Tuesday, Aug 11 2020 | Time 08:25 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • आज का इतिहास (प्रकाशनार्थ 12 अगस्त)
  • इजरायल में कोरोना से अबतक 84,722 लोग संक्रमित
  • ब्राजील में कोरोना से अबतक 101,752 लोगों की मौत
  • नाइजीरिया में अज्ञात बंदूकधारी के हमले में 13 लोगों की मौत
  • यमन में भारी बारिश के कारण दो महिलाओं की मौत
  • व्हाइट हाउस के पास गोलीबारी के बाद ट्रंप ने अचानक छोड़ी कोरोना ब्रीफिंग
  • फ्रांस में पिछले तीन दिनों में कोरोना के 4800 नए मामले
  • प्रदर्शनकारियों के आगे झुकी लेबनान सरकार, दिया इस्तीफा
  • सूडान में अत्यधिक वर्षा के कारण 21 लोगों की मौत, कई घायल
  • बेरुत विस्फोट के बाद लेबनान सरकार ने दिया इस्तीफा
  • ओमान में कोरोना से अबतक 81,787 लोग संक्रमित
  • राहुल ने की प्रणब मुखर्जी के जल्द स्वस्थ होने की कामना
  • प्रणब दा की दिमाग की सर्जरी सफल, फिलहाल वेंटिलेटर पर
राज्य » मध्य प्रदेश / छत्तीसगढ़


घाघरा चोली पहन भगवान बनते सखी, सिर्फ महिलाओं को मिलता प्रवेश

घाघरा चोली पहन भगवान बनते सखी, सिर्फ महिलाओं को मिलता प्रवेश

पन्ना, 23 मार्च (वार्ता) मध्यप्रदेश के पन्ना जिले में आज चैत्र माह की तृतीया पर रंगों के पर्व होली के बाद सुप्रसिद्ध भगवान श्री जुगल किशोर जी मंदिर में जुगल किशोर जी सखी वेष में दर्शन देते हैं।

भगवान की इस अनोखी छटा को निहारने तृतीया को मंदिर में सुबह पांच बजे से 11 बजे तक सिर्फ महिलाओं को प्रवेश मिलता है।

भगवान के इस नयनाभिराम अलौकिक स्वरूप के दर्शन वर्ष में सिर्फ एक बार होली के बाद तृतीया को ही होते हैं। यही वजह है कि सखी वेष के दर्शन करने पन्ना के श्री जुगुल किशोर जी मन्दिर में श्रद्धालुओं का

सैलाब उमड़ पड़ता है। कृष्ण की भक्ति में लीन महिलायें जब ढोलक की थाप पर होली गीत गाते हुये गुलाल उड़ाकर नृत्य करती हैं तो पन्ना शहर के इस मन्दिर में वृन्दावन जीवंत हो उठता है। सुबह 5 बजे से ही महिला श्रद्धालुओं का सैलाब भगवान के सखी वेष को निहारने और उनके सानिद्ध में गुलाल की होली खेलने के लिये उमड़ पड़ा।

यह अनूठी परम्परा श्री जुगुल किशोर जी मन्दिर में साढ़े तीन सौ वर्ष से भी अधिक समय से चली आ रही है जो आज भी कायम है। मन्दिर के प्रथम महन्त बाबा गोविन्ददास दीक्षित जी के वंशज देवी दीक्षित ने बताया कि सखी वेष के दर्शन की परम्परा प्रथम महन्त जी के समय ही शुरू हुई थी। मान्यता है कि चार धामों की यात्रा श्री जुगुल किशोर जी के दर्शन बिना अधूरी है। आज के दिन महिलाओं को प्रसाद के तौर पर भी सिर्फ गुलाल ही मिलता है।

image