Monday, Mar 30 2020 | Time 20:56 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • रामदेव देंगे 25 करोड़ रुपये, पतंजलि कर्मचारी भी देंगे एक दिन का वेतन
  • भारतीय नागरिकों का ध्यान रखें और काेरोना से लड़ाई में भागीदार बनें राजदूत: मोदी
  • आईओए ने ओलम्पिक की नयी तारीखों का स्वागत किया
  • वाराणसी में लाॅकडाउन की आड़ में कालाबाजारी करने वाले नौ गिरफ्तार
  • हरियाणा में प्रवेश करने पर पंजाब के विधायक का चालान काटा
  • नेट और जेएनयू प्रवेश परीक्षाओं के फार्म भरने की तिथि बढ़ी
  • गुरूग्राम में काेरोना जांच के लिये तीन लैब अधिकृत
  • 2021 की विश्व एथलेटिक्स चैंपियनशिप 2022 तक स्थगित
  • बिहार में 15 मरीज कोरोना पॉजिटिव, 2376 संदिग्ध निगरानी में
  • चंडीगढ़ में कोरोना के पांच नये मामले, कुल संख्या 13 हुई
  • छत्तीसगढ़ में 62 हजार से अधिक परिवारों को भोजन, निशुल्क राशन का वितरण
  • विदेशी मिशन रखें अंतरराष्ट्रीय राजनीतिक, आर्थिक परिदृश्य पर पैनी नज़र : मोदी
  • पीलीभीत में बाघ ने एक और किसान को बनाया निवाला
  • नेतन्याहू ‘सेल्फ आइसोलेशन’ में जायेंगे
  • कोरोना से लड़ने के लिये चीन ने खोजा तरीका
लोकरुचि


शक्ति की देवी करेंगी ‘कोरोना’ का महाविनाश

शक्ति की देवी करेंगी ‘कोरोना’ का महाविनाश

लखनऊ.बलरामपुर,24 मार्च (वार्ता) आतंक का पर्याय बने नाेवेल कोरोना वायरस के संक्रमण से देश दुनिया को मुक्ति दिलाने की मनोकामना के साथ लाखों श्रद्धालु बुधवार से शुरू हो रहे चैत्र नवरात्र के मौके पर शक्ति की देवी की अराधना करेंगे।

कोविड 19 के संक्रमण के विस्तार को रोकने के लिये राज्य के सभी जिलों में 27 मार्च तक लाकडाउन किया गया है जिसके चलते इतिहास में संभवत: पहली बार शक्तिपीठों समेत सभी प्रमुख देवी मंदिरों के कपाट आम श्रद्धालुओं के लिये बंद रहेंगे। लोगों ने महामारी को दैवीय प्रकोप समझते हुये माना है कि मां आदि भवानी के आगमन के साथ देश को इस संकट से मुक्ति मिलनी शुरू हो जायेगी।

मिर्जापुर में मां विंध्यवासिनी, बलरामपुर में देवी पाटन समेत प्रदेश में अन्य शक्तिपीठों के अलावा देवी मंदिरों में नवरात्र की तैयारी पूरी कर ली गयी है हालांकि श्रद्धालुजन मां की आराधना अपने घरों में करेंगे और धूप दीप नैवेद्य से मां भवानी की स्तुति करेंगे।

अलग अलग शहरों में स्थित प्रमुख देवी मंदिरो की साफ सफाई का काम पूरा हो चुका है और इस बार अधिकतर मंदिरों को काेरोना के संक्रमण से बचाने के लिये बाकायदा सैनीटाइज भी किया गया है। नेपाल सीमा से सटे बलरामपुर जिले के तुलसीपुर में स्थित 51 शक्तिपीठों मे एक माँ पाटेश्वरी देवी पाटन मंदिर में दर्शन लाभ से श्रद्धालु भले ही वंचित होंगे देवीभक्त कोरोना जैसे महाअसुर को समाप्त करने के लिये मां पाटेश्वरी की घरों में उपासना कर मनोकामना मांग रहे है l

देवीपाटन मंदिर में महंत मिथलेश नाथ योगी और पुजारी आरती हवन पूजन कर जनकल्याण , विश्वकल्याण और प्राकृतिक आपदाओं से सुरक्षा के लिये अरदास लगा रहे है। महंत मिथलेश नाथ ने बताया कि तुलसीपुर तहसील क्षेत्र के पाटन गांव मे सिरिया नदी के तट पर स्थित है l देवी पाटन मंदिर मे मुख्य रुप से माँ पाटेश्वरी की पुष्प ,नारियल ,चुनरी ,लौंग ,इलायची कपूर व अन्य पूजन सामग्रियां चढाकर पूजा अर्चना की जाती है। देवीभक्त यहाँ स्थित सूर्य कुंड मे पवित्र स्नान कर पेट पलनिया चलकर माँ के दर्शन करते है। 

मिथलेश नाथ के अनुसार ,पिता दक्ष प्रजापति के यहाँ आयोजित बड़े अनुष्ठान मे अपने पति देवाधिदेव महादेव को न्योता और स्थान न दिये जाने से क्षुब्ध माँ जगदम्बा ने स्वयं को अग्नि को भेंट कर सती कर लिया था। माता के सती होने से आक्रोशित महादेव अत्यंत दुखी हुये और माता सती के शव को कंधे पर रखकर तांडव करने लगे। शिव तांडव से धरती थर्राने लगी। इससे संसार मे व्यवधान उत्पन्न होने लगा। संसार को विनाश से बचाने के लिये भगवान विष्णु ने सती के अंगो को सुदर्शन चक्र से खण्डित कर दिया। विभिन्न इक्यावन स्थानों पर गिरा दिया जिन जिन स्थानों पर माता के अंग गिरे वह स्थान शक्तिपीठ माने गये।

पाटन गांव मे माँ जगदम्बा का बांया स्कंद पाटम्बर समेत गिरा, तभी से इस शक्तिपीठ को माँ पाटेश्वरी देवी पाटन मंदिर के नाम से जाना जाता है। यहाँ एक गर्भगृह भी स्थित है जहाँ माता सीता का पाताल गमन हुआ था। नव दुर्गाओ माँ शैलपुत्री ,कुष्माडा ,स्कंदमाता,कालरात्रि ,महागौरी ,चंद्रघंटा,सिद्धदात्री,ब्रह्म्चारिणीऔर कात्यायनी की प्रतिमायें मंदिर मे स्थापित है। मंदिर मे स्थित गर्भगृह सुरंग पर माँ की प्रतिमा विद्यमान है। यहाँ कई रत्नजडित छतर है। ताम्रपत्र पर दुर्गा सप्तशती अंकित है। मंदिर मे स्थापना काल से ‘अखंड ज्योति’ प्रज्जवलित है।

सं प्रदीप

वार्ता

 

More News
शीतला माता श्रद्धालुओं को देती है निरोगी काया

शीतला माता श्रद्धालुओं को देती है निरोगी काया

28 Mar 2020 | 10:57 AM

राजगीर 28 मार्च (वार्ता) बिहार में नालंदा जिले के मघड़ा गांव स्थित शीतला माता मंदिर में पूजा करने से श्रद्धालुओं को निरोगी काया की प्राप्ति है।

see more..
पटना की नगर रक्षिका है मां पटनेश्वरी

पटना की नगर रक्षिका है मां पटनेश्वरी

27 Mar 2020 | 9:53 AM

पटना 27 मार्च (वार्ता) देश के प्रमुख शक्ति उपासना केंद्रों में शामिल पटना के पटन देवी मंदिर में विद्यमान मां भगवती को पटना की नगर रक्षिका माना जाता है।

see more..
नेतुला महारानी मंदिर में पूजा करने से नेत्र विकार से मिलती है मुक्ति

नेतुला महारानी मंदिर में पूजा करने से नेत्र विकार से मिलती है मुक्ति

26 Mar 2020 | 6:06 PM

जमुई 26 मार्च (वार्ता) बिहार के जमुई जिले के सिकंदरा प्रखंड स्थित नेतुला महारानी मंदिर में पूजा करने से श्रद्धालुओं को नेत्र संबंधित विकार से मुक्ति मिलती है और उन्हें मनवांछित फल की प्राप्ति होती है।

see more..
तीन शिव मंदिरों के साथ अद्भूत त्रिभुज का निर्माण करता है अंबिका मंदिर

तीन शिव मंदिरों के साथ अद्भूत त्रिभुज का निर्माण करता है अंबिका मंदिर

26 Mar 2020 | 11:31 AM

छपरा, 26 मार्च (वार्ता) बिहार के सारण जिला मुख्यालय छपरा से लगभग 24 किलोमीटर पूर्व दिघवारा इलाके में अवस्थित अम्बिका स्थान मंदिर श्रद्धालुओं के लिए आस्था का केंद्र है जो भगवान शिव के विश्वप्रसिद्ध पशुपतिनाथ मंदिर, विश्वनाथ मंदिर और वैद्यनाथ धाम के साथ अद्भुत त्रिभुज का निर्माण करता है।

see more..
शक्ति की देवी करेंगी ‘कोरोना’ का महाविनाश

शक्ति की देवी करेंगी ‘कोरोना’ का महाविनाश

24 Mar 2020 | 5:49 PM

लखनऊ.बलरामपुर,24 मार्च (वार्ता) आतंक का पर्याय बने नाेवेल कोरोना वायरस के संक्रमण से देश दुनिया को मुक्ति दिलाने की मनोकामना के साथ लाखों श्रद्धालु बुधवार से शुरू हो रहे चैत्र नवरात्र के मौके पर शक्ति की देवी की अराधना करेंगे।

see more..
image