Saturday, Feb 16 2019 | Time 21:43 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • ममता ने कोलकाता में निकाला कैंडल मार्च
  • सोनाेवाल, मंत्रिमंडल सहयोगियों ने शहीद बासुमुतारी को श्रद्धांजलि दी
  • आतंकी हमले के विरोध में बिहार में दिखा लोगों का आक्रोश
  • ईरान ने आतंकवादी कृत्यों के लिए सऊदी अरब और अमीरात काे चेताया
  • यूपी बोर्ड परीक्षा में अब तक 556553 परीक्षार्थियों ने छोड़ी परीक्षा, 231 पकडे गये नकलची
  • मोदी कल देंगे बिहार को 33 हजार करोड़ रुपये से अधिक की सौगात
  • रविवार को नियत वक्त पर चलेगी वंदे भारत एक्सप्रेस
  • पारसनाथ से नक्सली गिरफ्तार, कई बंकर ध्वस्त
  • ईरान के रिवोल्यूशनरी गार्डस ने पाकिस्तान पर आतंकवाद को सहारा देने का आरोप लगाया
  • शहीदों की सजी चितायें, आंसुओं के सैलाब में डूबा उत्तर प्रदेश
  • मतदाता पंजीकरण के लिये हरियाणा में 23-24 फरवरी को लगेंगे विशेष शिविर
  • पाकिस्तानी विदेश सचिव ने पुलवामा हमले पर भारत के आरोपों को नकारा
  • जिम्बाब्वे में कंडोम संकट
  • अफगानिस्तान में 51 आतंकवादी ढेर, 50 घायल
  • विधायक देशराज करेंगे बाघा सीमा पर पाकिस्तान के खिलाफ प्रदर्शन
दुनिया Share

तालिबान ने शांति वार्ता के लिए रूस का आमंत्रण किया स्वीकार

तालिबान ने शांति वार्ता के लिए रूस का आमंत्रण किया स्वीकार

काबुल 22 अगस्त(रायटर) तालिबान ने अफगानिस्तान के बारे में रूस के प्रस्तावित शांति वार्ता का आमंत्रण स्वीकार कर लिया और चार वरिष्ठ सदस्यों को रूस भेजने का निर्णय लिया। अफगानिस्तान सरकार ने प्रस्तावित शांति वार्ता में भाग लेने से इन्कार कर दिया।

तालिबान के प्रवक्ता जबीहुल्ला मुजाहिद ने कहा, ' हमारे नेताओं ने रूस के नेतृत्व में शांति वार्ता में शामिल होने के रूस के निमंत्रण को स्वीकार कर लिया है।'

रूस ने अमेरिका समेत कई देशों को आगामी चार सितंबर को मॉस्को में प्रस्तावित वार्ता में शामिल होने के लिए आमंत्रित किया लेकिन अमेरिका और अफगानिस्तान ने कहा कि वह वार्ता में शामिल नहीं होगा।

एक तालिबानी कमांडर ने कहा कि कतर की राजधानी दोहा में इस्लामी समूहों के राजनीतिक कार्यालय के प्रमुख मोहम्मद अब्बास स्टेनकेजई के नेतृत्व में तालिबान के कम से कम चार वरिष्ठ सदस्य इस वार्ता में शामिल होंगे।

इससे निर्णय के कुछ घंटों पहले, अफगान सरकार ने कहा कि वह वार्ता में शामिल नहीं होगा।

अफगानिस्तान के विदेश मंत्रालय के एक अधिकारी ने बताया, ' हमलोगों ने माॅस्को सम्मेलन में भाग लेने के खिलाफ फैसला किया है। उन्होंने कहा सरकार तालिबान के साथ विदेशी शक्तियों की प्रत्यक्ष भागीदारी के बगैर 'सीधी बातचीत' करेगी।'

नीरज

रायटर

image