Wednesday, Sep 19 2018 | Time 12:52 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • बिलासपुर घटना की रमन ने दिए मजिस्ट्रेट से जांच के आदेश
  • बहराइच :महिला के साथ अभद्रता का वीडियो वायरल होने के बाद चौकी इंचार्ज निलंबित
  • नशा तस्करों की धमकी के बाद बढ़ायी गयी देव की सुरक्षा
  • पंजाब में 22 जिला परिषदों,150 पंचायत समितियों के लिए मतदान जारी
  • नहर मे डूबने से दो किशोरियों की मौत
  • एससीएसटी एक्ट के खिलाफ महाजन के घर के बाहर प्रदर्शन
  • ट्रंप ने परमाणु निरस्त्रीकरण समझौते का किया स्वागत
  • मुखिया पति ने सरपंच के भाई समेत तीन को मारी गोली, एक की मौत
  • बिहार में भारी मात्रा में शराब बरामद, छह गिरफ्तार
  • कोरियाई प्रायद्वीप में परमाणु निरस्त्रीकरण को लेकर समझौता
  • सिद्धार्थनगर: लेखपाल निलंबित
  • सड़क दुर्घटना में गर्भवती महिला सहित एक की मौत
  • रचनात्मक सोच विकसित कर राजनीतिक दल ढूंढे देश की समस्याओं का हल: हरिवंश सिंह
  • भाजपा शासन में तानाशाही बन गया पेशा : राहुल
  • इमरान सऊदी नेतृत्व के साथ द्विपक्षीय संबंधों पर करेंगे चर्चा
राज्य Share

तीन राफेल विमान अभ्यास के लिए ग्वालियर पहुंचे

तीन राफेल विमान अभ्यास के लिए ग्वालियर पहुंचे

ग्वालियर 03 सितम्बर (वार्ता) फ्रांस से हुए राफेल लड़ाकू विमान सौदे को लेकर कांग्रेस की ओर से उठाये जा रहे सवालों के बीच तीन राफेल लड़ाकू विमान ग्वालियर के महाराजपुरा एयरबेस पर पहुंचे हैं जहां भारतीय वायुसेना के पायलट तीन दिनों तक इन पर प्रशिक्षण लेंगे।

मीडिया रिपोर्ट के अनुसार फ्रांस के राफेल विमान अंतरराष्ट्रीय युद्धाभ्यास में शामिल होने आस्ट्रेलिया गये थे जहां से तीन विमान ग्वालियर पहुंचे हैं। इन विमानों को भारतीय वायुसेना के पायलट उड़ायेंगे। इस दौरान फ्रांसीसी वायुसेना के पायलट मिराज 2000 लड़ाकू विमानों पर अभ्यास करेंगे।

ऑस्ट्रेलिया में हुए पिच ब्लैक युद्धाभ्यास में भारतीय वायुसेना के ट्रांसपोर्ट और सुखोई 30 विमानों ने हिस्सा लिया था।

लखनऊ में रक्षा प्रवक्ता गार्गी मलिक सिन्हा ने राफेल विमानों ग्वालियर पहुंचने के बारे में पूछे जाने पर कि उन्हें इसकी जानकारी मीडिया से ही मिली है।

मोदी सरकार ने फ्रांस सरकार के साथ 36 राफेल विमानों की खरीद का सौदा किया है। वायुसेना को उम्मीद है कि सितंबर 2019 तक राफेल विमान देश में आने शुरू हो जाएंगे।

गौरतलब है कि कांग्रेस राफेल विमान सौदे में पारदर्शिता न बरते जाने और उनकी खरीद अधिक कीमत पर किये जाने का आरोप लगा रही है। कांग्रेस इस सौदे में रक्षा खरीद प्रक्रिया का पालन न किये जाने का भी आरोप लगा रही है और पूरे मामले की जांच संयुक्त संसदीय समिति से कराने की मांग कर रही है।

सं.मिश्रा.श्रवण.उनियाल

वार्ता

image