Tuesday, Jan 21 2020 | Time 19:20 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • एसएसआई हत्या:दो आरोपी 10 दिनों की पुलिस हिरासत में
  • बच्ची के साथ सामूहिक दुष्कर्म मामले में दोषी को 20 साल की सजा
  • पश्चिमी विक्षोभ के असर से मध्यप्रदेश में बादल, बूंदाबांदी और पारा उछला
  • कश्मीर के गुलमर्ग, पहलगाम में ताजा बर्फबारी
  • स्काइलो ने जुटाये 11 6 करोड़ डॉलर
  • महाराष्ट्र के पालघर में भूकंप के हल्के झटके
  • बैजल ने की शाहीन बाग प्रदर्शन वापस लेने की अपील
  • केजरीवाल को पर्चा भरने के लिए 7 घंटे करना पड़ा इंतजार
  • पूर्व खेल पत्रकार आशुतोष राय का निधन
  • पूर्व खेल पत्रकार आशुतोष राय का निधन
  • ललितपुर : लापता वृद्ध का शव मिला भारतगढ़ दुर्ग की सुरंग में
  • फोटो कैप्शन दूसरा सेट
  • आप के दो विधायक राकांपा में शामिल, चुनाव में उतरे
  • वज्र कोर का ‘अपनी सेनाओं से परिचय’ की प्रदर्शनी
  • अन्ना, योगेंद्र, मेरे साथ षडयंत्रकारी हत्यारों जैसा बर्ताव : विश्वास
मनोरंजन » संगीत


बहुमुखी प्रतिभा के धनी थे पंकज मलिक

बहुमुखी प्रतिभा के धनी थे पंकज मलिक

(पुण्यतिथि 19 परवरी के अवसर पर)
मुंबई 18 फरवरी(वार्ता) भारतीय सिनेमा में पंकज मलिक को एक ऐसी बहुमुखी प्रतिभा के रूप में याद किया जाता है जिन्होंने अपने अभिनय. पार्श्वगायन और संगीत निर्देशन से बंगला फिल्मों के साथ हीं हिंदी फिल्म इंडस्ट्री में
भी अपनी अमिट छाप छोड़ी।

पंकज मलिक का जन्म 10 मई 1905 को कोलकाता में एक मध्यम वर्गीय बंगाली परिवार में हुआ था।
उनके पिता मनमोहन मलिक की संगीत में गहरी रूचि थी और वह अक्सर धार्मिक कार्यक्रमों में अपना संगीत पेश किया करते थे।
पंकज मलिक ने कोलकाता के मशहूर स्काटिश चर्च कॉलेज से शिक्षा पूरी की।

घर में संगीत का माहौल रहने के कारण पंकज मलिक का रूझान भी संगीत की ओर हो गया और वह संगीतकार बनने का सपना देखने लगे।
पिता ने संगीत के प्रति उनके बढ़ते रूझान को पहचान लिया और उन्हें इस राह पर चलने के लिये प्रेरित किया।
उन्होंने दुर्गा दास बंधोपाध्याय और रवीन्द्र नाथ टैगोर के रिश्तेदार धीरेन्द्र नाथ टैगोर से संगीत की शिक्षा ली।

वर्ष 1926 में महज 18 वर्ष की उम्र में कोलकाता की मशहूर कंपनी .वीडियोफोन. के लिये रवीन्द्र नाथ टैगोर के गीत.नीमचे आज प्रथोम बदल. के लिये पंकज मलिक को संगीत देने का अवसर मिला।
बाद में उन्होंने टैगोर के कई गीतों के लिये संगीत निर्देशन किया।
उन्होंने अपने कैरियर की शुरूआत कोलकाता की इंडियन ब्राडकास्टिंग कंपनी से की।
बाद में वह कई वर्षों तक ऑल इंडिया रेडियो से भी जुड़े रहें।

   वर्ष 1933 में पंकज मलिक न्यू थियेटर से जुड़ गये जहां उन्हें फिल्म .यहूदी की लड़की. में संगीत निर्देशन का मौका मिला।
न्यू थियेटर में उनकी मुलाकात प्रसिद्ध संगीतकार आर.सी.बोराल से हुयी जिनके साथ उन्होंने धूप छांव.प्रेसिडेंट. मंजिल और करोड़पति जैसी कई सफल फिल्मों में बेमिसाल संगीत दिया।

वर्ष 1936 में प्रदर्शित फिल्म. देवदास. बतौर संगीत निर्देशक पंकज मलिक के सिने कैरियर की महत्वपूर्ण फिल्म साबित हुयी।
शरतचंद्र चट्टोपाध्याय के उपन्यास पर आधारित इस फिल्म में कुंदन लाल सहगल ने मुख्य भूमिका निभायी थी।
पी.सी.बरूआ के निर्देशन में बनी इस फिल्म में भी पंकज मलिक को एक बार फिर से आर.सी.बोराल के साथ काम करने का अवसर मिला।

फिल्म और संगीत की सफलता के साथ हीं पंकज मलिक बतौर संगीतकार फिल्म इंडस्ट्री में स्थापित हो गये।
सहगल उनके प्रिय अभिनेता और पार्श्वगायक हो गये।
बाद में पंकज मलिक ने कई फिल्मों में सहगल के गाये गीतों के लिये संगीत निर्देशन किया।

पंकज मलिक ने संगीत निर्देशन और पार्श्वगायन के अलावा कुछ फिल्मों में अभिनय भी किया।
इनमें मुक्ति. अधिकार. रंजन आंधी. अलोछाया. डॉक्टर और नर्तकी जैसी फिल्में प्रमुख है।
इन सबके साथ ही पंकज मलिक ने कई किताबें भी लिखी।
इनमें गीत वाल्मीकि. स्वर लिपिका. गीत मंजरी और महिषासुर मर्दनी शामिल है।

     पंकज मलिक ने टैगोर रचित कई कविताओं के लिये भी संगीत दिया।
उनका गुरु रवीन्द्र नाथ टैगोर से जुड़ने का वाकया दिलचस्प है।
एक बार उन्हें कॉलेज के किसी कार्यक्रम में टैगोर की एक कविता पर संगीत निर्देशन करना था।
जब वह टैगोर से इस बारे में बातचीत करने पहुंचे तो उन्हें घंटों इंतजार करना पड़ा।
बाद में टैगोर ने अपनी एक कविता .दिनेर शेषे घूमर देशे. पंकज मलिक को सुनाई और उस पर संगीत बनाने को कहा।
पंकज मलिक ने तुंरत उस कविता पर संगीत बनाकर टैगोर को सुनाया जिसे सुनकार टैगोर काफी प्रभावित हुए और अपनी कविता पर कॉलेज में संगीत देने के लिये राजी हो गये।

संगीत के क्षेत्र में उल्लेखनीय योगदान को देखते हुये पंकज मलिक वर्ष 1970 में भारत सरकार की ओर से पद्मश्री से सम्मानित किये गये।
वर्ष 1972 में उन्हें फिल्म जगत के सर्वोच्च सम्मान दादा फाल्के पुरस्कार से भी पंकज मल्लिक को सम्मानित किया गया।
अपने जादुई संगीत निर्देशन से श्रोताओं के बीच खास पहचान बनाने वाले इस महान संगीतकार ने 19 फरवरी 1978 को इस दुनिया को अलविदा कह दिया।

 

दीपिका

दीपिका पादुकोण को मिला क्रिस्टल अवॉर्ड

नयी दिल्ली 21 जनवरी (वार्ता) बॉलीवुड की डिंपल गर्ल अभिनेत्री दीपिका पादुकोण को क्रिस्टल अवॉर्ड से सम्मानित किया गया है।

भूल

भूल भुलैया 2 में अक्षय को कैमियो भूमिका देना सही नही : अनीस बज्मी

मुंबई 21 जनवरी (वार्ता) बॉलीवुड निर्देशक अनीस बज्मी का कहना है कि अक्षय कुमार बड़े स्टार हैं और भूल भुलैया 2 में उन्हें कैमियो भूमिका देना सही नही था।

चैंपियन

चैंपियन ऑफ चेंज अवॉर्ड से सम्मानित की गयी शिल्पा शेट्टी

नयी दिल्ली 21 जनवरी ( वार्ता) बॉलीवुड अभिनेत्री शिल्पा शेट्टी और उनके पति राज कुन्द्रा को चैंपियन ऑफ चेंज अवॉर्ड से सम्मानित किया गया है।

इम्तियाज

इम्तियाज अली ने की सारा खान की तारीफ

मुंबई 21 जनवरी (वार्ता) बॉलीवुड निर्देशक इम्तियाज अली ने सारा अली खान की तारीफ की है।

अक्षय

अक्षय कुमार ने ली 120 करोड़ की फीस !

मुंबई 21 जनवरी (वार्ता) बॉलीवुड के खिलाड़ी कुमार अक्षय कुमार ने अपनी आने वाली एक फिल्म के लिये 120 करोड़ रूपये की फीस ली है।

अमिताभ

अमिताभ बच्चन की 'झुंड' का फर्स्ट लुक रिलीज

मुंबई, 20 जनवरी (वार्ता) बॉलीवुड के महानायक अमिताभ बच्चन की आने वाली फिल्म ‘झुंंड’ का फर्स्ट लुक रिलीज हो गया है।

शाहरूख

शाहरूख और करीना को लेकर फिल्म बनायेंगे हिरानी

मुंबई 19 जनवरी (वार्ता) बॉलीवुड के जानेमाने फिल्मकार राजकुमार हिरानी बॉलीवुड के किंग शाहरूख खान और करीना कपूर को लेकर फिल्म बना सकते हैं।

आयुष्मान

आयुष्मान खुराना की फिल्म 'शुभ मंगल ज्यादा सावधान' का ट्रेलर रिलीज

मुंबई, 20 जनवरी (वार्ता) बॉलीवुड अभिनेता आयुष्मान खुराना की आने वाली फिल्म 'शुभ मंगल ज्यादा सावधान' का ट्रेलर रिलीज हो गया है।

बिनोदिनी

बिनोदिनी दासी की बायोपिक में काम नही करेंगी दीपिका

मुंबई 19 जनवरी (वार्ता) बॉलीवुड अभिनेत्री दीपिका पादुकोण ने बंगला फिल्मों की अभिनेत्री-गायिका 'बिनोदिनी दासी' की बायोपिक में काम करने से इंकार कर दिया है।

‘गुड

‘गुड न्यूज’ ने 200 करोड़ की कमाई की

मुंबई 20 जनवरी (वार्ता) बॉलीवुड के खिलाड़ी अक्षय कुमार की फिल्म ‘गुड न्यूज’ ने बॉक्स ऑफिस पर 200 करोड़ रुपये की कमाई कर ली है।

भारतीय सिनेमा के युगपुरूष थे चित्रगुप्त

भारतीय सिनेमा के युगपुरूष थे चित्रगुप्त

(पुण्यतिथि 14 जनवरी के अवसर पर)
मुंबई 13 जनवरी (वार्ता)भारतीय सिनेमा के ‘युगपुरूष’ चित्रगुप्त का नाम एक ऐसे संगीतकार के रूप में याद किया जाता है जिन्होंने लगभग चार दशक तक अपने सदाबहार एवं रूमानी गीतों से श्रोताओं के दिलों पर अमिट छाप छोड़ी।

महिलाओं के लिए फिल्मी दुनिया का मार्ग प्रशस्त किया दुर्गा खोटे ने

महिलाओं के लिए फिल्मी दुनिया का मार्ग प्रशस्त किया दुर्गा खोटे ने

(जन्मदिवस 14 जनवरी के अवसर पर )
मुम्बई 14 जनवरी (वार्ता)भारतीय सिनेमा जगत में दुर्गा खोटे को एक ऐसी अभिनेत्री के रूप में याद किया जाता है जिन्होंने महिलाओं को फिल्म इंडस्ट्री में काम करने का मार्ग प्रशस्त किया।

image