Sunday, Aug 9 2020 | Time 11:43 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • सरकार को अस्थिर करने के मंसूबे कामयाब नहीं हो सके-गहलोत
  • एक दिन में रिकॉर्ड 64 हजार से अधिक मामले, 53,879 रोगमुक्त
  • एक दिन में रिकॉर्ड 64 हजार से अधिक मामले, 53,879 रोगमुक्त
  • रक्षा मंत्रालय ने ‘आत्मनिर्भर भारत’ अभियान को बढ़ावा देने के लिए 101 वस्तुओं के आयात पर रोक लगायी
  • आदिवासी सांस्कृतिक विरासत संजोकर रखने की जरूरत : राहुल
  • नरेंद्र मोदी को लेकर ट्वीट करने के मामले में विधायक पटवारी के खिलाफ प्राथमिकी
  • आंध्र कोविड सेंटर आग: शाह ने लाेगों की मौत पर जताया शोक
  • आंध्र के कोविड केयर सेंटर में आग लगने से सात मरीजाें की मौत, तीन घायल
  • जगन मोहन ने कोविड केयर सेंटर में आग से लोगों की मौत पर जताया शोक
  • पटना में युवक का शव बरामद
  • पम्बा बांध: जलस्तर 983 05 मीटर पहुंचा,ऑरेंज अलर्ट जारी
  • मोदी ने आंध्र के कोविड केंद्र में आग से लोगों की मौत पर जताया दुख
  • मोदी ने दी बलराम जयंती की शुभकामनाएं
  • आंध्र के कोविड केयर सेंटर में आग लगने से तीन मरीजाें की मौत, कई झुलसे
लोकरुचि


धार्मिक नगरी गया में सज गया तिलकुट का बाजार

धार्मिक नगरी गया में सज गया तिलकुट का बाजार

गया 11 जनवरी (वार्ता) उत्तर भारत की सांस्कृतिक नगरी गया में तिलकुट के बाजार की रौनक बढ़ गयी है।

उत्तर भारत की सांस्कृतिक नगरी गया मौसमी मिठाइयों के लिए मशहूर रही है। बरसात में 'अनारसा', गर्मी में 'लाई' और जाड़े में 'तिलकुट'।मकर संक्रांति के दिन लोगों के भोजन में चूड़ा-दही और तिलकुट शामिल होता है। तिलकुट को गया की प्रमुख पारंपरिक मिठाई के रूप में देश-विदेश में जाना जाता है। मकर संक्राति 14 जनवरी को लेकर बिहार में तिलकुट की दुकानें सज गई हैं। गया का तिलकुट बिहार और झारखंड में ही नहीं, बल्कि पूरे देश में प्रसिद्ध है।

मकर संक्रांति करीब आते ही लोग तिलकुट, तिलवा एवं लाई को याद करने लगते हैं। हालांकि, तिल से बने ये सभी उत्पाद दूसरी जगहों पर भी बनते हैं लेकिन जब बात तिलकुट की हो तो गया को नजरअंदाज नहीं किया जा सकता। अन्य वर्षों की तरह इस बार भी मकर संक्रांति से पहले गया के तिलकुट बाजार में भारी चहल-पहल है।

बिहार के गया में 14 जनवरी (मकर संक्राति) को लेकर तिलकुट की दुकानें सज गई हैं। गया में तिलकुट की मुख्य मंडी रमना और टिकारी रोड में है, जहां खरीददारी करने लोग दूर-दूर से आ रहे है। मकर संक्रांति के एक महीने पहले से ही गया की सड़कों पर तिलकुट की सोंधी महक और तिल कूटने की धम-धम की आवाज लोगों के जेहन में इस पर्व की याद दिला देती है। पर्व के एक से डेढ़ महीने पूर्व से यहां तिलकुट बनाने का काम शुरू हो जाता है। मोक्षनगरी गया में हाथ से कूटकर बनाए जाने वाले तिलकुट बेहद खस्ता होते हैं।

प्रेम सूरज

जारी वार्ता

More News
अयोध्या में मंदिर के लिये बुधवार को भूमि पूजन तो मथुरा में होगा कृष्ण दर्शन

अयोध्या में मंदिर के लिये बुधवार को भूमि पूजन तो मथुरा में होगा कृष्ण दर्शन

03 Aug 2020 | 9:29 PM

मथुरा 03 अगस्त (वार्ता)-पांच अगस्त को जब मर्यादा पुरूषोत्तम श्री राम की जन्मभूमि अयोध्या में भूमि पूजन के समारोह से गुंजायमान हो रही होगी उसी समय मथुरा के श्रीकृष्ण जन्मस्थान स्थित केशवदेव मंदिर में भगवान केशवदेव राम रूप में भक्तों को दर्शन दे रहे होंगे।

see more..
रक्षाबंधन पर्व अछूता नही रह सका आधुनिकता के प्रभाव से: डा कुमुद दुबे

रक्षाबंधन पर्व अछूता नही रह सका आधुनिकता के प्रभाव से: डा कुमुद दुबे

03 Aug 2020 | 1:07 PM

प्रयागराज, 03 अगस्त (वार्ता) भारतीय संस्कृति की गौरवमयी परंपरा और भाई-बहन के प्रेम का प्रतीक रक्षाबंधन भी आधुनिकता के प्रभाव से अछूता नही रहा और परंपरागत राखियों के स्थान ने रेशम के चमकीले एवं चांदी और सोने के जरी युक्त राखियों ने ले लिया है।

see more..
मैनपुरी में ईशन नदी को पुनर्जीवित करने का कार्य शुरू

मैनपुरी में ईशन नदी को पुनर्जीवित करने का कार्य शुरू

02 Aug 2020 | 7:02 PM

मैनपुरी,02 अगस्त (वार्ता) उत्तर प्रदेश के मैनपुरी में वर्षों से अपने मूल स्वरूप को खो चुकी ईशन नदी को पुनर्जीवित करने का बीड़ा जिलाधिकारी महेन्द्र बहादुर सिंह ने उठाया है।

see more..
पीलीभीत में कैदियों द्वारा बनाई गयी राफेल और मास्क राखी की बाजार में बढ़ी मांग

पीलीभीत में कैदियों द्वारा बनाई गयी राफेल और मास्क राखी की बाजार में बढ़ी मांग

01 Aug 2020 | 7:34 PM

पीलीभीत, 01 अगस्त(वार्ता) उत्तर प्रदेश के पीलीभीत में रक्षा बंधन पर जेल के बंदियों द्वारा बनाई गयी राफेल और मास्क वाली राखियाें की बाजार में मांग बढ़ गयी है।

see more..
जाएं तो कहां जाएं हर मोड पर रूसवाई: जाफरी

जाएं तो कहां जाएं हर मोड पर रूसवाई: जाफरी

31 Jul 2020 | 8:03 PM

बलरामपुर,31 जुलाई (वार्ता) “आवारा है गलियो में मै और मेरी तन्हाई ” जाएं तो कहां जाएं हर मोड पर रूसवाई” जैसी बेमिशाल शायरी लिखने वाले मशहूर शायर और देश के सबसे बडे साहित्यिक पुरस्कार ज्ञानपीठ से सम्मानित अली सरदार जाफरी ने इन पंक्तियों को लिखते वक्त यह नही सोचा होगा कि उनके इन्तकाल के बाद वह खुद इसकी मिशाल बन जायेगे।

see more..
image