Thursday, Nov 14 2019 | Time 07:03 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • तुर्की ने सीरिया में संघर्ष विराम जारी रखने का वादा: ट्रम्प
  • जर्मनी, फ्रांस और ब्रिटेन ने उत्तर कोरिया के मिसाइल परीक्षणों पर जतायी चिंता
  • मोदी ने पुतिन, जिनपिंग और बोल्सोनारो से की द्विपक्षीय भेंट
  • जिनपिंग ने मोदी को तीसरे अनौपचारिक शिखर सम्मेन के लिए चीन आने का आमंत्रण दिया
  • मोदी ने बोल्सोनारो से की मुलाकात, भारत आने का दिया न्योता
  • मोदी ने पुतिन से की द्विपक्षीय मुद्दों पर चर्चा
  • एल साल्वाडोर में मध्यमस्तर के भूकंप के झटके
दुनिया


परमाणु गतिविधियों को बढ़ाना जारी रखेंगे : ईरान

तेहरान 08 नवंबर (शिन्हुआ) ईरान ने कहा है कि परमाणु समझौते के प्रावधानों के तहत किए गए वायदों का उल्लंघन कर फोरडो परमाणु संयंत्र में यूरेनियम संवर्धन दोबारा शुरू करना इस समझौते से जुड़े हुए अन्य देशों के लिए एक चेतावनी है।
ईरान का कहना है कि परमाणु समझौते से जुड़े अन्य देशों को उसके हितों की रक्षा का ध्यान रखना चाहिए।
ब्रिटेन में ईरान के राजदूत हामिद बेइदिनेजाद ने शुक्रवार को प्रेस टीवी से कहा, “ फोरडो परमाणु संयंत्र में यूरेनियम संवर्धन दोबारा शुरू करना अंतरराष्ट्रीय समुदाय और अन्य पक्षों के लिए एक चेतावनी है कि ईरान संकट का सामना कर रहा है।”
श्री बेइदिनेजाद ने कहा कि जब तक परमाणु समझौते के तहत ईरान को आर्थिक लाभ नहीं मिलते तब तक प्रत्येक दो माह के बाद ईरान अपनी परमाणु गतिविधियों को बढ़ाना जारी रखेगा। हम उम्मीद करते हैं कि इससे परमाणु समझौते के सभी पक्षों अपने वायदों को लागू करेंगे।
ईरान के परमाणु ऊर्जा संगठन (एईओआई) ने गुरुवार को आधिकारिक रूप से घोषित किया कि फोरडो परमाणु संयंत्र में यूरेनियम हेक्साफ्लोराइड (यूएफ6) का संवर्धन दोबारा शुरू कर दिया गया है।
एईओआई के प्रवक्ता बेहरोज कमलवंडी ने कहा है कि (यूएफ6) के संवर्धन पर अंतरराष्ट्रीय परमाणु ऊर्जा एजेंसी (आईएईए) निगरानी रखे हुए है।
ईरान ने बुधवार को नटांज परमाणु संयंत्र से दो हजार किलोग्राम (यूएफ6) यूरेनियम फोरडो परमाणु संयंत्र में भेजा गया है।
इससे पहले ईरान के राष्ट्रपति हसन रूहानी ने बुधवार को कहा था कि ईरान परमाणु समझौते के तहत अपने वायदों को और कम करेगा।
गौरतलब है कि अमेरिकी राष्ट्रपत डोनाल्ड ट्रम्प ने गत वर्ष मई में ईरान परमाणु समझौते से अमेरिका के अलग होने की घोषणा की थी। इसके बाद से ही दोनों देशों के रिश्ते बहुत ही तल्ख हो गये हैं। इस परमाणु समझौते के प्रावधानों को लागू करने को लेकर भी संशय की स्थिति बनी हुई है। अमेरिका ने ईरान पर कई प्रकार के प्रतिबंध भी लगाए हैं।
उल्लेखनीय है कि वर्ष 2015 में ईरान ने अमेरिका, चीन, रूस, जर्मनी, फ्रांस और ब्रिटेन के साथ एक समझौते पर हस्ताक्षर किए थे। समझौते के तहत ईरान ने उस पर लगे आर्थिक प्रतिबंधों को हटाने के बदले अपने परमाणु कार्यक्रम को सीमित करने पर सहमति जतायी थी।
रवि आशा
शिन्हुआ
More News

मोदी ने पुतिन, जिनपिंग और बोल्सोनारो से की द्विपक्षीय भेंट

14 Nov 2019 | 7:01 AM

सचिन: ब्राज़ील्या, 13 नवंबर (वार्ता) प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 11वें ब्रिक्स शिखर सम्मेलन से पहले यहां रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन, चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग और ब्राजील के राष्ट्रपति जायर मेसियस बोल्सोनारो से अलग - अलग द्विपक्षीय भेंट कीं।

see more..
तुर्की ने सीरिया में संघर्ष विराम जारी रखने का वादा: ट्रम्प

तुर्की ने सीरिया में संघर्ष विराम जारी रखने का वादा: ट्रम्प

14 Nov 2019 | 7:00 AM

वाशिंगटन 14 नवंबर (स्पूतनिक) अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने कहा है कि तुर्की ने उत्तरी सीरिया में संघर्ष विराम को जारी रखने रखने की प्रतिबद्धता दोहरायी है।

see more..
image