Thursday, Jul 25 2024 | Time 18:47 Hrs(IST)
image
राज्य » उत्तर प्रदेश


----

मुख्यमंत्री ने कहा कि पिछले एक वर्ष के अंदर उत्तर प्रदेश के अंदर 30 करोड़ पर्यटक धार्मिक दृष्टि के अलग.अलग पवित्र धामों का दर्शन करने आए। यह 30 करोड़ केवल संख्या नहीं है बल्कि इसके पीछे पूरा एक इको सिस्टम छिपा हुआ है। इनसे वाहन संचलन से जुड़े लोगों फूल, प्रसाद बेचने वालों, होटल, धर्मशाला और रेस्टोरेंट कारोबार से जुड़े और अन्य भी तमाम लोगों को रोजगार मिला होगा उनकी आजीविका समृद्ध हुई होगी।
योगी ने कहा कि सिर्फ सावन के माह में अकेले काशी विश्वनाथ धाम में लगभग दो करोड़ श्रद्धालु बाबा विश्वनाथ के दर्शन किए जबकि पहले इतनी बड़ी संख्या में लोग नहीं आते थे। अब काशी विश्वनाथ धाम, भगवान श्रीराम की जन्मभूमि अयोध्या, मथुरा.वृंदावन, मां विंध्यवासिनी धाम में सुविधाएं बढ़ीं है तो दर्शन में आसानी हुई तो बड़ी संख्या में लोग वहां जा रहे हैं।
उन्होंने कहा कि जिस गोरखपुर हस्थित रामगढ़ताल में लोग छह साल पहले आने से डरते थे जो अपराध का अड्डा हुआ करता था उसी रामगढ़ताल में क्रूज का संचालन बहुत जल्द होने जा रहा है। ताल में सी प्लेन की सेवा शुरू करने के लिए भी प्रशासन को कार्ययोजना बनाने का निर्देश दिया गया है। एक फ्लोटिंग जेट्टी पर सी प्लेन से उतरेंगे और उड़ेंगे। उन्होंने कहा कि यहां शीघ्र चलने वाले क्रूज में लोग बर्थडे पार्टी, मांगलिक कार्यक्रमों का आनंद उठा सकेंगे।
मुख्यमंत्री ने कहा कि पर्यटन स्थलों पर सुविधा मिल रही है तो हम सबका दायित्व बनता है कि इसे स्वच्छ और सुंदर बनाए रखें। स्वच्छ स्थानों पर पान, गुटका खाकर न थूकें। प्लास्टिक के सामान न फेकें। हवा के झोंके से प्लास्टिक यहां से वहां जाएगा। गाय खाएगी तो बीमार हो जाएगी। नाले में जाएगा तो पानी ब्लॉक हो जाएगा और इससे डेंगू, इंसेफ्लाइटिस, चिकनगुनिया, मलेरिया जैसी बीमारियां होंगी। गंदगी रहेगी तो बाहर के लोग भी नकारात्मक टिप्पणी करेंगे इसलिए खुद गंदगी न फैलाएं और न ही दूसरों को फैलाने दें।
योगी ने कहा कि गोरखपुर के रामगढ़ताल में आज से पांच.छह साल पहले लोग आते भी नहीं थे लेकिन आज शाम को 5 बजे से लेकर रात के 12 बजे तक 15000 से 20000 लोग अपने अतिथियों के साथ यहां आकर पर्यटन का आनंद लेते हैं। यहां पर है नौकायन भी होता है और इससे नाविकों की आजीविका भी चलती है। इसके साथ ही यहां पर लगभग 200 पटरी व्यवसायी भी आजीविका चला रहे हैं। उन्होंने कहा कि यूपी में स्पिरिचुअल टूरिज्म के साथ इको टूरिज्म की बहुत सारी साइट्स हैं। कर्तनिया पहले से विख्यात है और सोहगीबरवा को भी इको टूरिज्म से जोड़ा जा रहा है।
उदय, सोनिया
जारी वार्ता
image