Tuesday, Jan 23 2018 | Time 21:43 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • भारत और मारीशस के कृषि वैज्ञानिक मिलकर कर सकते हैं शोध
  • कुंडुली दुष्कर्म पीड़िता के शव के साथ प्रदर्शन
  • हमीरपुर में हत्या के मामले में दो भाईयों सहित चार लोगों को उम्र कैद
  • धार्मिक-सांप्रदायिक कट्टरता देश की तरक्की का बाधक:शुक्ला
  • उप्र में नेताजी सुभाष चन्द्र बोस को किया गया याद
  • मोदी स्वदेश रवाना
  • '
  • हरियाणा ने यूपी को 4-3 से हराया
  • फोटो कैप्शन-तीसरा सेट
  • कोयला आयात घोटाला मामले में मुकदमा दर्ज
  • मोदी का संबोधन देश के लिए गौरवशाली एवं ऐतिहासिक -शाह
  • दिसंबर में हवाई यात्रियों की संख्या एक करोड़ 10 लाख के पार
  • समृद्धि के साथ शांति के लिए भारत आयें निवेशक : मोदी
  • अधिग्रहित भूमि का बैनामा लेने वाले को ही मुआवजा पाने का हक
  • झारखण्ड की पंजाब पर रोमांचक जीत
विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी Share

कैंसर के दो तिहाई मामले डीएनए कॉपिंग में गड़बड़ी से

कैंसर के दो तिहाई मामले डीएनए  कॉपिंग में गड़बड़ी से

वाशिंगटन 24 मार्च (वार्ता) वैज्ञानिकों ने ताजा शोध में पता लगाया है कि कैंसर के करीब दो तिहाई मामलाें का कारण सामान्य कोशिकाओं के विभाजन की प्रक्रिया के दौरान डीएनए काॅपिंग में आकस्मिक गलतियां हैं जबकि 29 प्रतिशत मामलों के लिए पर्यावरण और मात्र पांच प्रतिशत मामलों में आनुवांशिक कारण जिम्मेदार हैं। वैज्ञानिक जांस हाेपकिंस यूनिवर्सिटी के क्रिस्टेन टॉमसेटी और बर्ट वोगेल्सिटन ने ‘साइंस’ पत्रिका में प्रकाशित अपने शोध में कहा है कि अध्ययन के दौरान देखा गया कि कैंसर के दो तिहाई से अधिक मामलों में सामान्य कोशिकाओं के विभाजन की प्रक्रिया के दौरान डीएनए में हुयी अचानक खामियां जिम्मेदार हैं। वैज्ञानिकाें ने अध्ययन के दौरान 32 प्रकार के कैंसरों में गणितीय माॅडल का प्रयोग करते हुए जिनोम सिक्वेसिंग और इपिडेमिलाॅजिक डाटा का विश्लेषण किया। इस दौरान उन्हें चौंकाने वाले नतीजे मिले। उन्होंने कहा कि इस दौरान देखा गया कि कैंसर के 66 प्रतिशत मामले ऐसे हैं जिनसे बचा नहीं जा सकता क्योंकि ये मामले डीएनए कॉपिंग में अचानक हुयी गलतियों के कारण हाेते हैं। उन्होंने कहा कि यह प्रतिशत कैंसर के विभिन्न प्रकारों में अलग-अलग हैं। मसलन पेनक्रिया(पाचन ग्रंथि) के कैंसर में यह 77 प्रतिशत मामले और बच्चों में होने वाले कैंसर अधिकांश कैंसर के लिए डीएनए की यह गड़बड़ी जिम्मेदार है। लेकिन फेफड़े के कैंसर के दो तिहाई मामले के लिए पर्यावरण जिम्मेदार हैं और इसमें भी ध्रूमपान बड़ी वजह है। यह शोध वर्ष 2015 में किये गये एक अध्ययन पर आधारित है जिसमें वैज्ञानिकों ने कैंसर को “ बैड लक” करार देते हुए कैंसर के अधिकांश मामलों के लिए डीएनए में आयी आक्समिक बड़बड़ियों के बारे प्रमुखता से सामने लाया था। इस अध्ययन का अनुसंधानकर्ताओं और डॉक्टरों ने आलोचना करते हुए कहा था कि इससे लोगों में कैंसर को लेकर गलत संदेश जायेगा। लोग इसे भाग्य भरोसे माानते हुए अपनी जीवनशैली के प्रति लापरवाह हो जायेंगे। मसलन वे ध्रूमपान से तौबा करने और कसरत को नियमित दिनचर्या में अपनाने, संतुलित भोजन ग्रहण करने एवं मोटापा कम करने को तरहीज नहीं देंगे। आशा आजाद वार्ता

More News
भारत में 2020 तक दिल के मरीज होंगे सबसे ज्यादा

भारत में 2020 तक दिल के मरीज होंगे सबसे ज्यादा

28 Sep 2017 | 4:01 PM

नयी दिल्ली 28सितंबर (वार्ता) देश में 2020 तक दिल की बीमारी से पीड़ित लोगों की संख्या दुनिया में सबसे ज्यादा होगी।

 Sharesee more..

....

01 Sep 2017 | 4:18 PM

 Sharesee more..
दिल के दौरे के खतरे को कम करता है बिनौला तेल

दिल के दौरे के खतरे को कम करता है बिनौला तेल

20 Aug 2017 | 12:33 PM

नयी दिल्ली 20 अगस्त (वार्ता) केन्द्रीय कपास प्रौद्योगिकी अनुसंधान संस्थान मुंबई के वैज्ञानिकों का दावा है कि कपास के बिनौले का तेल अनेक विशिष्ट गुणों से भरपूर है जो मानव स्वास्थ्य के लिए बहुत ही उपयुक्त है तथा इसके नियमित उपयोग से दिल का दौरा पड़ने का खतरा बहुत कम हो जाता है

 Sharesee more..
सीएसआईआर बनायेगा हर प्रकार के टीबी पर कारगर दवा

सीएसआईआर बनायेगा हर प्रकार के टीबी पर कारगर दवा

16 Aug 2017 | 5:27 PM

नयी दिल्ली 16 अगस्त (वार्ता) वैज्ञानिक एवं औद्योगिक अनुसंधान परिषद् (सीएसआईआर) की प्रयोगशाला इंस्टीट्यूट ऑफ माइक्रोबियल टेक्नोलॉजी (आईएमटेक) ने हर तरह के क्षय रोग (टीबी) के लिए कारगर दवा विकसित करने के वास्ते स्वास्थ्य क्षेत्र की वैश्विक कंपनी जॉनसन एंड जॉनसन के साथ आज एक समहमति पत्र पर हस्ताक्षर किये।

 Sharesee more..

....

16 Aug 2017 | 5:11 PM

 Sharesee more..
image