Saturday, Sep 22 2018 | Time 12:24 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • जातिगत आरक्षण राष्ट्र के विकास में बाधा: नरेन्द्र गिरी
  • हरियाणा राष्ट्रीय सैंबो प्रतियोगिता में बना चैंपियन
  • रणवीर सिंह होंगे सबसे बड़े सुपरस्टार : रोहित शेट्टी
  • अभिनेत्रियों की फिल्में 500 करोड़ नहीं कमा सकतीं : काजोल
  • रणबीर को बेस्ट एक्टर मानती हैं करीना
  • छत्रपति शिवाजी महाराज पर फिल्म बनायेंगे रोहित शेट्टी
  • खलनायकी को नया आयाम दिया प्रेम चोपड़ा ने
  • खलनायकी को नया आयाम दिया प्रेम चोपड़ा ने
  • सुरक्षाबलों ने कुपवाड़ा में घुसपैठ की कोशिश विफल की
  • पुलवामा में सुरक्षाबलों का व्यापक तलाश अभियान
  • चीन की नजर परमाणु ऊर्जा के अंतरराष्ट्रीय बाजार पर
  • ब्राजील की अदालत ने ट्विटर को दिया डाटा सौंपने का आदेश
  • पितृपक्ष मेला को लेकर प्रशासनिक तैयारियां पूरी
  • ट्रेन से कटकर दंपति की मौत
  • चीन ने कैरेबियाई देश डोमिनिकन रिपब्लिक में खोला दूतावास
भारत Share

इस बार पांच सितम्बर को केवल 45 शिक्षकों को ही राष्ट्रीय पुरस्कार मिलेंगे

इस बार पांच सितम्बर को केवल 45 शिक्षकों को ही राष्ट्रीय पुरस्कार मिलेंगे

नयी दिल्ली 03 सितम्बर (वार्ता) हर साल पांच सितम्बर को शिक्षक दिवस के अवसर पर देश के तीन सौ से अधिक शिक्षकों को राजधानी में राष्ट्रीय पुरस्कार से सम्मानित किया जाता था लेकिन इस बार केवल 45 शिक्षकों को ही यह पुरस्कार दिया जायेगा।

राजधानी में बुधवार को यह पुरस्कार उपराष्ट्रपति एम. वेंकैया नायडू देंगे और शिक्षक दिवस की पूर्व संध्या पर ये शिक्षक प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मुलाकात कर अपने अनुभव उन्हें साझा करेंगे। इस बार शिक्षकों के पुरस्कार के नियमों में काफी परिवर्तन किया गया है और अब कोई शिक्षक पुरस्कार के लिए अपने नाम को भी प्रस्तावित कर सकता है।

मानव संसाधन विकास मंत्रालय की सोमवार को यहाँ जारी विज्ञप्ति के अनुसार इस वर्ष 6692 शिक्षकों से आवेदन प्राप्त हुए थे लेकिन इस बार केवल 45 शिक्षकों को ही यह पुरस्कार दिया जा रहा है जबकि हर साल तीन सौ से अधिक लोगों को यह पुरस्कार दिया जाता था। पुरस्कारों की गरिमा एवं गुणवत्ता बनाने के लिए इसकी संख्या कम की गयी है।

विज्ञप्ति के अनुसार हर जिले से तीन शिक्षकों के नाम प्रस्तावित होने के बाद उनका चयन एक समिति ने किया और इस तरह सभी राज्यों एवं केंद्र शासित क्षेत्रों से कुल 152 नाम प्रस्तावित किये गए। अब तक पहले कोई शिक्षक अपना नाम खुद प्रस्तावित नहीं करता था। इस बार शिक्षकों को अपना नाम खुद प्रस्तावित करने का प्रावधान किया गया था ताकि नए शिक्षक भी इस पुरस्कार के हक़दार हो सकें।

पहले कम से कम 15 साल अध्यापन करनेवाले शिक्षकों को ही पुरस्कार दिया जाता था।

अरविन्द, उप्रेती

वार्ता

image