Sunday, Jan 26 2020 | Time 22:29 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • गणतंत्र की मजबूती के लिए शिक्षित युवाओं को रोजगार ज़रूरी : राहुल
  • इंग्लैंड ने दक्षिण अफ्रीका को दिया 466 का लक्ष्य
  • कश्मीर में नौ घंटे बाद मोबाइल सेवाएं पुन: बहाल
  • सिंधू ने हैदराबाद को दिलाई सीजन की पहली जीत
  • सिंधू ने हैदराबाद को दिलाई सीजन की पहली जीत
  • दो मोटरसायकलों की भिडंत में चार युवकों की मौत, दो युवक घायल
  • फोटो कैप्शन तीसरा सेट
  • मध्यप्रदेश में हर्षोल्लास से मनाया गया 71वां गणतंत्र दिवस
  • हर्षोल्लास से मनाया गया 71वां गणतंत्र दिवस
  • पद्मश्री पाने वाली पहली महिला फुटबॉलर बनी बेमबेम देवी
  • पद्मश्री पाने वाली पहली महिला फुटबॉलर बनी बेमबेम देवी
  • विधानसभा चुनाव से पहले पूर्ण हो जाएगा हर घर नल का जल, शौचालय और पक्की गली-नाली निर्माण का काम : नीतीश
  • मेरठ पुलिस मुठभेड़ में डेढ़ लाख का इनामी बदमाश ढ़ेर,पुलिसकर्मी घायल
  • नौजवानों को आगे आकर अन्याय के खिलाफ संघर्ष करने का संकल्प लेना होगा:मुलायम
  • हुसामुद्दीन को रजत, शिवा और सोनिया को कांस्य
मनोरंजन


पहली संगीतकार जोड़ी थी हुस्नलाल-भगतराम की

पहली संगीतकार जोड़ी थी हुस्नलाल-भगतराम की

..पुण्यतिथि 26 नवंबर  ..

मुंबई 25 नवंबर नवंबर (वार्ता) भारतीय फिल्म संगीत जगत में अपनी धुनों के जादू से श्रोताओं को मदहोश करने वाले संगीतकार तो कई हुए और उनका जादू भी श्रोताओं के सर चढ़कर बोला लेकिन उनमें कुछ ऐसे भी थे जो बाद में

गुमनामी के अंधेरे में खो गये और आज उन्हें कोई याद भी नहीं करता। फिल्म इंडस्ट्री की पहली संगीतकार जोड़ी हुस्नलाल-भगतराम भी ऐसी ही एक प्रतिभा थे।

आवाज की दुनिया के बेताज बादशाह मोहम्मद रफी को प्रारंभिक सफलता दिलाने में हुस्नलाल-भगतराम का अहम योगदान रहा था। चालीस के दशक कें अंतिम वर्षो में जब मोहम्मद रफी फिल्म इंडस्ट्री में बतौर पार्श्वगायक अपनी पहचान बनाने में लगे थे तो उन्हें काम ही नही मिलता था। तब हुस्नलाल-भगतराम की जोड़ी ने उन्हें एक गैर फिल्मी गीत गाने का अवसर दिया था।

वर्ष 1948 में महात्मा गांधी की हत्या के बाद इस जोड़ी ने मोहम्मद रफी को राजेन्द्र कृष्ण रचित गीत ..सुनो सुनो ऐ दुनिया वालो बापू की अमर कहानी..गाने का अवसर दिया। देशभक्ति के जज्बे से परिपूर्ण यह गीत श्रोताओं में काफी लोकप्रिय हुआ। इसके बाद अन्य संगीतकार भी मोहम्मद रफी की प्रतिभा को पहचानकर उनकी तरफ आकर्षित हुये और अपनी फिल्मों में उन्हें गाने का मौका देने लगे।

मोहम्मद रफी हुस्नलाल-भगतराम के संगीत बनाने के अंदाज से काफी प्रभावित थे और उन्होंने कई मौकों पर इस बात का जिक्र भी किया है। मोहम्मद रफी सुबह चार बजे ही इस संगीतकार जोडी के घर तानपुरा लेकर चले जाते थे जहां वह संगीत का रियाज किया करते थे।

हुस्नलाल-भगतराम ने मोहम्मद रफी के अलावा कई अन्य संगीतकारों को पहचान दिलाने में अहम भूमिका निभायी थी। सुप्रसिद्ध संगीतकार जोड़ी शंकर-जयकिशन ने हुस्नलाल-भगतराम से ही संगीत की शिक्षा हासिल की थी। मशहूर

संगीतकार लक्ष्मीकांत भी हुस्नलाल-भगतराम से वायलिन बजाना सीखा करते थे।

छोटे भाई हुस्नलाल का जन्म 1920 में पंजाब में जालंधर जिले के कहमां गावं में हुआ था जबकि बड़े भाई भगतराम का जन्म भी इसी गांव में वर्ष 1914 में हुआ था। बचपन से ही दोनों का रूझान संगीत की ओर था। हुस्नलाल वायलिन और भगतराम हारमोनियम बजाने में रूचि रखते थे। हुस्नलाल और भगतराम ने संगीत की प्रारंभिक शिक्षा अपने बड़े भाई और संगीतकार पंडित अमरनाथ से हासिल की। इसके अलावा उन्होंने पंडित दिलीप चंद बेदी से से भी शास्त्रीय संगीत की शिक्षा ली थी।

वर्ष 1930-1940 के दौरान संगीत निर्देशक शास्त्रीय संगीत की राग-रागिनी पर आधारित संगीत दिया करते थे। हुस्नलाल-भगतराम इसके पक्ष में नहीं थे। उन्होंने शास्त्रीय संगीत में पंजाबी धुनों का मिश्रण करके एक अलग तरह का संगीत देने का प्रयास दिया और उनका यह प्रयास काफी सफल भी रहा।

हुस्नलाल-भगतराम ने अपने सिने कैरियर की शुरूआत वर्ष 1944 में प्रदर्शित फिल्म ‘चांद’ से की। इस फिल्म में उनके संगीतबद्ध गीत ..दो दिलों की ये दुनिया ..श्रोताओं में काफी लोकप्रिय हुये लेकिन फिल्म की असफलता के कारण संगीतकार के रूप में वे अपनी खास पहचान नही बना सके।

वर्ष 1948 में प्रदर्शित फिल्म ‘प्यार की जीत’ में अपने संगीतबद्ध गीत ..एक दिल के टुकड़े हजार हुये ..की सफलता के बाद हुस्नलाल-भगतराम फिल्म इंडस्ट्री में अपनी पहचान बनाने में कामयाब हो गये। मोहम्मद रफी की आवाज में कमर जलालाबादी रचित यह गीत आज भी रफी के दर्द भरे गीतों में विशिष्ट स्थान रखता है लेकिन दिलचस्प बात यह है कि हुस्नलाल-भगतराम ने यह गीत फिल्म ‘प्यार की जीत’ के लिये नही बल्कि फिल्म ‘सिंदूर’ के लिये संगीतबद्ध किया था।

फिल्म ‘सिंदूर’ के निर्माण के समय जब हुस्नलाल-भगतराम ने फिल्म निर्माता शशिधर मुखर्जी को यह गीत सुनाया तो उन्होंने इसे अनुपयोगी बताकर फिल्म में शामिल करने से मना कर दिया। बाद में निर्माता ओ.पी. दत्ता ने इस गीत को अपनी फिल्म ‘प्यार की जीत’ में इस्तेमाल किया ।

वर्ष 1950 में प्रदर्शित फिल्म ‘चांद’ में अपने संगीतबद्ध गीत ...चुप चुप खडे हो जरूर कोई बात है .. की सफलता के बाद हुस्नलाल-भगतराम फिल्म इंडस्ट्री में चोटी के संगीतकारों में शुमार हो गये। इस गीत से जुड़ा एक रोचक तथ्य है कि उस जमाने में गांवो में रामलीला के मंचन से पहले दर्शको की मांग पर इसे अवश्य बजाया जाता था। लता मंगेशकर और प्रेमलता की युगल आवाज में रचे-बसे इस गीत की तासीर आज भी बरकरार है ।

साठ के दशक मे पाश्चात्य गीत-संगीत की चमक से निर्माता निर्देशक अपने आप को नही बचा सके और धीरे धीरे निर्देशकों ने हुस्नलाल-भगतराम की ओर से अपना मुख मोड़ लिया। इसके बाद हुस्नालाल दिल्ली चले गये और आकाशवाणी में काम करने लगे जबकि भगतराम मुंबई में ही रहकर छोटे-मोटे स्टेज कार्यक्रम में हिस्सा लेने लगे। भगतराम 26 नवंबर 1973 को बड़ी ही खामोशी के साथ इस दुनिया को अलविदा कह गये। हुस्नलाल इससे पहले 28 दिसंबर 1968 को ही चल बसे थे।

 

More News
ग्रे शेड वाले रोल गुस्सैल बना देते हैं: चंकी पांडे

ग्रे शेड वाले रोल गुस्सैल बना देते हैं: चंकी पांडे

26 Jan 2020 | 12:56 PM

मुंबई 26 जनवरी (वार्ता) बॉलीवुड अभिनेता चंकी पांडे का कहना है कि ग्रे शेड वाले किरदार उन्हें गुस्सैल बना देते हैं।

see more..
फौजी का किरदार फिर निभाना चाहते हैं शाहरुख खान

फौजी का किरदार फिर निभाना चाहते हैं शाहरुख खान

26 Jan 2020 | 12:52 PM

मुंबई 26 जनवरी (वार्ता) बॉलीवुड के किंग खान शाहरूख खान एक बार फिर फौजी का किरदार निभाना चाहते हैं

see more..
संघर्ष के बाद अजित ने बनायी बॉलीवुड में पहचान

संघर्ष के बाद अजित ने बनायी बॉलीवुड में पहचान

26 Jan 2020 | 4:59 PM

..जन्मदिवस 27 जनवरी .. मुंबई 26 जनवरी(वार्ता) दर्शकों में अपनी विशिष्ट अदाकारी और संवाद अदायगी के लिए मशहूर अभिनेता अजित को बालीवुड में एक अलग मुकाम हासिल करने के लिए प्रारंभिक दौर में कड़ा संघर्ष करना पड़ा था।

see more..
पचास-साठ के दशक के सुपरस्टार थे भारत भूषण

पचास-साठ के दशक के सुपरस्टार थे भारत भूषण

26 Jan 2020 | 12:36 PM

..पुण्यतिथि 27 जनवरी .. मुंबई 26 जनवरी (वार्ता)बॉलीवुड में भारत भूषण को एक ऐसे अभिनेता के तौर पर याद किया जाता है जिन्होंने पचास-साठ के दशक में अपनी अभिनीत फिल्मों से दर्शको के बीच खास पहचान बनायी।

see more..
“दिल दिया है जान भी देंगे ऐ वतन तेरे लिये”

“दिल दिया है जान भी देंगे ऐ वतन तेरे लिये”

25 Jan 2020 | 2:20 PM

मुंबई, 25 जनवरी (वार्ता) भारतीय सिनेमा जगत में देशभक्ति से परिपूर्ण फिल्मों और गीतों की एक अहम भूमिका रही है और इसके माध्यम से फिल्मकार लोगों में देशभक्ति के जज्बे को आज भी बुलंद करते हैं।

see more..
image