Tuesday, Nov 19 2019 | Time 20:19 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • ब्रिक्स देशों में आगे बढ़ने की असीमित क्षमता: मधुकर
  • डेंगू मामले में हाईकोर्ट ने सरकार से मांगा जवाब
  • नाथ संप्रदाय जनकल्याण के लिये महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहा है:योगी
  • एक दिसंबर से होगा विश्व कबड्डी कप का आयोजन
  • राजद ने कोडरमा से सुभाष यादव को बनाया उम्मीदवार
  • दिल्ली हवाई अड्डे पर पकड़ा गया नकली पायलट
  • ओडिशा सरकार सिख स्मारकों को सुरक्षित रखने के लिए गंभीर हो: भाई लौंगोवाल
  • दिल्ली को प्रदूषण मुक्त बनाने में कांग्रेस सरकारों की अहम भूमिका: सोनिया
  • ओडिशा में ग्रामीण क्षेत्रों में हर घर में 2024 तक पाइप के जरिए पेयजल आपूर्ति का लक्ष्य
  • कोविंद आईएएस एझिमला पहुंचे
  • सभी नागरिकों के लिए जीवन सहज बनाने पर ध्यान केंद्रित कर रही सरकार: कोविंद
  • जालियांवाल बाग ट्रस्ट से कांग्रेस का आजीवन अध्यक्ष पद समाप्त: मलिक
  • केजरीवाल ने करोड़ों लोगों को गंदा पानी पिला अस्पतालों के चक्कर लगवाए: कीर्ति आज़ाद
राज्य » मध्य प्रदेश / छत्तीसगढ़


घाघरा चोली पहन भगवान बनते सखी, सिर्फ महिलाओं को मिलता प्रवेश

घाघरा चोली पहन भगवान बनते सखी, सिर्फ महिलाओं को मिलता प्रवेश

पन्ना, 23 मार्च (वार्ता) मध्यप्रदेश के पन्ना जिले में आज चैत्र माह की तृतीया पर रंगों के पर्व होली के बाद सुप्रसिद्ध भगवान श्री जुगल किशोर जी मंदिर में जुगल किशोर जी सखी वेष में दर्शन देते हैं।

भगवान की इस अनोखी छटा को निहारने तृतीया को मंदिर में सुबह पांच बजे से 11 बजे तक सिर्फ महिलाओं को प्रवेश मिलता है।

भगवान के इस नयनाभिराम अलौकिक स्वरूप के दर्शन वर्ष में सिर्फ एक बार होली के बाद तृतीया को ही होते हैं। यही वजह है कि सखी वेष के दर्शन करने पन्ना के श्री जुगुल किशोर जी मन्दिर में श्रद्धालुओं का

सैलाब उमड़ पड़ता है। कृष्ण की भक्ति में लीन महिलायें जब ढोलक की थाप पर होली गीत गाते हुये गुलाल उड़ाकर नृत्य करती हैं तो पन्ना शहर के इस मन्दिर में वृन्दावन जीवंत हो उठता है। सुबह 5 बजे से ही महिला श्रद्धालुओं का सैलाब भगवान के सखी वेष को निहारने और उनके सानिद्ध में गुलाल की होली खेलने के लिये उमड़ पड़ा।

यह अनूठी परम्परा श्री जुगुल किशोर जी मन्दिर में साढ़े तीन सौ वर्ष से भी अधिक समय से चली आ रही है जो आज भी कायम है। मन्दिर के प्रथम महन्त बाबा गोविन्ददास दीक्षित जी के वंशज देवी दीक्षित ने बताया कि सखी वेष के दर्शन की परम्परा प्रथम महन्त जी के समय ही शुरू हुई थी। मान्यता है कि चार धामों की यात्रा श्री जुगुल किशोर जी के दर्शन बिना अधूरी है। आज के दिन महिलाओं को प्रसाद के तौर पर भी सिर्फ गुलाल ही मिलता है।

image