Thursday, Jan 24 2019 | Time 16:27 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • आसिया मामले में समीक्षा याचिका पर 29 जनवरी को सुनवाई
  • नडाल पांचवीं बार ऑस्ट्रेलियन ओपन के फाइनल में
  • जाधव ने भाजपा में शामिल होने से इन्कार किया
  • चिकित्सक के लापता भतीजे का शव बरामद
  • जयंती के मौके पर याद किये गये कर्पूरी ठाकुर
  • रॉकिंगडील्स की स्पाइस हॉटस्पॉट रिटेल के साथ साझेदारी
  • केदारनाथ कस्तूरी मृग अभ्यारण्य में मंदिरों को शामिल करने के मामले में केन्द्र से मांगा जवाब
  • मैसी सर्वकालिक सर्वश्रेष्ठ खिलाड़ी: गार्सिया
  • चंदा के खिलाफ सीबीआई ने किया मुकदमा दर्ज, चार जगह छापे
  • असम के तीन व्याख्याता सड़क हादसे के शिकार
  • शोपियां में दूसरे दिन भी रहा जनजीवन प्रभावित
  • सिंधू और श्रीकांत क्वार्टरफाइनल में
  • बॉलीवुड अभिनेता यशपाल शर्मा बनाएंगे कवि पं0 लख्मी चंद की बायोपिक
  • राजकोट में पुलिस ने किये दो फर्जी डॉक्टर गिरफ्तार
  • गैस सिलेंडर विस्फोट से पांच झुलसे
खेल Share

एशियाड स्वर्ण का सपना पूरा करना चाहते हैं सुशील

एशियाड स्वर्ण का सपना पूरा करना चाहते हैं सुशील

नयी दिल्ली, 14 अगस्त (वार्ता) भारत के सबसे यशस्वी पहलवान और दो बार के ओलम्पिक पदक विजेता सुशील कुमार एशियाई खेलों में स्वर्ण पदक जीतने का अपना सपना इस बार 18 अगस्त से इंडोनेशिया में शुरू हो रहे 18वें एशियाई खेलों में पूरा करना चाहते हैं।

सुशील ने इस साल गोल्ड कोस्ट राष्ट्रमंडल खेलों में स्वर्ण पदक जीतकर राष्ट्रमंडल खेलों में स्वर्णिम हैट्रिक पूरी की थी। सुशील विश्व चैंपियनशिप में स्वर्ण पदक, एशियाई चैंपियनशिप में स्वर्ण और लगातार दो ओलम्पिक में कांस्य तथा रजत पदक जीत चुके हैं लेकिन उनके पास एशियाई खेलों का स्वर्ण पदक नहीं है।

महाबली सतपाल के शिष्य सुशील ने 2006 के दोहा एशियाई खेलों में 66 किग्रा वर्ग में कांस्य पदक जीता था लेकिन उसके बाद अगले दो एशियाई खेलों में उन्होंने हिस्सा नहीं लिया। अप्रैल में राष्ट्रमंडल खेलों में 74 किग्रा का स्वर्ण पदक जीतने के बाद सुशील एशियाई खेलों में स्वर्ण जीतने का अपना सपना पूरा करने के इरादे से उतरेंगे।

भारतीय कुश्ती टीम एशियाई खेलों में पिछली बार के मुकाबले बेहतर प्रदर्शन करने के इरादे से मंगलवार को जकार्ता के लिए रवाना हो गयी। भारत ने पिछले एशियाई खेलों में कुश्ती में एक स्वर्ण, एक रजत और तीन कांस्य सहित पांच पदक जीते थे। योगेश्वर दत्त ने 28 साल के लंबे अंतराल के बाद भारत को कुश्ती में स्वर्ण पदक दिलाया था। योगेश्वर से पहले करतार सिंह ने 1986 के एशियाई खेलों में स्वर्ण पदक जीता था। सुशील के गुरु महाबली सतपाल ने 1982 के दिल्ली एशियाई खेलों में स्वर्ण पदक जीता था।

 

image