Saturday, Jul 4 2020 | Time 12:06 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • वेंकैया ने अल्लुरी सीताराम राजू को दी श्रद्धांजलि
  • सथानकुलम हिरासत मौत: फरार पुलिस कांस्टेबल गिरफ्तार
  • वेंकैया ने गुलजारी लाल नंदा को दी श्रद्धांजलि
  • सच्चे राष्ट्रप्रेमी थे गुलजारी लाल नंदा: हर्षवर्धन
  • वेंकैया ने स्वामी विवेकानंद को किया नमन
  • स्वामी विवेकानंद को हर्षवर्धन ने दी श्रद्धांजलि
  • महाराष्ट्र के बाद तमिलनाडु में संक्रमितों की संख्या एक लाख के पार
  • दुनिया भर में 1 10 करोड़ कोरोना संक्रमित, 5 24 लाख से अधिक की मौत
  • ढाई हजार साल बाद भी उतने ही प्रासंगिक हैं भगवान बुद्ध के उपदेश: कोविंद
  • देश में कोरोना के रिकॉर्ड 22,771 नये मामले
  • बुद्ध के विचारों से जुड़ें युवा : मोदी
  • हर्षवर्धन ने धम्म चक्र दिवस की शुभकामनाएं दीं
मनोरंजन » जानीमानी हस्तियों का जन्म दिन


गजल गायकी से श्रोताओं को भावविभोर किया पंकज उधास ने

गजल गायकी से श्रोताओं को भावविभोर किया पंकज उधास ने

..जन्मदिन 17 मई  ..
मुंबई, 16 मई(वार्ता) संगीत जगत में पंकज उधास एक ऐसे गजल गायक हैं जो अपनी गायकी से करीब पांच दशक से श्रोताओं को मंत्रमुग्ध किए हुए हैं।

पंकज उधास का जन्म 17 मई 1951 को गुजरात के राजकोट के निकट जेटपुर में जमींदार गुजराती परिवार में हुआ।
उनके बड़े भाई मनहर उधास जाने माने पार्श्वगायक है।
घर में संगीत के माहौल से पंकाज उधास की भी रूचि संगीत की ओर हो गयी।
महज सात वर्ष की उम्र से ही पंकज उधास गाना गाने लगे।
उनके इस शौक को उनके बड़े भाई मनहर उधास ने पहचान लिया और उन्हें इस राह पर चलने के लिये प्रेरित किया।
मनहर उधास अक्सर संगीत से जुड़े कार्यक्रम में हिस्सा लिया करते थे।
उन्होंने पंकज उधास को भी अपने साथ शामिल कर लिया।

एक बार पकंज को एक संगीत कार्यक्रम में हिस्सा लेने का मौका मिला जहां उन्होंने .ए मेरे वतन के लोगो जरा आंख में भर लो पानी ..गीत गाया।
इस गीत को सुनकर श्रोता भाव.विभोर हो उठे।
उनमें से एक ने पंकज उधास को खुश होकर 51 रूपये दिये।
इस बीच पंकज उधास राजकोट की संगीत नाट्य अकादमी से जुड़ गये और तबला बजाना सीखने लगे।
कुछ वर्ष के बाद पंकज उधास का परिवार बेहतर जिंदगी की तलाश में मुंबई आ गया ।
पंकज उधास ने अपनी स्नातक की पढ़ाई मुंबई के मशहूर संत जेवियर्स कॉलेज से हासिल की ।
इसके बाद उन्होंने स्नाकोत्तर पढ़ाई करने के लिये दाखिला ले लिया लेकिन बाद में उनकी रूचि संगीत की ओर हो गयी और उन्होंने उस्ताद नवरंग जी से संगीत की शिक्षा लेनी शुरू कर दी।

पंकज उधास के सिने कैरियर की शुरूआत 1972 में प्रदर्शित फिल्म ..कामना ..से हुयी लेकिन कमजोर पटकथा और निर्देशन के कारण फिल्म टिकट खिड़की पर बुरी तरह असफल साबित हुयी ।
इसके बाद..गजल गायक ..बनने के उद्देश्य से पंकज उधास ने उर्दू की तालीम हासिल करनी शुरू कर दी ।

वर्ष 1976 में पंकज उधास को कनाडा जाने का अवसर मिला और वह अपने एक मित्र के यहां टोरोंटो में रहने लगे ।
उन्ही दिनो अपने दोस्त के जन्मदिन के समारोह में पंकज उधास को गाने का अवसर मिला ।
उसी समारोह में टोरोंटो रेडियो में हिंदी के कार्यक्रम प्रस्तुत करने वाले एक सज्जन भी मौजूद थे उन्होंने पंकज उधास की प्रतिभा को पहचान लिया और उन्हें टोरंटो रेडियो और दूरदर्शन में गाने का मौका दे दिया।
लगभग दस महीने तक टोरंटो रेडियो और दूरदर्शन में गाने के बाद पंकज उधास का मन इस काम से उचाट हो गया ।
इस बीच कैसेट कंपनी के मालिक मीरचंदानी से उनकी मुलाकात हुयी और उन्हें अपनी नई एलबम ..आहट..में पार्श्वगायन का अवसर दिया।
यह अलबम श्रोताओं के बीच काफी लोकप्रिय हुआ।

वर्ष 1986 में प्रदर्शित फिल्म ..नाम ..पंकज उधास के सिने कैरियर की महत्वपूर्ण फिल्मों में एक है ।
यूं तो इस फिल्म के लगभग सभी गीत सुपरहिट साबित हुये लेकिन पंकज उधास की मखमली आवाज में चिट्ठी आई है वतन से चिटी आई है गीत..आज भी श्रोताओ की आंखो को नम कर देता है ।
इस फिल्म की सफलता के बाद पंकज उधास को कई फिल्मों में पार्श्वगायन का अवसर मिला ।
इन फिल्मों में गंगा जमुना सरस्वती .बहार आने तक .थानेदार .साजन.दिल आश्ना है .फिर तेरी कहानी याद आई .ये दिल्लगी .मोहरा .मै खिलाड़ी तू अनाड़ी .मंझधार .घात .और ये है जलवा .प्रमुख है ।

पंकज उधास के गाये गीतों की संवदेनशीलता उनकी निजी जिन्दगी में भी दिखाई देती थी ।
वह एक सरल हृदय के संवदेशनशील इंसान भी है जो दूसरों के दुख.दर्द को अपना समझकर उसे दूर करने का प्रयास करते है ।
दूसरों के प्रति हमदर्दी और संवेदनशीलता की इस भावना को प्रदर्शित करने वाला एक वाकया है ।
एक बार मुंबई के नानावती अस्पताल से एक डाक्टर ने पंकज उधास को फोन किया कि एक व्यक्ति के गले के कैंसर का आपरेशन हुआ है और उसकी उनसे मिलने की तमन्ना ।
इस बात को सुनकर पंकज उधास तुरंत उस शख्स से मिलने अस्पताल गए और न सिर्फ उसे गाना गाकर सुनाया बल्कि अपने गाये गाने का कैसेट भी दिया ।
बाद में पंकज उधास को जब इस बात का पता चला कि उसके गले का ऑपेरशन कामयाब रहा है और उसकी बीमारी धीरे-धीरे ठीक हो रही है तो पंकज उधास काफी खुश हुये ।

पंकज उधास को अपने कैरियर में मान सम्मान भी खूब मिला ।
इनमें सर्वश्रेष्ठ गजल गायक .के.एल.सहगल अवार्ड .रेडियो लोटस अवार्ड .इंदिरा गांधी प्रियदर्शनी अवार्ड.दादाभाई नौरोजी मिलेनियम अवार्ड और कलाकार अवार्ड जैसे कई पुरस्कार शामिल है ।
साथ ही गायकी के क्षेत्र में उनके उल्लेखनीय योगदान को देखते हुये उन्हें 2006 में पदमश्री पुरस्कार से भी सम्मानित किया गया ।
पंकज उधास कई अलबम के लिये पार्श्वगायन कर चुके है।
इनमें नशा .हसरत .महक .घूंघट. नशा 2 .अफसाना .आफरीन .नशीला .हमसफर .खूशबू और टुगेदर .प्रमुख है ।
पंकज उद्यास आज भी अपने पार्श्वगायन से श्रोताओं को मंत्रमुग्ध कर रहे है।

 

ऋतिक

ऋतिक के डांस की कायल थी सरोज खान

मुंबई 03 जुलाई (वार्ता) बॉलीवुड की लीजेन्डरी कोरियोग्राफर सरोज खान ने लोगों को अपनी कोरियोग्राफी से मंत्रमुग्ध किया लेकिन वह ऋतिक रौशन की डांस शैली की कायल थीं।

बॉलीवुड

बॉलीवुड की मशहूर कोरियोग्राफर सरोज खान का निधन

मुंबई,03 जुलाई (वार्ता) बाॅलीवुड की मशहूर कोरियोग्राफर सरोज खान का शुक्रवार तड़के हृदयाघात से बांद्रा के गुरु नानक अस्पताल में निधन हो गया।

सरोज

सरोज खान के निधन से भावुक हुये सुभाष घई

मुंबई 03 जुलाई (वार्ता) बॉलीवुड के दूसरे शो मैन कहे जाने वाले सुभाष घई दिग्गज कोरियोग्राफर सरोज खान के निधन से भावुक हो गये हैं।

सरोज

सरोज खान ने फिल्मफेयर अवार्ड में कोरियोग्राफरों को दिलायी पहचान

मुंबई 03 जुलाई (वार्ता) बॉलीवुड में डांस की मल्लिका के नाम से मशहूर सरोज खान पहली कोरियोग्राफर थी जिन्हें फिल्म फेयर अवार्ड से सम्मानित किया गया।

माधुरी

माधुरी नहीं होती तो सरोज नहीं होती

मुंबई, 03 जुलाई (वार्ता) बॉलीवुड की धकधक गर्ल माधुरी दीक्षित की फेवरेट कोरियोग्राफर सरोज खान का कहना था कि यदि माधुरी दीक्षित नहीं होती तो वह भी नहीं होती।

‘साइकल

‘साइकल गर्ल’ ज्योति के पिता का किरदार निभायेंगे संजय मिश्रा

मुंबई 02 जुलाई (वार्ता) बिहार की बेटी ‘साइकल गर्ल’ ज्योति पर बनने वाली फिल्म में संजय मिश्रा , ज्योति के पिता का किरदार निभाते नजर आयेंगे।

नॉनडांसर्स

नॉनडांसर्स को डांस कराना चुनौती मानती थी सरोज खान

मुंबई 03 जुलाई (वार्ता) अपने इशारों पर बॉलीवुड सितारों को नचाने वाली दिग्गज कोरियोग्राफर सरोज खान को नॉनडांसर्स को डांस कराने में अधिक मजा आता थ और वह इसे चुनौती मानती थी।

बाल

बाल कलाकार से कोरियोग्राफर बनीं सरोज खान

मुंबई 03 जुलाई (वार्ता) बाल कलाकार के तौर पर अपने करियर की शुरूआत कर बॉलीवुड में सभी स्टार्स को अपनी ताल पर नचाने वाली सरोज खान ने कोरियोग्राफर के रूप में अपनी सशक्त पहचान बनायी।

सरोज

सरोज खान के निधन पर बॉलीवुड सितारों ने जताया शोक

मुंबई 03 जुलाई (वार्ता) बॉलीवुड की दिग्गज कोरियोग्राफर सरोज खान के निधन पर बॉलीवुड के सितारों ने शोक व्यक्त किया है।

सरोज

सरोज खान ने अमिताभ बच्चन को दिया था एक रुपये का शगुन

मुंबई 03 जुलाई (वार्ता) बॉलीवुड की दिग्गज कोरियोग्राफर सरोज खान ने महानायक अमिताभ बच्चन को एक रुपये शगुन के तौर पर दिया था जिसे वह उपलब्धि मानते हैं।

संवाद अदायगी के बादशाह थे राजकुमार

संवाद अदायगी के बादशाह थे राजकुमार

.. पुण्यतिथि 03 जुलाई  ..
मुंबई 02 जुलाई (वार्ता) हिन्दी सिनेमा जगत में यूं तो अपने दमदार अभिनय से कई सितारों ने दर्शकों के दिलों पर राज किया लेकिन एक ऐसा भी सितारा हुआ जिसने न सिर्फ दर्शकों के दिल पर राज किया बल्कि फिल्म इंडस्ट्री ने भी उन्हें ..राजकुमार.. माना. वह थे ..संवाद अदायगी के बेताज बादशाह कुलभूषण पंडित उर्फ राजकुमार .. ।

बिंदास अभिनय से पहचान बनायी करिश्मा कपूर ने

बिंदास अभिनय से पहचान बनायी करिश्मा कपूर ने

.जन्मदिन 25 जून .
मुंबई, 25 जून (वार्ता) बॉलीवुड में करिश्मा कपूर को एक ऐसी अभिनेत्री के तौर पर शुमार किया जाता है जिन्होंने अभिनेत्रियों को फिल्मों में परंपरागत रूप से पेश किये जाने के तरीके को बदलकर अपने बिंदास अभिनय से दर्शको के बीच अपनी खास पहचान बनायी।

image