Saturday, Apr 13 2024 | Time 02:27 Hrs(IST)
image
राज्य


सूरत 5041 करोड़ रुपए के विकास कार्यों के साथ बना ‘ईज ऑफ लिविंग’: पटेल

सूरत 5041 करोड़ रुपए के विकास कार्यों के साथ बना ‘ईज ऑफ लिविंग’: पटेल

नवसारी, 22 फरवरी (वार्ता) गुजरात के मुख्यमंत्री भूपेंद्र पटेल ने गुरूवार को यहां कहा कि सूरत शहर 5041 करोड़ रुपए के विकास कार्यों के साथ ‘ईज ऑफ लिविंग’ बना है और स्वच्छता सर्वेक्षण में सूरत ने देश में प्रथम क्रम पर आकर ‘सूरत सोनानी मूरत (सूरत सोने की मूरत)’ कहावत को सिद्ध किया है।

श्री पटेल ने नवसारी जिले की जलालपोर तहसील के वांसी बोरसी गांव से राज्य के दक्षिण जोन के विभिन्न जिलों में जनसुविधा को बढ़ाने वाले कुल 44,216 करोड़ रुपए से अधिक के विकास कार्यों के लोकार्पण और शिलान्यास अवसर पर कहा कि विश्व के लोकप्रिय नेता प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने गुजरात की स्थापना से लेकर अब तक मात्र एक दिन में 57,815 करोड़ के विकास कार्यों की भेंट दी है। आज के इस ऐतिहासिक अवसर के हम सभी साक्षी बने हैं। उन्होंने कहा, सामान्य नागरिकों का विकास मोदी की प्रतिबद्धता है। उन्होंने आज दक्षिण गुजरात को 44214 करोड़ रुपए के विकास कार्यों की भेंट दी।

मुख्यमंत्री इसे विकास के प्रति प्रतिबद्धता का परिणाम बताते हुए कहा कि ‘जो कहा, वो किया’ की कार्य संस्कृति को विकसित कर दुनिया को विकास की राजनीति दिखाई है। पहले विकास कार्यों के लिए एक दशक में जितने रुपए आवंटित नहीं होते थे, आज एक दिन में आवंटित हो जाते हैं। प्रधानमंत्री के कुशल नेतृत्व में लोगों को बिजली, पानी जैसी बुनियादी सुविधाएं मिल रही हैं।

मुख्यमंत्री श्री भूपेंद्र पटेल ने विकास की यात्रा को आगे बढ़ाए जाने का उल्लेख करते हुए जोड़ा, “मोदी है, तो मुमकिन है।” उन्होंने कहा कि आज भारत विश्व में पाँचवीं सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था बना है। अयोध्या में बना मंदिर विकास से विरासत की यात्रा है। सरकार की कल्याणकारी योजनाओं के लाभ लोगों को घर बैठे मिल रहे हैं। आदिवासी बच्चे शिक्षा से सज्ज होकर विश्वबंधु बन रहे हैं। सूरत शहर की विकास गाथा का वर्णन करते हुए उन्होंने कहा कि सूरत शहर 5041 करोड़ रुपए के विकास कार्यों के साथ ‘ईज ऑफ लिविंग’ बना है। स्वच्छता सर्वेक्षण में सूरत ने देश में प्रथम क्रम पर आकर ‘सूरत सोनानी मूरत (सूरत सोने की मूरत)’ कहावत को सिद्ध किया है।

वर्ष 2047 में स्वतंत्रता के 100 वर्ष पूर्ण होने का उल्लेख कर श्री भूपेंद्र पटेल ने कहा कि गुजरात देश का पहला राज्य है, जिसने वर्ष 2047 के अनुरूप अपना विजन तैयार कर वर्ल्ड क्लास इन्फ्रास्ट्रक्चर के साथ आगे बढ़ रहा है। भारत वर्ष 2047 तक दसों दिशाओं में विकास का परचम लहराएगा इसकी गारंटी है। उन्होंने संकल्प व्यक्त किया कि प्रधानमंत्री के नेतृत्व में भारत विश्वगुरु बनेगा।

प्रारंभ में स्वागत संबोधन में प्रधानमंत्री तथा मुख्यमंत्री का दक्षिण गुजरात में स्वागत करते हुए सांसद सी. आर. पाटील ने कहा कि विकास पुरुष प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में जनहितकारी योजनाओं का लाभ लेकर देश के 25 करोड़ लोग गरीबी रेखा से बाहर आए हैं। गरीब कल्याण अन्न योजना के अंतर्गत 80 करोड़ नागरिकों को मुफ्त अनाज प्रदान किया जा रहा है।

श्री पाटील ने जोड़ा कि सरकार किसानों, मध्यम वर्ग, गरीबों सहित सभी लोगों के कल्याण के लिए कार्य कर रही है। देश के युवा को आत्मनिर्भर तथा रोजगार देने वाला बनाने के लिए ऋण के रूप में गारंटी प्रधानमंत्री ने दी है। उन्होंने किसानों को प्रति वर्ष छह हजार रुपए सीधे उनके खाते में देकर किसानों के हितों की रक्षा की है। उन्होंने देश के नागरिकों का मुफ्त टीकाकरण करवा कर सभी को सुरक्षित बनाया।

इस अवसर पर प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के करकमलों से 44 हजार करोड़ रुपए से अधिक मूल्य के विकास कार्यों का रिमोट द्वारा विधिवत लोकार्पण एवं शिलान्यास किया गया, जिसका उपस्थित जनसमूह ने हर्षोल्लास एवं तालियों की गड़गड़ाहट के साथ स्वागत किया। समारोह में मुख्यमंत्री को गांधी जी तथा प्रधानमंत्री के अयोध्या स्थित राम मंदिर की पांच किलो चांदी से बनाई गई प्रतिकृति भेंट स्वरूप अर्पित की गई।

मुख्यमंत्री श्री भूपेंद्र पटेल और सांसद श्री सी. आर. पाटील ने प्रधानमंत्री का स्वागत पुष्पमाला एवं स्मृति चिह्न देकर किया। गुजरात के मुख्य सचिव राजकुमार एवं अपर मुख्य सचिव एस. जे. हैदर ने भी प्रधानमंत्री का स्वागत किया। सभी ने विभिन्न विकास कार्यों की डॉक्यूमेंट्री भी देखी।

इस अवसर पर केन्द्रीय रेल एवं कपड़ा राज्य मंत्री श्रीमती दर्शनाबेन जरदोश, राज्य के उद्योग मंत्री बलवंतसिंह राजपूत, वित्त एवं ऊर्जा मंत्री कनुभाई देसाई, आदिजाति विकास एवं शिक्षा मंत्री डॉ. कुबेरभाई डिंडोर, गृह राज्य मंत्री हर्ष संघवी, वन एवं पर्यावरण राज्य मंत्री मुकेशभाई पटेल, आदिजाति विकास राज्य मंत्री कुँवरजीभाई हलपति, शिक्षा राज्य मंत्री प्रफुलभाई पानशेरिया, सांसद के. सी. पटेल व प्रभु वसावा, नवसारी जिला पंचायत अध्यक्ष परेशभाई देसाई, सूरत जिला पंचायत अध्यक्ष श्रीमती भाविनी पटेल, सूरत के महापौर दक्षेश मावाणी, जिला संगठन अध्यक्ष श्री भूराभाई शाह, विधायकगण, शहरी विकास विभाग के प्रधान सचिव अश्विनी कुमार, नवसारी जिला कलेक्टर क्षिप्रा आग्रे, जिला विकास अधिकारी श्रीमती पुष्पलता, सूरत मनपा आयुक्त शालिनी अग्रवाल, जिला पंचायत सदस्य, पदाधिकारी, सूरत मनपा पदाधिकारी सम्बद्ध विभागों के अधिकारी सहित बड़ी संख्या में नगरजन और आसपास के ग्रामीणजन उपस्थित रहे।

अनिल,सैनी

वार्ता

image