Wednesday, Nov 21 2018 | Time 18:05 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • बिहार में 903 पशु चिकित्सकों की नियुक्ति शीघ्र : सुशील
  • आतंकी हमले में शहीद विजय कुमार की राजकीय सम्मान के साथ अंत्येष्टि
  • बारिश ने बिगाड़ा भारत का खेल, 4 रन से गंवाया मैच
  • शिक्षक भर्ती की सीबीआई जाँच कराने के आदेश को चुनौती
  • निरंकारी भवन पर हमला करने वालों में से एक गिरफ्तार, दूसरे की तलाश जारी
  • चुनाव में 'डबल इंकमबेंसी' भाजपा को पड़ेगी महंगी: मोहन प्रकाश
  • चुनाव में 'डबल इंकमबेंसी' भाजपा को पड़ेगी महंगी: मोहन प्रकाश
  • चुनाव में 'डबल इंकमबेंसी' भाजपा को पड़ेगी महंगी: मोहन प्रकाश
  • पैनासोनिक ने आईओटी समाधान ‘सीकिट’ किया लॉन्च
  • भंडारण निगम देश की खाद्य सुरक्षा में अधिकाधिक योगदान करें: खट्टर
  • सिख श्रद्धालुओं का जत्था पाकिस्तान रवाना
  • पोखरी में गुरुवार को पुनर्मतदान
  • त्रिपुरा उच्च न्यायालय ने सीबीआई को जांच शुरू करने के दिये आदेश
  • बागी उम्मीदवारों को जल्द मना लिया जायेगा: कांग्रेस
  • तिवाड़ी को बाँसुरी और बेनीवाल को बोतल चुनाव चिह्न
दुनिया Share

तालिबान ने शांति वार्ता के लिए रूस का आमंत्रण किया स्वीकार

तालिबान ने शांति वार्ता के लिए रूस का आमंत्रण किया स्वीकार

काबुल 22 अगस्त(रायटर) तालिबान ने अफगानिस्तान के बारे में रूस के प्रस्तावित शांति वार्ता का आमंत्रण स्वीकार कर लिया और चार वरिष्ठ सदस्यों को रूस भेजने का निर्णय लिया। अफगानिस्तान सरकार ने प्रस्तावित शांति वार्ता में भाग लेने से इन्कार कर दिया।

तालिबान के प्रवक्ता जबीहुल्ला मुजाहिद ने कहा, ' हमारे नेताओं ने रूस के नेतृत्व में शांति वार्ता में शामिल होने के रूस के निमंत्रण को स्वीकार कर लिया है।'

रूस ने अमेरिका समेत कई देशों को आगामी चार सितंबर को मॉस्को में प्रस्तावित वार्ता में शामिल होने के लिए आमंत्रित किया लेकिन अमेरिका और अफगानिस्तान ने कहा कि वह वार्ता में शामिल नहीं होगा।

एक तालिबानी कमांडर ने कहा कि कतर की राजधानी दोहा में इस्लामी समूहों के राजनीतिक कार्यालय के प्रमुख मोहम्मद अब्बास स्टेनकेजई के नेतृत्व में तालिबान के कम से कम चार वरिष्ठ सदस्य इस वार्ता में शामिल होंगे।

इससे निर्णय के कुछ घंटों पहले, अफगान सरकार ने कहा कि वह वार्ता में शामिल नहीं होगा।

अफगानिस्तान के विदेश मंत्रालय के एक अधिकारी ने बताया, ' हमलोगों ने माॅस्को सम्मेलन में भाग लेने के खिलाफ फैसला किया है। उन्होंने कहा सरकार तालिबान के साथ विदेशी शक्तियों की प्रत्यक्ष भागीदारी के बगैर 'सीधी बातचीत' करेगी।'

नीरज

रायटर

image