Monday, Apr 22 2019 | Time 15:31 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • धोनी की बल्लेबाजी ने हमें डरा दिया था : विराट
  • ‘चौकीदार’ को सजा मिलेगी: राहुल
  • बंगाल में सातवें चरण के चुनाव की अधिसूचना जारी
  • मनोज तिवारी ने भरा नामांकन पत्र, सपना चौधरी शामिल हुई रोड शो में
  • स्पाइसजेट का एमिरैट्स के साथ कोडशेयर समझौता
  • कर्नाटक में दो विधानसभा सीटों पर उपचुनाव के लिए अधिसूचना जारी
  • दिल्ली में त्रिकोणीय मुकाबला,कांग्रेस-भाजपा अध्यक्ष आमने-सामने
  • दिल्ली में त्रिकोणीय मुकाबला,कांग्रेस-भाजपा अध्यक्ष आमने-सामने
  • तीन वाहनों की आपसी भिड़ंत में तीन की मौत, चार घायल
  • शरणार्थियों को नागरिकता देने के लिए भाजपा प्रतिबद्ध: शाह
  • सोना 200 रुपये चमका, चाँदी कमजोर
  • मिली जिम्मेदारी को बेहतर ढंग से पूरा करने की कोशिश करूंगी: शीला
  • लालू के साथ हो रहा पाकिस्तानी जेल में बंद भारतीय कैदी से भी बद्तर व्यवहार
  • आने वाले महीनों में विश्व के टॉप पांचवें स्थान पर आएगा भारत-राजनाथ
  • लालू के साथ हो रहा पाकिस्तानी जेल में बंद भारतीय कैदी से भी बद्तर व्यवहार
भारत


इस बार पांच सितम्बर को केवल 45 शिक्षकों को ही राष्ट्रीय पुरस्कार मिलेंगे

इस बार पांच सितम्बर को केवल 45 शिक्षकों को ही राष्ट्रीय पुरस्कार मिलेंगे

नयी दिल्ली 03 सितम्बर (वार्ता) हर साल पांच सितम्बर को शिक्षक दिवस के अवसर पर देश के तीन सौ से अधिक शिक्षकों को राजधानी में राष्ट्रीय पुरस्कार से सम्मानित किया जाता था लेकिन इस बार केवल 45 शिक्षकों को ही यह पुरस्कार दिया जायेगा।

राजधानी में बुधवार को यह पुरस्कार उपराष्ट्रपति एम. वेंकैया नायडू देंगे और शिक्षक दिवस की पूर्व संध्या पर ये शिक्षक प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मुलाकात कर अपने अनुभव उन्हें साझा करेंगे। इस बार शिक्षकों के पुरस्कार के नियमों में काफी परिवर्तन किया गया है और अब कोई शिक्षक पुरस्कार के लिए अपने नाम को भी प्रस्तावित कर सकता है।

मानव संसाधन विकास मंत्रालय की सोमवार को यहाँ जारी विज्ञप्ति के अनुसार इस वर्ष 6692 शिक्षकों से आवेदन प्राप्त हुए थे लेकिन इस बार केवल 45 शिक्षकों को ही यह पुरस्कार दिया जा रहा है जबकि हर साल तीन सौ से अधिक लोगों को यह पुरस्कार दिया जाता था। पुरस्कारों की गरिमा एवं गुणवत्ता बनाने के लिए इसकी संख्या कम की गयी है।

विज्ञप्ति के अनुसार हर जिले से तीन शिक्षकों के नाम प्रस्तावित होने के बाद उनका चयन एक समिति ने किया और इस तरह सभी राज्यों एवं केंद्र शासित क्षेत्रों से कुल 152 नाम प्रस्तावित किये गए। अब तक पहले कोई शिक्षक अपना नाम खुद प्रस्तावित नहीं करता था। इस बार शिक्षकों को अपना नाम खुद प्रस्तावित करने का प्रावधान किया गया था ताकि नए शिक्षक भी इस पुरस्कार के हक़दार हो सकें।

पहले कम से कम 15 साल अध्यापन करनेवाले शिक्षकों को ही पुरस्कार दिया जाता था।

अरविन्द, उप्रेती

वार्ता

More News
राफेल मामले में अपने बयान पर राहुल ने जताया खेद

राफेल मामले में अपने बयान पर राहुल ने जताया खेद

22 Apr 2019 | 2:45 PM

नयी दिल्ली, 22 अप्रैल (वार्ता) कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने राफेल मामले पर उच्चतम न्यायालय में चल रही कार्यवाही के संबंध में दिये गये अपने बयान को लेकर सोमवार को शीर्ष अदालत में दाखिल जवाब में खेद जताया।

see more..
मोदी का पर्यावरण का संरक्षण करने का आह्वान

मोदी का पर्यावरण का संरक्षण करने का आह्वान

22 Apr 2019 | 2:38 PM

नयी दिल्ली, 22 अप्रैल (वार्ता) प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने पृथ्वी दिवस पर देशवासियों को पर्यावरण को संरक्षित रखने और सतत विकास पर जोर देने का संदेश दिया है।

see more..
image