल्म ‘सत्यम शिवम सुंदरम’ पद्मिनी के करियर की अहम फिल्म साबित हुयी।
महान निर्माता -निर्देशक राजकपूर की इस फिल्म में उन्होंने अभिनेत्री जीनत अमान के बचपन की भूमिका निभाई थी।
इस फिल्म में पद्मिनी के अभिनय को जबरदस्त सराहना मिली इसके साथ ही वह दर्शको के बीच अपनी पहचान बनाने में कामयाब हो गयीं।

वर्ष 1980 में प्रदर्शित फिल्म ‘इंसाफ का तराजू’ पद्मिनी के करियर की महत्वपूर्ण फिल्म साबित हुयी।
बी.आर.चोपड़ा के बैनर तले बनी यह फिल्म वर्ष 1976 में प्रदर्शित हॉलीवुड फिल्म लिपिस्टक की रिमेक थी।
इस फिल्म में पद्मिनी ने अभिनेत्री जीनत अमान की बहन की भूमिका निभाई थी जो बलात्कार की शिकार एक युवती की भूमिका में थीं।
फिल्म में अपनी संजीदा भूमिका से उन्होंने दर्शको का दिल जीत लिया साथ ही सर्वश्रेष्ठ सहायक अभिनेत्री के फिल्म फेयर पुरस्कार से भी सम्मानित की गयी।

बतौर अभिनेत्री पद्मिनी ने अपने करियर की शुरूआत वर्ष 1980 में प्रदर्शित फिल्म ‘जमाने को दिखाना है’ से की।
नासिर हुसैन निर्मित इस फिल्म में उनके नायक की भूमिका अभिनेता ऋषि कपूर ने निभाई थी।
बेहतरीन गीत-संगीत के बावजूद फिल्म को टिकट खिड़की पर अपेक्षित सफलता नही मिली।

वर्ष 1982 में प्रदर्शित फिल्म ‘प्रेम रोग’ में पद्मिनी के अभिनय के नये रूप देखने को मिले।
राजकपूर के निर्देशन में बनी इस फिल्म में पद्मिनी ने एक विधवा का किरदार निभाया था ।
अपने भावपूर्ण अभिनय से पद्मिनी ने दर्शकों का दिल जीतकर फिल्म को सुपरहिट बना दिया।
फिल्म में अपने दमदार अभिनय के लिये वह सर्वश्रेष्ठ अभिनेत्री के फिल्म फेयर पुरस्कार से सम्मानित की गयीं।

   वर्ष 1982 में पद्मिनी कोल्हापुरी को सुभाष घई निर्मित फिल्म ‘विधाता’ में काम करने का अवसर मिला जो उनके करियर की एक और सुपरहिट फिल्म साबित हुयी।
इस फिल्म में पद्मिनी ने अभिनय के अलावे एक गीत ..सात सहेलियां खड़ी खड़ी ..को भी अपनी आवाज दी थी जो उन दिनों श्रोताओं के बीच क्रेज बन गया था।
हालांकि बाद में यह गीत बैन कर दिया गया था।

वर्ष 1983 में प्रदर्शित फिल्म ‘सौतन’ पद्मिनी के करियर की महत्वपूर्ण फिल्मों में शुमार की जाती है।
इस फिल्म में उन्हें सुपरस्टार राजेश खन्ना के साथ काम करने का अवसर मिला।
फिल्म में एक अछूत कन्या का किरदार निभाया था।
फिल्म में अपने संजीदा अभिनय के लिये पद्मिनी सर्वश्रेष्ठ सहायक अभिनेत्री के फिल्म फेयर पुरस्कार से नामांकित की गयीं।

वर्ष 1985 में प्रदर्शित फिल्म ‘प्यार झुकता नहीं’ पद्मिनी के करियर की सर्वाधिक सुपरहिट फिल्मों में शुमार की जाती है।
इस फिल्म में उनके नायक की भूमिका मिथुन चक्रवर्ती ने निभायी थी।
दोनों की जोड़ी को दर्शको ने बेहद पसंद किया।
फिल्म में अपने दमदार अभिनय के लिये पद्मिनी अपने करियर में दूसरी बार सर्वश्रेष्ठ अभिनेत्री के फिल्म फेयर पुरस्कार से नामांकित की गयीं।

वर्ष 1986 में प्रदर्शित फिल्म ‘ऐसा प्यार कहां’ के निर्माण के दौरान पद्मिनी का झुकाव निर्माता टुटु शर्मा की ओर हो गया और बाद में उन्होंने शादी कर ली।
शादी के बाद पद्मिनी ने फिल्मों में काम करना काफी हद तक कम कर दिया।
वर्ष 1993 में प्रदर्शित फिल्म ‘प्रोफेसर की पड़ोसन’ के बाद पद्मिनी फिल्म इंडस्ट्री से संयास ले लिया।
वर्ष 2004 में प्रदर्शित मराठी फिल्म ‘मंथन’ से पद्मिनी ने फिल्म इंडस्ट्री में अपनी वापसी की।
फिल्म में उनकी भूमिका दर्शको के बीच काफी सराही गयीं।
पद्मिनी ने अपने करियर में लगभग 60 फिल्मों में काम किया है।
पदमिनी कोल्हापुरी इन दिनों बॉलीवुड में अधिक सक्रिय नहीं हैं।

पेप्सी

पेप्सी के लिये कैंपेन करेंगे सलमान खान!

मुंबई 11 दिसंबर (वार्ता) बॉलीवुड के दबंग स्टार सलमान खान पेप्सी के लिये कैंपेने करने जा रहे हैं।

किच्चा

किच्चा सुदीप के साथ बेंगलुरु में दबंग 3 का प्रमोशन करेंगे सलमान खान

मुंबई 10 दिसंबर (वार्ता) बॉलीवुड अभिनेता सलमान खान अपनी आने वाली फिल्म ‘दबंग 3’ का प्रमोशन किच्चा सुदीप के साथ बेंगलुरु में करेंगे।

बहुत

बहुत सोच-समझ कर फिल्में बनायेंगी दीपिका

मुंबई 11 दिसंबर (वार्ता) बॉलीवुड की डिंपल गर्ल दीपिका पादुकोण का कहना है कि वह बहुत सोंच-समझ कर फिल्मों का निर्माण करेंगी।

मेहनत

मेहनत और नसीब में विश्वास रखती है कियारा आडवाणी

मुंबई 10 दिसंबर (वार्ता) बॉलीवुड अभिनेता कियारा आडवाणी का कहना है कि वह ज्योतिष में नही बल्कि मेहनत और नसीब में विश्वास रखती है।

वजन

वजन घटाने वाली दवाओं का विज्ञापन नही करेंगी समीरा रेड्डी

मुंबई 11 दिसंबर (वार्ता) बॉलीवुड अभिनेत्री समीरा रेड्डी ने वजन घटाने वाली दवाओं के विज्ञापन करने से इंकार कर दिया है।

अजय-सिद्धार्थ

अजय-सिद्धार्थ के साथ जोड़ी जमायेगी रकुल प्रीत सिंह

मुंबई 10 दिसंबर (वार्ता) बॉलीवुड अभिनेत्री रकुल प्रीत सिंह सिंघम स्टार अजय देवगन और सिद्धार्थ मल्होत्रा के साथ जोड़ी जमाने जा रही है।

बस

बस कंडक्टर से दक्षिण भारतीय फिल्मों में महानायक बने रजनीकांत

..जन्मदिवस 12 दिसंबर के अवसर पर..
मुंबई 11 दिसंबर(वार्ता) बतौर बस कंडक्टर अपने करियर की शुरूआत कर दक्षिण भारतीय फिल्मों के महानायक बनने वाले रजनीकांत को यह मुकाम पाने के लिये कड़ा संघर्ष करना पड़ा।

दमदार

दमदार अभिनय से फिल्म जगत के अभिनय सम्राट बनें दिलीप कुमार

जन्मदिन 11 दिसंबर
मुंबई 10 दिसंबर (वार्ता)बॉलीवुड में दिलीप कुमार एक ऐसे अभिनेता के रूप में शुमार किये जाते है जिन्होंने दमदार अभिनय और जबरदस्त संवाद अदायगी से सिने प्रेमियों के दिल पर अपनी अमिट छाप छोड़ी है।

अपने

अपने रचित गीतों से देश भक्ति के जज्बे को बुंलद किया कवि प्रदीप ने

( पुण्यतिथि 11 दिसंबर )
मुंबई10 दिसंबर (वार्ता) भारतीय सिनेमा जगत में वीरों को श्रद्धांजलि देने के लिये कई गीतों की रचना हुयी है लेकिन देश प्रेम की भावना से ओप प्रोत रामचंद्र द्विवेदी उर्फ कवि प्रदीप के ‘ऐ मेरे वतन के लोगों जरा आंखो मे भर लो पानी ,जो शहीद हुये हैं उनकी जरा याद करो कुर्बानी’गीत बेमिसाल है।

कपड़े

कपड़े और सजने का सामन गिफ्टस में लेना पसंद करते हैं रणवीर :दीपिका

मुंबई 09 दिसंबर (वार्ता) बॉलीवुड की डिंपल गर्ल दीपिका पादुकोण का कहना है कि उनके पति और अभिनेता रणवीर सिंह को कपड़े , सजने का सामान और चॉकलेटस गिफ्टस में लेना पसंद है।

राम के किरदार के लिये रिजेक्ट कर दिये गये थे अरुण गोविल

राम के किरदार के लिये रिजेक्ट कर दिये गये थे अरुण गोविल

पटना 27 नवंबर (वार्ता) दूरदर्शन के लोकप्रिय सीरियल रामायण में अपने निभाये किरदार ‘राम’ के जरिये दर्शकों के दिलों पर अमिट छाप छोड़ने वाले अरुण गोविल का कहना है कि पहले उन्हें राम के किरदार के लिये रिजेक्ट कर दिया गया था।

दिल्ली में भी होगा फिल्म उद्योग, डियोरामा अंतरराष्ट्रीय फिल्म समारोह आरंभ

दिल्ली में भी होगा फिल्म उद्योग, डियोरामा अंतरराष्ट्रीय फिल्म समारोह आरंभ

नयी दिल्ली 15 जनवरी (वार्ता) दिल्ली में भी फिल्म उद्योग स्थापित करने के मकसद से पहले डियोरामा अंतरराष्ट्रीय फिल्म समारोह एवं विपणन 2019 की कल रात यहां देश-विदेश के फिल्मी जगत के लोगों की मौजूदगी में शुरूआत हुयी।

अपने रचित गीतों से देश भक्ति के जज्बे को बुंलद किया कवि प्रदीप ने

अपने रचित गीतों से देश भक्ति के जज्बे को बुंलद किया कवि प्रदीप ने

( पुण्यतिथि 11 दिसंबर )
मुंबई10 दिसंबर (वार्ता) भारतीय सिनेमा जगत में वीरों को श्रद्धांजलि देने के लिये कई गीतों की रचना हुयी है लेकिन देश प्रेम की भावना से ओप प्रोत रामचंद्र द्विवेदी उर्फ कवि प्रदीप के ‘ऐ मेरे वतन के लोगों जरा आंखो मे भर लो पानी ,जो शहीद हुये हैं उनकी जरा याद करो कुर्बानी’गीत बेमिसाल है।

image