Tuesday, Jul 23 2019 | Time 10:19 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • कश्मीर पर ट्रंप के विवादित बयान पर अमेरिका ने सुधारी गलती
  • ट्रम्प, इमरान के बीच अफगानिस्तान मुद्दे पर हुई चर्चा
  • भाजपा नेता समेत परिवार के तीन सदस्य की गोली मारकर हत्या ,एक घायल
  • कश्मीर पर ट्रंप के विवादित बयान पर अमेरिका ने सुधारी गलती
  • मैक्रों को रूहानी का पत्र सौंपेंगे अब्बास अरागची
  • उ कोरिया से परमाणु निरस्त्रीकरण पर फिर होगी बातचीत : अमेरिका
  • आज का इतिहास (प्रकाशनार्थ 24 जुलाई)
  • वेनेजुएला में राजधानी काराकास सहित 17 राज्यों में छाया अंधेरा
  • ईरान के दक्षिणी हिस्से में भूकंप के झटके
  • ‘प्रवसन के लिए नये समन्यव तंत्र स्थापित करने को लेकर 14 यूरोपीय देश सहमत’
  • हांगकांग में गैर कानूनी सभा करने को लेकर छह गिरफ्तार
  • सरकार के साथ विपक्षी नेताओं ने भी ट्रम्प के दावे का किया खंडन
  • मेघालय के महेंद्रगंज में निषेधाज्ञा लागू
  • विश्वास मत प्रस्ताव पर आज भी नहीं हुई वोटिंग, सदन की कार्यवाही मंगलवार तक स्थगित
राज्य


रोडवेजकर्मी पांच को चक्का जाम करने पर अड़े, अन्य संघों का भी समर्थन

रोडवेजकर्मी पांच को चक्का जाम करने पर अड़े, अन्य संघों का भी समर्थन

भिवानी, 03 सितम्बर(वार्ता) हरियाणा सरकार द्वारा एस्मा लगाने के बावजूद रोडवेज कर्मी रोडवेज के बेड़े में 700 प्राईवेट बसें शामिल करने के विरोध में अपनी पांच सितम्बर की प्रस्तावित हड़ताल को लेकर अड़ गये हैं और राज्य की अन्य पांच कर्मचारी यूनियनें भी उनके समर्थन में आ गई हैं।

राज्य की पांच कर्मचारियों के प्रधानों की आज यहां हुई बैठक में संयुक्त संघर्ष समिति ने पांच सितम्बर की हड़ताल के लिए एकजुट होने तथा राज्य सरकार के साथ आरपार की लड़ाई का ऐलान किया। सर्व कर्मचारी संघ के डिपू प्रधान राजकुमार दलाल तथा रोजवेज कर्मचारी महासंघ के डिपो प्रधान हरज्ञान घनघस ने साथ ही यह चेतावनी भी दी कि सरकार और पुलिस ने अगर हड़ताल को रोकने के लिये दमनकारी नीति अपनाई तो उसी हड़ताल अनिश्चिकालीन कर दी जाएगी।

कर्मचारी नेताओं ने कहा कि सरकार जब तक 700 निजी बसों को परमिट जारी करने का फैसला वापिस नहीं लेती तब तक उनका आंदोलन जारी रहेगा। उनका आरोप था कि सरकार रोडवेज का निजीकरण करने का प्रयास कर रही है जिससे उनके रोजगार पर संकट खड़ा होगा। उनका कहना है कि सरकार प्राइवेट बसें लेने के बजाए रोडवेज के बेड़े में अतिरिक्त बसें शामिल करे। कुछ बसे कलपुर्जों के अभाव में वर्कशॉपों में खड़ी हैं। अगर ये कल पुर्जे आ जाएं तो अनेक बसें ठीक होकर सड़कों पर आ जाएंगी।

सं.रमेश1841

वार्ता

image