Saturday, Jan 29 2022 | Time 18:16 Hrs(IST)
image
यूपी में यूनीवार्ता


यूपी की जनता को रास नहीं आती गठबंधन की राजनीति

यूपी की जनता को रास नहीं आती गठबंधन की राजनीति

लखनऊ, 29 नवंबर (वार्ता) उत्तर प्रदेश में विधानसभा चुनाव की सियासी सरगर्मियां बढ़ने के साथ राजनीतिक गठजोड़ के प्रयास तेज हो गये है मगर पिछले इतिहास पर नजर दौड़ाये तो प्रदेश की जनता को गठबंधन की राजनीति कम ही रास आयी है।

राजनीति में कुछ असंभव न होने का तर्क भी दिया जाता है। ऐसा तर्क देने वाले लोग बीते लोकसभा चुनावों में सपा -बसपा के बीच हुए गठबंधन का उदहारण देते हैं। यह गठबंधन चुनावों के तत्काल बाद टूट गया था। ऐसा नहीं है कि बीते लोकसभा चुनावों में ही गठबंधन की राजनीति फेल हुई है। यूपी के राजनीतिक इतिहास पर यदि नजर डालें तो पता चलता है कि बीते तीन दशक में उत्तर प्रदेश में कई गठबंधन हुए, कुछ चुनाव पूर्व तो कुछ चुनाव बाद, पर इनमें से कोई भी प्रयोग टिकाऊ नहीं रहा है। दूसरे राज्यों के विपरीत उत्तर प्रदेश को गठबंधनों की राजनीति कभी रास नहीं आई। इस राज्य में कोई गठबंधन लंबा नहीं चला और यहां वही जीता है जो जनता के बीच अपने दम पर लड़ता हुआ दिखता है।

समाजवादी पार्टी (सपा) के मुखिया अखिलेश यादव राज्य में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) से मुकाबला करने के लिए छोटे दलों को अपने साथ जोड़ते हुए एक बड़ा गठबंधन बनाने का प्रयास कर रहे हैं। अखिलेश के साथ खड़े होने वाले जयंत चौधरी, ओम प्रकाश राजभर सहित कई नेता गठबंधन की राजनीति के पक्ष में बोल रहे हैं, तो बहुजन समाज पार्टी (बसपा) ने गठबंधन कर चुनाव लड़ने की संभावनाओं को सिरे से ही खारिज कर दिया है।

राजनीति विश्लेषकों का मानना है कि उत्तर प्रदेश के लोगों को दूसरे राज्यों के विपरीत गठबंधनों की राजनीति कभी रास नहीं आई। पंजाब, महाराष्ट्र और बिहार जैसे राज्यों से उत्तर प्रदेश की तुलना भी नहीं की जा सकती। पंजाब में भाजपा का शिरोमणि अकाली दल से गठबंधन लंबा चला। महाराष्ट्र में भी बीजेपी और शिवसेना का गठबंधन लंबे समय तक रहा। बिहार में तो जदयू -भाजपा का गठबंधन एक दशक से ज्यादा चला टूटा और फिर जुड़ा है। इस मामले में अब यूपी की बात करें तो यहां गठबंधन की राजनीति के तमाम संभावित प्रयोग किए जा चुका हैं। यहां तक एक-दूसरे के घोर सियासी विरोधी कम्युनिस्ट और भारतीय जनसंघ भी एक ही सरकार में साथ-साथ रह चुके हैं, पर इनमें कोई भी पांच साल तक सरकार नहीं चला सका। फिर चाहे मुलायम सिंह यादव और कांशीराम की पहल पर हुआ गठबंधन हो या फिर बीते लोकसभा चुनावों में हुआ अखिलेश और मायावती का गठबंधन हो। मुलायम और कांशीराम की पहल पर हुआ गठबंधन करीब दो साल चला और अखिलेश तथा मायावती की पहल पर हुआ गठबंधन बस छह तक ही चला।

यूपी में गठबंधन की राजनीति के इतिहास को देखे तो पता चलता है कि चौधरी चरण सिंह ने पहली बार वर्ष 1967 में अलग-अलग दलों को साथ लेकर सरकार बनाने का प्रयोग किया था। तब चौधरी चरण सिंह ने कांग्रेस से अलग होकर भारतीय क्रांति दल (लोकदल) बनाया और सरकार बनाई। उस सरकार में कम्युनिस्ट पार्टी और जनसंघ भी शामिल हुआ। पर, यह सरकार एक साल भी नहीं चली। चरण सिंह के बाद 1970 में कांग्रेस से अलग हुए विधायकों ने त्रिभुवन नारायण सिंह (टीएन सिंह) के नेतृत्व में साझा सरकार बनाने का प्रयोग किया। इसमें कई अन्य दलों के साथ जनसंघ भी शामिल था, पर यह सरकार छह महीने भी नहीं चली। वर्ष 1977 में आपातकाल लगाने से नाराज राजनीतिक दलों ने 1977 में जनता पार्टी के नाम से फिर एक गठबंधन तैयार किया। फिर बाद में जनसंघ तक की आम सहमति से जनता पार्टी बनाकर चुनाव लड़ा गया।

प्रदीप

जारी वार्ता

More News
चुनाव में विरोधी दल धर्म और जाति के नाम पर मांग रहे वोट: मायावती

चुनाव में विरोधी दल धर्म और जाति के नाम पर मांग रहे वोट: मायावती

29 Jan 2022 | 6:09 PM

लखनऊ, 29 जनवरी (वार्ता) बहुजन समाज पार्टी (बसपा) की अध्यक्ष मायावती ने उत्तर प्रदेश में विधान सभा के चुनाव में विरोधी दल भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) और समाजवादी पार्टी (सपा) पर धर्म और जाति के नाम पर वोट मांगने का आरोप लगाते हुए कहा है कि इससे इन दलों का दोमुंहापान उजागर हो गया है।

see more..
अखिलेश आज गाजियाबाद और हापुड़ में करेंगे संवाद

अखिलेश आज गाजियाबाद और हापुड़ में करेंगे संवाद

29 Jan 2022 | 11:09 AM

लखनऊ, 29 जनवरी (वार्ता) उत्तर प्रदेश में विधान सभा चुनाव के दौरान समाजवादी पार्टी (सपा) के अध्यक्ष अखिलेश यादव शनिवार काे पश्चिमी उत्तर प्रदेश के गाजियाबाद और हापुड़ में जनसंवाद करेंगे।

see more..
नड्डा, शाह, स्मृति ईरानी और योगी आज उप्र में करेंगे प्रचार

नड्डा, शाह, स्मृति ईरानी और योगी आज उप्र में करेंगे प्रचार

29 Jan 2022 | 10:10 AM

लखनऊ, 29 जनवरी (वार्ता) उत्तर प्रदेश के विधान सभा चुनाव में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के अध्यक्ष जे पी नड्डा, केन्द्रीय गृह मंत्री अमित शाह और स्मृति ईरानी तथा मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ राज्य के विभिन्न इलाकों में शनिवार को पार्टी के लिये प्रचार करेंगे।

see more..
पश्चिमी उप्र में टिकट वितरण पर दो दिन में भ्रम दूर कर लेंगे: अखिलेश

पश्चिमी उप्र में टिकट वितरण पर दो दिन में भ्रम दूर कर लेंगे: अखिलेश

28 Jan 2022 | 11:06 PM

मुजफ्फरनगर, 28 जनवरी (वार्ता) समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव ने कहा कि पश्चिमी उत्तर प्रदेश में जिन चुनिंदा सीटों पर राष्ट्रीय लोक दल (रालोद) के साथ टिकट वितरण को लेकर मामूली भ्रम की जो स्थिति है उसे दो दिन में दूर कर लिया जायेगा।

see more..
अखिलेश को मुख्यमंत्री बनाना एकमात्र लक्ष्य: शिवपाल

अखिलेश को मुख्यमंत्री बनाना एकमात्र लक्ष्य: शिवपाल

28 Jan 2022 | 11:02 PM

इटावा, 28 जनवरी (वार्ता) प्रगतिशील समाजवादी पार्टी (प्रसपा) अध्यक्ष शिवपाल सिंह यादव ने शुक्रवार को कहा कि अब उनकी कोई राजनैतिक महत्वाकांक्षा नहीं है। केवल अपने भतीजे और समाजवादी पार्टी (सपा) प्रमुख अखिलेश यादव को एक बार फिर से उत्तर प्रदेश का मुख्यमंत्री बनाने की इच्छा है ।

see more..
image