Saturday, Dec 14 2019 | Time 22:13 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • कर्तव्य में लापरवाही बरतने के आरोप में दरोगा समेत 21 पुलिसकर्मी निलंबित
  • कांग्रेस और झामुमो ने की गरीबों की अनदेखी : स्मृति
  • फोटो कैप्शन तीसरा सेट
  • भाजपा अपने वादे करती है पूरी : राजनाथ
  • सरकार ने असम, मेघालय में कल होने वाली यूजीसी नेट परीक्षा स्थगित की
  • भागलपुर में विक्रमशिला के समानांतर बनेगा पीपा पुल : चौधरी
  • फोटो कैप्शन दूसरा सेट
  • असम में स्थिति में सुधार, इंटरनेट सेवा पर रोक जारी
  • आदिवासियों की एक इंच भी जमीन नहीं छीनने दी जाएगी : हेमंत
  • मसानजोर डैम की समस्यायों के निदान के लिए भाजपा प्रतिबद्ध : लुईस
  • विराट और रोहित तोड़ सकते हैं मेरा रिकॉर्ड: लारा
  • विराट और रोहित तोड़ सकते हैं मेरा रिकॉर्ड: लारा
  • प्रशांत ने नीतीश से की मुलाकात, कहा अपने स्टैंड पर अभी भी कायम हूं
  • जामिया के छात्रों ने आंदोलन फिलहाल वापस लिया
मनोरंजन » जानीमानी हस्तियों का जन्म दिन


खूबसूरती और अभिनय का अनूठा संगम है माला सिन्हा

खूबसूरती और अभिनय का अनूठा संगम है माला सिन्हा

.....जन्मदिवस 11 नवंबर .....
मुम्बई 10 नवम्बर (वार्ता) बॉलीवुड में माला सिन्हा उन गिनी चुनी चंद अभिनेत्रियों में शुमार की जाती है जिनमें खूबसूरती के साथ बेहतरीन अभिनय का भी संगम देखने को मिलता है।

11 नवम्बर 1936 को जन्मी माला सिन्हा अभिनेत्री नर्गिस से प्रभावित थीं और बचपन से ही उन्हीं की तरह अभिनेत्री बनने का ख्वाब देखा करती थीं।
उनका बचपन का नाम आल्डा था और स्कूल में पढने वाले बच्चे उन्हें ..डालडा.. कहकर पुकारा करते थे।
बाद में उन्होंने अपना नाम अल्बर्ट सिन्हा की जगह माला सिन्हा रख लिया।

स्कूल के एक नाटक में माला सिन्हा के अभिनय को देखकर बंगला फिल्मों के जाने-माने निर्देशक अर्धेन्दु बोस उनसे काफी प्रभावित हुए और उनसे अपनी फिल्म..रोशनआरा.. में काम करने की पेशकश की।
उस दौरान उन्होंने कई बंगला फिल्मों में काम किया।
एक बार बंगला फिल्म की शूटिंग के सिलसिले में उन्हें मुम्बई जाने का अवसर मिला।
मुम्बई में उनकी मुलाकात केदार शर्मा से हुई जो उन दिनो .. रंगीन रातें.. के निर्माण में व्यस्त थे।
उन्होंने माला सिन्हा को अपनी फिल्म के लिये चुन लिया।

वर्ष 1954 में माला सिन्हा को प्रदीप कुमार के बादशाह, हेमलेट जैसी फिल्मों में करने का मौका मिला लेकिन दुर्भाग्य से उनकी दोनों फिल्में टिकट खिड़की पर विफल साबित हुई।
माला सिन्हा के अभिनय का सितारा निर्माता-निर्देशक गुरुदत्त की 1957 में प्रदर्शित क्लासिक फिल्म ..प्यासा .. से चमका।
इस फिल्म की कामयाबी ने उन्हें .स्टार. के रूप में स्थापित कर दिया।
इस बीच उन्होंने राजकपूर के साथ परवरिश, फिर सुबह होगी देवानंद के साथ लव मैरिज और शम्मी कपूर के साथ फिल्म उजाला में हल्के-फुल्के रोल कर अपनी बहुआयामी प्रतिभा का परिचय दिया।

वर्ष 1959 में प्रदर्शित बी.आर.चोपड़ा निर्मित फिल्म ‘धूल का फूल’ के हिट होने के बाद फिल्म इंडस्ट्री में माला सिन्हा के नाम के डंके बजने लगे और बाद में एक के बाद एक कठिन भूमिकाओं को निभाकर वह फिल्म इंडस्ट्री में स्थापित हो गयी।
धूल का फूल निर्देशक के रूप में यश चोपड़ा की पहली फिल्म थी।
वर्ष 1961 में माला सिन्हा को एक बार फिर से बी.आर.चोपड़ा की ही फिल्म ‘धर्मपुत्र’ में काम करने का अवसर मिला जो उनके सिने कैरियर की एक और सुपरहिट फिल्म साबित हुई।
इसके बाद 1963 माला सिन्हा ने बी.आर.चोपड़ा की सुपरहिट फिल्म ..गुमराह.. में भी काम किया।

महान अभिनेता दिलीप कुमार के साथ अभिनय करना किसी भी अभिनेत्री का सपना हो सकता है लेकिन माला सिन्हा ने उनके साथ फिल्म ..राम और श्याम.. में काम करने के लिये इसलिए इन्कार कर दिया कि वह फिल्म में अभिनय को प्राथमिकता देती थी न कि शोपीस के रूप में काम करने को।
माला सिन्हा के सिने कैरियर में उनकी जोड़ी अभिनेता धमेन्द्र के साथ खूब जमी।
सबसे पहले यह जोड़ी 1962 में प्रदर्शित फिल्म ..अनपढ़ ..में पसंद की गयी।
इसके बाद इस जोड़ी ने पूजा के फूल ,जब याद किसी की आती है,नीला आकाश,बहारे फिर भी आयेगी और आंखे 1968 जैसी सुपरहिट फिल्मों में काम किया ।
धर्मेन्द्र के अलावा उनकी जोड़ी विश्वजीत,प्रदीप कुमार और मनोज कुमार के साथ भी पसंद की गयी ।

हिन्दी फिल्मों के अलावा माला सिन्हा ने अपने दमदार अभिनय से बंगला फिल्मों में भी दर्शको का भरपूर मनोरंजन किया ।
वर्ष 1958 में प्रदर्शित बंगला फिल्म ..लुकोचुरी ..माला सिन्हा के सिने करियर की एक और
सुपरहिट फिल्म साबित हुई।
इस फिल्म में उन्हें किशोर कुमार के साथ काम करने का मौका मिला।
बंगला फिल्म इंडस्ट्री के इतिहास में यह फिल्म सर्वाधिक हास्य से परिपूर्ण सुपरहिट फिल्मों में शुमार की जाती है।
आज भी जब कभी कोलकाता में छोटे पर्दे पर यह फिल्म दिखाई जाती है, दर्शक इसे देखने का मौका नही छोड़ते ।

वर्ष 1966 में माला सिन्हा को नेपाली फिल्म ..माटिघर..में काम करने का मौका मिला।
फिल्म के निर्माण के दौरान उनकी मुलाकात फिल्म के अभिनेता ..सी.पी.लोहानी .से हुई जो इस फिल्म के अभिनेता थे।
फिल्म में काम करने के दौरान माला सिन्हा को उनसे प्रेम हो गया और बाद में दोनों ने शादी कर ली ।
माला सिन्हा ने लगभग 100 फिल्मों में काम किया है।
वह इन दिनों बॉलीवुड में सक्रिय नहीं है।

 

लाल

लाल सिंह चड्ढा के संगीत से खुश हैं आमिर

मुंबई 14 दिसंबर (वार्ता) बॉलीवुड के मिस्टर परफेक्शनिस्ट आमिर खान अपनी आने वाली फिल्म लाल सिंह चड्ढा के संगीत से बेहद खुश हैं।

दी‍पिका

दी‍पिका ने छपाक के लिये लगवाया प्रोस्थेटिक्स

मुंबई 12 दिसंबर (वार्ता) बॉलीवुड की डिंपल गर्ल दीपिका पादुकोण ने अपनी आने वाली फिल्म छपाक के लिये जब प्रोस्थेटिक्स मेकअप लगवाया तब वह खुद को देखकर दंग रह गयी।

युवा

युवा पीढ़ी के कलाकारों से तुलना गलत : करीना

मुंबई 14 दिसंबर (वार्ता) बॉलीवुड अभिनेत्री करीना कपूर खान का कहना है कि युवा पीढ़ी के कलाकारों से उनकी तुलना करना गलत है।

स्मिता

स्मिता पाटिल ने समानांतर फिल्मों को नया आयाम दिया

.. पुण्यतिथि 13 दिसंबर  ..
मुंबई 12 दिसंबर (वार्ता) भारतीय सिनेमा के नभमंडल में स्मिता पाटिल ऐसे ध्रुवतारे की तरह है जिन्होंने अपने सशक्त अभिनय से समानांतर सिनेमा के साथ-साथ व्यावसायिक सिनेमा में भी दर्शकों के बीच अपनी खास पहचान बनायी ।

आदित्य

आदित्य ने पहली बार कर दिया था रिजेक्ट : अर्जुन

मुंबई 14 दिसंबर (वार्ता) बॉलीवुड अभिनेता अर्जुन कपूर का कहना है कि फिल्मकार आदित्य चोपड़ा ने उनकी तस्वीर देखकर उन्हें रिजेक्ट कर दिया था।

किच्चा

किच्चा सुदीप के साथ बेंगलुरु में दबंग 3 का प्रमोशन करेंगे सलमान खान

मुंबई 10 दिसंबर (वार्ता) बॉलीवुड अभिनेता सलमान खान अपनी आने वाली फिल्म ‘दबंग 3’ का प्रमोशन किच्चा सुदीप के साथ बेंगलुरु में करेंगे।

करीना

करीना कपूर पर हमेशा से क्रश रहा है: कियारा

मुंबई 14 दिसंबर (वार्ता) बॉलीवुड अभिनेत्री कियारा आडवाणी का कहना है कि उनका करीना कपूर पर हमेशा से ही गर्ल क्रश रहा है।

मेहनत

मेहनत और नसीब में विश्वास रखती है कियारा आडवाणी

मुंबई 10 दिसंबर (वार्ता) बॉलीवुड अभिनेता कियारा आडवाणी का कहना है कि वह ज्योतिष में नही बल्कि मेहनत और नसीब में विश्वास रखती है।

समानांतर

समानांतर सिनेमा को पहचान दिलायी श्याम बेनेगल ने

..जन्मदिवस 14 दिसंबर के अवसर पर..
मुंबई 14 दिसंबर (वार्ता) भारतीय सिनेमा जगत में श्याम बेनेगल का नाम एक ऐसे फिल्मकार के रूप में शुमार किया जाता है जिन्होंने न सिर्फ सामानांतर सिनेमा को पहचान दिलायी बल्कि स्मिता पाटिल, शबाना आजमी और नसीरउद्दीन साह समेत कई सितारों को स्थापित किया।

बालाकोट

बालाकोट एयर स्ट्राइक पर फिल्म बनायेंगे भंसाली

मुंबई, 13 दिसंबर (वार्ता) बॉलीवुड फिल्मकार संजय लीला भंसाली बालाकोट एयर स्ट्राइक पर फिल्म बनाने जा रहे हैं।

राम के किरदार के लिये रिजेक्ट कर दिये गये थे अरुण गोविल

राम के किरदार के लिये रिजेक्ट कर दिये गये थे अरुण गोविल

पटना 27 नवंबर (वार्ता) दूरदर्शन के लोकप्रिय सीरियल रामायण में अपने निभाये किरदार ‘राम’ के जरिये दर्शकों के दिलों पर अमिट छाप छोड़ने वाले अरुण गोविल का कहना है कि पहले उन्हें राम के किरदार के लिये रिजेक्ट कर दिया गया था।

दिल्ली में भी होगा फिल्म उद्योग, डियोरामा अंतरराष्ट्रीय फिल्म समारोह आरंभ

दिल्ली में भी होगा फिल्म उद्योग, डियोरामा अंतरराष्ट्रीय फिल्म समारोह आरंभ

नयी दिल्ली 15 जनवरी (वार्ता) दिल्ली में भी फिल्म उद्योग स्थापित करने के मकसद से पहले डियोरामा अंतरराष्ट्रीय फिल्म समारोह एवं विपणन 2019 की कल रात यहां देश-विदेश के फिल्मी जगत के लोगों की मौजूदगी में शुरूआत हुयी।

स्मिता पाटिल ने समानांतर फिल्मों को नया आयाम दिया

स्मिता पाटिल ने समानांतर फिल्मों को नया आयाम दिया

.. पुण्यतिथि 13 दिसंबर  ..
मुंबई 12 दिसंबर (वार्ता) भारतीय सिनेमा के नभमंडल में स्मिता पाटिल ऐसे ध्रुवतारे की तरह है जिन्होंने अपने सशक्त अभिनय से समानांतर सिनेमा के साथ-साथ व्यावसायिक सिनेमा में भी दर्शकों के बीच अपनी खास पहचान बनायी ।

समानांतर सिनेमा को पहचान दिलायी श्याम बेनेगल ने

समानांतर सिनेमा को पहचान दिलायी श्याम बेनेगल ने

..जन्मदिवस 14 दिसंबर के अवसर पर..
मुंबई 14 दिसंबर (वार्ता) भारतीय सिनेमा जगत में श्याम बेनेगल का नाम एक ऐसे फिल्मकार के रूप में शुमार किया जाता है जिन्होंने न सिर्फ सामानांतर सिनेमा को पहचान दिलायी बल्कि स्मिता पाटिल, शबाना आजमी और नसीरउद्दीन साह समेत कई सितारों को स्थापित किया।

image