Tuesday, Apr 23 2019 | Time 19:51 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • फिरोजाबाद में तो साइकिल पंचर हो गई: शिवपाल सिंह
  • अब दिल्ली में परिवर्तन का समय: ममता बनर्जी
  • उच्चतर शिक्षा की गुणवत्ता चिंता का विषय, सतत सुधारों की जरूरत: वेंकैया
  • मोदी पर आयोग लगाए 72 घंटे का प्रतिबंध : कांग्रेस
  • देश में धन की कमी नहीं - राहुल गांधी
  • बजरंग ने मंगल के दिन जीता स्वर्ण
  • बजरंग ने मंगल के दिन जीता स्वर्ण
  • यूडीएफ एजेंट को एलडीएफ समर्थकों ने चाकू घोंपा
  • हरियाणा में 12 मई को मतदान का दिन पेड अवकाश घोषित
  • त्रिवेन्द्र ने की अटल आयुष्मान उत्तराखण्ड योजना की समीक्षा
  • उप्र में 40 06 करोड़ की नगदी जब्त 52,21,366 पोस्टर्स आदि हटाये
  • केदारनाथ कस्तूरी मृग अभ्यारण्य क्षेत्र के वन पंचायतों, गांवों को मिल सकती है राहत
  • तीसरे चरण में बंगाल,त्रिपुरा,असम,गोवा और केरल में बंपर वोटिंग
  • मध्यप्रदेश के अनेक स्थानों में गर्म हवाएं, खरगोन में लू
राज्य


तीन राफेल विमान अभ्यास के लिए ग्वालियर पहुंचे

तीन राफेल विमान अभ्यास के लिए ग्वालियर पहुंचे

ग्वालियर 03 सितम्बर (वार्ता) फ्रांस से हुए राफेल लड़ाकू विमान सौदे को लेकर कांग्रेस की ओर से उठाये जा रहे सवालों के बीच तीन राफेल लड़ाकू विमान ग्वालियर के महाराजपुरा एयरबेस पर पहुंचे हैं जहां भारतीय वायुसेना के पायलट तीन दिनों तक इन पर प्रशिक्षण लेंगे।

मीडिया रिपोर्ट के अनुसार फ्रांस के राफेल विमान अंतरराष्ट्रीय युद्धाभ्यास में शामिल होने आस्ट्रेलिया गये थे जहां से तीन विमान ग्वालियर पहुंचे हैं। इन विमानों को भारतीय वायुसेना के पायलट उड़ायेंगे। इस दौरान फ्रांसीसी वायुसेना के पायलट मिराज 2000 लड़ाकू विमानों पर अभ्यास करेंगे।

ऑस्ट्रेलिया में हुए पिच ब्लैक युद्धाभ्यास में भारतीय वायुसेना के ट्रांसपोर्ट और सुखोई 30 विमानों ने हिस्सा लिया था।

लखनऊ में रक्षा प्रवक्ता गार्गी मलिक सिन्हा ने राफेल विमानों ग्वालियर पहुंचने के बारे में पूछे जाने पर कि उन्हें इसकी जानकारी मीडिया से ही मिली है।

मोदी सरकार ने फ्रांस सरकार के साथ 36 राफेल विमानों की खरीद का सौदा किया है। वायुसेना को उम्मीद है कि सितंबर 2019 तक राफेल विमान देश में आने शुरू हो जाएंगे।

गौरतलब है कि कांग्रेस राफेल विमान सौदे में पारदर्शिता न बरते जाने और उनकी खरीद अधिक कीमत पर किये जाने का आरोप लगा रही है। कांग्रेस इस सौदे में रक्षा खरीद प्रक्रिया का पालन न किये जाने का भी आरोप लगा रही है और पूरे मामले की जांच संयुक्त संसदीय समिति से कराने की मांग कर रही है।

सं.मिश्रा.श्रवण.उनियाल

वार्ता

image