Sunday, Aug 9 2020 | Time 10:37 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • आंध्र कोविड सेंटर आग: शाह ने लाेगों की मौत पर जताया शोक
  • आंध्र के कोविड केयर सेंटर में आग लगने से सात मरीजाें की मौत, तीन घायल
  • जगन मोहन ने कोविड केयर सेंटर में आग से लोगों की मौत पर जताया शोक
  • पटना में युवक का शव बरामद
  • पम्बा बांध: जलस्तर 983 05 मीटर पहुंचा,ऑरेंज अलर्ट जारी
  • मोदी ने आंध्र के कोविड केंद्र में आग से लोगों की मौत पर जताया दुख
  • मोदी ने दी बलराम जयंती की शुभकामनाएं
  • आंध्र के कोविड केयर सेंटर में आग लगने से तीन मरीजाें की मौत, कई झुलसे
  • मराठवाड़ा में कोरोना वायरस के रिकॉर्ड 1231 नये मामले
  • आंध्र प्रदेश के कोविड केयर सेंटर में आग लगने से तीन मरीजों की मौत, कई झुलसे
  • कुलगाम में सुरक्षा बलों-आतंकवादियों के बीच मुठभेड़
  • भाजपा विधायक कृष्णानंद राय हत्याकाण्ड का आरोपी एक लाख का इनामी मुठभेड़ में ढेर
  • पाकिस्तान ने पुंछ में फिर किया संघर्ष विराम उल्लंघन
  • आज का इतिहास (प्रकाशनार्थ 10 अगस्त)
लोकरुचि


मकर संक्रांति के दिन पतंग उड़ाने की परंपरा आज भी है बरकरार

मकर संक्रांति के दिन पतंग उड़ाने की परंपरा आज भी है बरकरार

पटना,13 जनवरी (वार्ता) मकर संक्रांति के दिन उमंग, उत्साह और मस्ती का प्रतीक पतंग उड़ाने की लंबे समय से चली आ रही परंपरा मौजूदा दौर में काफी बदलाव के बाद भी बरकरार है।

आधुनिक जीवन की भाग-दौड़ में भले ही लोगों में पतंगबाजी का शौक कम हो गया है लेकिन मकर संक्रांति के दिन पतंग उड़ाने की परंपरा आज भी बरकारार है। इसी परंपरा की वजह से मकर संक्रांति को पतंग पर्व भी कहा जाता है। मकर संक्रांति पर पतंग उड़ाने का वर्णन रामचरित मानस के बालकांड में मिलता है। तुलसीदास ने इसका वर्णन करते हुए लिखा है कि ‘राम इन दिन चंग उड़ाई, इंद्रलोक में पहुंची जाई।’ मान्यता है कि मकर संक्रांति पर जब भगवान राम ने पतंग उड़ाई थी, जो इंद्रलोक पहुंच गई थी। उस समय से लेकर आज तक पतंग उड़ाने की परंपरा चली आ रही है।

वर्षों पुरानी यह परंपरा वर्तमान समय में भी बरकरार है। आकाश में रंग-बिरंगी अठखेलियां करती पतंग को देख हर किसी का मन पतंग उड़ाने के लिए लालायित हो उठता है। प्रत्येक वर्ष 14 जनवरी को मकर संक्रांति के दिन लोग चूड़ा-दही खाने के बाद मकानों की छतों तथा खुले मैदानों की ओर दौड़े चले जाते हैं तथा पतंग उड़ाकर दिन का मजा लेते हैं।

मकर संक्रांति के दिन पतंगबाजी करते लोगों का उत्साह देखकर ऐसा प्रतीत होता है कि आज मकर राशि (मकर रेखा पर) में प्रवेश कर चुके सूर्य को पतंग की डोर के सहारे उत्तरी गोलार्द्ध (कर्क रेखा) की ओर खींचने का प्रयास कर रहे हों। ताकि, उत्तर के लोग भी ऊर्जा के स्राेत सूर्य की कृपा से धन-धान्य से परिपूर्ण हो सकें।

प्रेम सूरज

जारी वार्ता

More News
अयोध्या में मंदिर के लिये बुधवार को भूमि पूजन तो मथुरा में होगा कृष्ण दर्शन

अयोध्या में मंदिर के लिये बुधवार को भूमि पूजन तो मथुरा में होगा कृष्ण दर्शन

03 Aug 2020 | 9:29 PM

मथुरा 03 अगस्त (वार्ता)-पांच अगस्त को जब मर्यादा पुरूषोत्तम श्री राम की जन्मभूमि अयोध्या में भूमि पूजन के समारोह से गुंजायमान हो रही होगी उसी समय मथुरा के श्रीकृष्ण जन्मस्थान स्थित केशवदेव मंदिर में भगवान केशवदेव राम रूप में भक्तों को दर्शन दे रहे होंगे।

see more..
रक्षाबंधन पर्व अछूता नही रह सका आधुनिकता के प्रभाव से: डा कुमुद दुबे

रक्षाबंधन पर्व अछूता नही रह सका आधुनिकता के प्रभाव से: डा कुमुद दुबे

03 Aug 2020 | 1:07 PM

प्रयागराज, 03 अगस्त (वार्ता) भारतीय संस्कृति की गौरवमयी परंपरा और भाई-बहन के प्रेम का प्रतीक रक्षाबंधन भी आधुनिकता के प्रभाव से अछूता नही रहा और परंपरागत राखियों के स्थान ने रेशम के चमकीले एवं चांदी और सोने के जरी युक्त राखियों ने ले लिया है।

see more..
मैनपुरी में ईशन नदी को पुनर्जीवित करने का कार्य शुरू

मैनपुरी में ईशन नदी को पुनर्जीवित करने का कार्य शुरू

02 Aug 2020 | 7:02 PM

मैनपुरी,02 अगस्त (वार्ता) उत्तर प्रदेश के मैनपुरी में वर्षों से अपने मूल स्वरूप को खो चुकी ईशन नदी को पुनर्जीवित करने का बीड़ा जिलाधिकारी महेन्द्र बहादुर सिंह ने उठाया है।

see more..
पीलीभीत में कैदियों द्वारा बनाई गयी राफेल और मास्क राखी की बाजार में बढ़ी मांग

पीलीभीत में कैदियों द्वारा बनाई गयी राफेल और मास्क राखी की बाजार में बढ़ी मांग

01 Aug 2020 | 7:34 PM

पीलीभीत, 01 अगस्त(वार्ता) उत्तर प्रदेश के पीलीभीत में रक्षा बंधन पर जेल के बंदियों द्वारा बनाई गयी राफेल और मास्क वाली राखियाें की बाजार में मांग बढ़ गयी है।

see more..
जाएं तो कहां जाएं हर मोड पर रूसवाई: जाफरी

जाएं तो कहां जाएं हर मोड पर रूसवाई: जाफरी

31 Jul 2020 | 8:03 PM

बलरामपुर,31 जुलाई (वार्ता) “आवारा है गलियो में मै और मेरी तन्हाई ” जाएं तो कहां जाएं हर मोड पर रूसवाई” जैसी बेमिशाल शायरी लिखने वाले मशहूर शायर और देश के सबसे बडे साहित्यिक पुरस्कार ज्ञानपीठ से सम्मानित अली सरदार जाफरी ने इन पंक्तियों को लिखते वक्त यह नही सोचा होगा कि उनके इन्तकाल के बाद वह खुद इसकी मिशाल बन जायेगे।

see more..
image