Saturday, Nov 17 2018 | Time 05:38 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • पाकिस्तान में विस्फोट, दो मरे 10 घायल
  • महाराष्ट्र में सड़क हादसे में दो की मौत
  • सुप्रीम कोर्ट ने जुल्फी बुखारी की नियुक्ति पर सरकार से जवाब मांगा
मनोरंजन » संगीत Share

बहुमुखी प्रतिभा के धनी थे पंकज मलिक

बहुमुखी प्रतिभा के धनी थे पंकज मलिक

(पुण्यतिथि 19 परवरी के अवसर पर)
मुंबई 18 फरवरी(वार्ता) भारतीय सिनेमा में पंकज मलिक को एक ऐसी बहुमुखी प्रतिभा के रूप में याद किया जाता है जिन्होंने अपने अभिनय. पार्श्वगायन और संगीत निर्देशन से बंगला फिल्मों के साथ हीं हिंदी फिल्म इंडस्ट्री में
भी अपनी अमिट छाप छोड़ी।

पंकज मलिक का जन्म 10 मई 1905 को कोलकाता में एक मध्यम वर्गीय बंगाली परिवार में हुआ था।
उनके पिता मनमोहन मलिक की संगीत में गहरी रूचि थी और वह अक्सर धार्मिक कार्यक्रमों में अपना संगीत पेश किया करते थे।
पंकज मलिक ने कोलकाता के मशहूर स्काटिश चर्च कॉलेज से शिक्षा पूरी की।

घर में संगीत का माहौल रहने के कारण पंकज मलिक का रूझान भी संगीत की ओर हो गया और वह संगीतकार बनने का सपना देखने लगे।
पिता ने संगीत के प्रति उनके बढ़ते रूझान को पहचान लिया और उन्हें इस राह पर चलने के लिये प्रेरित किया।
उन्होंने दुर्गा दास बंधोपाध्याय और रवीन्द्र नाथ टैगोर के रिश्तेदार धीरेन्द्र नाथ टैगोर से संगीत की शिक्षा ली।

वर्ष 1926 में महज 18 वर्ष की उम्र में कोलकाता की मशहूर कंपनी .वीडियोफोन. के लिये रवीन्द्र नाथ टैगोर के गीत.नीमचे आज प्रथोम बदल. के लिये पंकज मलिक को संगीत देने का अवसर मिला।
बाद में उन्होंने टैगोर के कई गीतों के लिये संगीत निर्देशन किया।
उन्होंने अपने कैरियर की शुरूआत कोलकाता की इंडियन ब्राडकास्टिंग कंपनी से की।
बाद में वह कई वर्षों तक ऑल इंडिया रेडियो से भी जुड़े रहें।

   वर्ष 1933 में पंकज मलिक न्यू थियेटर से जुड़ गये जहां उन्हें फिल्म .यहूदी की लड़की. में संगीत निर्देशन का मौका मिला।
न्यू थियेटर में उनकी मुलाकात प्रसिद्ध संगीतकार आर.सी.बोराल से हुयी जिनके साथ उन्होंने धूप छांव.प्रेसिडेंट. मंजिल और करोड़पति जैसी कई सफल फिल्मों में बेमिसाल संगीत दिया।

वर्ष 1936 में प्रदर्शित फिल्म. देवदास. बतौर संगीत निर्देशक पंकज मलिक के सिने कैरियर की महत्वपूर्ण फिल्म साबित हुयी।
शरतचंद्र चट्टोपाध्याय के उपन्यास पर आधारित इस फिल्म में कुंदन लाल सहगल ने मुख्य भूमिका निभायी थी।
पी.सी.बरूआ के निर्देशन में बनी इस फिल्म में भी पंकज मलिक को एक बार फिर से आर.सी.बोराल के साथ काम करने का अवसर मिला।

फिल्म और संगीत की सफलता के साथ हीं पंकज मलिक बतौर संगीतकार फिल्म इंडस्ट्री में स्थापित हो गये।
सहगल उनके प्रिय अभिनेता और पार्श्वगायक हो गये।
बाद में पंकज मलिक ने कई फिल्मों में सहगल के गाये गीतों के लिये संगीत निर्देशन किया।

पंकज मलिक ने संगीत निर्देशन और पार्श्वगायन के अलावा कुछ फिल्मों में अभिनय भी किया।
इनमें मुक्ति. अधिकार. रंजन आंधी. अलोछाया. डॉक्टर और नर्तकी जैसी फिल्में प्रमुख है।
इन सबके साथ ही पंकज मलिक ने कई किताबें भी लिखी।
इनमें गीत वाल्मीकि. स्वर लिपिका. गीत मंजरी और महिषासुर मर्दनी शामिल है।

     पंकज मलिक ने टैगोर रचित कई कविताओं के लिये भी संगीत दिया।
उनका गुरु रवीन्द्र नाथ टैगोर से जुड़ने का वाकया दिलचस्प है।
एक बार उन्हें कॉलेज के किसी कार्यक्रम में टैगोर की एक कविता पर संगीत निर्देशन करना था।
जब वह टैगोर से इस बारे में बातचीत करने पहुंचे तो उन्हें घंटों इंतजार करना पड़ा।
बाद में टैगोर ने अपनी एक कविता .दिनेर शेषे घूमर देशे. पंकज मलिक को सुनाई और उस पर संगीत बनाने को कहा।
पंकज मलिक ने तुंरत उस कविता पर संगीत बनाकर टैगोर को सुनाया जिसे सुनकार टैगोर काफी प्रभावित हुए और अपनी कविता पर कॉलेज में संगीत देने के लिये राजी हो गये।

संगीत के क्षेत्र में उल्लेखनीय योगदान को देखते हुये पंकज मलिक वर्ष 1970 में भारत सरकार की ओर से पद्मश्री से सम्मानित किये गये।
वर्ष 1972 में उन्हें फिल्म जगत के सर्वोच्च सम्मान दादा फाल्के पुरस्कार से भी पंकज मल्लिक को सम्मानित किया गया।
अपने जादुई संगीत निर्देशन से श्रोताओं के बीच खास पहचान बनाने वाले इस महान संगीतकार ने 19 फरवरी 1978 को इस दुनिया को अलविदा कह दिया।

 

अथिया

अथिया को रीलांच करेंगे सलमान

मुंबई 16 नवंबर (वार्ता) बॉलीवुड के दबंग स्टार सलमान खान , अथिया शेट्टी को रीलांच कर सकते हैं।

कव्वाली

कव्वाली को संगीतबद्ध करने में महारत थे रोशन

..पुण्यतिथि 16 नवंबर के अवसर पर ..
मुंबई 15 नवंबर (वार्ता) हिंदी फिल्मों में जब कभी कव्वाली का जिक्र होता है तो संगीतकार रोशन का नाम सबसे पहले लिया जाता है ।

हर

हर अभिनेता के रंग में रंग जाती थीं माला सिन्हा

... जन्मदिन 11 नवंबर के अवसर पर
मुम्बई 10 नवम्बर(वार्ता) बॉलीवुड में माला सिन्हा उन गिनी चुनी चंद अभिनेत्रियों में शुमार की जाती हैं जिनमें खूबसूरती के साथ बेहतरीन अभिनय का भी संगम देखने को मिलता है।

ठग्स

ठग्स ऑफ हिंदोस्तान के रिलीज को लेकर नर्वस हैं आमिर खान

मुंबई 07 नवंबर (वार्ता) बॉलीवुड के मिस्टर परफेक्शनिस्ट आमिर खान अपनी आने वाली फिल्म ठग्स ऑफ हिंदोस्तान के रिलीज को लेकर नर्वस हैं।

अमिताभ

अमिताभ और आमिर अच्छे काम से सिनेमा को बढ़ा रहे हैं : शाहरूख

मुंबई 16 नवंबर (वार्ता) बॉलीवुड के किंग खान शाहरूख खान का कहना है कि अमिताभ बच्चन और आमिर खान अच्छे काम से सिनेमा को बढ़ा रहे हैं और उनका फिल्मों में बेहतरीन योगदान है।

रूमानी

रूमानी अदाओं से दीवाना बनाया मीनाक्षी ने

..जन्मदिवस 16 नवंबर के अवसर पर..
मुंबई 15 नवंबर (वार्ता) बॉलीवुड में मीनाक्षी शेषाद्री एक ऐसी अभिनेत्री के रुप में शुमार की जाती है जिन्होंने अपनी रूमानी अदाओं से लगभग दो दशक तक सिने प्रेमियों को अपना दीवाना बनाया ।

किंग

किंग खान के रूप में पहचान बनायी शाहरूख ने

(जन्मदिन 02 नवंबर के अवसर पर)
मुंबई, 01 नवंबर (वार्ता) छोटे पर्दे से अपने करियर की शुरूआत करके बॉलीवुड में किंग खान के रूप में पहचान बनाने वाले अभिनेता शाहरुख खान आज भी सिने प्रेमियों के दिलों पर राज करते है।

आमिर

आमिर खान के साथ काम कर सकती हैं अदिती राव हैदरी

मुंबई 14 नवंबर (वार्ता) बॉलीवुड अभिनेत्री अदिती राव हैदरी मिस्टर परफेक्शनिस्ट आमिर खान के साथ काम
करती नजर आ सकती हैं।

फिल्म

फिल्म इंडस्ट्री में बाल कालाकारों का जलवा भी कम नहीं

..बाल दिवस 14 नवंबर के अवसर पर ..
मुंबई 13 नवंबर (वार्ता) यूं तो हिन्दी सिनेमा युवा प्रधान है और समूचा सिने उद्योग युवा, उसकी सोच और मांग को ध्यान में रखकर फिल्मों का निर्माण करता है,लेकिन बाल कलाकारों ने इस व्यवस्था को अपने दमदार अभिनय से लगातार चुनौती दी है।

गुलाम

गुलाम हैदर ने पहचाना था लता की प्रतिभा को

(पुण्यतिथि नौ नवंबर के अवसर पर)
मुंबई 08 नवंबर (वार्ता) लता मंगेशकर के सिने करियर के शुरूआती दौर में कई निर्माता-निर्देशक और संगीतकारों ने पतली आवाज के कारण उन्हें गाने का अवसर नहीं दिया लेकिन उस समय एक संगीतकार ऐसे भी थे जिन्हें लता मंगेशकर की प्रतिभा पर पूरा भरोसा था और उन्होंने उसी समय भविष्यवाणी कर दी थी ..यह लड़की आगे चलकर इतना अधिक नाम करेगी कि बड़े से बड़े निर्माता, निर्देशक और संगीतकार उसे अपनी फिल्म में गाने का मौका देंगे।

पॉप गायिकी को अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर पहचान दिलायी माइकल जैक्सन ने

पॉप गायिकी को अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर पहचान दिलायी माइकल जैक्सन ने

..जन्मदिवस 29 अगस्त के अवसर पर ..
मुंबई 28 अगस्त(वार्ता)किंग ऑफ पॉप माइकल जैक्सन को ऐसी शख्सियत के तौर पर याद किया जाता है जिन्होंने पॉप संगीत की दुनिया को पूरी तरह बदलकर अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर अपनी पहचान बनायी है।

माय वर्जिन डायरी डिजिटल प्लेटफार्म पर मचा रही धूम

माय वर्जिन डायरी डिजिटल प्लेटफार्म पर मचा रही धूम

नयी दिल्ली 25 मार्च (वार्ता) दिल्ली विश्वविद्यालय के हिन्दू कॉलेज के छात्रों की जिंदगी पर आधारित फिल्म माय वर्जिन डायरी डिजिटल प्लेटफार्म जिओ सिनेमा, एयरटेल मूवीज, बिगफ्लिक्स, चिल्क्स, हंगामा मूवी, नेट्टीवुड आदि के जरिये वैश्विक स्तर पर धूम मचा रही है।

रियलिटी शो अवसर सिद्ध करने का मजबूत प्लेटफार्म : तान्या

रियलिटी शो अवसर सिद्ध करने का मजबूत प्लेटफार्म : तान्या

लखनऊ 26 अक्टूबर (वार्ता) नन्ही पार्श्व गायिका तान्या तिवारी का मानना है कि छोटे पर्दे पर रियलिटी शो की भरमार ने चुनौतियों के बावजूद अवसरों को यर्थाथ में बदलने का मजबूत प्लेटफार्म युवा गायकों को मुहैया कराया है।

अभिनेता बनना चाहते थे मुकेश

अभिनेता बनना चाहते थे मुकेश

..पुण्यतिथि 27 अगस्त के अवसर पर ..
मुंबई 26 अगस्त (वार्ता)भारतीय सिनेमा जगत में मुकेश ने भले ही अपने पार्श्व गायन से लगभग तीन दशक तक श्रोताओं को दीवाना बनाया लेकिन वह अपनी पहचान अभिनेता के तौर पर बनाना चाहते थे।

हर अभिनेता के रंग में रंग जाती थीं माला सिन्हा

हर अभिनेता के रंग में रंग जाती थीं माला सिन्हा

... जन्मदिन 11 नवंबर के अवसर पर
मुम्बई 10 नवम्बर(वार्ता) बॉलीवुड में माला सिन्हा उन गिनी चुनी चंद अभिनेत्रियों में शुमार की जाती हैं जिनमें खूबसूरती के साथ बेहतरीन अभिनय का भी संगम देखने को मिलता है।

image