Thursday, Feb 27 2020 | Time 22:10 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • आप के पार्षद ताहिर हुसैन पार्टी की प्राथमिक सदस्यता से निलंबित
  • चार दिन से लापता अधेड़ का शव कुएं से बरामद
  • हमीरपुर में सेवानिवृत्त आया की हत्या के मामले में तीन को उम्रकैद
  • प्रयोगशाला सहायकों के चयन में धांधली मामले में हाईकोर्ट सख्त
  • मॉरिशस के राष्ट्रपति पृथ्वीराज सिंह रुपन की विश्वनाथ मंदिर में पूजा
  • उप्र के प्रमुख नगरों का तापमान इस प्रकार रहा
  • योगी एवं टंडन ने किया कोनेश्वर महादेव मन्दिर परिसर का लोकार्पण
  • पुलवामा हमले के आरोपी को मिली जमानत
  • फोटो कैप्शन तीसरा सेट
  • बैंक सुरक्षाकर्मी से अचानक चल गई गोली, दो घायल
  • मोदी का सपना, बीएचयू बनेगा शिक्षा एवं ज्ञान का वैश्विक केन्द्र:निशंक
  • रैंकिंग अंक हासिल करने उतरेंगे भारतीय स्टार शटलर
  • रैंकिंग अंक हासिल करने उतरेंगे भारतीय स्टार शटलर
  • डच इंटरनेशनल में जीते मानसी और रवि
  • डच इंटरनेशनल में जीते मानसी और रवि
राज्य » उत्तर प्रदेश


प्रयागराज में गंगा और यमुना के जलस्तर में उफान जारी

प्रयागराज में गंगा और यमुना के जलस्तर में उफान जारी

प्रयागराज, 14 सितंबर (वार्ता) मध्य प्रदेश की केन ,बेतवा नदियों तथा कानपुर एवं नरौरा बैराज से छोडे गये पानी के कारण प्रयागराज में पतित पावनी गंगा और श्यामल यमुना के जलस्तर में लगातार बढ़ोत्तरी जारी है।

सिंचाई विभाग बाढ़ खंड द्वारा जारी आकड़ों के अनुसार शनिवार सुबह आठ बजे गंगा और यमुना का जलस्तर क्रमश: फाफामऊ में गंगा 83.07 मीटर, छतनाग 82.32 मीटर और नैनी में यमुना 82.96 मीटर दर्ज किया गया। शुक्रवार सुबह आठ बजे फाफामऊ में गंगा का जलस्तर 82.33 मीटर, छतनाग में 81.58 मीटर और नैनी में यमुना 82.14 मीटर दर्ज किया गया था।

उन्होंने बताया कि पिछले 24 घंटे के दौरान गंगा फाफामऊ और छतनाग में 74 -74 सेंटीमीटर तथा नैनी में यमुना 82 सेंटीमीटर की रफ्तार से बह रही थी। वर्तमान में गंगा फाफामऊ दो सेंटीमीटर, छतनाग चार सेंटीमीटर और यमुना तीन सेंटिमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से बढ़ रही है।

बेतवा नदी माताटीला बांध से शुक्रवार को आठ लाख और केन नदी मे बारियारपुर बाँध से चार लाख क्यूसिक पानी छोड़ा गया जिससे यमुना और नरौरा बांध से एक लाख तथा कानपुर से दो लाख क्यूसिक पानी गंगा में छोड़े जाने दोनों नदिया उफनाई है।

गंगा और यमुना खतरे का निशान 84.73 मीटर दर्ज है। गंगा फाफामऊ में खतरे के निशान से 1.66 मीटर, छतनाग में 2.41 और नैनी में यमुना 1.77 मीटर नीचे बह रही है।

दारागंज, कीडगंज, गऊघाट, छतनाग आदि घाट से मलल्लाहों की दर्ज़नों नाव गंगा की भेंट चढ़ गईं। बांध के नीचे तीर्थ पुरोहितो की चौकी भी बह गई। बाढ़ को देखते हुए निजी नावों के संचालन पर रोक लगा दी गई है। नदी में नहाने वालों को सतर्कता बरतने के साथ एक निर्धारित सीमा से आगे नही जाने का निर्देश दिया गया है। किसानों की खड़ी फसल को बाढ़ से भारी सुकसान हुआ है।

गौरतलब है कि गंगा बंधवा पर लेटे बड़े हनुमान का जलाभिषेक कर पांव पखारने के बाद धीरे शांत हो गयी थी लेकिन पिछले गुरुवार को दोबारा स्नान कराया।

दिनेश भंडारी

वार्ता

image